बुरहानपुर समाचार


चायना धागे के पतंगबाजी में उपयोग को किया प्रतिबंधित 
कलेक्टर श्री सिंह ने किया धारा 144 के तहत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी 
बुरहानपुर | 12-जनवरी-2018
 
  कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री दीपक सिंह ने जिले की राजस्व सीमा क्षेत्र में चायना धागे को पतंगबाजी में उपयोग करने पर प्रतिबंधित आदेश जारी किया हैं। उन्होंने यह आदेश दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के अंतर्गत जन सामान्य के हित व जानमाल एवं लोक शांति को बनाये रखने के लिये जारी किया हैं।
    जारी आदेशों में उन्होंने कहा कि पतंगबाजी में उपयोग होने वाले चायना धागे के उपयोग से पक्षियों व जनसामान्य को हानि पहुंच रही हैं। कई बार चायना के धागे से पतंग उड़ाते समय पक्षी इसमें उलझ कर फस जाते हैं, घायल हो जाते हैं और कई बार तो पक्षियों की मृत्यु तक हो जाती हैं। इस धागे से पतंगबाजी के दौरान सड़क पर चलने वाले राहगीर भी कई बार घायल हो जाते हैं। चायना धागे की मजबूती इन हादसों का कारण है व इस धागे का उपयोग पतंगबाजी में किये जाने से पशु-पक्षियों व जनसामान्य के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल असर पड़ रहा हैं। निकट भविष्य में मकर संक्रांति पर्व आने वाला हैं तथा इस त्यौहार पर बड़ी संख्या में पतंगबाजी की जाती हैं। इस प्रकार चायना के धागे का पतंगबाजी में उक्त गतिविधियों पर रोकथाम की दृष्टि से इसके उपयोग पर प्रतिबंध लगाया हैं।
 



परिवहन एवं यातायात विभाग ने चलाया चैकिंग अभियान 
वाहनों में कमियां मिलने पर की कार्यवाही 
बुरहानपुर | 08-जनवरी-2018
 
 जिले में स्कूली बच्चों की सुरक्षा के लिये स्कूलों बसों के सावधानीपर्वूक संचालन करने दुघर्टनाओं पर नियंत्रण करने के लिये परिवहन विभाग एवं यातायात विभाग द्वारा सघन चैकिंग अभियान चलाया गया। कलेक्टर ने संबंधित विभाग को निर्देश दिये है कि चैकिंग अभियान सतत् जारी रखें। उन्होंने संबंधित विभाग को सुप्रिम कोर्ट द्वारा जारी गाइड लाईन का स्कूल बस संचालकों से कड़ाई से पालन करवाना सुनिश्चित करें। 
    जिला परिवहन अधिकारी श्री सुरेन्द्र सिंह गौतम ने जानकारी देते हुए बताया कि यह सघन चैकिंग अभियान सोमवार को चलाया गया। अभियान के तहत वाहनों के परमिट फिटनेस, बीमा, परमिट, पी.यु.सी, स्पीड गर्वनर, वाहन चालक का लायसेंस आदि दस्तावेजों की जांच की गई। चैकिंग अभियान के दौरान 40 से अधिक बसों को चेक किया गया। चैकिंग के दौरान स्कूल बसों में सुप्रिम कोर्ट की गाईड लाइन के पालन करने के निर्देश दिये गये। गाइड लाईन के अनुसार स्कूल बस पीले रंग की होना चाहिये, स्कूल बस में फस्टेड बॉक्स होना चाहिए। बस में गति मापी यंत्र लगा हो, बसों की खिडकियों पर सरियों की जाली हो, बसों में अग्नि शमन यंत्र हो, स्कूल बस पर स्कूल का नाम व दूरभाष नंबर अंकित हो, बसों मे दरवाजे पर ताले लगे हो, बसों में शिक्षित परिचालक हो सहित अन्य निर्देशों का पालन करने के लिये कहा गया। स्कूल बसों हेतु यह भी निर्देश जारी किये गये की जब स्कूल बसों में छात्रा बैठी हो तो बस में महिला सहायक होना अनिवार्य है। स्कूल बस संचालकों को निर्देशित किया गया कि, नियमित रूप से अपने स्कूल के वाहनों की तकनीकी रूप से जांच करावे और यदि उसमें कोई तकनीकि खराबी हो तो तत्काल ठीक करवा लें। जांच के दौरान दस्तावेज नहीं पाये जाने पर तीन वाहन को जब्त किया गया। इसके अलावा दो वाहनों में कमिया पाये जाने पर वाहन के फिटनेस प्रमाण पत्र निरस्त किये गये। उन्होंने कहा कि चैकिंग अभियान निरंतर जारी रहेगा। वाहन चालकों से अपेक्षा है कि वाहन के दस्तावेज साथ लेकर चले एवं वाहन को नियंत्रण गति में चलाये।


मंत्री श्रीमती चिटनिस के मुख्य आतिथ्य में जिला स्तरीय किसान सम्मेलन कार्यक्रम 6 जनवरी को होगा आयोजन "भावांतर भुगतान योजना" 
कार्यक्रम की तैयारियों को लेकर कलेक्टर ने ली अधिकारियों की बैठक 
बुरहानपुर | 04-जनवरी-2018
 
 
 
 
 
