अनूपपुर समाचार

 

10 फरवरी 18 को आयोजित होगी नेशनल लोक अदालत 
अनुपपुर | 16-जनवरी-2018
 
  मान. राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण नई दिल्ली तथा मध्यप्रदेश राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जबलपुर के निर्देशानुसार तथा मान. जिला एवं सत्र न्यायाधीश श्री रवि कुमार नायक के मार्गदर्शन में 10 फरवरी 2018 को उच्च न्यायालय स्तर से लेकर प्रदेश के समस्त जिला, तहसील, श्रम और कुटुम्ब न्यायालयों में नेशनल लोक अदालत आयोजित की जाएगी। नेशनल लोक अदालत में प्रीलिटिगेशन और न्यायालयों में लम्बित शमनी अपराधिक प्रकरण, 138 के एनआई एक्ट, बैंक रिकवरी, एमएसीटी, परिवारिक विवाद, श्रम विवाद, भू-अर्जन, विद्युत एवं जलकर, सर्विस सेंटर, राजस्व प्रकरण (जिला एवं उच्च न्यायालय में लंबित), अन्य सिविल प्रकरण, इसी प्रकार से प्रीलिटिगेशन के अंतर्गत धारा 138 एनआईएक्ट, बैंक रिकवरी, श्रम डिस्प्यूट, विद्युत एवं जल कर सहित अन्य (क्रिमिनल, कम्पाउंडेबल, मेट्रिमोनियल एण्ड अन्य सिविल डिस्प्यूट) के प्रकरणों का आपसी सुलह और समझौते के आधार पर निराकरण किया जाएगा।

 

उप निरीक्षक सोने सिंह के प्रयास को सलाम "सफलता की कहानी" 
घायलों की तत्परतापूर्वक कार्यवाही कर जान बचाने पर पुलिस कप्तान रिवार्ड देने की घोषणा की 
अनुपपुर | 12-जनवरी-2018
 
 
 समाज में अच्छा काम करने वाले लोगों की सराहना तो की ही जानी चाहिए,  जिससे समाज के अन्य लोग भी प्रेरणा लें तथा समाज एवं देशहित में ऐसा ही प्रदर्शन कर समन्वयवादी एवं परोपकारी समाज की भारतीय परम्परा को अक्षुण्य बनाये रखा जा सके। 
   जीवन वही है जो दूसरों के काम आये। ऐसा ही कुछ काम किया है, अनूपपुर जिले के थाना राजेन्द्रग्राम में पदस्थ उपनिरीक्षक श्री सोने सिंह परस्ते ने। उनके छोटे से प्रयास से दो मोटर सायकिल में आपसी भिडन्त में घायल 6 लोगों को बचाया जा सका है। विगत 10 जनवरी को रात 8 बजे के दरमियान ग्राम बसनिहा में अत्याधिक ठंडी एवं अंधेरा होने के कारण आपस में आमने -सामने से भिडन्त हो गयी। एक मोटर सायकिल में तीन लोग तथा एक में दो लोग सवार थे। घटना शहडोल- अमरकंटक मार्ग की है, जहां आवागमन लगा ही रहता है। दुर्घटना के बाद 100 से 150 लोग तो इकट्ठे तो हुए लेकिन किसी ने भी घायलों को अस्पताल तक पहुंचाना मुनासिब नहीं समझा। उन्ही में से एक व्यक्ति ने मोवाइल से राजेन्द्रग्राम थाने में सूचना दी। थाने में डायल 100 वाहन तत्काल उपलव्ध नही था। थाने में पदस्थ उपनिरीक्षक श्री सोने सिंह को जैसे ही सूचना लगी, उन्होन तत्काल वाहन की व्यवस्था कर, घटना स्थल पर पहुंचे। दोनो मोटर सायकिल चालकों श्री अशोक उर्फ लल्ला निवासी जटंगा तथा श्री रामेश्वर निवासी बेलडोंगरी के पैर घुटने के नीचे कई जगह से टूटे हुए थे, शरीर में और भी जगह चोट थी, वे कराहते हुए पड़े थे। उन्हे उठाते भी नहीं बन रहा था। उन्होने तुरन्त लोगों के सहयोग से उन्हे अपने वाहन में लादा तथा अन्य घायलों को भी बिठाकर सामुदायिक केन्द्र राजेन्द्रग्राम लाये। रास्ते से ही डॉक्टर को मोबाइल पर सूचना दे दी थी, खण्ड चिकित्सा अधिकारी डॉ. सुरेन्द्र सिंह अपनी टीम के साथ तैयार खड़े थे। पहुंचते ही सभी का प्राथमिक उपचार किया गया। जिन लोगों को चोटें अधिक थीं उन्हे जिला चिकित्सालय रेफर कर दिया गया, जिनका उपचार किया जा रहा है। डाक्टरों का कहना है कि यदि देर की जाती तो रक्त स्त्राव के कारण वाहन चालकों की जाने भी जा सकती थी। इस प्रकार उपनिरीक्षक श्री सोने सिंह परस्ते ने अपने मानवीय संवेदना का परिचय देकर दो लोगों का जीवन बचा लिया। पुलिस अधीक्षक श्री सुनील जैन उनके कर्तव्य पराणयता पर रिवार्ड देने का प्रस्ताव भेजने के निर्देश नगरनिरीक्षक राजेन्द्रग्राम थाने को दिये हैं।

