पन्ना समाचार

 

 

 

प्री-टेस्ट में विद्यार्थियों के कम ग्रेड आने पर प्राचार्यो को नोटिस 
पन्ना | 12-जनवरी-2018
 
 जिले में बोर्ड परीक्षाओं के बेहतर परिणाम के लिए कलेक्टर श्री मनोज खत्री द्वारा गठित जिला निरीक्षण दल संबंधित संस्थाओं में जाकर लगातार निरीक्षण कर रहा है। गत दिवस शासकीय उमावि खोरा एवं शासकीस उमावि धरमपुर के निरीक्षण के दौरान कक्षा 10वीं एवं 12वीं के उपस्थित छात्र-छात्राओं का प्री-टेस्ट लिया गया। मूल्यांकन में सभी छात्र-छात्राएं डी एवं ई ग्रेड में पाए गए। जबकि वार्षिक परीक्षाओं की तिथियां नजदीक हैं। इसी तरह विद्यालय संचालन में भी कई अनियमितताएं सामने आयी। जिसके कारण कलेक्टर ने श्री आर.के. अनुरागी प्राचार्य शा.उमावि. खोरा एवं श्री प्रकाश नारायण तिवारी वरिष्ठ अध्यापक/ प्रभारी प्राचार्य शा.उमावि. धमरपुर को उनके इस कृत्य के लिए मध्यप्रदेश सिविल सेवा आचरण नियम 1965 के तहत कदाचरण मानते हुए कारण बताओ सूचना पत्र जारी किया है। उन्हें अपना पक्ष रखने के लिए 3 दिन का समय दिया गया है। 

 

 

एकलव्य शिक्षा विकास योजना अन्तर्गत दी गयी छात्रवृत्ति 

पात्र विद्यार्थियों के लिए छात्रवृत्ति के लिए आवेदन 25 मार्च तक 
पन्ना | 08-जनवरी-2018
 
 प्रबंध संचालक जिला वनोपज सहकारी यूनियन मर्यादित उत्तर वन मण्डल पन्ना ने बताया है कि वनोपज संघ भोपाल द्वारा एकलव्य शिक्षा विकास योजना माह नवंबर 2010 से प्रारंभ की गयी थी। योजना का उद्देश्य वन क्षेत्रों में निवास करने वाले तेन्दूपत्ता संग्राहकों के बच्चों की शिक्षा हेतु ऐसी व्यवस्था करना है जिससे उनके होनहार बच्चे धनाभाव के कारण उच्च शिक्षा से वंचित न होने पाएं। इसी योजना के तहत वित्तीय वर्ष 2016-17 में जिला यूनियन उत्तर वनमंडल पन्ना के अन्तर्गत चयनित 53 छात्र/छात्राओं को राशि 4 लाख 86 हजार 851 रूपये की छात्रवृत्ति प्रदान की गयी है। 
    उन्होंने कहा है कि जिन तेन्दूपत्ता संग्रहकों, फडमुंशियों एवं प्राथमिक वनोपज सहकारी समितियों के प्रबंधकों के बच्चों ने पिछली कक्षा में कम से कम 60 प्रतिशत या उससे अधिक अंक अर्जित किए हो वर्ष 2016-17 शिक्षा सत्र के परिणामों के आधार पर पात्र विद्यार्थी इस योजना का लाभ प्राप्त करने हेतु आवेदन कर सकते हैं। वर्ष 2017-18 हेतु आवेदन निर्धारित प्रारूप में संबंधी प्राथमिक वनोपज सहकारी समितियों द्वारा 25 मार्च 2018 तक प्राप्त किए जाएंगे। सभी पात्र छात्र/ छात्राएं समयसीमा में आवेदन जमा करें।

 

तारा में अग्रिम पंक्ति प्रदर्शन मसूर पर कृषक दिवस का आयोजन 
पन्ना | 27-दिसम्बर-2017
 