   प्रदेश सरकार के निर्देशानुसार जिले में भावान्तर भुगतान योजना के जिला स्तरीय किसान सम्मेलन के आयोजन का निर्णय लिया गया हैं। इसके तहत 1 नवम्बर से 30 नवम्बर 2017 तक अधिसूचित कृषि उपज मण्डी/उप मण्डी प्रांगण में योजना के तहत पंजीयन किसानों द्वारा विक्रय की गई फसलों का भावान्तर की भुगतान की राशि का भुगतान आरटीजीएस/एनईएफटी के माध्यम से बैंक खातों में जमा किया जाना हैं।
   इसी तारतम्य में जिला स्तरीय किसान सम्मेलन का आयोजन प्रदेश सरकार की महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस के मुख्य आतिथ्य में किया जायेगा। यह किसान सम्मेलन 6 जनवरी 2018 को प्रातः 10.30 बजे से रेणुका माता मंदिर स्थित दशहरा मैदान पर आयोजित किया जायेगा। इस अवसर पर मुख्य अतिथि द्वारा भावान्तर भुगतान योजना के तहत जिले के 2 हजार 721 किसानों को 2 करोड़ 38 लाख का भुगतान एवं भुगतान प्रमाण पत्र वितरित किये जायेंगे। इसी प्रकार मौसम आधारित फसलों का प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत जिन किसानों ने बीमा करवाया हैं। जिले के लगभग 16 हजार किसानों को 51 करोड़ रूपये के बीमा प्रमाण प्रमाण पत्र वितरित किया जाना हैं।
   जिला स्तरीय किसान सम्मेलन को लेकर कलेक्टर श्री दीपक सिंह ने गुरूवार को कलेक्टोरेट सभागृह में कृषि, सहकारिता, उद्यानीकि, मण्डी, बैंक सहित अन्य विभागों के अधिकारियों की बैठक ली। साथ ही उन्होंने बैठक में सम्मेलन की व्यवस्थाओं को लेकर दिशा निर्देश भी दिये। उन्होंने सम्मेलन में मंच, टेन्ट, लाईट एवं पार्किंग व्यवस्था करने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिये। बैठक में जनप्रतिनिधिगण, सीईओ जिला पंचायत श्री अमिताभ सिरबैया, संयुक्त कलेक्टर श्री एम.एल.आर्य,सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना में बुरहानपुर जिले के 82 वृद्धजन जायेंगे द्वारकापुरी 
बुरहानपुर | 27-दिसम्बर-2017
 
 मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना के तहत वरिष्ठ नागरिकों को देश के जाने माने तीर्थ स्थानों पर यात्रा सरकारी खर्चे पर कराई जाती है। इस योजना के तहत आगामी 30 जनवरी को भोपाल से 245 यात्री, रायसेन 134, हरदा 60, खंडवा के 132, खरगोन 180, बड़वानी 140 तथा बुरहानपुर के 82 यात्री द्वारका धाम तीर्थ स्थल जायेंगे।




सुशासन दिवस पर अधिकारी-कर्मचारियों को दिलाई गई शपथ 
बुरहानपुर | 26-दिसम्बर-2017
 
 
   पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी बाजपेयी के जन्म-दिवस के अवसर पर मंगलवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित कार्यक्रम में कलेक्ट्रेट एवं अन्य कार्यालयों के अधिकारी एवं कर्मचारियों को कलेक्टर श्री दीपक सिंह ने सुशासन संबंधी शपथ दिलाई। इस अवसर पर संयुक्त कलेक्टर श्री एम.एल. आर्य, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व श्री सोहन कनाश सहित विभिन्न अधिकारी व कर्मचारी मौजूद थे। 
    कलेक्टर श्री दीपक सिंह ने इस अवसर पर उपस्थित अधिकारी कर्मचारियों से कहा कि सुशासन स्थापित करने के लिए जरूरी है कि नागरिकों के काम नियमानुसार व निर्धारित समय सीमा में हो। उन्होंने कहा कि कार्यालयों में आने वाले नागरिकों को उनकी पात्रता अनुसार शासन की योजनाओं का लाभ दिलाना चाहिए, यदि कोई अपात्र व्यक्ति आवेदन देता है तो उसे अनावश्यक चक्कर नहीं लगवाना चाहिए बल्कि उसे विनम्र तरीके से स्पष्ट बता देना चाहिए कि पात्रता के अभाव में आपको योजना का लाभ नहीं दिलाया जा सकता। उन्होंने कहा कि सभी शासकीय अधिकारी व कर्मचारी जनता के सेवक के रूप में कार्य करेंगे, तभी देश में सुशासन स्थापित हो सकेगा।
देश की धार्मिक व सांस्कृतिक एकता में आदि शंकराचार्य का है अमूल्य योगदान-महिला बाल विकास मंत्री श्रीमती चिटनिस 
बुरहानपुर में एकात्म यात्रा का हुआ ऐतिहासिक स्वागत, असीरगढ़ एवं बुरहानपुर में जनसंवाद कार्यक्रम संपन्न 
बुरहानपुर | 22-दिसम्बर-2017
 