 

 

प्रदेश के स्कूलों में होंगी मतदाता जागरूकता पर प्रतियोगिताएँ 
स्कूल शिक्षा विभाग ने जारी किये निर्देश 
अनुपपुर | 08-जनवरी-2018
 
 राज्य के स्कूलों में मतदाता जागरूकता विषय को लेकर विभिन्न प्रतियोगिताएँ आयोजित होंगी। इनमें निबंध, वाद-विवाद, चित्रकला और स्लोगन प्रतियोगिताएँ प्रमुख हैं। प्रतियोगिता के आयोजन को लेकर स्कूल शिक्षा विभाग ने जिला शिक्षा अधिकारियों को निर्देश जारी किये हैं। स्कूलों में यह प्रतियोगिताएँ 12 जनवरी को होंगी।
    निबंध प्रतियोगिता का विषय सुलभ और सरल चुनाव, राष्ट्रीय मतदाता दिवस का महत्व, निर्वाचन में मतदान का महत्व, मतदान की अनिवार्यता, ऑनलाइन वोटिंग, रखे गये हैं। वाद-विवाद प्रतियोगिता का विषय मतदान के लिये जरूरी है वोटर आई.डी., युवा ही लोकतंत्र का आधार हैं, ऑनलाइन वोटिंग एक बेहतर विकल्प, मजबूत लोकतंत्र महिलाओं की भागीदारी के बिना संभव नहीं है और मतदान की अनिवार्यता, होंगे। चित्रकला प्रतियोगिता में जो विषय रखे गये हैं, उनमें आदर्श मतदान केन्द्र, निःशक्त मतदाताओं की सुविधाएँ और मतदाता सहायता केन्द्र हैं। स्लोगन प्रतियोगिता के लिये मतदाता शिक्षा, नैतिक मतदान, बिना लालच, भय एवं जातिवाद के मतदान, चुनाव में महिलाओं की भागीदारी, लोकतंत्र में युवाओं की भूमिका विषय रखे गये हैं।
    प्रदेश में मतदाताओं में जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से प्रतिवर्ष 25 जनवरी को राष्ट्रीय मतदाता दिवस मनाया जाता है। दिवस पर विभिन्न प्रतियोगिताओं में शामिल होने वाले विजयी विद्यार्थियों को पुरस्कृत किया जायेगा। राज्य-स्तरीय प्रतियोगिता सुभाष उत्कृष्ट विद्यालय में होगी।

 

प्रदेश के जिला मुख्यालयों पर 5 जनवरी से मुख्यमंत्री स्वास्थ्य सेवा शिविर 

4 फरवरी को अनूपपुर में शिविर 
अनुपपुर | 02-जनवरी-2018
 
 लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा 18 वर्ष तक के बच्चों के लिये 5 जनवरी से 11 फरवरी 2018 तक सभी जिला मुख्यालय पर मुख्यमंत्री स्वास्थ्य सेवा शिविर लगाये जा रहे हैं। शिविर में जन्मजात बीमारी जैसे हृदय रोग श्रवण बाधा,कटे होंठ, फटे तालू, क्लब फुट, मोतियाबिंद आदि से ग्रसित बच्चों की निःशुल्क जाँच की जाएगी। चिन्हित बच्चों को निःशुल्क उपचार और आवश्यक शल्य चिकित्सा के लिए मान्यता प्राप्त अस्पताल में भेजा जायेगा।
     पहला स्वास्थ्य सेवा शिविर 5 जनवरी को इन्दौर में होगा। 7 जनवरी को सीहोर, सागर, जबलपुर, रीवा, खण्डवा, मुरैना, नीमच, 12 जनवरी को राजगढ़, नरसिंहपुर, सतना, झाबुआ,भिण्ड,उज्जैन, 18 जनवरी को होशंगाबाद, छतरपुर, बालाघाट,शहडोल,ग्वालियर,शाजापुर, 21 जनवरी को रायसेन पन्ना, छिन्दवाड़ा, उमरिया,धार, गुना, मन्दसौर 1 फरवरी को भोपाल, टीकमगढ़, मण्डला, सीधी, अलीराजपुर, दतिया, रतलाम, 4 फरवरी को बैतूल, डिण्डोरी, अनूपपुर, बुरहानपुर, अशोकनगर, आगर-मालवा, 8 फरवरी को विदिशा, दमोह, सिवनी, सिंगरौली, खरगौन, शिवपुरी, देवास, और 11 फरवरी को हरदा, कटनी, बड़वानी, श्योपुर जिला मुख्यालय पर होगें। अधिक जानकारी के लिये सम्बन्धित मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी से सम्पर्क किया जा सकता है।

