Sunday, May 16News That Matters

MP में सिलेंडर के लिए लूटमार!:उपचुनाव वाले दमोह में सिलेंडर आते ही रात को उठा ले गए मरीज के परिजन, वापस मांगने पर दी गालियां; बोले- हमें अस्पताल वालों पर यकीन नहीं

Share

उपचुनाव वाले दमोह में संक्रमण के कारण अब हालात बिगड़ गए हैं। यहां बीती रात जिला अस्पताल में सिलेंडरों की खेप पहुंची तो प्री कोविड वार्ड में भर्ती मरीज के परिजनों ने सिलेंडर की लूटपाट चालू कर दी। एक-एक सिलेंडर की जगह दो-दो सिलेंडर छीनकर रख लिए, लेकिन जब स्टाफ के लोगों ने सिलेंडर वापस मांगे तो गाली गलौच पर उतर आए। मामला इतना बिगड़ गया कि रात में पुलिस को बुलाना पड़ा।

ASP शिव कुमार सिंह फोर्स के साथ पहुंचे और सिलेंडर वापस करने के लिए दबाव बनाया, लेकिन इस बीच किसी ने भी सिलेंडर खाली नहीं किए। हालांकि कुछ देर बाद ASP वापस लौट गए, सुबह फिर सिलेंडरों की जरूरत पड़ी तो फिर से हंगामा हो गया। जो मरीज सिलेंडर की मांग कर रहे थे, उन्हें प्री कोविड वार्ड से सिलेंडर लाने के लिए कहा गया, लेकिन जो वहां पर भर्ती थे, वे सिलेंडर देने को तैयार नहीं थे, ऐसे में विवाद की स्थिति बन गई। बाद में कुछ मरीजों ने सिलेंडर लौटाए। एक मरीज को एक सिलेंडर देने का नियम है, लेकिन यहां पर मरीज एक की जगह दो-दो सिलेंडर रखे हुए हैं, उन्हें अंदेशा है कि कहीं उनका सिलेंडर खाली न हो जाए।

ASP शिवकुमार सिंह ने बताया कि रात में सूचना मिली थी, जिस पर फोर्स के साथ गया था। सिलेंडर अस्पताल के अंदर ही हैं और मरीजों को लग रहे हैं। इसलिए छीन कर ले जाने वाली बात नहीं है, लेकिन सभी मरीजों को सिलेंडर की जरूरत है, इसलिए अस्पताल प्रबंधन की ओर से ही सिलेंडर की सप्लाई की जानी चाहिए।

इधर डॉ. अस्पताल की सिविल सर्जन डॉ. ममता तिमोरी ने बताया कि प्री कोविड वार्ड के मरीजों ने जबरन सिलेंडर छीनकर अपने पास रख लिए थे, कुछ सिलेंडर वापस आ गए हैं, लेकिन कुछ सिलेंडर मरीजों के परिजन नहीं दे रहे थे, वे सिलेंडर मांगने पर लड़ने के लिए तैयार हैं। जिसके बाद पुलिस बुलाई गई। सभी मरीजों को सिलेंडर की जरूरत है, इसलिए अस्पताल प्रबंधन की ओर से ही सिलेंडर की सप्लाई की जानी चाहिए।

जिला अस्पताल में देर रात पुलिस ने पहुंचकर स्थिति को संभाला

मामला देर रात 11:30 बजे का बताया जा रहा है। मरीज के परिजन ऑक्सीजन सिलेंडर लेने कर्मचारी पर दबाव बनाते रहे और विवाद की स्थिति हो गई। जिला अस्पताल के डॉक्टर, सिविल सर्जन, सीएमएचओ सहित कर्मचारी एकत्रित हो गए और मौके पर पुलिस को बुलाया गया। पुलिस के सामने सीएमएचओ डॉक्टर संगीता त्रिवेदी, सिविल सर्जन डॉक्टर ममता तिमोरी ने कहा कि 4 दिन से पुलिस सुरक्षा मुहैया कराए जाने की मांग की जा रही है। एसपी को पत्र दे दिया है लेकिन जिला अस्पताल में पुलिस मुहैया नहीं कराई जा रही है। ऑक्सीजन सिलेंडर का ट्रक आने पर मरीज के परिजन सिलेंडर उठाकर ले जाते हैं। इसी बीच सारे कर्मचारी अस्पताल के बाहर खड़े हो गए जिससे हंगामे के हालात बने रहे।

कोविड केयर सेंटर चालू किए जा रहे हैं

जिले में कोरोना से मरने वालों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। मंगलवार को आठ मौतें हुईं। 103 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज सामने आए। 20 दिन में मरने वालों की संख्या 70 हो गई। जबकि 20 दिन में 1189 पॉजिटिव केस आए हैं। जिला अस्पताल में मरीजों के लिए पलंग कम पड़ गए हैं। कोरोना सस्पेक्टेड मरीजों को फर्श पर गैलरी में लिटाकर इलाज दिया जा रहा है।