 ओंकारेश्वर में आदि शंकराचार्य की 108 फीट ऊंचाई की प्रतिमा स्थापित करने तथा वेदांत दर्शन के प्रति जनजागरण के लिए प्रदेश के चार तीर्थ स्थानों उज्जैन, पचमंठा रीवा, अमरकंटक व ओंकारेश्वर से एकात्म यात्रा प्रारंभ हुई है जो प्रदेश के सभी जिलों से होकर 21 जनवरी को ओंकारेश्वर आयेंगी। आगामी 22 जनवरी को मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान प्रख्यात संतो की उपस्थिति में आदि शंकराचार्य की प्रतिमा का शिलान्यास करेंगे। इस कार्यक्रम से प्रदेश के नागरिकों को जोड़ने के लिये एकात्म यात्रा प्रारंभ की गई हैं। एकात्म यात्रा का उद्देश्य आदि शंकराचार्य की प्रतिमा के लिये धातु संग्रहण भी हैं। सभी नागरिक अपनी श्रद्धा व स्वैच्छा से प्रतिमा के लिये धातु दान दें तथा एकात्म यात्रा में अपनी भागीदारी प्रदर्शित करें यह बात प्रदेश की महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस ने स्थानीय कमल चौक पर एकात्म यात्रा के आगमन के अवसर पर आयोजित जनसंवाद कार्यक्रम में संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि देश की एकता व अखण्डता में आदि शंकराचार्य जी के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता। उन्होंने आज से 1200 वर्ष पूर्व विपरीत परिस्थितियों में देश के चारों कोनो पर चार मठों की स्थापना की तथा 32 वर्ष की छोटी सी आयु में 3 बार पूरे देश का भ्रमण किया। इससे पूर्व श्रीमती चिटनिस ने गणपति मंदिर से एकात्म यात्रा का ध्वज लेकर यात्रा में शामिल हुई। इस दौरान बीकानेर राजस्थान से आये संत संवित सोमगिरी महाराज, स्वामी प्रणवानंद सरस्वती, नर्मदानंद महाराज, स्वामी परमानंद महाराज, स्वामी भूवानंद, रामदास महाराज, पूरणदास महाराज व अन्य संतगण, मध्य प्रदेश गौ संवर्धन बोर्ड के उपाध्यक्ष श्री नारायण व्यास तथा महापौर श्री अनिल भोंसले, नगर निगम अध्यक्ष श्री मनोज तारवाला, कलेक्टर श्री दीपक सिंह, पुलिस अधीक्षक श्री पंकज श्रीवास्तव, यात्रा प्रभारी श्री दिलीप श्रॉफ मौजूद थे। बुरहानपुर शहर के विभिन्न भागों से होकर निकली एकात्म यात्रा का स्थानीय नागरिकों ने पुष्प वर्षा कर स्वागत किया। इस अवसर पर आयोजित कलश यात्रा में सैकड़ों महिलाऐं शामिल हुई। 
 
    अपने संबोधन में संवित सोमगिरी महाराज ने कहा कि हमारा देश हजारों वर्ष पूर्व जगद्गुरू रहा है। सैकड़ों वर्ष की गुलामी के बाद भी देश कभी संत विहीन नहीं रहा। देश को हमेशा विद्वान संतों का मार्गदर्षन मिलता रहा है। उन्होंने कहा कि आज फिर हमारा देश जगद्गुरू बनने की स्थिति में है। हमारी संस्कृति व सभ्यता को दूसरे देश भी सम्मान की नजर से देख रहे है। उन्होंने कहा कि एकात्म यात्रा जीव , जगत व जगदीश्वर की एकता की प्रतीक है। उन्होंने कहा कि भौतिकवाद के प्रभाव से सुविधाएं तो बड़ी है लेकिन लोगों की क्षमताएं कम हुई है तथा जीवन में तनाव व अशांति बढ़ी है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा एकात्म यात्रा आयोजन करने का निर्णय अत्यन्त सराहनीय है। देश के सभी साधु संत इस यात्रा से बहुत खुश है। संवित सोमगिरी महाराज ने कहा कि कहा कि मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा आज से प्रारंभ एकात्म यात्रा से भी प्रदेश में अद्वैत वेदान्त दर्षन का प्रचार-प्रसार होगा। महापौर श्री भोंसले ने भी कार्यक्रम में संबोधित किया। 

 

आज बुरहानपुर में आयेगी ‘‘एकात्म यात्रा‘‘ 
असीरगढ, बुरहानपुर, शाहपुर, खकनार और नेपानगर में होंगे जनसंवाद कार्यक्रम, कलेक्टर श्री सिंह ने सभी समुदाय के नागरिको से यात्रा में जुड़ने के लिये आव्हान किया 
बुरहानपुर | 21-दिसम्बर-2017
 
 
आदि शंकराचार्य की प्रतिमा हेतु धातु संग्रहण एवं जनजागरण अभियान ‘‘एकात्म यात्रा‘‘ का आयोजन किया जा रहा हैं। यात्रा के दौरान विभिन्न स्थानों पर स्वागत सम्मान और जनसंवाद कार्यक्रम का आयोजन होगा। कलेक्टर श्री दीपक सिंह ने एकात्म यात्रा में सभी समुदाय के नागरिकों से जुड़ने के लिये आव्हान किया हैं। 
    कार्यक्रम की संपूर्ण जानकारी देते हुए जन अभियान परिषद के जिला समन्वयक श्री महेन्द्रपाल सिंह ने बताया कि आज 22 दिसम्बर को एकात्म यात्रा ग्राम असीरगढ़ में प्रवेश करने के बाद हाईस्कूल मैदान में दोपहर 12 बजे जनसंवाद कार्यक्रम का आयोजन होगा। जिसमें धुलकोट क्षेत्र और आसपास के पंचायतों से ग्रामीणजन कलश लेकर एकात्म यात्रा में सम्मलित होगें। एकात्म यात्रा निम्बोला होते हुए मुख्य मार्ग से बुरहानपुर में प्रवेश करेंगी, जहां यात्रा का भव्यता से स्वागत एवं नगर भ्रमण होगा। इस अवसर पर कमल चौक में दोपहर 3 बजे जनसंवाद होगा। जिसके बाद उसी दिन यह यात्रा शाहपुर में रात्रि 8 बजे पहुंचेगी यहां रात्रि विश्राम होगा। जिसके बाद 23 दिसम्बर को शाहपुर में प्रातः 10 बजे जनसंवाद कार्यक्रम होगा। तत्पश्चात दर्यापुर से होते हुए खकनार दोपहर 1 बजे पहुचने के बाद साईबाबा मंदिर परिसर में जनसंवाद का कार्यक्रम होगा। वहीं ग्राम नावरा होते हुए नेपानगर में एकात्म यात्रा पहुंचेगी। नेपानगर स्थित माता चौक में सायंकाल 5 बजे से जनसंवाद कार्यक्रम होगा। उन्होंने बताया कि नगरीय एवं ग्रामीण निकायों से कलश में मिट्टी, जल लेकर एकत्रित की जायेगी। नगरीय क्षेत्र में प्रत्येक वार्ड से एक-एक कलश और हर पंचायतों से एक कलश में मिट्टी व जल के साथ जनसामन्य यात्रा में सहभागिता करेंगे।

