सिवनी समाचार

बेसहारा या अनाथ बच्चों की जानकारी बाल समिति को दें 
सिवनी | 12-जनवरी-2018
 
जिले में किशोर न्याय (बालको की देखरेख एवं संरक्षण अधिनियम 2015), नियम 2016 और नवीन पालन पोषण देखरेख दिशा निर्देशानुसार बाल कल्याण समिति का गठन राज्य शासन द्वारा किया गया है। बाल कल्याण समिति को मजिस्ट्रेट की न्यायपीठ दंड प्रक्रिया संहित 1973 द्वारा मेट्रोपोलियन या न्यायिक मजिस्ट्रेट की शक्ति प्राप्त है। बाल कल्याण समिति महिला सशक्तिकरण कार्यालय में हफ्ते में तीन दिवस बैठक करती है। बाल कल्याण समिति उन बच्चों/बच्चियों के लिए कार्य करती है जो निराश्रित, बेसहारा, अनाथ, परित्यक्त, गुमशुदा व किसी प्रकार का शोषण का शिकार हो रहे है। बाल समिति के सक्ष बच्चा खुद व किसी अन्य व्यक्ति के द्वारा लाया जा सकता है। 
   शासन के निर्देशानुसार बच्चों को आर्थिक सहायता, बच्चों को दत्तक ग्रहण करने हेतु बच्चों के हित से संबंधित सभी निर्णय लेने के लिए समिति सक्षम है। ऐसे माता-पिता जो अपने बच्चों को पालने में सक्षम नहीं, उनके लिए बाल समिति आर्थिक/मानसिक सहयोग करेगी, ऐसे बच्चे जो चिकित्सा व शिक्षा से आर्थिक तंगी से वंचित है उनके लिये बाल कल्याण समिति द्वारा यथा संभव सहायता की जायेगी। 
   समिति द्वारा आम जनता से अपील की गई है कि आस पास पड़ोस में परिचित में ऐसे बच्चों जो देखरेख एवं संरक्षण के जरूरतमंद  है, भिक्षावृत्ति करने वाले बच्चे, बीमारी से ग्रसित, अनाथ, बेसहारा हो, माता, माता पिता की मृत्यु हो चुकी हो, उनकी जानकारी बाल कल्याण समिति अध्यक्ष, सदस्यों के नंबर 8223083137, 7000041610, 9425175644, 7049006604 में  कॉल कर संपर्क कर सकते है।

 

मेक इन इंडिया की तर्ज में बना प्रदेश का पहला मत्स्य आहार संयंत्र बना सिवनी की पहचान "सफलता की कहानी" 
संयंत्र से निर्मित प्रोटीन युक्त आहार से मछुवारों की आय में हो रही वृद्धि 
सिवनी | 08-जनवरी-2018
 
 
मेक इन इंडिया की तर्ज में सिवनी जिले में प्रारंभ किया गया प्रदेश का पहला मत्स्य आहार संयंत्र जिले के साथ ही साथ आसपास के क्षेत्रों के मछुआरों के मत्स्य व्यवसाय को लाभ का धंधा बनाने में आशा की किरण बनकर उभरा है। मत्स्य विभाग द्वारा वर्ष 2015 -16 में आई. ए. पी योजना अंतर्गत मत्स्य आहार संयंत्र की स्थापना विकासखंड केवलारी के ग्राम बागडोगरी में 32 .50 लाख की लागत से की गई थी। जिसके  संचालन की जिम्मेदारी मछुआ सहकारी समिति बनाथर ग्राम पांडिया छपारा के  93 सदस्यीय समिति को भूमि और कच्चे माल की उपलब्धता के आधार पर सौंपा गया। मार्च 2016 से इनके द्वारा सफलतापूर्वक संचालित किया जा रहा है।
   मछुआ सहकारी समिति द्वारा संचालित इस संयंत्र द्वारा निर्मित मत्स्य आहार 30 से 32 प्रतिशत प्रोटीन युक्त गुणवत्ता का है। जो जिले के 1800 तालाबों के लगभग 10122 पट्टाधारक मछुआरों/ मछुआ समितियों की मत्स्य उत्पादन को बढाने में सहायक हो रहा है। मत्स्य पालको को पारंपरिक आहार की तुलना में इस प्रोटीन युक्त प्लोटिंग आहार से  पहले से ज्यादा मत्स्य उत्पादन हो रहा है। जिससे उनके लाभ में वृद्धि हुई है। लाभांवितो में  जिले में पंजीकृत 10122 मछुआरों के साथ ही साथ मछुआ सहकारी समिति/मछुआ समूह एवं व्यक्तिगत हितग्राही लाभान्वित हो रहे हैं। उल्लेखनिय है की इसके पूर्व मत्स्य आहार पडोसी राज्यों से खरीदकर विभाग द्वारा मत्स्य पालकों को उपलब्ध कराया जाता था। जो कि काफी महँगा एवम इसकी पहुँच हर मत्स्य पालक तक नही थी। अब मत्स्य पालक को स्थानीय स्तर में 38 प्रति कि. ग्रा. की दर से सुविधा अनुरूप 5कि. ग्रा.,10कि.ग्रा.,20 व 30कि. ग्रा. पैकेट में उपलब्ध कराया जाता है।
   मछुआ सहकारी समिति बनाथत द्वारा वर्ष 2016-17 में 5.41 लाख तथा 2017-18 में 29 लाख की मत्स्य आहार की बिक्री की गई है तथा वर्तमान में समिति को रूपयें 27.71 लाख का आहार उत्पादन हेतु जिला सिवनी द्वारा आदेश प्रदाय किया गया है। इसके अतिरिक्त जबलपुर संभाग के अन्य जिलों से भी आहार की मांग समिति को प्रदाय की जा रही है। जो लगभग रूपयें 7.22 लाख की है। उक्तानुसार आहार का विक्रय कर समिति को  8.70 लाख रूपयें की आय प्राप्त होगी। जिससे निश्चित रूप से सहकारी समितियों के सदस्यों की आय में अतिरिक्त वृद्धि होगी।

