Monday, July 6News That Matters

अनुपपुर

Share
रोजगार सेतु पोर्टल के माध्यम से 1933 प्रवासी श्रमिकों को रोजगार मिला
2 लाख 71 हजार 706 प्रवासी श्रमिकों के बने जॉब कार्ड, 74 हजार 839 प्रवासियों को मिला मनरेगा में कार्य , 13 हजार 155 नियोक्ताओं ने कराया पोर्टल पर पंजीयन
अनुपपुर | 18-जून-2020

    मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा प्रदेश में प्रवासी श्रमिकों को उनके कौशल एवं दक्षता के अनुसार रोजगार दिलाए जाने के लिए प्रारंभ किए गए रोजगार सेतु पोर्टल के सार्थक परिणाम सामने आने लगे हैं। पोर्टल के माध्यम से बड़ी संख्या में प्रवासी श्रमिकों को उनके कौशल के अनुरूप रोजगार प्राप्त हो रहा है। पोर्टल पर अभी तक एक हजार 933 प्रवासी श्रमिकों को कुशल श्रमिक के रूप में रोजगार प्राप्त हुआ है तथा 3 हजार 912 श्रमिकों को कुशल रोजगार दिए जाना प्रक्रियाधीन है।
अकुशल प्रवासी श्रमिकों में 2 लाख 71 हजार 706 को जॉब कार्ड उपलब्ध कराया गया है तथा 74 हजार 839 प्रवासी श्रमिकों को मनरेगा के अंतर्गत कार्य दिलाया गया है।
रोजगार सेतु पोर्टल नियोक्ताओं के लिए भी उनकी आवश्यकता के अनुरूप कुशल/अकुशल श्रमिक आसानी से प्राप्त करने का प्रभावी मंच है। इस पोर्टल पर अभी तक 13 हजार 155 नियोक्ताओं ने अपना पंजीयन कराया है। इनमें 3 हजार 380 सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग, 405 वृहद उद्योग, 4 हजार 604 ठेकेदार, 167 बिल्डर्स, 292 प्लेसमेंट एजेंसी तथा 1225 अन्य व्यावसायिक प्रतिष्ठान हैं।
पोर्टल पर 7 लाख 30 हजार 311 प्रवासी श्रमिकों का पंजीयन किया गया है। इनमें से 5 लाख 96 हजार 975 पुरूष प्रवासी श्रमिक, एक लाख 33 हजार 336 महिला प्रवासी श्रमिक शामिल है। अन्य राज्यों में 3 लाख 69 हजार 792 लॉकडाउन के पूर्व असंगठित क्षेत्रों में नियोजत प्रवासी श्रमिक, 2 लाख 22 हजार 525 अन्य राज्यों में लॉकडाउन के पूर्व भवन एवं अन्य निर्माण कार्यों में नियोजित प्रवासी श्रमिक तथा एक लाख 37 हजार 994 लॉकडाउन के पूर्व कारखाना/उद्योग में नियोजित प्रवासी श्रमिक हैं।

कोई भी पात्र श्रमिक पंजीयन से नहीं होना चाहिए वंचित

प्रवासी श्रमिकों के पंजीयन की कार्यवाही 3 जून तक पूर्ण करने के कलेक्टर ने दिए निर्देश, श्रमिक भाई स्वयं से भी सम्बंधित नगरीय निकाय, ग्राम पंचायतों से सम्पर्क कर दर्ज करा सकते हैं अपनी जानकारी
अनुपपुर | 02-जून-2020