 

सीपीसीटी परीक्षा की तैयारी हेतु नवीन बैच प्रारंभ 

बुरहानपुर | 19-दिसम्बर-2017
 
 सीपीसीटी (CPCT) से टाईपिंग परीक्षा को अनिवार्य कर दिया गया है। यह सरकारी कार्यालयों में क्लर्क, डाटा एंट्री ऑपरेटर सहित अन्य तरह की नौकरियों में जरुरी होगा। प्राईवेट नौकरियों में भी इसे कम्प्यूटर नॉलेज के रूप में मान्य किया जायेगा। संयुक्त जिला कार्यालय के प्रथम तल पर स्थित ई-दक्ष केन्द्र की स्थापना प्रशिक्षण प्रदान करने हेतु की गई हैं। जिसके तहत सभी शासकीय सेवकों को विभिन्न विषयों में प्रशिक्षण प्रदान किया जा रहा है। सीपीसीटी परीक्षा की तैयारी करवाने के उद्देश्य से ई-दक्ष केन्द्र में नवीन बैच प्रारंभ हो चुकी हैं। उक्त प्रशिक्षण में भाग लेने के लिये इच्छुक उम्मीद्वार ई-दक्ष में शीघ्रता से पंजीयन करवा सकते हैं। सीपीसीटी (CPCT) प्रशिक्षण कार्यक्रम में आधुनिक कम्यूटरों से सुसज्जित लैब में कम्प्यूटर और टाईपिंग के अलावा आई.टी. संबंधी परीक्षापयोगी महत्वपूर्ण जानकारियां जैसे-कम्प्यूटर का आधारभूत ज्ञान, एडवांस माईक्रोसॉफ्ट ऑफिस, इंटरनेट, ई-मेल, की-बोर्ड स्किल आदि सैद्धान्तिक और प्रायोगिक तौर पर प्रशिक्षकों द्वारा बताए जाऐंगे। इंटरनेट कनेक्टविटी की उपलब्धता वाले प्रशिक्षण केन्द्र में परीक्षा उत्तीर्ण करने हेतु प्रेक्टिस टेस्टम भी करवाये जाएंगे। प्रशिक्षण मे पंजीयन कराने हेतु जिला कार्यालय स्थित ई-दक्ष केन्द्र कक्ष क्रमांक 62 मे संपर्क किया जा सकता है।

 

स्व व पुलिस अधिकारियों की बैठक संपन्न 

 
बुरहानपुर | 18-दिसम्बर-2017
 
 
 
 
 
    दण्ड़ प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 107 से 124 तक परिशांति कायम रखने एवं सदाचार के लिये प्रतिभूति का आदेश दिया जाकर प्रतिबंधात्मक कार्यवाही किये जाने के प्रावधान हैं। इन धाराओं में कार्यपालिक मजिस्ट्रेट एवं पुलिस अधिकारियों के द्वारा कार्यवाही की जाती हैं। इन धाराओं में प्रभावी रूप से प्रतिबंधात्मक कार्यवाही करने के उद्देश्य से कलेक्टर श्री दीपक सिंह एवं पुलिस अधीक्षक श्री पंकज श्रीवास्तव की अध्यक्षता में सोमवार को कलेक्टोरेट सभागृह में बैठक आयोजित की गई। बैठक में जिले के समस्त अनुविभागीय दण्डाधिकारी, कार्यपालिक मजिस्ट्रेट, सभी थाना प्रभारी एवं अनुविभागीय अधिकारी (पुलिस) उपस्थित रहे। 
    बैठक में परिशांति कायम रखने एवं सदाचार के लिये बंधपत्र भराये जाने वाले मामलों में थाना प्रभारियों से प्राप्त इस्तगासा के प्रकरण में की गई कार्यवाही की समीक्षा की गई। धारा 107 के अंतर्गत कार्यपालिक मजिस्ट्रेट को पुलिस के द्वारा इस्तगासा प्रस्तुत करने पर परिशांति भंग करने वाले व्यक्ति को कारण बताओं सूचना पत्र जारी किया जाकर बंधपत्र निष्पादन की अपेक्षा की जाती हैं। कार्यपालिक मजिस्ट्रेट पुलिस के द्वारा इत्तला की सच्चाई की जांच की जाती हैं। अभियोजन साक्षियों का परीक्षण करने के उपरांत जांच शुरू होने के बाद और जांच की समाप्ति के पूर्व कार्यपालिक मजिस्ट्रेट परिशांति भंग, या अपराध रोकने के लिये अंतरिम बंधपत्र भराया जाता है। अंतरिम बंधपत्र भरने में असफल रहने पर आरोपी को न्यायिक अभिरक्षा भेजा जाता हैं। 
    धारा 117 के तहत जांच साबित हो जाने पर अंतिम आदेश पारित कर अंतिम बंधपत्र निष्पादित कराया जाता है। अंतिम बंधपत्र सदाचार कायम रखने के लिये 6 माह की अवधि के लिये प्रतिभूति भराया जाता है। धारा 122 के तहत भराया गया अंतिम बंधपत्र का उल्लंघन करने पर कारावास का दण्ड़ दिया जा सकता है। साथ ही प्रतिभूति राजसात कर बंधपत्र की रकम वसूल करने की कार्यवाही की जावेगी। 
    इसके अलावा बैठक में आगामी दिवस में क्रिसमस का त्यौहार मनाया जाना है। त्यौहार के दौरान जिले में शांति व्यवस्था बनाये रखने हेतु शांति समिति की बैठक आयोजित करने हेतु निर्देशित किया गया। बैठक में इसाई समुदाय के धार्मिक प्रतिनिधि एवं हिन्दू संगठनो के साथ चर्चा की जाकर शांति व्यवस्था बनाये रखने हेतु सभी कार्यपालिक मजिस्ट्रेट एवं जिले के सभी थाना प्रभारियों को निर्देशित किया गया। उक्त बैठक में इन धाराओं पर प्रभावी कार्यवाही करने हेतु कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक द्वारा सभी कार्यपालिक मजिस्ट्रेट, पुलिस अधिकारी को निर्देशित किया गया, ताकि जिले में परिशांति कायम रहे।