 कृषि विज्ञान केन्द्र पन्ना द्वारा क्लस्टर अग्रिम पंक्ति प्रदर्शन मसूर पर एक दिवस का ग्राम तारा विकासखण्ड-पन्ना में आयोजन किया गया। कार्यक्रम में डॉ. बी.एस. किरार, वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रमुख, डॉ. आर.के. जायसवाल, डॉ. आर.के. सिंह, वैज्ञानिक एवं केदारनाथ दुबे, जुगल किशोर द्विवेदी, श्री दुर्ग, ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी, रामकुमार कुशवाहा (पूर्व सरपंच), रविन्द्र कुशवाहा, विजय कुमार बिदुआ एवं अन्य 45 किसान उपस्थित रहे। ग्राम तारा के 20 कृषकों ने राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन अंतर्गत क्लस्टर अग्रिम पंक्ति प्रदर्शन मसूर का कार्यक्रम किया गया। जिसमें कृषकों को मसूर की उन्नत किस्म आई.वी.एल.-316 (अवधि 115, उपज 18-20 क्विटलं प्रति हेक्टेयर है) जैव उर्वरक राइजोवियम, पी.एस.बी. एवं जैव फफूँद ट्राइकोडर्मा एवं स्यूडोमोनास अनुसंशानुसार प्रदाय किये गये तथा चयनित कृषकों को बुवाई के पूर्व उन्नत तकनीक प्रशिक्षण दिया गया था। 
    कृषक दिवस कार्यक्रम के दौरान वैज्ञानिकों ने मसूर के प्रमुख कीट माहू से हानि, लक्षण एवं नियंत्रण के अंतर्गत यह कीट तना एवं पत्तियों का रस चूसते है। जिससे पौधे की वृद्धि रूक जाती है। इसके नियंत्रण हेतु डायमेथोएट 40 मिली. दवा 200 लीटर पानी मे घोल बनाकर छिड़काव करें। इसके अलावा मसूर में हेयरी कैटरपिलर, फली छेदक कीट के नियंत्रण हेतु क्लोरोपायरीफाँस 20 ई.सी. या प्रोफेनोफाँस 50 ई.सी. या ट्राइजोफाँस 40 ई.सी. 350 से 400 मि.ली. दवा 200 लीटर पानी मे घोल बनाकर छिड़काव करें। मसूर में उकठा एवं गेरूआ प्रमुख रोग है इसके नियंत्रण हेतु प्रतिरोधी किस्मों का चयन, बीजोपचार तथा उचित फसल चक्र अपनाये। इसके अलावा पाउडरी मिल्डयू रोंग फफूँद से फैलता है इस रोग से पत्तियों की निचली सतह पर सफेद धब्बे बन जाते है इसकी रोकधाम के लिये द्रवीय गंधक 400 मि.ली. दवा 200 लीटर पानी में घोल बानाकर छिड़काव करें।

 

 

 

कलेक्ट्रेट में सुनी गयी 114 आवेदकों की समस्याएं
पन्ना 26 दिसंबर 17/शासन के निर्देशानुसार आमजन की समस्याओं के त्वरित निराकरण के लिए सप्ताह के प्रत्येक मंगलवार को उपखण्ड स्तर तक के कार्यालयों में जनसुनवाई का आयोजन किया जाना है। कलेक्टर श्री मनोज खत्री के निर्देशन पर प्रत्येक विकासखण्ड में हर मंगलवार अनिवार्य रूप से जनसुनवाई आयोजित की जा रही है एवं अनुपस्थित रहने वाले अधिकारियों के विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही के निर्देश जारी किए गए हैं। वीडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से कलेक्टर द्वारा विकासखण्ड स्तरीय जनसुनवाई पर निगरानी रखी जा रही है। वीडियो कान्फ्रेसिंग द्वारा अधिकारियों को उनसे संबंधित प्रकरण मौके पर दर्ज कराए जा रहे हैं। साथ ही जिला स्तरीय जनसुनवाई में आए आवेदकों/शिकायतकर्ताओं का सीधा संवाद भी वीडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से संबंधित अधिकारियों से कराया जाकर समस्याओं का शीघ्र निराकरण करने के प्रयास किए जा रहे हैं।

जनसुनवाई को और अधिक प्रभावी बनाने के लिए शासन के निर्देशानुसार पहले ही जनसुनवाई तथा सीएम हेल्पलाईन पोर्टल का एकीकरण कर दिया गया है। कलेक्टर के निर्देशन में जनसुनवाई आवेदनों को आॅनलाईन दर्ज किया जा रहा है। प्रत्येक सप्ताह समय-सीमा बैठक में इन प्रकरणों के निराकरण की समीक्षा की जाती है। इसी कडी में कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित जनसुनवाई में कलेक्टर श्री मनोज खत्री ने 114 आवेदन पत्रों में सुनवाई कर उनके निराकरण के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए।

