Friday, January 24News That Matters

गणतंत्र दिवस / पहली बार परेड में एंटी सैटेलाइट वेपन सिस्टम के साथ कश्मीर और एनडीआरएफ की झांकी भी दिखेगी

Share
      • 71वें गणतंत्र दिवस परेड की गुरुवार को राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल की गई
      • इस बार चिनूक, अपाचे हेलिकॉप्टर और तोपों से नजर आएगी देश की ताकत

      नई दिल्ली. 71वें गणतंत्र दिवस समारोह के लिए गुरुवार को परेड की फुल ड्रेस रिहर्सल हुई। इसमें सुरक्षाबलों के जवानों ने हथियारों के साथ कदमताल की। इस बार की परेड में धनुष 145 एमएम 52 कैलिबर होवित्जर तोप, अपाचे और चिनूक प्रमुख आकर्षण रहेंगेे। साथ ही लड़ाकू विमान राफेल की झांकी भी शामिल की जाएगी। इसके अलावा एंटी सैटेलाइट वेपन सिस्टम भी पहली बार प्रदर्शित होगा। यह भारत के जंगी बेड़े का सबसे बड़ा हथियार माना जा रहा है।

      भारत का पहला स्वदेशी अटैक हेलिकॉप्टर एलसीएच भी वायुसेना की झांकी में दिखेगा। हालांकि, इसे अभी तक वायुसेना में शामिल नहीं किया गया है। कोच्चि शिपयार्ड में तैयार हो रहा देश का पहला स्वदेशी विमानवाहक युद्धपोत विक्रांत इस बार नौसेना की झांकी में रहेगा। इसके साथ एंटी सबमरीन और टोही विमान पी8आई भी शामिल किए गए हैं। इसके अलावा स्पेशल फोर्स के कमांडो का मार्च पास्ट और सीआरपीएफ जवानों के हैरतअंगेज करतब भी देखने को मिलेंगे।

      एनडीआरएफ का दस्ता सूट गियर में

      परेड में एनडीआरएफ का दस्ता सीबीआरएन (केमिकल बायोलॉजिकल, रेडियोलॉजिकल और न्यूक्लियर) सूट गियर में दिखेगा। इसके जरिए कुदरती आपदाओं और रासायनिक हमलों से निपटने के तरीके दिखाए जाएंगे। इसके अलावा कश्मीर और वित्त मंत्रालय की झांकी भी पहली बार परेड में दिखाई देगी।

      महिला टीम मोटरसाइकिल पर 9 तरह के करतब दिखाएगी

      नारी शक्ति इस बार परेड में जांबाजी दिखाएगी। सीआरपीएफ की डेयरडेविल्स टीम पहली बार राजपथ पर मोटरसाइकिल के जरिए 9 तरह के करतब का प्रदर्शन करेगी। इस टीम की कई महिलाएं जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद प्रभावित इलाके में तैनात हैं, तो कई पूर्वोत्तर के राज्यों में कानून-व्यवस्था पर नजर रख रही हैं। डेयरडेविल्स टीम में कुछ ऐसी महिलाएं हैं, जो नक्सल प्रभावित राज्यों मे भी तैनात हैं।

      इस गणतंत्र दिवस खास

      • 22 झांकियां निकलेंगी, इनमें 16 राज्यों और 6 विभागों की
      • 90 मिनट की होगी गणतंत्र दिवस परेड, 16 मार्चिंग दस्ते होंगे
      • 21 बैंड परेड में हिस्सा लेंगे। इनमें 13 दस्ते सैन्य बैंड के होंगे
      • 44 ऐसे बच्चे परेड में हिस्सा लेंगे, जिन्हें राष्ट्रीय पुरस्कार मिला