    कलेक्टर चंद्रमोहन ठाकुर ने अनूपपुर जिले के निवासी श्रमिक जो म.प्र. के बाहर के अन्य राज्यों में काम करने गये थे एवं 01 मार्च 2020 के पश्चात वापस अनूपपुर लौटे हैं ऐसे श्रमिकों के पंजीयन की कार्यवाही अनिवार्य रूप से 3 जून तक ग्रामीण क्षेत्र में जनपद पंचायत तथा शहरी क्षेत्र में नगरीय निकाय द्वारा पूर्ण किए जाने के निर्देश दिए हैं। आपने सभी सीईओ जनपद एवं नगरपालिका अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि कोई भी पात्र प्रवासी श्रमिक पंजीयन से वंचित नहीं रहना चाहिए।
इसके साथ ही प्रवासी श्रमिक स्वयं से भी ग्रामीण क्षेत्र मे मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत/संबंधित ग्राम पंचायत तथा शहरी क्षेत्र के मुख्य नगरपालिका अधिकारी/संबंधित वार्ड प्रभारी को स्वयं की जानकारी देकर अपना प्रवासी श्रमिक के रूप में पंजीयन करा सकते हैं। प्रवासी श्रमिकों के पंजीयन के पश्चात उन्हें शासन की विभिन्न हितग्राही मूलक योजनाओं मे लाभांवित किया जाएगा।

जिला पंचायत सामान्य प्रशासन समिति की बैठक संपन्न

अनुपपुर | 18-फरवरी-2020
    जिला पंचायत सामान्य प्रशासन समिति की बैठक शुक्रवार को जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती रूपमती सिंह की अध्यक्षता में आयोजित की गई। बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री सरोधन सिंह, जिला पंचायत सदस्य श्री भूपेन्द्र सिंह, श्रीमती माया चौधरी, श्रीमती स्नेहलता सोनी सहित विभिन्न विभागों के अधिकारीगण उपस्थित थे।
बैठक में ग्रामीण यांत्रिकी सेवा, लोक निर्माण विभाग तथा पी.आई.यू., लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग, आदिवासी विकास, सर्व शिक्षा, जल संसाधन तथा परफारमेंस ग्रान्ट अंतर्गत स्वीकृत कार्यों की समीक्षा की गई। बैठक में उद्यानिकी विभाग के हितग्राहीमूलक कार्यों, विद्युत विभाग अंतर्गत विद्युतविहीन टोला, मजरों की विद्युत कनेक्शन, मनरेगा के वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए जिले के लेबर बजट सहित अन्य विषयक चर्चा की गई। बैठक में बताया गया कि आगामी 2-3 माह में जिले के सभी आंगनबाड़ी केन्द्रों में डीएमएफ मद से विद्युत एवं पंखें की व्यवस्था की जाएगी। बैठक में सदस्यों ने जिला पंचायत समिति की बैठक समय पर नहीं आयोजित करने पर कड़ी आपत्ति दर्ज कराई गई, जिस पर विभागीय सदस्य सचिवों ने शीघ्र समिति की बैठक आयोजित किए जाने सदन को आश्वस्त किया। जिला पंचायत सदस्यों ने स्थानीय मुद्दों पर उपस्थित अधिकारियों से जानकारी चाही, जिसका अधिकारियों ने समाधानकारक जवाब प्रस्तुत किया।
जिला पंचायत सामान्य प्रशासन समिति की बैठक के साथ सामान्य सभा की बैठक भी आयोजित की गई थी, जो कोरम पूर्ण न होने के अभाव में स्थगित कर दी गई।

जनपद शिक्षा केन्द्रों में अशासकीय शालाओं के प्राचार्यों एवं संचालकों का प्रशिक्षण 12 फरवरी को

अनुपपुर | 11-फरवरी-2020

    डीपीसी अनूपपुर हेमन्त खैरवाल ने बताया कि ‘‘एम शिक्षा मित्र’’ में आवेदन करने के संबंध में अनूपपुर जिले के सभी जनपद शिक्षा केन्दों (बीआरसी कार्यालयों) में 12 फरवरी 2020 को प्रातः 11 बजे से अशासकीय शालाओं के प्राचार्यों एवं संचालकों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। आपने प्राचार्यों एवं संचालकों से आग्रह किया है कि प्रशिक्षण प्राप्त कर आवेदन करने में होने वाली कठिनाई को दूर करने का प्रशिक्षण प्राप्त करे। आपने बताया कि सभी प्रकार की कठिनाई के लिए बीआरसी में एक कन्ट्रोल रूम बनाया गया है जिला शिक्षा केन्द्र में भी सहयोग के लिए कंट्रोल रूम बनाया गया है। आवेदन करने की तिथि में भी वृद्धि  की गई है। आपने प्राचार्यों एवं संचालकों से अनुरोध किया है कि समय पर उपस्थित होकर प्रशिक्षण प्राप्त करे जिससे समय-सीमा में ‘‘एम शिक्षा मित्र’’ में आवेदन कर सके।