 

 

 

 

भावांतर योजनांतर्गत जिला स्तरीय कार्यक्रम 6 जनवरी को 

सिवनी | 04-जनवरी-2018
 
 
 
 
   मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजनान्तर्गत जिला स्तरीय किसान सम्मेलन का आयोजन 6 जनवरी को कृषि उपज मंडी समिति प्रांगण सिमरिया में किया जा रहा है,। कार्यक्रम अंतर्गत 01 नवंबर 30 नवंबर 2017 तक जिन किसानों ने अधिसूचित फसल का अधिसुचित मंडियों में विक्रय किया है, उन पंजीकृत किसानों/ लाभान्वित होने वाले हितग्राहियों को प्रमाण-पत्र वितरण कार्यक्रम रखा गया है। अत: जिले के समस्त किसान भाईयों से अनुरोध है, कि अधिक से अधिक संख्या में उपस्थित होकर कार्यक्रम का लाभ उठायें।

 

6 जनवरी को होगा एकात्म यात्रा का जिले में प्रवेश 
एकात्म भाव जाग्रति हेतु महात्माओं द्वारा किया जायेगा जन संवाद 
सिवनी | 29-दिसम्बर-2017
 
सम्पूर्ण प्रदेश में आदि गुरू शंकराचार्य जी की प्रतिमा निर्माण धातु संग्रह एवं जनसामान्य में एकात्म की भावना की जागृति हेतु चलाई जा रही एकात्म यात्रा सिवनी जिले में 6 जनवरी को प्रवेश करेगी तथा 9 जनवरी को जिले से प्रस्थान करेगी। इस अवधि मे जिले में 5 स्थानों में जन संवाद होंगे तथा जिले के प्रत्येक ग्राम से ग्राम की मिट्टी भरे धातु कलश का संग्रहण किया जायेगा। जिसका उपयोग ओंकालेश्वर मे आदि शंकराचार्य की मूर्ति निर्माण एवं अधोसंरचना में किया जायेगा। इस अवधि में संतों, महात्माओं द्वारा जन संवाद द्वारा आम जन में एकात्म का भाव का प्रसार किया जायेगा। यात्रा की भव्यता से स्वागत एवं अगवाई की संपूर्ण तैयारीयां जिला प्रशासन द्वारा पूर्ण कर ली गई है। यह यात्रा 6 जनवरी को बरघाट विकासखण्ड के ग्राम बेहरई में प्रवेश करेगी। 6 जनवरी को बरघाट स्टेडियम में जन संवाद कार्यक्रम होगा एवं रात्रि विश्राम सिवनी में होगा। 
   7 जनवरी को सिवनी मठ मंदिर में प्रात: 11 बजे जन संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया जायेगा। इसके पश्चात यात्रा केवलारी विकासखण्ड को प्रस्थान करेगी, जहां उत्कृष्ट विद्यालय मैदान में जन संवाद कार्यक्रम का आयोजन किया जायेगा। 8 जनवरी को यात्रा केवलारी से प्रस्थान कर छपारा पहुंचेगी। जहां उत्कृष्ट विद्यालय मैदान छपारा में जन संवाद कार्यक्रम का आयोजन प्रात: 11 बजे किया जायेगा। इसके उपरांत यात्रा लखनादौन विकासखण्ड के लिये प्रस्थान करेगी तथा उत्कृष्ट विद्यालय मैदान लखनादौन में जन संवाद कार्यक्रम का आयोजन दोपहर 2 बजे किया जायेगा। रात्रि विश्राम लखनादौन में होगा। 9 जनवरी को हयरसेकेंड्री स्कूल मैदान धूमा में जन संवाद कार्यक्रम का आयोजन प्रात: 11 बजे किया जायेगा इसके उपरांत यह यात्रा नरसिंहपुर जिले के लिये प्रस्थान करेगी। 