जनसुनवाई में आमजनता द्वारा उपचार सहायता राशि, परिवार सहायता राशि, प्रधानमंत्री आवास, सामाजिक सुरक्षा पेंशन, बिजली बिल, बीपीएल में नाम जोडे जाने, सीमांकन, नामांतरण, भूअर्जन, मुआवजा दिलाने आदि से संबंधित आवेदन पत्र प्रस्तुत किए गए। उन्होंने आवेदकों से आवेदन से संबंधित सभी दस्तावेज साथ लाने का आग्रह किया। कलेक्टर द्वारा विभिन्न प्रकरणों में संबंधित अधिकारियों से दूरभाष के माध्यम से जानकारी प्राप्त कर प्रकरणों का मौके पर भी निराकरण किया गया। जनसुनवाई में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी गिरीश कुमार मिश्रा, एसडीएम पन्ना जे.एस. बघेल, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. एल.के. तिवारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी एकीकृत बाल विकास सेवा श्रीमती सुशीला कुसराम परस्ते, जिला शिक्षा अधिकारी के.एस. कुशवाहा, जिला परिवहन अधिकारी संजीव शुक्ला, जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी कुलदीप मलिक, तहसीलदार पन्ना श्रीमती बबीता राठौर, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत पन्ना सुश्री तपस्या जैन सहित अन्य सभी कार्यालय प्रमुखों ने भी आवेदनों पर सुनवाई की। इस दौरान जिला जनसम्पर्क कार्यालय पन्ना द्वारा जनसुनवाई के लिए आए आमजन को शासन की योजनाओं संबंधी प्रचार सामग्री का वितरण भी किया गया।
जनसुनवाई के दौरान दिव्यांग को व्हील चेयर वितरित
जनसुनवाई के दौरान कलेक्टर द्वारा सेरेब्रल पैल्सि (मानसिक बीमारी) से पीडित 10 वर्षीय दिव्यांग लकी राजा पिता शरण सिंह निवासी ग्राम मुकेहा, गुनौर को व्हील चेयर वितरित की गयी। व्हील चेयर का वितरण सामाजिक न्याय विभाग के जिला विकलांग पुर्नवास केन्द्र पन्ना के माध्यम से किया गया।
गरीबों को वितरित किए गए दीनदयाल रसोई के टोकन
जनसुनवाई के दौरान आए गरीब एवं जरूरतमंदों को कलेक्टर के निर्देशन पर तहसीलदार पन्ना श्रीमती बबीता राठौर द्वारा दीनदयाल अन्त्योदय रसोई में भोजन के लिए टोकन का वितरण किया गया। जिससे उन्हें निःशुल्क भरपेट भोजन उपलब्ध हो सके।
समाचार क्रमांक 163-2310
जिलेभर में मनाया गया सुशासन दिवस
जिला स्तरीय कार्यक्रम में जिला पंचायत अध्यक्ष ने दिलायी सुशासन की शपथ
श्री बाजपेयी अपने हर फैसले में नाम की तरह ही अटल थे-श्री यादव
पद की गरिमा बनाए रखते हुए ईमानदारी, पारदर्शिता एवं संवेदनशीलता के साथ कर्तव्य का निर्वहन ही सुशासन का वास्तवित संकल्प-विधायक श्री बागरी
सुशासन के दिवस के अवसर पर डिजिटल इंडिया एवं कैशलेस पर कार्यशाला आयोजित

पन्ना 26 दिसंबर 17/देश के पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी बाजपेयी का जन्मदिन 25 दिसंबर सुशासन दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन अवकाश होने की वजह से 26 दिसंबर को जिलेभर में सुशासन दिवस मनाया गया। सभी कार्यालयों में सुशासन का संकल्प दिलाया गया। सुशासन दिवस का जिला स्तरीय कार्यक्रम जिला पंचायत सभाकक्ष में आयोजित किया गया। कार्यक्रम में जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों द्वारा श्री अटल जी के जीवन पर विस्तृत प्रकाश डालते हुए सुशासन की अवधारणा को व्यवहारिक रूप में परिभाषित किया गया। इस दौरान जिला ई-गवर्नेन्स के माध्यम से सुशासन के अन्तर्गत चलाए जा रहे डिजिटल इंडिया एवं कैशलेस अभियान पर कार्यशाला का आयोजन भी किया गया। जिला स्तरीय कार्यक्रम में जिला पंचायत के अध्यक्ष श्री रविराज सिंह यादव द्वारा सुशासन का संकल्प दिलाया गया।

कार्यक्रम में गुनौर विधायक श्री महेन्द्र सिंह बागरी ने श्री अटल जी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि उन्होंने व्यक्तिगत हित से ऊपर उठकर समाज एंव देश के लिए अपना जीवन समर्पित किया है। उनके निजी जीवन में भी पारदर्शिता थी। इसलिए शासन द्वारा उनका जन्मदिन सुशासन दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया गया। उन्होंने जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों से कहा कि अपने पद की गरिमा बनाए रखें। जो भी दायित्व हमको मिले हैं उनका निर्वहन पूरी ईमानदारी, पारदर्शिता एवं संवेदनशीलता के साथ निभाएं, यही सुशासन का वास्तविक संकल्प होगा। सभी के सहयोग से ही सुशासन की अवधारणा को साकार रूप दिया जा सकता है। कार्यक्रम में जिला पंचायत अध्यक्ष श्री यादव ने कहा कि अटल जी अपने हर फैसले में नाम की तरह ही अटल थे। उन्हांेने कभी अपने सिद्धांतों से समझौता नही किया। उनके द्वारा लायी गयी सुशासन की अवधारणा के अन्तर्गत ही पारदर्शिता एवं तत्परता के साथ सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए डिजिटल इंडिया अभियान चलाया जा रहा है। आज एक ही क्लिक में सभी जानकारियां एवं विभागों की सेवाएं उपलब्ध हैं। आवश्यकता केवल जागरूक होने की है। उन्होंने अधिकारियों से कार्यालय में आने वाले प्रत्येक आवेदक को धैयपूर्वक सुनने एवं उसकी समस्या का त्वरित निराकरण कर संतुष्ट करने की अपील की।