डॉ. अज़ीज़ कुरैशी ने संभाला उर्दू अकादमी के अध्यक्ष का कार्यभार

अब फिर से शुरू होगा राजा राम मोहन राय अन्तर्राष्ट्रीय सम्मान
अनुपपुर | 28-जनवरी-2020

    डॉ. अज़ीज़ कुरैशी ने 24 जनवरी को भोपाल में मध्यप्रदेश उर्दू अकादमी के अध्यक्ष पद का कार्य-भार ग्रहण किया। इस अवसर पर उन्होंने अकादमी के सचिव डॉ. हिसाम उद्दीन फारूकी और विभिन्न साहित्यकारों से चर्चा की। डॉ. कुरैशी ने बताया कि अब अकादमी द्वारा उर्दू पत्रकारिता के स्तंभ राजा राममोहन राय अन्तर्राष्ट्रीय उर्दू सम्मान पुनः प्रारंभ किया जाएगा। इसके साथ ही 3 नये प्रादेशिक सम्मान भी प्रारंभ किए जाएंगे। यह सम्मान रचनात्मक साहित्य, शोध साहित्य और हास्य-व्यंग्य लेखन के लिये प्रदान किये जाएंगे। रचनात्मक साहित्य और उर्दू अफसाना लेखन के लिये प्रो. आफाक अहमद सम्मान, शोध साहित्य के लिये प्रो. अब्दुल कवी दसनवी सम्मान और उर्दू हास्य व्यंग्य लेखन के लिये प्रो. शफीका फरहत सम्मान अगले वर्ष से दिए जाएंगे।

पृथ्वीपुर (जिला निवाड़ी) में 39वीं अ.भा. वालीबॉल प्रतियोगिता

पहले दिन 4 और दूसरे दिन 5 मैच खेले गए
अनुपपुर | 21-जनवरी-2020

     निवाड़ी जिले के पृथ्वीपुर में स्व. अमर सिंह राठौर की स्मृति में आयोजित 39वीं अखिल भारतीय वालीबॉल प्रतियोगिता में पहले दिन 18 जनवरी को 4 मैच और दूसरे दिन 19 जनवरी को 5 मैच खेले गये। इस तीन दिवसीय प्रतियोगिता में राष्ट्रीय स्तर की 11 टीमें भाग ले रही हैं।
प्रतियोगिता के पहले दिन जाट रेजीमेंट राय बरेली तथा सिग्नल कोर हिसार के बीच खेले गए मैच में जाट रेजीमेंट बरेली विजयी रही। दूसरा मैच एलएनआईपी ग्वालियर तथा कुरुक्षेत्र हरियाणा के बीच हुआ, जिसमें एलएनआईपी ग्वालियर विजयी रही। तीसरा मैच पुलिस एकेडमी ग्वालियर तथा साई प्रशिक्षण केन्द्र अहमदाबाद के बीच खेला गया, जिसमें साई प्रशिक्षण केन्द्र अहमदाबाद ने जीत दर्ज की। चतुर्थ मैच एसएसबी अर्ध-सैनिक बल लखनऊ तथा दिल्ली प्रशासन के बीच खेला गया, जिसमें एसएसबी अर्धसैनिक बल लखनऊ विजयी रहा।
प्रतियोगिता के दूसरे दिन प्रथम मैच एलएनआईपी ग्वालियर तथा सीआरपीएफ दिल्ली के बीच खेला गया, जिसमें सीआरपीएफ दिल्ली विजयी रही। दूसरा मैच उत्तराखंड हॉस्टल तथा जाट रेजीमेंट राय बरेली के बीच खेला गया, जिसमें जाट रेजीमेंट राय बरेली विजयी रही। तीसरा मैच एसएसबी अर्धसैनिक बल लखनऊ तथा कुरूक्षेत्र हरियाणा के बीच खेला गया, जिसमें एसएसबी अर्धसैनिक बल लखनऊ ने बाजी मारी। चतुर्थ मैच सिग्नल कोर हिसार तथा साई प्रशिक्षण केन्द्र अहमदाबाद के बीच खेला गया, जिसमें साई प्रशिक्षण केन्द्र अहमदाबाद विजयी रहा। पाँचवा मैच एलएनआईपी ग्वालियर तथा दिल्ली प्रशासन के बीच खेला गया, जिसमें दिल्ली प्रशासन ने जीत दर्ज की।