 

प्रदेश में इस रबी सीजन में 15 जनवरी तक हो सकेगा फसल बीमा 
पिछले रबी सीजन में 27 लाख से अधिक किसानों का कराया गया था फसल बीमा 
अनुपपुर | 29-दिसम्बर-2017
 
 मध्यप्रदेश में प्रधान मंत्री फसल बीमा योजना में रबी सीजन वर्ष 2017-18 के लिये फसलों का बीमा किये जाने की अधिसूचना जिलेवार जारी की गई है। फसल बीमा के संबंध में संबंधित जिला कलेक्टरों को किसान कल्याण तथा कृषि विभाग द्वारा आवश्यक निर्देश जारी किये गये हैं। इस रबी सीजन में 15 जनवरी, 2018 तक किसानों का फसल बीमा किया जा सकेगा। प्रदेश में ऐसे किसान जिन्होंने अधिसूचित फसलों के लिये फसल ऋण लिया है, उनका फसल बीमा अनिवार्य रूप से संबंधित बैंक द्वारा किये जाने का प्रावधान है। राज्य के ऐसे अऋणी किसान जिन्होंने रबी की फसल बोई है, उनसे भी आर्थिक सुरक्षा के मकसद से प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में बीमा करवाये जाने का आग्रह किया गया है।
   प्रदेश में ऋणी एवं अऋणी सभी किसानों के लिये प्रीमियम दर बीमित राशि का मात्र डेढ़ प्रतिशत रबी फसलों के लिये देय होगा। प्रदेश में करीब 88 लाख किसान हैं। राज्य में रबी सीजन 2016-17 में किसानों को आर्थिक रूप से सुरक्षित करने के मकसद से 27 लाख 77 हजार किसानों का प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में बीमा करवाया गया था। खरीफ वर्ष 2017 में करीब 33 लाख 50 हजार किसानों का फसल बीमा किया गया है।
   किसानों को खरीफ सीजन 2016 में हुए फसल नुकसान की क्षतिपूर्ति बीमा कम्पनियों द्वारा की जा चुकी है। राज्य के 8 लाख 39 हजार किसानों को उनके फसल नुकसान की क्षतिपूर्ति के रूप में 1663 करोड़ 37 लाख रुपये का भुगतान किया गया है। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में क्षेत्रीय आपदा, ओला-वृष्टि, जल-भराव तथा कटाई के उपरांत प्राकृतिक आपदा से फसल नष्ट होने पर अकेले किसान या खेत इकाई पर क्षति का सर्वे करके क्षतिपूर्ति राशि किसानों को दिये जाने का प्रावधान है। इससे अधिक से अधिक किसानों को फायदा पहुँचता है। प्रधानमंत्री फसल बीमा की यह भी विशेषता है कि किसी बीमित इकाई में 50 प्रतिशत से कम उपज आने की संभावना होने पर बीमित राशि का 25 प्रतिशत किसानों को अग्रिम भुगतान करके त्वरित वित्तीय सहायता पहुँचाई जाती है।

 

 

पटवारियों को मिलेंगे स्मार्ट फोन 

राजस्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने की विभागीय गतिविधियों की समीक्षा 
अनुपपुर | 27-दिसम्बर-2017
 
