wrapper

ब्रेकिंग न्यूज़

×

Warning

JUser: :_load: Unable to load user with ID: 718

छतरपुर समाचार

25.05.2019 “किसको वोट दिए इस बार?”
“कमल को और किसको देते?” नोएडा के सेक्टर 93 बी में हाइराइज सोसाइटी के बीच नोएडा ऑथरिटी की ख़ाली ज़मीन में तबेला चला रहा ग्वाला बता रहा था. यादवों का दूध बेचने का पुश्तैनी पेशा रहा है. लेकिन आजकल दूध का कारोबार आईटी और आईआईएम से पढ़े नौजवान भी कर रहे हैं. लिहाज़ा तसदीक़ के लिए उससे बेहाया होकर पूछ लिया, “कौन जात हो?”
“यादव”
“यादव होकर अखिलेश को नहीं दिए?”
“क्या किया है अखिलेश ने? मुसलमानों को सर पर बिठाए हुए है और अब मायावती के पैर पर गिर गया!”
“पिछले पांच साल में सरकार से क्या फ़ायदा मिला है और मुसलमान ने तुम्हारा क्या बिगाड़ा है?”
ख़ामोशी.
तबेले में 2-3 नौजवानों के बीच एक बुजुर्ग भी बैठे थे.
“आप ही समझाइए इन लोगों को. मिला कुछ नहीं.” बुजुर्ग ने दरख्वास्त लगायी.
“70 साल में कांग्रेस ने क्या किया. नेहरू से लेकर इंदिरा गांधी मुसलमान-मुसलमान करते रहे. सारे कांग्रेसी भ्रष्टाचारी हैं. मोदी को 5 साल और मौक़ा देकर देखते हैं. हर्ज क्या है? ज़्यादा से ज़्यादा क्या होगा? पहले भी हमारी ज़िंदगी पर कुछ फ़र्क़ नहीं पड़ा, अब भी नहीं पड़ेगा!” नौजवान ने तुनक कर तर्क दिया.


“लेकिन सुना था कि यहां भाजपा से गांव वाले नाराज़ हैं?”
“वोट मोदी को दिया है, भाजपा के उम्मीदवार को नहीं.”
Read more

कर्नाटक में क्या कुमारस्वामी कांग्रेस से नाता तोड़कर बीजेपी के साथ सरकार बनाएंगे?

बेंगलुरु 25.05.2019 : लोकसभा चुनाव के परिणाम (Loksabha Election Results 2019) आने और बीजेपी (BJP) को इसमें अपार सफलता मिलने के बाद नए सियासी समीकरण बनना शुरू हो गए हैं. क्या मौजूदा हालात में कर्नाटक में सत्ता परिवर्तन होगा? क्या जेडीएस (JDS) नेता और मुख्यमंत्री कुमारस्वामी (Kumaraswamy) कांग्रेस (Congress) का साथ छोड़कर बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बनाएंगे? इस सवाल का जवाब तलाशने की कोशिश कर्नाटक के सियासी गलियारे में भी चल रही है.
क्या कर्नाटक (Karnataka) की सियासी तस्वीर बदलेगी? जेडीएस (JDS) कांग्रेस का तालमेल जारी रहेगा या फिर टूटेगा? यह सवाल इसलिए उठ रहे हैं क्योंकि जेडीएस सुप्रीमो देवेगौड़ा और उनके पोते निखिल कुमारस्वामी (Kumaraswamy) की हार की वजह देवेगौड़ा परिवार कांग्रेस नेता सिद्धारमैया को मानता है. कुमारस्वामी मंत्रिमंडल की अनौपचारिक बैठक में कांग्रेस (Congress) और जेडीएस दोनों तरफ से यह दिखाने की कोशिश की गई कि सब कुछ ठीक ठाक है और कर्नाटक की सरकार में फिलहाल कोई बदलाव नहीं होने जा रहा.

Read more

मोदी लहर के बावजूद ओडिशा में बीजेपी को कैसे मात दे दी नवीन पटनायक ने..

नई दिल्ली 25.05.2019 : Odisha Assembly Elections 2019 : सन 1997 में नवीन पटनायक (Naveen Patnaik) जब राजनीति में आए थे तब उनके पास कोई अनुभव नहीं था. कई लोगों को लग रहा था कि नवीन राजनीति में सफल नहीं होंगे और पिता की विरासत को आगे नहीं बढ़ा पाएंगे, लेकिन नवीन पटनायक ने सबको झूठा साबित किया.  2014 में ,पूरी देश में जब मोदी लहर चल रही थी तब नवीन पटनायक अपने राज्य में बीजेपी को रोकने में कामयाब रहे थे. इस बार ओडिशा में हुए विधानसभा और लोकसभा चुनाव में नवीन की बीजू जनता दल ने शानदार जीत हासिल की है. ओडिशा की राजनीति में नवीन पटनायक इतिहास बनाने जा रहे हैं. नवीन ओडिशा के पहले ऐसे राजनेता हैं जो पांचवी बार मुख्यमंत्री बनने जा रहे हैं. ओडिशा के इतिहास में यह पहली बार हो रहा है जब कोई राजनेता पांचवी बार मुख्यमंत्री बन रहा है. यह पहली बार भी हो रहा है जब किसी पार्टी ने लगातार पांचवी बार जीत हासिल की है.
Read more

Cum rhoncus est acten arcu malesuada biben dum aliquam vel porta

Suspendisse at libero porttitor nisi aliquet vulputate vitae at velit. Aliquam eget arcu magna, vel congue dui. Nunc auctor mauris tempor leo aliquam vel porta ante sodales. Nulla facilisi. In accumsan mattis odio vel luctus.

Read more

गणेश शंकर समाचार सेवा

आजादी की पत्रकारिता को ध्यान में रख कर ही  हमने बर्ष 1981 दिसम्बर 11  से दैनिक राष्ट्र भ्रमण समाचार पत्र से अपनी पत्रकारिता की शुरुआत की है.


Template Settings

Color

For each color, the params below will give default values
Blue Green Red Radian
Select menu
Google Font
Body Font-size
Body Font-family
http://www.zoofirma.ru/