अमरकंटक नर्मदा महोत्सव हेतु वन विभाग के शासकीय सेवकों ने दी 2 लाख 91 हजार 101 की सहयोग राशि

अनुपपुर | 14-जनवरी-2020

अमरकंटक नर्मदा महोत्सव 2020 का आयोजन 31 जनवरी से 2 फरवरी 2020 तक किया जाना है। इस दौरान धार्मिक गतिविधियों के साथ स्थानीय जनजातीय समूहों की सांस्कृतिक गतिविधियों का भी प्रदर्शन किया जाएगा। इसके साथ ही क्षेत्र को विश्व स्तर में पर्यटन नगरी के रूप में विकसित करने हेतु यहां की संस्कृति, प्रकृति एवं कला से आमजनों को अवगत कराने हेतु कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। उक्त कार्यक्रम में समाजसेवियों, शासकीय सेवकों एवं आमजनों का बढ़-चढ़ कर सहयोग प्राप्त हो रहा है। इसी क्रम में वन विभाग के शासकीय सेवकों ने एक दिन का वेतन जिसकी कुल राशि 2 लाख 91 हजार 101 रूपए, पुलिस विभाग के शासकीय सेवकों ने एक दिन का वेतन जिसकी कुल राशि 1 लाख 61 हजार 650 रूपए, स्वास्थ्य विभाग के शासकीय सेवकों ने एक दिन का वेतन जिसकी कुल राशि 1 लाख 9 हजार 220 रूपए, पीएचई विभाग के शासकीय सेवकों ने एक दिन का वेतन जिसकी कुल राशि 40 हजार 600 रूपए, जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय  के शासकीय सेवकों ने एक दिन का वेतन जिसकी कुल राशि 15 हजार रूपए एवं मुख्य नगरपालिका अधिकारी अनूपपुर ने एक दिन का वेतन 11 हजार रुपए का चेक अमरकंटक नर्मदा महोत्सव हेतु प्रदान किया।
कलेक्टर चंद्रमोहन ठाकुर ने समस्त इच्छुक नागरिकों, समाजसेवियों से अनुरोध किया है कि अमरकंटक नर्मदा महोत्सव के सफल आयोजन हेतु सहयोग करें।

साँची में विश्व बौद्ध संग्रहालय और शिक्षण संस्थान की स्थापना होगी

भोपाल-कोलम्बो के बीच शुरू होगी सीधी विमान सेवा, आध्यात्म मंत्री शर्मा की श्रीलंका के विदेश मंत्री के साथ बैठक में निर्णय
अनुपपुर | 07-जनवरी-2020
   भोपाल से कोलम्बो (श्रीलंका) सीधी विमान सेवा शुरू की जाएगी। साँची में विश्व बौद्ध संग्रहालय और शिक्षण संस्थान की स्थापना का काम जल्द शुरू किया जाएगा। मध्यप्रदेश के आध्यात्म मंत्री पी.सी. शर्मा की कोलम्बो में श्रीलंका सरकार के विदेश मंत्री दिनेश गुणवर्धने के साथ 05 जनवरी को हुई बैठक में यह निर्णय लिए गए। बैठक में महाबोधि सोसायटी के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष भिक्खु वानगल उपतिस्स नायक थेरो और मध्यप्रदेश सरकार के अपर मुख्य सचिव मनोज श्रीवास्तव उपस्थित थे।
    बैठक में श्रीलंका के विदेश मंत्री गुणवर्धने ने कहा कि भारत सरकार द्वारा भोपाल से कोलम्बो विमान सेवा शुरू करने की पहल स्वागत योग्य है। उन्होंने कहा कि श्रीलंका सरकार कोलम्बो से भोपाल के लिये सीधी विमान सेवा शुरू करने के लिए तैयार है। श्रीलंका के विदेश मंत्री ने कहा कि श्रीलंका से लाखों यात्री भोपाल और साँची जाते हैं। भोपाल-कोलम्बो के बीच डायरेक्ट एयर कनेक्टिविटी से लाखों लोगों को लाभ होगा।
बैठक में आध्यात्म विभाग द्वारा साँची में विश्व बौद्ध संग्रहालय और शिक्षण संस्थान, भिच्छु प्रशिक्षण और बुद्धिस्ट चेन्टिंग सेंटर की स्थापना पर विस्तृत चर्चा हुई। विश्व बौद्ध संग्रहालय और शिक्षण संस्थान के प्रोजेक्ट को प्रस्तुत किया गया। बौद्ध संग्रहालय और शिक्षण संस्थान में बौद्ध दर्शन, बौद्ध विज्ञान, बौद्ध कला एवं संस्कृति और बौद्ध समारोह के साथ दुनिया के विभिन्न देशों में स्थित बौद्ध धर्म के तीर्थ, बौद्ध धर्म की परम्पराएं एवं बौद्ध धर्म को मानने वालों की जीवन और कला शैली को शामिल किया गया है। मंत्री शर्मा ने बताया है कि श्रीलंका के विदेश मंत्री गुणवर्धने ने प्रोजेक्ट को वित्तीय समर्थन देने की स्वीकृति प्रदान की है।