 

 

स्कूली छात्र-छात्राओं के लिये आयोजित किया गया वन्यप्राणी जागरूकता कार्यक्रम 
सिवनी | 27-दिसम्बर-2017
 
 
 
 
    दक्षिण सिवनी वनमण्डल के सिवनी परिक्षेत्र के अंतर्गत आनेवाले ग्राम लामाजोति में 24 दिसंबर को स्कूली छात्र-छात्राओं में वनों,वन्यप्राणियों की सुरक्षा, पर्यावरण सुरक्षा एवं वनों के प्रति जागरूकता लाने के लिये अनुभूति कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में माननीया श्रीमति मीना बिसेन, अध्घ्यक्षा जिला पंचायत सिवनी, श्री घनश्याम सनोडिया, श्री सी.एस.मान, मुख्घ्य वन संरक्षक, सिवनी वृत सिवनी, श्री टी.एस.सुलिया, वनमण्डल अधिकारी दक्षिण सिवनी, श्री टी.बी.पाण्डे उप वनमण्डल अधिकारी सिवनी एवं श्री आर.बी.सिंह, सेवानिवृत्त स.व.सं. मास्टर ट्रेनर भी उपस्थित रहे। अनुभूति कार्यक्रम के अंतर्गत माननीय जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों कर्मचारियों के साथ विभिन्न स्कूलों के छात्र-छात्राओं द्वारा वनभ्रमण किया गया। इस अवसर पर स्कूली छात्र-छात्राओं को अपने वनों, वन्यप्राणियों को करीब से जानने समझने का अवसर प्राप्त हुआ। कार्यक्रम में बच्चों को संबोंधित करते हुये माननीया श्रीमति मीना बिसेन द्वारा वनों एवं वन्यप्राणियों का मानव जीवन में आवश्यकता एवं उनकी सुरक्षा के लिये अपने स्तर पर करनेवाले कार्यों के संबंध में अवगत कराया गया एवं सुरक्षा की अपील की गई। श्री सी.एस.मान, मुख्य वन संरक्षक सिवनी द्वारा बच्चों को विभिन्न प्रजाति के वृक्षों की पहचान, उनसे प्राप्त होने वाले उत्पादों एवं जलवायु एवं पारिस्थितिकि तंत्र में उनका महत्व एवं पर्यावरण संरक्षण में योगदान के संबंध में जानकारी दी गई। वनों से प्राप्त होने वाले प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष लाभों के संबंध में बच्चों को विस्तार से जानकारी दी गई। इस कार्यक्रम से स्कूली बच्चों द्वारा अपनी जिज्ञासा से वनाधिकारियों से जानकारी प्राप्त कर वनों,वन्यप्राणियों एवं पर्यावरण संरक्षण के संबंध में अपने स्तर पर कार्य करने का उत्साह जागा है।

 

 

 