 राजस्व मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता ने अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि जनसामान्य की सुविधा के लिये राजस्व संबंधी प्रक्रिया में प्रकरणों का निराकरण निश्चित समय-सीमा में किया जाना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि राजस्व संबंधी कार्यों में कम्प्यूटर टेक्नालॉजी का अधिकाधिक उपयोग किया जाये। श्री गुप्ता गत दिवस भोपाल मंत्रालय में राजस्व विभाग की विभागीय गतिविधियों की समीक्षा कर रहे थे। 
    राजस्व मंत्री ने कहा कि स्थाई पट्टों का नवीनीकरण तथा स्थाई पट्टों की शर्त संबंधी परिपत्र संशोधित रूप में जल्द से जल्द जारी किया जाये। बैठक में बताया गया कि पटवारियों को स्मार्ट मोबाइल फोन खरीदने संबंधी आदेश जारी किये जा चुके हैं। पटवारियों को इसके लिये राशि उपलब्ध करवाई जायेगी। बैठक में जनवरी, 2018 से शुरू किये जा रहे भू-खण्ड अधिकार अभियान की तैयारियों की भी समीक्षा की गई। बैठक में फसल गिरदावरी की नवीन प्रक्रिया पर भी चर्चा हुई। बताया गया कि अब किसान स्वतः फसल बुवाई संबंधी आंकड़े भर सकेंगे। इसके लिये मोबाइल फोन पर यह सुविधा दी जायेगी। 
    बैठक में बताया गया कि मंत्रालय में ई-ऑफिस के संबंध में राजस्व विभाग की ओर से तैयारियाँ कर ली गईं है। ई-ऑफिस से सरकारी कामकाज की प्रक्रिया पेपर-लेस हो जायेगी। प्रदेश में पटवारियों की होने वाली भर्ती और भर्ती उपरांत उन्हें प्रशिक्षण देने के लिये तैयार किये गये प्रशिक्षण कार्यक्रम पर भी चर्चा की गई। बैठक में बताया गया कि गिरदावरी के काम में होने वाली दिक्कतों और किसानों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए जल्द ही प्रदेश स्तर पर हेल्पलाईन डेस्क शुरू की जायेगी। इसकी भी तैयारी कर ली गई है।
 

 

जनवरी से होंगे जिला स्तरीय महिला स्व-सहायता समूह सम्मेलन 
मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा स्व-सहायता समूह सम्मेलन की घोषणाओं की समीक्षा 
अनुपपुर | 22-दिसम्बर-2017
 
 मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि महिला स्व-सहायता समूहों के जिला स्तरीय शिविर लगाये जायें। बच्चों के पोषण के लिये सहरिया जैसी विशेष पिछड़ी जनजातियों की महिलाओं के बैंक खाते में हर माह एक हजार रूपये की राशि जमा करवाने का कार्य 25 दिसम्बर से प्रारंभ किया जाये। श्री चौहान गत दिवस मंत्रालय भोपाल में महिला स्व-सहायता समूह सम्मेलन में की गई घोषणाओं की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने घोषणाओं का अनुपालन निर्धारित समय-सीमा में पूर्ण करने के निर्देश दिए। समीक्षा में मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह भी मौजूद थे।
   मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सामाजिक अन्याय को समाप्त करने और महिलाओं की आर्थिक समृद्धि को मजबूत बनाने की दिशा में महिला स्व-सहायता समूह  के रूप में नई ताकत उभर रही है। आवश्यकता इसे उचित दिशा देने की है।  महिला स्व-सहायता समूहों को आर्थिक गतिविधियों से जोड़ने के लिये विपणन और पैकेजिंग आदि कार्यों में इनका आवश्यक सहयोग लिया जाए और सुविधाएं भी उपलब्ध कराई जाएं। उन्होंने कहा कि आगामी जनवरी माह से मार्च माह तक सभी जिलों में जिला स्तरीय महिला स्व सहायता समूहों के सम्मेलन किये जाएं। 
   मुख्यमंत्री ने कहा कि स्व-सहायता समूहों के उत्पादों की ब्राडिंग का कार्य भी अत्यंत आवश्यक है। उन्होंने कहा कि टेक होम राशन निर्माण योजना स्व-सहायता समूह सशक्तीकरण की अभिनव पहल है। इसका सफल संचालन राज्य की महिलाओं के सशक्तिकरण का अभूतपूर्व कार्य होगा। महिलाओं के स्व-सहायता समूह के फेडरेशन को टेक होम राशन निर्माण की फैक्ट्री चलाने की जिम्मेदारी महिलाओं के आर्थिक, सामाजिक सशक्तीकरण का प्रभावी साधन साबित होगा। श्री चौहान ने कहा कि सभी विभाग एकीकृत रूप में कुपोषण के खिलाफ युद्ध स्तर पर कार्य करें।
कार्यक्रम स्थल में जनसहयोग से भण्डारे का आयोजन 
श्रद्धालुओं ने किया एक साथ भोज 
अनुपपुर | 20-दिसम्बर-2017
 