बाघ विहीन पन्ना टाइगर रिजर्व अब है 55 बाघों का घर “विशेष लेख”

अनुपपुर | 28-दिसम्बर-2019

 मध्यप्रदेश में पन्ना-हीरा के लिये विख्यात पन्ना जिले ने बाघ पुन: स्थापना के सफल 10 वर्ष पूरे कर बाघ संरक्षण के क्षेत्र में वैश्विक पहचान बनाई है। पिछले कुछ वर्षों में बाघविहीन हो चुका पन्ना टाइगर रिजर्व आज छोटे-बड़े मिलाकर कुल 55 बाघों का घर है। बाघ की अकेले रहने की प्रवृत्ति के कारण अब यह क्षेत्र भी बाघों के लिये छोटा पड़ने लगा है। कई देश अब पन्ना मॉडल का अध्ययन कर अपने देश में बाघ पुन: स्थापना का प्रयास कर रहे हैं।
    पन्ना के जंगलों में बाघ हुआ करते थे। इस वजह से वर्ष 1994 में टाइगर रिजर्व का दर्जा भी मिला था। फिर एक समय ऐसा भी आया, जब वर्ष 2009 में इस टाइगर रिजर्व में एक भी बाघ नहीं बचा। वन्य-प्राणी विशेषज्ञ और पन्ना के नागरिक यह स्थिति देख आश्चर्य चकित रह गए। मार्च-2009 में बाँधवगढ़ और कान्हा टाइगर रिजर्व से 2 बाघिन को पन्ना लाया गया। इन्हें टी-1 और टी-2 नाम दिया गया। इसके बाद 6 दिसम्बर को पेंच टाइगर रिजर्व से बाघ लाया गया, जिसका नामकरण टी-3 किया गया। इस बाघ का पन्ना टाइगर रिजर्व में मन नहीं लगा और वह वापस दक्षिण दिशा की ओर चल पड़ा। हर वक्त सतर्क पार्क प्रबंधन ने 19 दिन तक बड़ी कठिनाई और मशक्कत से इसका लगातार पीछा किया और 25 दिसम्बर को इसे बेहोश कर पुन: पार्क में ले आये।
टाइगर रिजर्व में वापस बाघ को लाने के लिये लगातार रोज मंथन और अनुसंधान होते रहे। इसके लिये वन विभाग ने लॉस्ट वाइल्डरनेस फाउण्डेशन से सम्पर्क किया। फाउण्डेशन ने सबसे पहले हताश और निराश हो चुके पार्क प्रबंधन को प्रोत्साहित किया। उन्हें प्रशिक्षण के साथ आगे आने वाली कठिन और लम्बी कार्य यात्रा के लिये तैयार किया।