दूसरों की दुकान में कारपेंटरी करने वाले सदुराम बना ‘फर्नीचर मार्ट‘ का मालिक (सफलता की कहानी) 

बुरहानपुर | 14-दिसम्बर-2017
 
 
   
    प्रदेश सरकार की मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना गरीब व बेरोजगार युवाओं को स्वयं का रोजगार स्थापित कर आत्म निर्भर बनाने में मददगार सिद्ध हो रही है। इस योजना के तहत बुरहानपुर शहर के पासी मोहल्ला दौलतपुरा निवासी सदुराम को गत दिनों 5 लाख रूपये का ऋण स्वीकृत हुआ तथा उसे अन्त्यवसायी सहकारी समिति द्वारा 1.50 लाख रूपये का अनुदान स्वीकृत हुआ है। जिससे सदुराम ने प्रतापपुरा बुरहानपुर में अपना खुद का व्यवसाय दुर्गा फर्नीचर एण्ड टिम्बर मार्ट के नाम से शुरू कर दिया है। आज सदुराम अपने पिता व भाई के साथ अपने व्यवसाय का मालिक है तथा उसे हर महिने 30 से 40 हजार रूपये की शुद्ध आय हो जाती है, जिससे वह अपने ऋण की किश्त 10 हजार रूपये प्रतिमाह भी आसानी से चुका लेता है। 
    सदुराम बताता है कि पूर्व में वह अन्य फर्नीचर व्यवसाइयों के यहां 4 हजार रूपये प्रतिमाह पर मजदूरी करता था। वहां काफी कुछ सीखने के बाद खुद का छोटा सा व्यवसाय अपने भाई व पिता के साथ शुरू किया, लेकिन पूँजी के अभाव में व्यवसाय बढ़ नहीं पा रहा था, क्योंकि दुकान का किराया व मशीने आदि खरीदने के लिए लगभग 4-5 लाख रूपये होना जरूरी थे। तभी किसी ने उसे मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के बारे में बताया जिससे सदुराम ने अन्त्यवसायी कार्यालय जाकर सम्पर्क किया तो कुछ दिनों में उसका ऋण प्रकरण स्वीकृत हो गया। अन्त्यवसायी से 5 लाख रूपये का ऋण मिलने के बाद सदुराम व उसके परिवार की दशा ही बदल गई है। अब सुदराम व उसका परिवार खुद का व्यवसाय स्थापित होने से बहुत खुश है।

श्रमोदय आवासीय विद्यालय में निशुल्क पढ़ेंगे श्रमिकों के बच्चे
बुरहानपुर13/12/2017श्रम मंत्रालय की पहल पर प्रदेश के चार जिलों इंदौर, भोपाल, ग्वालियर और जबलपुर में नवोदय विद्यालय की तर्ज पर पंडित दीनदयाल उपाध्याय आवासीय विद्यालय खोले जा रहे हैं। सभी जिलों में यह विद्यालय बनकर पूरी तरह तैयार हो चुके हैं। यहां श्रम विभाग में पंजीकृत मप्र भवन संनिर्माण कर्मकार मंडल के श्रमिकों के बच्चों को निशुल्क प्रवेश दिया जाएगा। शैक्षणिक सत्र 2018-19 के लिए 8 अप्रैल 2018 को प्रवेश परीक्षा होगी।बुरहानपुर सहित आसपास के जिलों के लिए इंदौर संभाग में विद्यालय खुला है। श्रम पदाधिकारी अनिल भोर के अनुुसार श्रम विभाग में 43 प्रकार के मजदूर पंजीकृत हैं। विद्यालय खुलने से बुरहानपुुर जिले के नौ हजार से अधिक श्रमिक परिवार के बच्चों को लाभ होगा।विद्यालय को पूरी तरह केंद्र सरकार के नवोदय विद्यालय की तरह ही बनाया गया है। जिसमें बच्चों को पढ़ाई के साथ रहने, खाने की सुविधा मिलेगी। कक्षा छठवी, सातवीं, आठवीं, नौवीं और 11वीं के विद्यार्थी यहां प्रवेश पा सकेंगे। श्रम विभाग के अनुसार विभाग में नींव खुदाई से लेकर सुतार तक हर प्रकार के संन्निर्माण से जुड़े मजदूर पंजीकृत हैं। लेबर इंस्पेक्टर देव नंदनी बघेल ने बताया कि इसके लिए प्रवेश परीक्षा अप्रैल 2018 में होगी। इसके लिए मंगलवार को जिलेभर की सरकारी स्कूलों के प्राचार्य, प्रधान पाठकों की बैठक भी ली गई। उन्हें विद्यालय में प्रवेश की जानकारी दी गई।

 