इस अवसर पर जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डाॅ. गिरीश कुमार मिश्रा ने अटल जी की सरकार की उपलब्धियों को गिनाते हुए कहा कि पारदर्शिता, उत्तरदायित्व के साथ, संवेदनशील होकर समस्याओं को सुनना और उनका निराकरण करना ही सुशासन की अवधारणा है। उन्होंने अधिकारियों को शासन की मंशा के अनुरूप अपनी योग्यता के अनुसार पूरी क्षमता के साथ कर्तव्य निर्वहन करने एवं अपनी कार्यक्षमता में निरंतर वृद्धि करने का संदेश दिया। नगरपालिका अध्यक्ष श्री मोहनलाल कुशवाहा ने कहा कि अटल जी सुशासन की संकल्पना लाने वाले पहले प्रधानमंत्री है। आत्मबल, शिक्षा, ज्ञान के साथ अंतिम झोर के व्यक्ति का ख्याल रखना उनके व्यक्तित्व की पहचान रही है। सरकार देश को समृद्ध शाली बनाने के उनके सपने को पूरा करने में निरंतर प्रयासरत है। हम सब भी इसमें सहयोग करें। इस अवसर पर एकात्म यात्रा जिला प्रभारी जयप्रकाश चतुर्वेदी, वरिष्ठ अध्यापक श्री शुक्ला एवं जिला परियोजना समन्वयक श्री विष्णु त्रिपाठी द्वारा उनके जीवन परिचय, काव्य रचनाओं एवं उपलब्धियों पर विस्तृत चर्चा की गयी।

 

पन्ना शहरी क्षेत्र के वार्डो में होगा 17 आशाओं का चयन 
पन्ना | 22-दिसम्बर-2017
 
  मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एल.के. तिवारी ने बताया है कि पन्ना शहरी स्वास्थ्य मिशन के सामुदायिक प्रक्रिया से संबंधित गतिविधियों के सफल संचालन हेतु पन्ना शहरी क्षेत्र के वार्डो में 17 आशाओं का चयन किया जाना है। जिसमें वार्ड क्र. 2,5,6,9,11, 12,14,15,16,20,21 एवं 22 में चयन किया जाना है। 
    उन्होंने बताया कि 25 से 45 वर्ष आयु वर्ग की विवाहित महिला होनी चाहिए। (शादीशुदा/ तलाक शुदा/परित्यागता/विधवा महिला को वरीयता दी जाएगी। आवेदिका को न्यूनतम 12वीं पास अनिवार्य रूप से होनी चाहिए इससे अधिक योग्यता वाली इच्छुक महिला को प्राथमिकता दी जाएगी। आशा बनने वाली महिला में प्रभावी संचार कौशल, नेतृत्व गुण होने चाहिए और सामुदाय तक पहुंचने में सक्षम होनी चाहिए। शहरी आशा के कर्तव्यों के समुचित निर्वहन हेतु आवेदक महिला को प्रतिदिन कम से कम 3-4 घण्टे का समय देने पर सहमत होना चाहिए। आवेदिका को आवेदित वार्ड का निवासी होना अनिवार्य है। समस्त दस्तावेज राजपत्रित अधिकारी द्वारा सत्यापित होना चाहिए। अधिक जानकारी के लिए कार्यालय मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी पन्ना में कार्यालयीन समय पर सम्पर्क कर सकते हैं। 
 

 

हुनर ने बनाया उद्योगपति - बन गयी लोगों की रसोई तक पहुँच "सफलता की कहानी" 
पन्ना | 21-दिसम्बर-2017
 