कॉर्न फेस्टीवल में छिंदवाड़ा के विकास मॉडल का लेजर शो

अनुपपुर | 17-दिसम्बर-2019

कॉर्न फेस्टीवल छिंदवाड़ा में छिंदवाड़ा के विकास मॉडल का लेजर लाइट शो के माध्यम से प्रदर्शन किया गया। इस मौके पर मुख्यमंत्री कमलनाथ और सांसद नकुल नाथ ने दर्शक दीर्घा में पहुँचकर लोगों का अभिवादन स्वीकार किया और मुलाकात की।
स्काई लाइट लेजर शो के माध्यम से मुख्य मंत्री कमलनाथ द्वारा छिंदवाड़ा में कृषि, स्वास्थ्य, शिक्षा, रोजगार, सड़क, यातायात, सिंचाई, बिजली, औद्योगिक विकास आदि के लिये किये गये विकास कार्यों सहित सासंद नकुल नाथ द्वारा छिंदवाड़ा जिले के चहुंमुखी विकास के लिये किये जा रहे प्रयासों को लाईट एण्ड साउण्ड से प्रदर्शित किया गया। प्रदेश सरकार के सफलतापूर्वक एक वर्ष पूरा होने के अवसर पर छिंदवाड़ा मॉडल का आदर्श स्वरूप जनता के समक्ष प्रस्तुत किया गया। मुख्यमंत्री कमल नाथ और सांसद नकुल नाथ ने रिमोट से छिंदवाड़ा के विकास की रंग-बिरंगी लाईट वाली पतंग मुक्त आकाश में उड़ाई।

नगर निगम आयुक्त और सीएमओ फील्ड में रहेंगे सुबह 6 से 9 बजे तक

अनुपपुर | 25-अक्तूबर-2019

स्वच्छ सर्वेक्षण-2020 के कार्यों को तत्परता से करवाने के लिये प्रमुख सचिव नगरीय विकास एवं आवास संजय दुबे ने सभी नगर निगम आयुक्तों और मुख्य नगरपालिका अधिकारियों को सुबह 6 से 9 बजे तक फील्ड में रहने के निर्देश दिये हैं। दुबे ने कहा है कि सभी कचरा संग्रहण वाहन निर्धारित रूट पर समय पर जायें और वाहन में हेल्पर भी रहें।
संजय दुबे ने कहा कि अधिकारी हर दिन किसी एक रूट में घर-घर कचरा वाहन पहुँचने और कचरा संग्रहण की व्यवस्था देखेंगे। भ्रमण के दौरान स्थानीय रहवासियों और जन-प्रतिनिधियों से कचरा बाहर नहीं फेंकने और गाड़ियों में गीला-सूखा कचरा अलग-अलग देने के संबंध में चर्चा भी करें। इसके साथ ही, नागरिकों से जल-प्रदाय, सीवेज, हरियाली, सड़कों आदि के संबंध में जानकारी लेकर उनकी समस्याओं का त्वरित निराकरण करवायें। सप्ताह में एक दिन प्र-संस्करण या निपटान स्थल का निरीक्षण कर संबंधितों को जरूरी निर्देश और मार्गदर्शन देंगे।

व्यावसायिक क्षेत्रों में रात्रिकालीन सफाई

    प्रमुख सचिव दुबे ने कहा है कि व्यावसायिक क्षेत्रों में चल रही रात्रिकालीन सफाई व्यवस्था की सतत मॉनीटरिंग करें। भ्रमण के दौरान यह सुनिश्चित करें कि सभी सफाई मित्र निर्धारित स्थल पर सुबह 7 बजे से कार्य प्रारंभ कर दें। सघन आबादी वाले क्षेत्रों, व्यावसायिक क्षेत्रों, धार्मिक महत्व के क्षेत्रों और प्रमुख चौराहों का साप्ताहिक पर्यवेक्षण करें। नगर में खुले में शौच के संभावित स्थलों और सार्वजनिक शौचालयों का निरीक्षण कर ओडीएफ प्लस के मानदण्डों का क्रियान्वयन सुनिश्चित करें।
संजय दुबे ने कहा है कि यह सभी कार्य स्वच्छ सर्वेक्षण-2020 के मानदण्डों के अनुसार निकाय की उच्च रैंकिंग के लिये जरूरी हैं। उन्होंने कहा है कि निर्देशों की अवहेलना होने पर संबंधित के विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही की जायेगी।