 पवित्र नगरी अमरकंटक से शुरू हुई एकात्म यात्रा के दूसरे पड़ाव में आज अनूपपुर में आयोजित कार्यक्रम में मध्यान्ह में शा. उ. मा. वि. अनूपपुर में भण्डारे का आयोजन किया गया। आर्य सेवा समिति के संजीव द्विवेदी एवं प्रमोद पटेल ने, अखिल विश्व भारती परिवार, श्री मनोज द्विवेदी, जिला प्रशासन द्वारा किया गया था। 

 

 

 
साप्ताहिक जनसुनवाई कार्यक्रम में लोगों ने बताई अपनी समस्याएं 
अनुपपुर | 19-दिसम्बर-2017
 
 
 
   कलेक्ट्रेट सभागार में आज जिलेभर से आये आवेदकों की समस्याओं को सुनकर जिला कोषालय अधिकारी श्री एन.के. नर्रे सहित विभिन्न विभागों के अधिकारियों ने समस्याओं का निदान किया। जनसुनवाई में तहसील पुष्पराजगढ़ ग्राम पंचायत हवेली के ग्राम बांधामार निवासी किसान मनीराम जायसवाल ने धान को सेवा सह. समिति मर्या. राजेन्द्रग्राम में विक्रय किए जाने, ग्राम भोलगढ़ तहसील अनूपपुर की भग्गी बाई पटेल ने कब्जे की भूमि पर दबंगों द्वारा जबरन किए जाने, ग्राम बर्री तहसील अनूपपुर की रामकली राठौर ने मेस का काम दिलाए जाने, ग्राम क्योंटार विकासखंड जैतहरी के नर्मदा प्रसाद भरिया ने भृत्य की नौकरी दिलाए जाने, वार्ड क्र. 4 कोतमा की उर्मिला पनिका ने बिना सूचना के उनके घर की बाउंड्री नगरपालिका कोतमा द्वारा जे.सी.बी. से तोड़ने, तहसील अनूपपुर वार्ड नं. 11 अनूपपुर के केदारनाथ गुप्ता ने कृषि कार्य हेतु नलकूप एवं विद्युत पंप स्थापित हेतु ऋण राशि दिलाए जाने के संबंध में आवेदन दिया।  

 

 

टेढ़े पांव से ग्रसित बच्चों की सर्जरी हेतु 21 दिसम्बर को मेगा चिन्हांकन शिविर 

अनुपपुर | 18-दिसम्बर-2017
 
राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम (आर.बी.एस.के.) के अंतर्गत अनूपपुर जिले में सामाजिक न्याय विभाग के सहयोग से क्लब फुट (टेढ़े पांव) से ग्रसित 2 से 18 वर्ष के बच्चों की सर्जरी हेतु चिन्हांकन शिविर स्वसहायता भवन अनूपपुर में नारायण सेवा संस्थान उदयपुर से आये विषय विशेषज्ञ चिकित्सकों के द्वारा 21 दिसम्बर को प्रातः 10 बजे से सायं 5 बजे तक किया जाना है। आर.बी.एस.के. के कोआर्डिनेटर जतिन भट्ट ने इस संबंध में बताया है कि 2-18 वर्ष तक के आडे-तिरछे पैर वाले बच्चों का चिन्हांकन पश्चात् उनको स्वास्थ्य सेवायें प्रदान की जायेंगी। सर्जरी की सुविधा भी उपलब्ध कराई जायेगी। 
    मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. आर.पी. श्रीवास्तव ने जिले के समस्त नागरिकों से अपील की है कि अधिक से अधिक संख्या में अपने बच्चों को क्लब फुट स्वास्थ्य शिविर में लाकर शासन द्वारा प्रदाय की जा रही सुविधाओं से लाभांवित हों। उन्होंने बताया कि शिविर में भाग लेने वाले बच्चों का कलर पासपोर्ट साइज फोटो, राशन कार्ड या आधार कार्ड तथा बैंक पासबुक की छायाप्रति, परिचय पत्र के साथ शिविर में अवश्य लावें।

स्वरोजगार के प्रति महिलाओं में बढ़ती उमंग (सफलता की कहानी) 

प्रधानमंत्री रोजगार सृजन योजना ने गृहणी को बना दिया व्यवसायी 
अनुपपुर | 15-दिसम्बर-2017
 