 
 हम सभी लोग कहते है कि बेटी पढी हो तो तीन परिवारों को शिक्षित बना देती है। इस बात को चरित्रार्थ किया है पन्ना नगर की श्रीमती नूतन मिश्रा ने। वे हुनरमंद थी, उन्होंने अपना हुनर अपने मायके से ससुराल वालों तक और अपने बच्चों को भी सिखा दिया है। इनके हुनर को आगे बढाने और उद्योगपति बनाने में शासन के प्रधानमंत्री रोजगारसृजन कार्यक्रम ने सहयोग दिया। आज वे उद्योगपति बन गयी है। उन्होंने अपने इस उद्योग में 5 अन्य लोगों को रोजगार दे रखा है। इनके उद्योग के उत्पाद लोगों की रसोई घर तक पहुँचकर भोजन का जायका बढा रहे हैं। 
   यह एक महिला स्वावलम्बन की कहानी है। श्रीमती नूतन मिश्रा बनारस के देवलिया उत्तर प्रदेश की निवासी है। इन्होंने संस्कृत भाषा से आचार्य (एम.ए.) तक की पढाई की। इनके माता-पिता के परिवार में पापड़ बनाने का काम होता था। नूतन भी परिवार के साथ पापड़ बनाने का काम सीख गयी। उनका विवाह पन्ना के श्री विनय मिश्रा के साथ हुआ। विनय भी पढे-लिखे व्यक्ति थे। उन्होंने अपनी पत्नी के हुनर को जीवन यापन का साधन बनाने की मन में ठानी। उन्होंने शासन के विभिन्न विभागों एवं बैंकों से सम्पर्क स्थापित किया। उन्हें उद्योग एवं व्यापार केन्द्र पन्ना से जानकारी प्राप्त हुई कि प्रधानमंत्री स्वरोजगार सृजन कार्यक्रम के अन्तर्गत पापड़ निर्माण की इकाई स्थापित करने के लिए ऋण एवं अनुदान प्राप्त हो सकता है। श्री मिश्रा ने कार्यालय से आवेदन फार्म प्राप्त कर आवश्यक दस्तावेजों के साथ आवेदन कर दिया। इनके आवेदन की समीक्षा जिला स्तरीय समिति द्वारा की गयी। समिति ने आवेदन को बैंक भेज दिया। बैंक से इन्हें पापड़ निर्माण इकाई स्थापित करने के लिए 15 लाख रूपये का ऋण दिया गया। वही शासन की ओर से 2 लाख 75 हजार रूपये का अनुदान प्राप्त हुआ।  
   इस राशि से उन्होंने नूतन गृह उद्योग स्थापित कर पापड़ का उत्पादन प्रारंभ कर दिया। इनके द्वारा उत्पादित नूतन पापड़ जिले के ग्रामीण अंचलों में विक्रय किए जाते हैं। इनके द्वारा चना, उड़द, मूंग एवं चावल के पापड़ बनाए जा रहे हैं। पापड़ विक्रय से इन्हें अभी प्रति माह 35 से 40 हजार रूपये प्राप्त होते हैं। इस राशि से 15 हजार रूपये प्रति माह बैंक ऋण की किश्त चुकाने के बाद अभी मुनाफे रूप में 10 हजार रूपये बच पाते हैं। उन्होंने बताया कि अभी हम पर्याप्त उत्पाद नही कर पा रहे हैं। आगामी आने वाले समय में हमारा उत्पादन बढ जाएगा। जिससे हम 20 से 25 हजार रूपये तक प्रति माह मुनाफा कमा सकेंगे। इस राशि से हमारे परिवार का अच्छी तरह से भरण-पोषण होने के उपरांत 10 से 15 हजार रूपये आराम से बचत कर लेंगे।

 

स्कूली विद्यार्थियों के लिए अनुभूति कार्यक्रम 

पन्ना | 20-दिसम्बर-2017
 
 वन मण्डलाधिकारी दक्षिण ने बताया कि समस्त वन परिक्षेत्राधिकारी दक्षिण वनमंडल पन्ना के माध्यम से स्कूल विद्यार्थियों के लिए अनुभूति कार्यक्रम निर्धारित दिनांक में आयोजित किए जाएंगे। उन्होंने बताया है कि परिक्षेत्र पवई में 21 एवं 22 दिसंबर को बेंदीहार में, शाहनगर में 21 दिसंबर को वैष्णव माता मंदिर बीट सुंगरहा तथा 6 जनवरी 2018 को गंगा झिरिया बिसानी में अनुभूति कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। इसी प्रकार परिक्षत्र सलेहा में 23 दिसंबर 2017 तथा 3 जनवरी 2018 को सिद्धनाथ आश्रम बिल्हा बीट, परिक्षेत्र रैपुरा में 26 एवं 27 दिसंबर को रकसेहा, मोहन्द्रा में 28 एवं 29 दिसंबर को कोपन वन क्षेत्र तथा परिक्षेत्र कल्दा में 30 दिसंबर 2017 एवं 7 जनवरी 2018 को श्यामगिरी में अनुभूमि कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। उन्होंने वन परिक्षेत्राधिकारियों को कार्यक्रम में स्थानीय जनप्रतिनिधि को अनिवार्य रूप से आमंत्रित करने एवं  कार्यक्रम उपरांत उसका प्रतिवेदन फोटो सहित भेजने के निर्देश दिए।

 

सैनिक भर्ती रैली 8 जनवरी से गुना में 
भर्ती के इच्छुक ऑनलाइन कराएं पंजीयन 
पन्ना | 13-दिसम्बर-2017
 