राज्य स्तरीय अभियोजन संवर्धन कार्यशाला सम्पन्न

अनुपपुर | 22-अक्तूबर-2019

नवनियुक्त संचालक लोक अभियोजन/महानिदेशक (पुलिस) पुरूषोत्तम शर्मा द्वारा लोक अभियोजन संचालनालय, पुलिस हाउसिंग कॉर्पोरेशन भोपाल में 19 अक्टूबर को एक दिवसीय राज्य स्तरीय अभियोजन संवर्धन कार्यशाला सम्पन्न हुई, जिसमें राज्य के समस्त जिले के उपसंचालक अभियोजन एवं जिला अभियोजन अधिकारियों ने भाग लिया। जिला अनूपपुर से प्रभारी उप संचालक एवं जिला अभियोजन अधिकारी रामनरेश गिरि बैठक में सम्मिलित हुए।
हाल ही में राज्य शासन ने पुरूषोत्तम शर्मा को लोक अभियोजन संचालक के पद पर पदस्थ किया है उनके द्वारा राज्य के सभी जिलों के जिला अभियोजन अधिकारियों के साथ प्रथम बैठक की, उनके द्वारा राज्य के समस्त जिलों में किये गये अभियोजन कार्यों की समीक्षा की गई, जिलों में दोषसिद्धि बढ़ाने के लिये आवश्यक दिशा-निर्देश दिए गए, उन्होंने लोक अभियोजन में अधिक प्रगति एवं कार्य दक्षता संवर्धन हेतु संभाग स्तरीय प्रशिक्षण आयोजित किये जाने के आदेश दिये, अभियोजन को अधिक से अधिक सुलभ एवं सरल बनाने के लिये विटनेस हैल्प डेस्क (साक्षी सहायता केन्द्र) को अधिक उन्नत बनाने के लिये आधुनिक तकनीकी से जोड़ने की बात करते हुए प्रदेश के समस्त जिलों के उप संचालकों को आईपेड प्रदान करने का आदेश जारी किया, अगले 15 दिवस में समस्त नोडल अधिकारी विटनेस हैल्प डेस्क (साक्षी सहायता केन्द्र प्रभारी) को प्रदाय कर दिए जाएंगे।

पटवारी रमेश सिंह निलंबित

अनुपपुर | 15-अक्तूबर-2019

अनुविभागीय अधिकारी(राजस्व) अनुभाग जैतहरी ने तहसील जैतहरी अंतर्गत पटवारी हल्का मौहरी में पदस्थ पटवारी रमेश सिंह को हल्का में लगातार अनुपस्थित रहने के कारण म.प्र. सिविल सेवा(वर्गीकरण, नियंत्रण तथा अपील) नियम 1966 के नियम 09 के अंतर्गत प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है।

प्रदेश को कुपोषण मुक्त बनाने लोगों की मानसिकता बदलना जरूरी

अनुपपुर | 01 अक्टूबर -2019

महिला-बाल विकास मंत्री इमरती देवी ने कहा है कि प्रदेश को कुपोषण मुक्त बनाने के लिये लोगों की मानसिकता को बदलना होगा। महिलाओं एवं परिवार के अन्य सदस्यों को पोषण तथा स्वास्थ्य संबंधी महत्वपूर्ण विषयों के मामले में जागरूक करना अत्यन्त आवश्यक है। इमरती देवी भोपाल में महात्मा गाँधी सेवा आश्रम, डब्ल्यू.एच.एच. द्वारा आयोजित राज्य-स्तरीय पोषण समृद्ध गाँव सम्मेलन को संबोधित कर रही थीं। मंत्री इमरती देवी ने इस मौके पर ‘‘म.प्र. में आँगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा पोषण शिक्षा’’ पुस्तक का विमोचन किया।
मंत्री इमरती देवी ने कहा कि आँगनबाड़ी कार्यकर्ता एक महत्वपूण कड़ी है, जो घर-घर जाकर महिलाओं और परिवारों को पोषण की शिक्षा देती है। उन्होंने निर्देश दिये कि गाँवों में कैम्प लगाकर कुपोषित बच्चों का परीक्षण कराया जाये। बच्चों को पोषण तत्वों के महत्व, दैनिक जीवन में उनके उपयोग की जानकारी आदि चित्रों और नुक्कड नाटकों के माध्यम से दें।