 
    गृहणी श्रीमती सुधा पांडे ने कभी सोचा भी नहीं था कि वे चौके बर्तन की जिम्मेवारियों से हटकर व्यवसाय के क्षेत्र में आ पाएँगी। बी.ए. तक की शिक्षा प्राप्त करने वाली श्रीमती पांडे की प्राथमिकता शासकीय सेवा थी। प्रयत्नो के बाद भी जब उन्हे नौकरी प्राप्त करने में सफलता नहीं मिली तो उन्होने खुद उद्यमी बनने का फैसला किया। उनकी इस सोच को प्रधानमंत्री रोजगार सृजन योजना ने साकार कर दिया।   
    उद्यमी श्रीमती पांडे का जन्म रीवा जिले में हुआ था। उनके ससुर श्री सत्यनारायन पांडे एवं पति श्री रामदर्श पांडे शिक्षक के पद पर अनूपपुर जिले के पुष्पराजगढ़ क्षेत्र में पदस्थ है। सेवाकाल के दौरान उनके द्वारा पुष्पराजगढ़ के पास तिवारी टोला मे 2.5 एकड़ जमीन खरीदी गयी। जमीन पथरीली एवं अनुपजाऊ होने के कारण खेती कर पाना संभव नहीं हो पा रहा था। उनकी पत्नी श्रीमती सुधा पांडे ने स्वयं को आर्थिक रूप से सक्षम बनाने हेतु क्रशर उद्योग का प्रस्ताव परिवार के समक्ष रखा। परिवार के पास उनके ससुर को सेवानिवृति के पश्चात मिली अनुदान राशि की दस लाख रुपये थी और इस उद्योग में लगने वाला व्यय लगभग 50 लाख रुपये था। परिवार के सदस्यों ने मिलकर बैंक से ऋण प्राप्त करने का मन बनाया। प्राथमिक तौर पर उद्योग संचालन हेतु ग्राम पंचायत बम्हनी में क्रशर उद्योग लगाने का प्रस्ताव पारित कराकर जिला खनिज अधिकारी कार्यालय में आवेदन दिया। आवेदन स्वीकार होने के पश्चात प्रस्तावित माइन्स की रजिस्ट्री कराकर बैंक ऋण प्राप्त करने हेतु जिला व्यापार एवं उद्योग केंद्र के माध्यम से ऋण प्रकरण सेंट्रल बैंक तुलरा को भेजा गया। जहां से 25 लाख रुपए का ऋण स्वीकृत हुआ। ऋण मिलने के पश्चात आपने नासिक और इंदौर से क्रशर मशीन के उपकरण खरीदे। उद्योग विभाग द्वारा इस प्रकरण मे ऋण राशि की 35 प्रतिशत राशि 8.75 लाख रुपये का अनुदान उपलब्ध कराया। इसके अतिरिक्त उद्यमी को बैंक ऋण की समय पर अदायगी पर 5 प्रतिशत ब्याज अनुदान भी प्राप्त होगा। इसके साथ ही उद्यमी को उद्योग विभाग द्वारा 10 दिवस का प्रशिक्षण भी दिलाया गया। ऋण मिलने के पश्चात आपने नासिक और इंदौर से क्रशर मशीन के उपकरण खरीदे। 
    श्रीमती पांडे ने बताया कि फरवरी 2016 में मैंने उद्योग प्रारम्भ किया था। व्यसाय में निरंतर प्रगति हो रही है। इस व्यवसाय से प्रतिमाह का टर्न ओवर 3 लाख के करीब है। जिसमे से 10 प्रतिशत राशि लगभग 30000 रुपये की शुद्ध आय मिल जाती है। इस आय का उपयोग आप  बैंक ऋण अदायगी जिसकी मासिक किस्त 31000 रुपए है, में कर रही हैं। श्रीमती पांडे का कहना है कि मैं कभी रोजगार की तलाश में निकलती थी और जब असफल होती थी उसका अहसास कभी नहीं भूलने वाला होता था। सरकार की इस योजना ने मुझे इतना सक्षम बना दिया है कि अब मैं अपने उद्योग के माध्यम से 12 लोगों को रोजगार दे पा रही हूँ। आपने बताया कि मेरी तीन बेटियाँ हैं, मैं एवं मेरा परिवार बेटा एवं बेटी में भेद नहीं करता है उद्योग संचालन के पश्चात सबका ध्यान बेटियों के उज्ज्वल भविष्य की ओर है। मैं बेटियों को इतना सक्षम बनाने का प्रयास करूंगी की वे अपने उमंग कि उड़ान स्वयं भर सके। 

 

जल संचयन के प्रति ग्रामवासी हुए जागरुक "सफलता की कहानी" 
श्रमदान से सकरा ग्राम के ग्रामीणों ने किया बोरीबंधान 
अनुपपुर | 14-दिसम्बर-2017
 