सैनिक भर्ती कार्यालय ग्वालियर द्वारा 8 जनवरी 2018 से 22 जनवरी 2017 तक डिग्री कॉलेज गुना (म.प्र.) में सैनिक भर्ती रैली का आयोजन किया जा रहा है। इस भर्ती रैली में सागर, पन्ना, दमोह, छतरपुर, टीकमगढ, गुना, अशोकनगर, ग्वालियर, शिवपुरी, श्योपुर, दतिया, भिण्ड और मुरैना जिले के युवा भाग ले सकते हैं। भर्ती में हिस्सा लेने के लिए ऑनलाइन पंजीयन पंजीकरण कराना अनिवार्य है। जिले के इच्छुक उम्मीदवार www.joinindianarmy.nic.in  के जरिए अपना पंजीयन करा सकते हैं। 
   इस संबंध में जिला रोजगार अधिकारी पन्ना ने बताया कि रैली के माध्यम से सैनिक सामान्य डियूटी, सैनिक तकनीकी/ सैनिक तकनीकी (एविएशन)/ नर्सिंग असिस्टेंट, लिपिक (क्लर्क)/ स्टोर कीपर और सैनिक ट्रेंडस मेन (10वीं एवं 8वीं) आदि की भर्ती की जाएगी। इस संबंध में अधिक जानकारी के लिए मोबाईल नम्बर 8190962223 अथवा ईमेल - This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it. एवं बेवसाईट htt://armyrecruitmentmp.nic.in से सम्पर्क किया जा सकता है।

 

नेशनल लोक अदालत सम्पन्न 

लोक अदालत से 12 बिछड़े दम्पत्तियों का मिलन 
पन्ना | 10-दिसम्बर-2017
 
 
   जिला न्यायाधीश एवं अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण पन्ना श्री राजेश कुमार कोष्टा की अध्यक्षता में ए.डी.आर. सेन्टर जिला न्यायालय परिसर पन्ना में दीप प्रज्ज्वलन कर मॉ सरस्वती एवं राष्ट्रपिता महात्मा गॉधी के तस्वीर पर पुष्पमाला अर्पित कर नेशनल लोक अदालत का गरिमामयपूर्ण शुभारंभ किया गया। शुभारंभ कार्यक्रम में रियाज इकबाल पुलिस अधीक्षक, अध्यक्ष जिला अधिवक्ता संघ, अमिताभ मिश्रा विशेष न्यायाधीश, अनुराग द्विवेदी अपर जिला न्यायाधीश,  राजेश कुमार अग्रवाल मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट, दिनेश सिंह राणा सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, रवि कुमार बौरासी, श्रीमती वंदना सिंह न्यायिक मजिस्ट्रेट, रामावतार पटेल एवं मोहित बड़के (प्रशिक्षु न्यायाधीश), मुहम्मद जीलानी जिला विधिक सहायता अधिकारी, उप अधीक्षक जिला जेल पन्ना एवं अन्य विभागों के अधिकारीगण, अधिवक्ता संघ पदाधिकारीगण, अधिवक्तागण, सुलहकर्ता सदस्यगण, सामाजिक कार्यकर्ता एवं पक्षकारगणों की उपस्थिती रही। 
     नेशनल लोक अदालत में श्रीमती वंदना सिंह, न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी पन्ना के न्यायालय में आपराधिक प्रकरण क्रमांक 516/2017 शासन म.प्र. विरुद्ध जहूर खान के मामलें में गाली गलौज एवं मारपीट का विवाद था विवाद के दोनों पक्ष आपस में सगे भाई है, पीठासीन अधिकारी/न्यायाधीश एवं सुलहकर्ता सदस्यों के समझाइस उपरांत दोनों पक्षों ने आपसी सहमति से राजीनामा कर भविष्य में मधुर संबंध स्थापित करने का संकल्प लेकर लोक अदालत के उद्देश्य को सफल करने का प्रयास किया। लोक अदालत के माध्यम से परिवार परामर्श केन्द्र द्वारा प्रस्तुत प्री-लिटिगेशन प्रकरणों में से 12 जोड़ों ने आपसी सहमति से राजीनामा किया एवं बिखरे हुए परिवार फिर से एक हुए।

 

 

जिले में समर्थन मूल्य पर अब तक 103583 क्विंटल हुई धान की खरीद 
पन्ना | 08-दिसम्बर-2017
 
