Tuesday, October 15News That Matters

भोपाल की हवा में पीएम-10 का स्तर दिल्ली जितना पहुंचा, सांस के मरीजों की बढ़ेगी मश्किल

Share

भोपाल। शहर के टीटी नगर क्षेत्र की हवा में पार्टिकुलेटर मैटर (पीएम) 10 का स्तर दिल्ली की तरह 423 तक पहुंच गया है, जो कि आम लोगों के स्वास्थ्य के लिए बड़ा खतरा है। इस क्षेत्र की हवा में दो दिन से धूल के कणों का अधिकतम स्तर 400 से अधिक है, जो कि 100 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर तक होना चाहिए। कोलार, भेल क्षेत्र व मंडीदीप की स्थिति भी चिंताजनक है। खराब सड़कों से उड़ रही धूल के कारण यह स्थिति बनी हुई है। इन दिनों दिल्ली के भी कई इलाकों में पीएम-10 का अधिकतम स्तर 400 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर है।

बता दें कि पीएम-10 में धूल के कणों के अलावा उद्योगों से निकलने वाले हानिकारक कण भी शामिल होते हैं। इनका व्यास 10 माइक्रोमीटर तक होता है। ये कण ठोस या तरल रूप में वातावरण में होते हैं। इसमें धूल व धातु के सूक्ष्म कण भी होते हैं। ये नग्न आंखों से नहीं दिखते। ये गैस के रूप में भी सक्रिय होते हैं। सांस के जरिए ये कण फेफड़ों में चले जाते हैं, जिससे खांसी और अस्थमा के दौरे पड़ सकते हैं। इससे रक्तचाप, दिल का दौरा, स्ट्रोक और कई गंभीर बीमारियों का खतरा हो सकता है।