 
   दुनिया में विकास के चाहे जितने पायदान कर लिये जांय, किन्तु जल के बिना जीवन असंभव है। जल संचयन का कार्य समाज के प्रयासों से ही संभव है। प्रदेश के मुख्यमंत्री जी के निर्देशन में जिले में जल संरक्षण जागरुकता के लगातर संचालित किये जा रहे हैं, जिसमें जन अभियान परिषद भी महती भूमिका अदा कर रहा है। 
   विकास खंड जैतहरी जिला अनूपपुर में मुख्यमंत्री सामुदायिक नेतृत्व क्षमता विकास कार्यक्रम के विद्यार्थियों द्वारा ग्राम पंचायत सकरा के शंकर मंदिर स्थित स्टॉप डैम में श्रमदान कर बोरी बंधान किया गया। श्रमदान कार्यक्रम में सी एम सी एल डी पी के छात्र मेंटर्स ग्राम विकास प्रस्फुटन समिति सदस्य तथा ग्रामीणों ने अपनी सह भागिता। इस अवसर पर मोहनलाल पटेल (मेंटर्स) प्रस्फुटन समितियों के प्रतिनिधि वरनू प्रसाद कोल, कृष्णलाल, रामखेलावन, ओमप्रकाश, फूलमती राठौर तथा सी एम सी एल डी पी छात्र उषा सिंह चंदा सिंह अर्चना सिंह गीता सिंह गौड़ अमरवती संतोष सिंह उईके ओमप्रकाश चंदा सिंह मार्ग को भानुमती कॉल अनीता बैगा अंजलि पटेल रेशमी नेताम रोशनी सिंह उषा प्रजापति गायत्री सिंह चित्रा देवी मरावी नीलम सिंह वंदना कॉल इंद्रावती केतकी सिंह सूरज सिंह गुलबिया सिंह संगीता सिंह कौशल्या कॉल उर्मिला अनिल कॉल संतोषी कॉल बाल मोती मुन्नालाल रौतेल आदि लोगों ने श्रमदान कर बोरी बंधान कार्यक्रम में अपनी सहभागिता दी।

 

आदिवासी मत्स्य उद्योग सहकारी समिति के 40 मत्स्य पालक परिवार हुए आत्मनिर्भर (सफलता की कहानी) 

मत्स्य पालन केज कल्चर से करने की तैयारी 
अनुपपुर | 13-दिसम्बर-2017
 
 
 
 
   
 
   आदिवासियों में मत्सयपालन की परम्परा प्राचीन काल से ही रही है। आदिवासी परिवार अपने पौष्टिक आहार एवं उत्सव के लिए छोटे-छोटे तालाबों में मत्स्य पालन करते रहे हैं। पुष्पराजगढ जनपद पंचायत के ग्राम पोडकी में जल संसाधन विभाग द्वारा पूर्व के वर्षो में सिंचाई हेतु जोहिला जलाशय का निर्माण कराया गया था। प्रारंभ में इस जलाशय का प्रारंभ में सिंचाई कार्य हेतु उपयोग किया जाता था। जब मत्स्यपालन विभाग के अधिकारियों ने ग्राम के कृषकों को खेती के साथ मत्स्यपालन कर अधिक लाभ कमाने की जानकारी लोगों को दी तो वे तैयार हो गये। 
    पांच वर्ष पूर्व 25 आदिवासी किसानों ने मत्स्यपालन करने की इच्छा जाहिर की। विभाग द्वारा किसानों का चयन कर सहकारी समिति गठित कर दी एवं उन्हे प्रशिक्षण दिलाकर उक्त जलाशय जनपद पंचायत से 10 वर्ष की लीज पर दिला दिया। लगातार प्रशिक्षण एवं मत्स्य बीज की सहायता विभाग द्वारा दी जाती रही। बाद में जब किसान प्रशिक्षित हो गये तो मत्स्यपालन विभाग द्वारा समिति के सदस्यों को स्वयं नर्सरी संचालन का प्रशिक्षण दिया तथा अचानकमार वायोस्फियर रिजर्व अमरकंटक मद से 0.1 हे. की दो नर्सरी, नर्सरी नेट, फसला जाल, महाजाल, एवं वोट, सायकिल, इन्सुलेटेड बाक्स अनुदान पर उपलब्ध करा दिया। समिति ने प्रथम वर्ष इसी साल 30 लाख स्पान, खुद बीज संवर्धन कर 6 लाख फिंगर लिंग जलाशय में संचयन कर चुके हैं। जिससे जलाशय का मत्स्योत्पादन 100 क्विंटल के लगभग होने की संभावना है, जिसका बाजार मूल्य 10 लाख रुपये होगा। अब किसान उत्साहित हैं और मत्स्यपालन केज कल्चर से करने की तैयारी कर रहे हैं। इसके पूर्व समिति की वार्षिक आय एक लाख रुपये की लगभग थी।

