wrapper

ब्रेकिंग न्यूज़

तीन नये मेडिकल कॉलेज में 400 सीट बढ़ने की संभावना 
 
अनुपपुर | 17-जुलाई-2018

 
 
  चिकित्सा शिक्षा विभाग द्वारा नीट यूजी- 2018 के प्रथम चरण की काउंसलिंग से प्रवेशित सभी अभ्यर्थीयों को सूचित किया जा रहा है, कि प्रदेश के तीन नये मेडिकल कॉलेज में 400 अतिरिक्त सीटों के बढ़ने की संभावना है। इन 400 सीटों को द्वितीय चरण की काउंसलिंग में शामिल किया जायेगा।
अभ्यर्थी प्रथम चरण के प्रवेश के समय और द्वितीय चरण की काउंसलिंग के समय बेहतर विकल्प का लाभ (upgraduation option) ले सकते हैं। केवल एक बार संशोधन करने के लिये अभ्यर्थी के "candidate login profile" पर "edit upgradation" का लिंक दिया जा रहा हैं। यह सुविधा 16 जुलाई से शाम 5 बजे से 21 जुलाई शाम 5 बजे तक उपलब्ध रहेगी। ऐसे अभ्यर्थी, जो अपने द्वारा प्रथम चरण में प्रवेश के लिये दिये गये बेहतर विकल्प का लाभ (upgraduation option) लेने में कोई संशोधन नहीं करना चाहते है, तो उनके प्रथम चरण के प्रवेश के समय दिये गये बेहतर विकल्प को (upgraduation option) ही द्वितीय चरण की काउंसलिंग के लिये मान्य माना जाएगा।
काउंसलिंग और प्रवेश प्रक्रिया जानकारी वेबसाइट <www.medicaleducation.mp.gov.in> और निर्धारित पोर्टल <http://dme.mponline.gov.in> पर उपलब्ध है। संचालक, चिकित्सा शिक्षा ने बताया है कि अभ्यर्थी काउंसलिंग से संबंधित सूचना के लिये संचालनालय की वेबसाइट और एम.पी. ऑनलाइन पोर्टल के सम्पर्क में रहें।
डी.एल.एड. पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिये पंजीयन 12 जुलाई तक 
अनुपपुर | 11-जुलाई-2018
0
 
मध्यप्रदेश में संचालित राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद से मान्यता प्राप्त और मध्यप्रदेश माध्यमिक शिक्षा मण्डल से संबद्ध शासकीयजिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थानों (डाइट) एवं अशासकीय डी.एल.एड. महाविद्यालयों में सत्र 2018-19 में प्रवेश के लिये एम.पी. ऑनलाइन के माध्यम से प्रवेश प्रक्रिया प्रारंभ है। प्रवेश के लिये एम.पी. ऑनलाइन के पोर्टल पर 12 जुलाई तक पंजीयन एवं संस्था का चयन किया जा सकता है। प्रवेश नियम एवं विस्तृत निर्देश एम.पी. ऑनलाइन के पोर्टल www.rsk.mponline.gov.in पर देखे जा सकते हैं।
धोखाधड़ी कर ऑनलाइन जमा कराया था पैसा सायबर सेल द्वारा कराया गया वापस 
अनुपपुर | 06-जुलाई-2018
0
 
 
 
 
 
   अनूपपुर जिले की सतर्क पुलिस के सामने एक बार फिर ऑनलाइन फ्राड करने वाले बदमाशों को मुहकी खानी पड़ी। जिले की सतर्क साइबर सेल ने साइबर धोखे मे गयी राशि को वापस दिलाकर इसका प्रमाण प्रस्तुत किया है। 30 जून को फरियादी मयंक अग्रवाल निवासी अनूपपुर द्वारा पुलिस अधीक्षक कार्यालय उपस्थित आकर बताया कि दिनांक 23 जून को मेरे मोबाईल नंबर पर किसी अज्ञात मोबाईल नंबर से फोन कर बोला की मैं पेटीएम आनलाईन शॉपिग सेंटर से बोल रहा हूं। आप अगर कुछ आर्डर करेंगे तो आपको कैस बैक के साथ-साथ ईनाम भी दिया जायेगा। जिससे मैं लालच में आकर कुछ सामान आर्डर कर दिया था जिसका कुल कीमत 4068 (चार हजार अड़सठ) रूपये उसके बताये पेटीएम खातें में ट्रांसफर कर दिया था। जिसके बाद आज दिनांक तक ना तो मेरे खाते में कोई कैस बैक नही आया है ना ही मुझे कोई सामान मिला है। दिनांक 23 जून से उस नंबर पर फोन लगा रहा हूं तो वह नंबर बंद बता रहा है। मुझे लगता है किसी ने मेरे से धोखाधड़ी कर पैसा अपने खाते में जमा करा लिया है।
   जिसके बाद पुलिस अधीक्षक महोदय द्वारा शिकायत को गंभीरता से लेते हुये सायबर सेल में माध्यम से जॉच कराया जा रहा था। सायबर सेल द्वारा जॉच पता चला कि जिस मोबाईल नंबर से फोन किया गया है उसका लोकेशन उत्तरप्रदेश में एवं उक्त राशि को विभिन्न आनलाईन ट्राजेकशन के माध्यम से ट्रांसफर करते हुये एसबीआई शाखा कोलकाता में जमा कराया गया था। जिस खाते में प्रतिदिन इस प्रकार की धोखाधड़ी कर राशि जमा कराया जाकर एटीएम कार्ड के माध्यम से विभिन्न एटीएम बूथों से आहरण कर लिया जाता है। जिस खाते को एसबीआई शाखा अनूपपुर के साथ सामाजस्य बनाकर होल्ड कराया गया। जिसमें फरियादी द्वारा जमा की गई राशि मिली, जिस राशि को आज बैंक के माध्यम से फरियादी के खाते में पुनः जमा कराया गया। उक्त राशि वापस दिलाने में पुलिस अधीक्षक महोदय अनूपपुर में मार्गदर्शन में प्रभारी सायबर सेल आर. 396 राजेन्द्र प्रसाद अहिरवार अत्यंत लगन, मेहनत एवं सूझबूझ से कार्य किया गया जिसके फलस्वरूप आज दिनांक 06.07.2018 को फरियादी को पूरा पैसा उसके खातें जमा हो सका।
   डिजिटल टेक्नोलाजी के लाभ तो बहुत हैं, इसके माध्यम से बहुत से लोगों को अत्यंत कम समय मे सेवा का प्रदाय सुनिश्चित किया जा रहा है। परंतु अपराधियों की नजर भी इस सुविधा पर पड़ गयी है अतएव यह आवश्यक है कि उपभोक्ता ऑनलाइन फ्राड के प्रति सावधान एवं सजग रहे। क्योकि सतर्कता ही सर्वोत्तम बचाव है। किसी भी बहकावे मे न आवे ऑनलाइन लॉटरी अथवा किसी भी प्रकार के लालच मे न आए और औरों को भी सजग करे साथ ही ऐसी किसी भी प्रकार की जानकारी आने पर तुरंत पुलिस को सूचित करें।
 