प्राथमिक और माध्यमिक के प्रधान पाठकों को प्रशिक्षण

नेपानगर। ग्राम भातखेडा के संकुल केन्द्र में प्राचार्य राजेश तकझरे ने संकुल की प्राथमिक एवं माध्यमिक शालाओं के प्रधान पाठकों को डाईस संबंधी प्रशिक्षण दिया। उन्होंने कहा कि शीट में कहीं भी काली स्याही का उपयोग नहीं करना है। त्रुटि होने पर उसे लाल स्याही से ही अंकित करना है। प्रत्येक शीट में प्रधान पाठकों का नंबर एवं शिक्षकों का आधार नंबर जरूरी है। इस अवसर पर जनशिक्षक राजेश कापडे, दशरथ चौहान, हरीओम नागले आदि उपस्थित थे।

 

महिलाओं के लिए समानता का आशय पुरुषों जैसा होना नहीं - मंत्री श्रीमती चिटनिस 
‘‘महिलाओं के अधिकार मानवाधिकार हैं‘‘ विषय पर वक्ताओं ने रखे विचार, अंतर्राष्ट्रीय मानव अधिकार दिवस पर कार्यशाला आयोजित 
बुरहानपुर | 10-दिसम्बर-2017
 
 
महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस ने कहा है कि महिलाओं के लिये समानता का आशय पुरुषों जैसा होना नहीं हैं, अपितु महिलाओं का अपना विशिष्ट स्थान है जिसे समाज भलि-भाँति स्वीकार करता है। उन्होंने कहा कि महिलाओं कि प्राथमिकता को उनकी कमजोरी नहीं समझना चाहिए। यदि महिला, मातृत्व संबधी कारणों से कुछ गतिविधियों को विशेष अवधि में कम समय देती है तो यह उनकी कमजोरी नहीं अपितु उनके विशेष अधिकार है जिसे उनकी प्राथमिकता के प्रति संवेदनशीलता के रूप में देखा जाना चाहिए। श्रीमती चिटनिस ने कहा कि हमें हमारे परिवेश और समृद्ध तथा स्वस्थ परम्परा के अनुसार सोच का नजारिया विकसित करना होगा। हमारे अतीत को अंधकारमय बताने वाले औपनिवेशिक सोच से मुक्त होना बड़ी चुनौती है। 
    श्रीमती चिटनिस मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग द्वारा अंतर्राष्ट्रीय मानव अधिकार दिवस पर महिलाओं के अधिकार-मानवाधिकार हैं विषय पर आयोजित कार्यशाला को संबोधित कर रही थीं। 
    महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती चिटनिस ने कहा कि आपराधिक प्रवृत्ति के लोगों में भय व्याप्त करने के लिये कानून जरूरी है। महिला अधिकारों और महिलाओं की सुरक्षा तथा सशक्तिकरण के लिये बनाये गये कानून की जानकारी देने के लिये प्रदेश की 92 हजार ऑगनवाड़ी में गठित शौर्या दलों के माध्यम से विशेष अभियान चलाया जाएगा। श्रीमती चिटनिस ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के यह स्पष्ट निर्देश हैं कि थाने में पहुँचने वाली हर पीड़ित महिला की रिपोर्ट दर्ज हो। 
    कार्यशाला को संबोधित करते हुये न्यायाधीश श्री जे.पी. गुप्ता ने कहा कि यूएनओ ने 2030 तक महिला सशक्तिकरण के लक्ष्य को प्राप्त करने की समय-सीमा निर्धारित की है। उन्होंने विधिक प्रक्रिया तथा अधिकारों की जानकारी का विस्तार ग्रामीण क्षेत्र विशेष कर अनुसूचित जाति, अनुसूचित जन जाति बाहुल्य क्षेत्रों में करने की आश्यकता बताई। श्री गुप्ता ने कहा कि अदालतों में 40 प्रतिशत मामले महिला उत्पीड़न से संबंधित हैं जिनमें दहेज और घरेलू हिंसा से संबंधित मामलों का प्रतिशत बहुत अधिक है। श्री गुप्ता ने कानूनों और प्रक्रिया को व्यवहारिक बनाने की आवश्यकता भी बताई। 
    कार्यशाला को संबोधित करते हुये मानव अधिकार आयोग के कार्यवाहक अध्यक्ष श्री मनोहर मनतानी ने कहा कि महिला अपराध में वृद्धि सरकार के साथ-साथ समाज के लिये भी चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि इस दिशा में हम सब को सहभागी होना होगा। व्यक्तिगत और समाज की सोच बदलने की जरूरत है। महिला उत्पीड़न पर विरोध जताने और चुप्पी तोड़ने की प्रवृत्ति विकसित करनी होगी। श्री ममतानी ने महिलाओं के विरुद्ध अपराधों के प्रकरणों के शीघ्र निराकरण के लिए स्थाई व्यवस्था स्थापित करने की आवश्यकता बताई। महिलाओं द्वारा शिक्षा निरंतर नहीं रख पाने, लिव इन रिलेशनशिप, पीसीपीएनडीटी एक्ट के संबंध में भी उन्होंने अपने विचार रखे।
    मानव अधिकार आयोग के सदस्य श्री सरबजीत सिंह ने कहा कि अभिभावकों की भूमिका, बालक-बालिकाओं को समान वातावरण देने और बालिकाओं में विश्वास की भावना विकसित करने की आवश्यकता है। महिला अधिकारों के संबंध में उन्होंने कहा कि इस दिशा में बने कानूनों का प्रभावी क्रियान्वयन समानता और समाज के सोच के तरीके को बदलने के लिए कारगर सिद्ध होगा।
    प्रमुख सचिव महिला-बाल विकास श्री जे.एन. कंसोटिया ने कहा कि महिलाओं की सामाजिक सुरक्षा, हिंसा से रक्षा के साथ-साथ उनकी उच्च शिक्षा, पोषण से जुड़े मुद्दों तथा समान पारिश्रमिक के क्षेत्र में विशेष पहल करने की आवश्यकता है।
    इस अवसर पर महिलाओं के अधिकार मानवाधिकार हैं विषय पर महाविद्यालयों के मध्य हुई आलेख लेखन प्रतियोगिता में प्रथम पुरस्कार प्राप्त कु. सुमायरा यासीन को प्रमाण-पत्र प्रदान किया गया। साथ ही मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग द्वारा प्रकाशित स्मारिका का विमोचन भी किया गया।
    जागरण लेक सिटी यूनिवर्सिटी में आयोजित इस कार्यक्रम में मध्यप्रदेश उच्च न्यालाय जबलपुर के न्यायाधीश श्री जे.पी. गुप्ता, मानव अधिकार आयोग के कार्यवाहक अध्यक्ष श्री मनोहर ममतानी, मानव अधिकार आयोग के सदस्य श्री सरबजीत सिंह, प्रमुख सचिव महिला बाल विकास श्री जे.एन. कसोटिया, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक श्रीमती अरूणा मोहन राव तथा अन्य विषय विशेषक उपस्थित थे।