सौ से ज्यादा युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने वाले उद्योगों को डेढ़ गुना पूंजी अनुदान 

रेडियो कार्यक्रम दिल से में मुख्यमंत्री श्री चौहान 
अनुपपुर | 11-दिसम्बर-2017
 
 
 
 
 
    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने रेडियो कार्यक्रम ‘‘दिल से’’ में संवाद के दौरान कहा कि सौ से ज्यादा युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने वाले उद्योगों को अब डेढ़ गुना अधिक पूंजी अनुदान दिया जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकारी नौकरी में लगभग 90 हजार पदों के लिये भर्ती होगी। मुख्यमंत्री युवा सशक्तिकरण मिशन के तहत हर वर्ष साढ़े सात लाख युवाओं को रोजगार के लिये प्रशिक्षित किया जायेगा। मुख्यमंत्री के ‘‘दिल से’’ कार्यक्रम को जिले के महाविद्यालयों एवं विद्यालयों के विद्यार्थियों ने भी सुना। 
नये सिरे से शुरु होगा बेटी बचाओ अभियान
    मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में नये सिरे से समाज की भागीदारी से बेटी बचाओ अभियान शुरु किया जायेगा। जिसमें संस्कारयुक्त शिक्षा पर जोर दिया जायेगा। समाज जागरुक होकर बेटियों को बचाने के लिये उपाय करें। सभी नागरिक अपने-अपने शहरों और गांवों को स्वच्छ बनाने में जुट जायें। राज्य सरकार पंडित दीनदयाल उपाध्याय के जन्म शताब्दी वर्ष को गरीब कल्याण वर्ष के रुप में मना रही है। गरीबों के कल्याण के लिये गरीब एजेंडा बनाया गया है। इसके अंतर्गत गरीबों को रोटी, कपड़ा और मकान तथा उनके बच्चों के पढ़ाई-लिखाई एवं दवाई का समुचित इंतजाम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जो पात्र व्यक्ति सस्ते राशन से छूट गये हैं, उन्हें भी पात्रता पर्ची जारी करने का निर्णय लिया गया है। कोई भी निर्धन व्यक्ति सस्ते राशन से वंचित नहीं रहेगा। सहरिया जैसी विशेष पिछड़ी जनजातियों के बच्चों के पोषण के लिये परिवार की महिला खाते में अब हर माह एक हजार रुपये जमा किये जायेंगे। सभी आवासहीन व्यक्तियों को मकान के लिये भूखंड उपलब्ध कराया जायेगा। साथ ही उन्हें मकान बनाने के लिये सहायता उपलब्ध करायी जायेगी। अगले वर्ष दिसम्बर के अंत तक अनुसूचित जनजाति के सभी आवासहीन व्यक्तियों को आवास स्वीकृत किये जायेंगे। वर्ष 2022 तक कोई भी आवासहीन व्यक्ति शेष नहीं रहेगा। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री आवास योजना के क्रियान्वयन में मध्यप्रदेश देश में पहले स्थान पर है। 
    श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में गरीबों को सस्ता भोजन उपलब्ध कराने के लिये समाज के सहयोग से दीनदयाल रसोई योजना सफलतापूर्वक चल रही है। बुजुर्गों को तीर्थ दर्शन कराने के लिये मुख्यमंत्री तीर्थदर्शन योजना अंतर्गत नये तीर्थ भी जोड़े गये हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा किसानों को उनकी उपज का वाजिब दाम दिलाने के लिये पहले गर्मियों में प्याज, उड़द, मूंग और अरहर समर्थन मूल्य पर खरीदी गयी है। अब किसानों के हित के लिये भावांतर भुगतान योजना शुरु की गई है। इस योजनांतर्गत 16 अक्टूबर से 31 अक्टूबर बीच जिन किसानों ने अपनी फसल बेची थी, उन्हें 139 करोड़ रुपये की राशि का भुगतान किया गया है। जिन किसानों ने 1 से 30 नवम्बर के बीच अपनी फसल की बिक्री की है उनके खातों में भावांतर भुगतान की राशि 20 से 30 दिसम्बर के बीच पहुंच जायेगी। 

 

 

 
 
 
 
 
 
 
 
  • Address: Harihar Bhavan Nowgong Dist. Chatarpur Madhya Pradesh  , Mo : 98931-96874 , Email :  This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it. Web : www.ganeshshankarsamacharsewa.in