   किसानों को उनकी उपज का उचित लाभ देने के लिए जिलेभर में 29 खरीदी केन्द्रों में समर्थन मूल्य पर धान की खरीद की जा रही है। अधिकतर केन्द्र वेयर हाउस में बनाए गए हैं जिससे खरीदे गए धान का तत्काल भण्डारण किया जा सके। इन खरीदी केन्द्रों में अब तक 2407 पंजीकृत किसानों से एक लाख 3 हजार 583 क्विंटल धान की खरीद की जा चुकी है। अब तक किसानों को 11 करोड 63 लाख 86 हजार 175 रूपये की राशि का भुगतान किया गया है। खरीदे गए धान का किसानों के बैंक खाते में भुगतान किया जा रहा है। धान की खरीद सहकारी समितियों के माध्यम से नागरिक आपूर्ति निगम द्वारा की जा रही है। 
    इस संबंध में जिला आपूर्ति अधिकारी ने बताया कि खरीदी केन्द्र प्रा.स.स. पहाडीखेरा में 1763 क्विंटल, बृजपुर में 4660.80 क्विंटल, जनकपुर लक्ष्मीपुर में 4264 क्विंटल, देवेन्द्रनगर में 13282.40 क्विंटल, बिरवाही में 4706 क्विंटल तथा रैगढ में 4099.20 क्विंटल धान की खरीद की गयी है। खरीदी केन्द्र अमानगंज में 1733.60 क्विंटल, सलेहा में 2196 क्विंटल, पवई में 2766 क्विंटल, करही में 2207.60 क्विंटल, सिमरिया में 2341.20 क्विंटल, रैयासांटा में 663.60 क्विंटल, शाहनगर में 2862.40 क्विंटल, बोरी में 3133.60 क्विंटल, रैपुरा में 10540.80 क्विंटल, बघवारकला में 2504.80 क्विंटल, बगरौड में 1775.60 क्विंटल एवं अजयगढ में 930.80 क्विंटल धान की खरीद की गयी है। जवा.प्रा.स.स. देवेन्द्रनगर में 13016.80 क्विंटल, विप.स. गुनौर में 5323.60 क्विंटल, अजयगढ में 241.60 क्विंटल, प्रा.स.स. बराछ में 2425.60 क्विंटल, ककरहटी में 7469.20 क्विंटल, मोहन्द्रा में 1546.80 क्विंटल, प्रा.कृ.सा.स.स. बिसानी में 1446 क्विंटल, बिरसिंहपुर में 2390 क्विंटल, पतेहपुर (मडवा) में 897.20 क्विंटल, मलघन में 1859.60 क्विंटल तथा प्रा.सा.स.स. मझगाय अजयगढ में 536.40 क्विंटल धान की खरीदी की गयी है। 

 

द होते व्यवसाय को मिला शासन का सहारा "सफलता की कहानी" 

सौरभ नामदेव बने पूरी तरह आत्मनिर्भर 
पन्ना | 06-दिसम्बर-2017
 
 
 
    स्थानीय धाम मोहल्ले में निवासी करने वाले सौरभ नामदेव शिक्षित बेरोजगार थे। परिवार और मित्रों से सहयोग प्राप्त कर छोटी सी रेडीमेट कपडों की छोटी सी दुकान प्रारंभ की थी। दुकान पंचम सिंह चौराहे पर होने के कारण चल रही थी। मगर पूंजी न होने के कारण अपनी दुकान को बढा नही पा रहे थे। उनको लोगों द्वारा बताया गया कि मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के तहत ऋण लेकर इस दुकान को बडे रूप में स्थापित किया जा सकता है। 
    यह बात जानकर सौरभ ने नगरपालिका परिषद पन्ना में सम्पर्क स्थापित किया। वहां से उन्हें योजना की सम्पूर्ण जानकारी एवं आवेदन फार्म उपलब्ध कराया गया। सौरभ द्वारा हंसीखुशी आवेदन की प्रक्रिया पूरी कर नगरपालिका में अपना आवेदन प्रस्तुत किया। नगरपालिका की समिति द्वारा आवेदन का परीक्षण कर आवेदन को अनुशंसा के साथ स्टेट बैंक पन्ना ऋण देने के लिए भेज दिया। बैंक द्वारा आवेदन में दी गयी जानकारी का सत्यापन कराने के उपरांत सौरभ को एक लाख रूपये का ऋण स्वीकृत कर दिया। यह ऋण सौरभ को 2 किश्तों में दिया गया। सौरभ ने ऋण प्राप्त होने पर दुकान की साजसज्जा करने के साथ साथ दुकान बडे रूप मेंsa संचालित कर दी। जिससे दुकान की बिक्री तेजी से चल पडी। सौरभ ने बताया कि शासन की मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना में मुझे एक लाख रूपये का ऋण प्राप्त हुआ है। इस ऋण राशि में 30 प्रतिशत का अनुदान शासन द्वारा दिया जा रहा है। 
    दुकान के संबंध में सौरभ ने बताया कि पहले मेरी दुकान बहुत छोटी थी जिसके कारण मुझे प्रतिदिन थोक व्यापारियों के यहां से माल लाकर बेंचना पडता था। उस समय मेरी दुकान में कम प्रकार के ही कपडे उपलब्ध होते थे जिससे कई बार खरीददार मंदपसंद कपडे न मिलने के कारण फिर आने की बात कहकर चला जाता था। जब से मुझे शासन द्वारा ऋण उपलब्ध कराया गया है तब से ग्राहक वापस नही जाते। अब मेरी दुकान में सभी तरह के वस्त्र उपलब्ध हैं। जिससे मैं ग्राहक को अनेक तरह का माल दिखाकर खुश कर लेता हुँ। आने वाला हर ग्राहक दुकान से कुछ न कुछ लेकर जाता है। अब में इस दुकान से लगभग 18 से 22 हजार रूपये तक कमा लेता हुँ। इससे मैं 4 हजार रूपये दुकान का किराया और 2200 रूपये बैंक ऋण की किश्त अदा करता हुँ। इसके बाद बचने वाले 10 से 12 हजार रूपये की राशि से मेरे परिवार का भरण पोषण आराम से हो जाता है। इसमें भी भविष्य के लिए थोडा बहुत पैसा बचा लेता हुँ। सौरभ का कहना है कि बेरोजगारों को रोजगार के लिए यहां वहां भटकने की जरूरत नही है। नौकरी न मिलने पर शासन की विभिन्न स्वरोजगार योजनाओं का लाभ लेना चाहिए। उनका तो कहना है कि सभी को मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना का लाभ लेना चाहिए। इस योजना में व्यवसाय का प्रशिक्षण एवं ऋण के साथ अनुदान मिलता है जिससे ऋण पटाने में कठिनाई नही होती। 
 