 

‘‘भावांतर भुगतान योजना‘‘ से बुरहानपुर जिले के निराश किसानों के जीवन में आई खुशहाली (सफलता की कहानी) 
बुरहानपुर | 07-दिसम्बर-2017
 
  प्रदेश सरकार ने खेती को लाभ का धंधा बनाने तथा किसानों को उनकी उपज का सही मूल्य दिलाने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना लागू की है। इस वर्ष लागू यह योजना किसानों के लिए वरदान सिद्ध हुई है। इस योजना के तहत बुरहानपुर जिले के 886 किसानों के खाते में प्रदेश सरकार 74 लाख 76 हजार 549 रूपये की राशि जमा करा चुकी है। किसानों को मण्डी के व्यापारी से प्राप्त फसल के बाजार मूल्य के अलावा भावांतर भुगतान योजना से प्राप्त अतिरिक्त राशि से उनके जीवन में खुशहाली छा रही है। ग्राम चिचाला की किसान मनीषा ने बताया कि जब उनके खेत में उड़द की फसल बोई गई थी तो उन्हें बाजार से अच्छे मूल्य पाने की आशा थी, लेकिन फसल बेचने के समय मूल्यों में आई गिरावट के कारण काफी निराशा हाथ लगी। तभी प्रदेश सरकार की भावांतर भुगतान योजना के बारे में अखबारों में पढ़ने को मिला और तुरंत इस योजना में पंजीयन करा लिया। सचिव कृषि उपज मण्डी बुरहानपुर श्री रामवीर किरार ने बताया कि भावांतर भुगतान योजना के तहत ग्राम चिंचाला की किसान मनीषा पति दिलीप सिंह ठाकुर को मण्डी में लगभग 26 क्विंटल उड़द बेचने पर बाजार भाव के अलावा भावांतर भुगतान योजना के तहत न्यूनतम समर्थन मूल्य एवं मॉडल रेट के अंतर की राशि के रूप में 62,064 रूपये का अतिरिक्त लाभ हुआ है। यह राशि किसान मनीषा ठाकुर के खाते में जमा की जा चुकी है। इसी तरह ग्राम लोनी के मक्का उत्पादक किसान रघुनाथ पुत्र हरी महाजन ने कृषि उपज मण्डी में अपनी मक्का की फसल बेची। उन्हें कुल 173 क्विंटल मक्का बेचने पर व्यापारी से प्राप्त मक्के के बाजार मूल्य के अलावा भावांतर भुगतान योजना के तहत रघुनाथ के खाते में 40,619 रूपये जमा कराये जा चुके है। 
   इसके अलावा ग्राम दरियापुर के किसान तरूण पुत्र प्रेमलाल पटेल ने भी मण्डी में लगभग 125 क्विंटल सोयाबीन बेची थी, जिससे भावांतर भुगतान योजना के तहत न्यूनतम समर्थन मूल्य एवं मॉडल रेट के अंतर की राशि के रूप में 58,045 रूपये इसके खाते में जमा कराये जा चुके है। इसी तरह ग्राम सिवल की श्रीमती गीता बाई पढ़री के खेत में लगभग 85 क्विंटल सोयाबीन का उत्पादन हुआ। कृषि उपज मण्डी में बाजार के प्रचलित भाव पर अपनी सोयाबीन बेच दी। सोयाबीन के मूल्य के रूप में व्यापारी से प्राप्त राशि के अलावा भावांतर भुगतान योजना से उसके खाते में प्रदेश सरकार ने लगभग 40 हजार रूपये अतिरिक्त जमा करा दिए है, जिससे गीता बाई काफी खुश है। 
तुकईधड़ व बोरीबुजुर्ग में फसल खरीदने की सुविधा से किसानों की परेशानी दूर हुई 
    कलेक्टर श्री दीपक सिंह ने बताया कि बुरहानपुर जिले में कृषि उपज मण्डी बुरहानपुर में ही भावांतर योजना के तहत फसल खरीदने की व्यवस्था थी। जिले की तुकईधड़ में उपमण्डी थी जो कि जिला मुख्यालय से लगभग 40 किलोमीटर दूर है। किसानों की सुविधा को देखते हुए उप मण्डी तुकईधड़ को भावांतर योजना के खरीद केन्द्रों में शामिल करने के प्रयास किये गये जिससे कि उस क्षेत्र के किसानों को फसल बेचने के लिए बुरहानपुर न आना पड़े। शासन स्तर पर विशेष प्रयास करने पर प्रदेश में सबसे पहले तुकईधड़ की उपमण्डी को ही स्वीकृति मिली। बाद में तो प्रदेश के अन्य जिलों की उपमण्डीयों को भी भावांतर योजना में शामिल किया गया है। उन्होंने बताया कि तुकईधड़ के अलावा बोरीबुजुर्ग में तो उप मण्डी भी नहीं थी ऐसे में किसानों को फसल सहित बुरहानपुर आने के लिए लगभग 45 किलोमीटर यात्रा करना पड़ती। अतः बोरीबुजुर्ग को विशिष्ट प्रांगण के रूप में भावांतर योजना के तहत फसल खरीदने के लिए स्वीकृति दिलाई गई, जिससे किसानों को फसल सहित बुरहानपुर नहीं आना पड़ा। इस व्यवस्था से किसानों को काफी सुविधा मिली है।