मौसमी अधिसूचित रवी फसलों का कृषक करवाये बीमा 

सिवनी | 22-दिसम्बर-2017
 
सहायक संचालक उद्यानिकी विभाग द्वारा जानकारी देते हुए बताया गया की शासन के निर्देशानुसार वर्ष 2017-18 के लिये उद्यानिकी फसलो के बीमा हेतु जिले मे प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना अंतर्गत रबी फसलों मे टमाटर, बैगन, फूलगोभी, पत्तागोभी, प्याज, आलू, लहसुन, धनिया, हरी मटर, आम आदि को भी सम्मिलित किया गया है। मौसम आघारित फसल बीमा योजना मौसम रबी 2017 के लिये ऋणि किसानों के लिये अनिवार्य तथा अऋणी के लिये स्वैच्छिक है जो कृषक अपने जोखिम अनुरुप करवा सकते है। शासन द्वारा अधिसुचित फसलों की प्रति हेक्टेयर प्रिमियम दर अधिकतम बीमित राशि निम्नानुसार है- रवी प्याज एवं लहसुन के लिये प्रति हेक्टेयर बीमित राशि 63100 तथा कृषक द्वारा देय प्रिमियम प्रति हेक्टेयर 3155 (5 प्रतिशत) रवी फसलें टमाटर, बैगन, पत्तगोभी एवं फूलगोभी के के लिये प्रति हेक्टेयर बीमित राशि 82030 तथा कृषक द्वारा देय प्रिमियम प्रति हेक्टेयर 4101.5 (5 प्रतिशत), धनिया, हरीमटर के लिये प्रति हेक्टेयर अधिकतम बीमित राशि 34125 तथा कृषक द्वारा देय प्रिमियम प्रति हेक्टेयर 1706.25 (5 प्रतिशत), आम के लिये प्रति हेक्टेयर अधिकतम बीमित राशि 68315 तथा कृषक द्वारा देय प्रिमियम प्रति हेक्टेयर 3415.75(5 प्रतिशत), आलू-1 के लिये प्रति हेक्टेयर अधिकतम बीमित राशि 63050 तथा कृषक द्वारा देय प्रिमियम प्रति हेक्टेयर 3152.5 (5 प्रतिशत), आलू-2 के लिये प्रति हेक्टेयर अधिकतम बीमित राशि 105000 तथा कृषक द्वारा देय प्रिमियम प्रति हेक्टेयर 5250 (5 प्रतिशत) रु देय होगा।
   इस संबंध मे विभाग द्वारा विकासखण्डवार कार्यशाला का आयोजन  किया जा रहा है जो की तिथी व विकासखण्डवार निम्नानुसार है- विकासखण्ड सिवनी मे मरझोर मे 26 दिसंबर को, धनौरा सुनवारा मे 28 दिसंबर को, लखनादौन गुंगवारा मे 29 दिसंबर को, केवलारी अहरवाडा मे 1जनवरी को,  बरघट मंढी मे 2 जनवरी को आयोजित कियो जायेंगे।

 

राष्ट्रीय कृषि योजनान्तर्गत कद्दूवर्गीय फसलों की खेती में मिलेगा अनुदान 
कृषक करें आवेदन 
सिवनी | 20-दिसम्बर-2017
 
 संचालनालय उद्यानिकी एवं प्रक्षेत्र वानिकी भोपाल के पत्र के द्वारा राष्ट्रीय कृषि योजना वर्ष 2017-18 के अंतर्गत तरबूज, खरबूज एवं कद्दूवर्गीय फसलों के लिये आर्थिक सहायता प्रदान करने हेतु योजना प्रस्तावित की गई है। योजना मे इच्छुक कृषक एमपीएफएसटी पोर्टल (www.mpfsts.mp.gov.in) पर आनलाईन आवेदन कर योजना का लाभ ले सकते है। प्रति कृषक बीज की लागत का 50 प्रतिशत या 5000 रु अनुदान देय है। योजना का लाभ आवेदन के उपरान्त जिला स्तर पर पहले आओ पहले पाओ के आधार पर दिया जायेगा। 

 

 

दिव्यांग परिचय सम्मेलन आज घंसौर व कल सिवनी में 
सिवनी | 18-दिसम्बर-2017
 
 
 
   समाज में रह रहे दिव्यांगजनों के सामाजिक पुनर्वास एवं उत्थान हेतु दिव्यांगजनों के विवाह हेतु नि:शक्त विवाह प्रोत्साहन योजना प्रारंभ की गई है। योजनान्तर्गत जिले में नि:शक्तजनों का सामूहिक विवाह मुख्यमंत्री कन्यादान योजना अन्तर्गत माह फरवरी 2018 में आयोजित किया जाना प्रस्तावित है।  ऐसे दिव्यांगजनों को अच्छे जीवन साथी मिले इस हेतु जनपद पंचायत स्तर पर दिव्यांग परिचय सम्मेलन का आयोजन कर जिला प्रशासन द्वारा किया जा रहा है।
   इस संबंध में उपसंचालक सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण श्री बीरेश सिंह बघेल ने अवगत कराया गया है कि दिव्यांगजनों के जोडो का मिलान करने हेतु समस्त जनपद पंचायत स्तर पर (नगर परिषद भी शामिल होगे) दिव्यांग परिचय सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा हैं। इसी तारतम्य में दिनांक 19 दिसम्बर 2017 को जनपद पंचायत घंसौर में दिव्यांग परिचय सम्मेलन का आयोजन किया गया हैं तथा 20 दिसम्बर को जनपद पंचायत सिवनी आयोजित होगा जिसमें नगर परिषद सिवनी के दिव्यांग भी शामिल होगें। विवाह कार्यक्रम में शामिल होने वाले दिव्यांग जोडे में दोनो दिव्यांग होने पर 01 लाख एवं जोडे में एक दिव्यांग होने पर 2.00 लाख का लाभ प्रदान किया जावेगा साथ ही कन्या विवाह योजना अन्तर्गत 20 हजार रूपये का चेक एवं 05 हजार की सामग्री से लाभान्वित किया जावेगा।
   कलेक्टर सिवनी श्री गोपाल चंद्र डाड ने समस्त वैवाहिक योग्य दिव्यांगजनों से अपील की गई है वे परिचय सम्मेलन में आकर अपने जीवन साथी की तलाश पूरी करें, जिससे आपका वैवाहिक जीवन सफलता से पूर्ण हो सके।