इंदौर की नित्यता जैन ने कॉमनवेल्थ चैस चैंपियनशिप 2018 में जीता कांस्य पदक 
अनुपपुर | 05-जुलाई-2018
0
 
 
 
 
 
    इंदौर की 14 वर्षीय अंतर्राष्ट्रीय शतरंज खिलाड़ी नित्यता जैन ने नई दिल्ली में तीन जुलाई को संपन्न हुई कॉमनवेल्थ चैस चैंपियनशिप 2018 में अंडर 14 गर्ल्स में भारत के लिए कांस्य पद जीतकर एक बार फिर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर राज्य को गोरान्वित किया है। नित्यता दिल्ली पब्लिक स्कूल इंदौर की छात्रा है। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर यह उनका तीसरा मैडल है। कल सात राउंडस में हुई इस चैंपियनशिप में नित्यता ने कुल पाँच अंक बना कर यह पदक हासिल किया।
    इस सफलता पर खेल एवं युवक कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया ने नित्यता जैन को शुभकामनाएँ दी।
आँधी-तूफान के दौरान नागरिक बिजली सुरक्षा पर विशेष ध्यान दें 
अनुपपुर | 14-जून-2018
0
 
 
 
 
     प्रदेश की पूर्व, मध्य एवं पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनियों ने नागरिकों से अपील की है कि आँधी-तूफान, वर्षा या अन्य किसी कारण से बिजली की लाइनों के टूटने पर उसे न छुएँ और जल्द ही इसकी सूचना निकटतम बिजली कम्पनी के दफ्तर को दें। बिजली संबंधी जरा-सी असावधानी या छेड़खानी से बड़े-बड़े खतरे पैदा हो सकते हैं।
    नागरिकों को सलाह दी गई है कि खेतों-खलिहानों में ऊँची-ऊँची घास की गंजी, कटी फसल की ढेरियाँ और झोपड़ी को बिजली लाइन के नीचे अथवा पास में न बनायें। बिजली-लाइनों के नीचे से अनाज, भूसे की ऊँची भरी हुई गाड़ियाँ न निकालें, इससे आग लगने का खतरा है। बिजली के खंबों पर कभी न चढ़ें एवं वायर सहित अन्य विद्युत उपकरणों से छेड़खानी न करें। बिजली के खंबों या स्टे वायर से जानवर न बाँधें। घरों में भी बिजली से सावधानियाँ बरतें और बिजली के तार सुव्यवस्थित ढंग से लगायें। बिजली उपकरणों और बिजली तारों में खराबी आने पर खुद सुधारने की कोशिश न करें। बिजली का फ्यूज सुधारने के लिये किसी जानकार की ही सहायता लें।
    यह भी ध्यान में रखें कि घरेलू उपकरणों एवं फिटिंग का अर्थिंग न होने से दुर्घटना हो सकती है। वहीं बच्चों पर विशेष ध्यान दें। बच्चे पतंग उड़ाते समय धागे और डोर विद्युत-लाइनों में फंसा देते हैं। लाइनों में फंसी पतंग निकालने के लिये बच्चों को खंबों पर न चढ़ने दें।
    दुर्घटनावश अगर कोई व्यक्ति चालू लाइन के तारों के सम्पर्क में आता है तो सबसे पहले स्विच से विद्युत प्रवाह बंद कर दें। स्विच बंद न कर सकें तो दुर्घटनाग्रस्त व्यक्ति को सूखी रस्सी या सूखी लकड़ी की सहायता से तारों से अलग करें, जिसके बाद सूखी जमीन पर लिटायें एवं कृत्रिम साँस देकर प्राथमिक उपचार करें।

 

गणेश शंकर समाचार सेवा

आजादी की पत्रकारिता को ध्यान में रख कर ही  हमने बर्ष 1981 दिसम्बर 11  से दैनिक राष्ट्र भ्रमण समाचार पत्र से अपनी पत्रकारिता की शुरुआत की है.


Template Settings

Color

For each color, the params below will give default values
Blue Green Red Radian
Select menu
Google Font
Body Font-size
Body Font-family
http://www.zoofirma.ru/