 

मंत्री श्रीमती चिटनिस ने बुरहानपुर रेल्वे स्टेशन को सुन्दर बनाने के लिये अधिकारियों से की चर्चा 

 
बुरहानपुर | 02-दिसम्बर-2017
 
.
 
  
   बुरहानपुर रेल्वे स्टेशन को ओर अधिक कैसे बेहतर और सुंदर बनाया जाये, इसी उद्देश्य को दृष्टिगत रखते हुए शासकीय विश्राम गृह में प्रदेश सरकार की महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस ने रेल्वे के अधिकारियों से चर्चा की। बैठक में यात्रियों के लिये रेल्वे स्टेशन पर अतिरिक्त आरक्षित कक्ष, शुद्ध पेयजल एवं साफ-सफाई सहित अन्य विषयों पर विस्तृत रूप से चर्चा की गई। 
बुरहानपुर में ट्रेनों के स्टापेज के लिये डीआरएम से चर्चा की
   बैठक में मंत्री श्रीमती चिटनिस ने डीआरएम श्री आर.के.यादव से बुरहानपुर रेल्वे स्टेशन पर लखनऊ एक्सप्रेस, गंगानगर नांदेड़ एक्सप्रेस के स्टापेज के लिये अपेक्षा की। उन्होंने कहा कि इन ट्रेनों के रूकने से बहुत सी परेशानी आसान हो जायेगी। इससे बुरहानपुर के लोगों को काफी राहत मिलेंगी। इसके अलावा उन्होंने कहा कि अजमेर-हैदराबाद एक्सप्रेस ट्रेन सभी दिन रूकने की व्यवस्था की जायें, जिससे कि यात्रियों को राहत मिलेंगी। वहीं पंजाब मेल निर्धारित समय से अधिकतर काफी देरी से आती हैं, जिससे कि आवश्यक कार्य के लिये मुम्बई जाने यात्रियों को कठिनाई का सामना करना पड़ता हैं, इसमें सुधार किया जाना अत्यंत आवश्यक हैं। बैठक में उन्होंने कहा कि बहुत सी ट्रेनों का बुरहानपुर में 2 मिनट का स्टापेज है, बुरहानपुर में इन ट्रेनों का रूकने का समय बढ़ाया जायें। वहीं उन्होंने कहा कि रेल्वे स्टेशन के पास गार्डन को विकसित किया जाये, तो स्टेशन की ओर भी शोभा बढ़ जायेंगी। आवारा पशुओं को रेल पटरियों से दूर करने के लिये आवश्यक व्यवस्था करने के निर्देश दिये। 
   मंत्री श्रीमती चिटनिस ने बताया कि, बुरहानपुर शहर प्राचीन एवं ऐतिहासिक महत्व का शहर है। उन्होंने कहा कि, बुरहानपुर शहर के इतिहास को जानने के लिये रेल्वे स्टेशन पर ऐतिहासिक स्मारकों व महापुरूषों की जानकारी देने के उद्देश्य से कार्ययोजना बनायी जाये, ताकि बुरहानपुर शहर के रेल्वे स्टेशन से जब भी कोई पर्यटक या यात्री गुजरे तो उसका मन बुरहानपुर शहर में आने के लिये उत्सुक रहें। 
   बैठक में इसके अलावा बुरहानपुर रेल्वे स्टेशन पर यात्रियों के लिये लिफ्ट की सुविधा करने पर चर्चा की गई। मंत्री श्रीमती चिटनिस ने कहा कि बहुत से बुजुर्ग व दिव्यांग यात्रियों को रेल्वे की सीढियों पर आने-जाने में दिक्कत होती है। इसे दृष्टिगत रखते हुए यहां पर लिफ्ट होना बहुत जरूरी हैं। इसके लिये कार्ययोजना तैयार कर इस कार्य को प्राथमिकता से पूर्ण कर ले। बैठक में उन्होंने कहा कि शिवाजी नगर और चिंचाला वार्ड में बहुत संख्या में लोग निवास करते हैं। जिन्हें व्यवसाय एवं आजीविका उपार्जन के लिये शहर में आना-जाना पड़ता हैं। अतः रेल्वे स्टेशन पर ब्रिज बनाने के लिये कार्ययोजना बनायी जायें, ताकि लोगों को सुविधा हो सकें। बुरहानपुर रेल्वे स्टेशन पर एस्केलेटर लगाने की बात कही। बैठक में कलेक्टर श्री दीपक सिंह, पुलिस अधीक्षक श्री पंकज श्रीवास्तव, नगर निगम आयुक्त श्री पवन कुमार सिंह सहित अन्य रेल्वे अधिकारी व प्रशासनिक अधिकारी उपस्थित थे। 

 

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
  • Address: Harihar Bhavan Nowgong Dist. Chatarpur Madhya Pradesh  , Mo : 98931-96874 , Email :  This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it. Web : www.ganeshshankarsamacharsewa.in