 

विभागीय परामर्श दात्री समिति के पालन प्रतिवेदन लेकर आये 

सिवनी | 15-दिसम्बर-2017
 
 
 
    सर्व कार्यालय प्रमुखों को सूचित किया जाता है कि विगत 20 नवंबर को आयोजित जिला स्तरीय परामर्शदात्री समिति की बैठक का कार्यवाही विवरण व पालन प्रतिवेदन 18 दिसंबर को समय सीमा बैठक में अनिवार्य रूप से लेकर उपस्थित हो।                                

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
सिवनी | 25-सितम्बर-2017
 
 
 
 
 
   कलेक्टर श्री गोपालचन्द्र डाड की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में समय सीमा बैठक का आयोजन आज कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में किया गया। जिसमें जिला पंचायत सीईओ. श्री स्वरोचिश सोमवंशी, अपर कलेक्टर श्री व्ही.पी. द्विवेदी सहित सभी  कार्यालय प्रमुख उपस्थित थे। 
   बैठक में कलेक्टर श्री डाड ने विभागवार समय सीमा प्रकरण, सी.एम. हेल्पलाइन, जनसुनवाई, पी.जी. पोर्टल प्रकरणों की विभागवार समीक्षा कर उन्होंने सभी अधिकारियों को निर्देशित किया कि इन प्रकरणों का निराकरण समय सीमा में करना सुनिश्चित करें। किसी भी स्थिति में कोई भी प्रकरण समय सीमा से बिना अटेन्ड या फालोअप दर्ज किये बिना बाहर न हो सुनिश्चित करें। सी.एम. हेल्पलाइन एवं जनसुनवाई पोर्टल से प्राप्त प्रकरण किसी भी स्थिति में लंम्बित न रहे, लेवल 1 अधिकारी अपने लेवल पर ही प्रकरण पर कार्यवाही करना सुनिश्चित करे। उन्होंने सभी अधिकारियों को निर्देशित किया कि बिना फालोअप कोई भी प्रकरण एक लेवल से दूसरे लेवल में नहीं जाना चाहिये। इसीलिये अधिकारी स्वंय पोर्टल आपरेट कर प्रकरण में कार्यवाही सुनिश्चित कर फालोअप दर्ज करवाये। प्रकरण का समाधान हो जाने पर शिकायकर्ता को इसकी जानकारी देकर उसके द्वारा 181 में फोन करवाकर सन्तुष्टि दर्ज करवाना सुनिश्चित करें।
   बैठक में श्री डाड ने प्रभारी मुख्यनगर पालिका अधिकारी को नगर में आवारा पशुओं पर समुचित कार्यवाही के निर्देश दिये। उन्होंने निर्देशित किया कि शहर में आवारा कुत्तों और गाय-भैसों को विचरण न करने दिया जाये। आवारा कुत्तों को पकड़ के शहर से दूर छोड़ा जाये तथा  गाय को गौशाला पहुंचाया जाये। इसके साथ ही उन्होंने त्यौहारों में मार्गो में पर्याप्त प्रकाश व्यवस्था, पेयजल व्यवस्था सुव्यवस्थिति साफ-सफाई करने के निर्देश भी दिये।
 
 
 
 
 
 
 
 

 

 

  • Address: Harihar Bhavan Nowgong Dist. Chatarpur Madhya Pradesh  , Mo : 98931-96874 , Email :  This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it. Web : www.ganeshshankarsamacharsewa.in