 

विश्व विकलांग दिवस कार्यक्रम 3 दिसंबर को 

पन्ना | 01-दिसम्बर-2017
 
 जिला परियोजना समन्वयक जिला शिक्षा केन्द्र विष्णु त्रिपाठी द्वारा दी गयी जानकारी अनुसार 3 दिसंबर को विश्व विकलांग दिवस का आयोजन किया जाएगा। इस अवसर पर दिव्यांगों के लिए सांस्कृतिक कार्यक्रम खेलकूद, सामर्थ्य प्रदर्शन, चित्रकला आदि प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाएगा। यह कार्यक्रम पुराना पन्ना स्थित विकलांग छात्रावास में दोपहर 01 बजे से आयोजित किया जाएगा। सर्वशिक्ष अभियान द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम में संबंधितजनों को आमंत्रित किया गया है। 

भावांतर राशि पाकर पन्ना के किसानों पर छायी खुशी की लहर (सफलता की कहानी) 

सफलता की कहानी कृषक की जुबानी 
पन्ना | 29-नवम्बर-2017
 
   
    किसान अपनी पूरी लगन और मेहनत से फसल उगाता है। वह न केवल अपना और अपने परिवार का बल्कि दूसरों के लिए भी इसी समर्पित भाव से अन्न उत्पादित करता है। इसलिए किसान भाईयों को अन्नदाता कहा जाता है। मौसमी उतार चढाव के बीच वह ईश्वर से केवल अपनी फसल सुरक्षित और अच्छी रखने की प्रार्थना करता है। क्योंकि इसी से उसका और उसके परिवार का जीवन यापन तथा उनके सपने जुडे होते हैं। किसानों को बीज, खाद, पानी, कीटनाशक आदि समय पर मिल जाते हैं तो उनके चेहरे पर खुशी देखते ही बनती है। और ऐसे में जब उनकी फसल का उचित दाम और बाजार भाव के उतार चढाव से सुरक्षा मिल जाए तो किसान भाईयों पर खुशी की लहर छा जाती है। यही लहर भावांतर योजना अन्तर्गत भावांतर की राशि मिलने के बाद किसानों के चेहरों में देखने को मिल रही है। बुन्देलखण्ड के पिछड़े जिले पन्ना में सूखा प्रभावित होने के कारण यहां एक ओर किसानों की फसल खराब होने से उत्पादन कम हो गया वही दूसरी ओर बाजार तथा मंडियों में भाव गिर जाने के कारण किसानों पर दोहरी मार पड रही है। ऐसे में भावांतर भुगतान योजना इन कृषकों के लिए वरदान साबित हुई है। 
    राज्य सरकार खेती को लाभ का धन्धा बनाने के लिए निरंतर काम कर रही है। इसी कड़ी में फसलों के बाजार भाव के उतार चढाव से सुरक्षा प्रदान करने के लिए मुख्यमंत्री जी द्वारा नई पहल करते हुए मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना लागू की गयी है। इस संबंध में उप संचालक कृषि रविन्द्र मोदी से चर्चा करने पर उन्होंने बताया कि प्राथमिक साख सहकारी समितियों में 11 सितंबर 2017 से 15 अक्टूबर 2017 तक जिले से 13998 कृषकों ने इस योजना के अन्तर्गत पंजीयन कराया। बाद में पंजीयन अवधि बढने पर 15 नवंबर से 25 नवंबर तक और किसान भाईयों द्वारा पंजीयन कराया गया। उन्होंने बताया कि 16 अक्टूबर से 31 अक्टूबर 2017 तक फसल विक्रय किए जाने पर राज्य शासन द्वारा विहित प्रक्रिया अपनाकर न्यूनतम समर्थन मूल्य तथा घोषित मंडियों की मॉडल विक्रय दर के अन्तर की राशि का भुगतान जिले के 494 किसान भाईयों को कर दिया गया है। इन किसान भाईयों को भावांतर की राशि एक करोड 7 लाख 91 हजार 590 रूपये का भुगतान उनके खाते में किया गया है। जिले में औसतन प्रति कृषक 21845 रूपये की भावांतर राशि का लाभ प्राप्त हुआ है। 

 


 
 
 
 

 

 

  • Address: Harihar Bhavan Nowgong Dist. Chatarpur Madhya Pradesh  , Mo : 98931-96874 , Email :  This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it. Web : www.ganeshshankarsamacharsewa.in