कलेक्टर चन्द्रमोहन ठाकुर ने पोलियो की 2 बूँद पिलाकर सघन मिशन इंद्रधनुष अभियान की शुरूआत की

अनुपपुर | 24-सितम्बर-2019

प्रदेश में 23 सितम्बर से 5 अक्टूबर 2019 तक मिशन इन्द्रधनुष प्रथम चरण का आयोजन किया जाना हैं। इस दौरान 0 से 2 वर्ष के बच्चों एवं गर्भवती माताओं का सम्पूर्ण टीकाकरण किया जायेगा।
राज्य शासन के निर्देशानुसार 23 सितम्बर से एक सप्ताह तक चलने वाले विशेष टीकाकरण अभियान मिशन इंद्रधनुष सघन टीकारकरण सुदृढ़ीकरण पहल की शुरूआत ग्राम जमुडी के आंगनबाडी केन्द्र में सिप्तेन्द्र पिता शहजाद उम्र 3 माह को कलेक्टर चन्द्रमोहन ठाकुर ने 2 बूंद पोलियो की दवा पिलाकर की। इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.बी.डी.सोनवानी, जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ एस.बी.चौधरी बेलिया द्वारा बच्चों को पोलियो की बूस्टर डोज पिलाया गया ।
टीकाकरण से बाल मृत्यू दर एवं मातृ मृत्यू दर में लाई जा सकती है कमी
कलेक्टर चन्द्रमोहन ठाकुर ने कहा कि सघन टीकारकरण सुदृढ़ीकरण पहल मिशन इंद्रधनुष सरकार की उच्च प्राथमिकता वाला कार्यक्रम है। जिसका उद्देश्य ऐसे बच्चे एवं गर्भवती मातायें जो किन्हीं कारणों से टीकाकरण की सम्पूर्ण खुराक पाने से बंचित रह जाते हैं तथा विभिन्न बीमारियों से असमय ग्रसित हो जाते है जाते है और कभी-कभी उनकी मृत्यु भी हो जाती है। उन बच्चों एवं गर्भवती माताओं को चिन्हित कर टीकाकरण के माध्यम से बीमारियों से निजात दिलाकर सुखद भविष्य की कल्पना को साकार करना है। श्री ठाकुर ने इस अवसर पर सभी जनप्रतिनिधियों, समाजसेवी लोगों तथा समाज के प्रबुद्ध लोगों, मीडिया से जुडे लोगों से शासन कि इस महत्वाकांक्षी मिशन से जुडकर लक्षित शत्-प्रतिशत बच्चों का टीकाकरण कराने तथा जनजागरूकता के माध्यम से अभिभावकों को प्रेरित करने की समझाईश दी।
मिशन इंद्रधनुष के प्रयास में बने सहभागी
सघन टीकारकरण सुदृढ़ीकरण पहल मिशन इंद्रधनुष का संचालन शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में ऐसे स्थानों पर किया जा रहा है, जहां किन्हीं कारणों से जन्म से 02 वर्ष तक के बच्चे एवं गर्भवती माताएं टीकाकरण की सम्पूर्ण खुराक पाने से वंचित रह जाते हैं। बच्चे राष्ट्र के भविष्य होते हैं। इन्हीं के कंधों पर देश का भविष्य निर्भर करता है। शासन द्वार बच्चों के सम्पूर्ण स्वास्थ्य को सुखद बनाने के उद्देश्य से मिशन इंद्रधनुष का संचालन किया जा रहा है। इन सबको शासन के इस प्रयास में सहभागी बनकर टीकाकरण से छूटे हुए बच्चों एवं गर्भवती माताओं की जानकारी संकलित कर टीकाकरण की जवाबदारी स्वास्थ्य विभाग के साथ मिलकर निभानी चाहिए। उक्ताशय का विचार मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.बी.डी.सोनवानी ने शुभारंभ के अवसर पर व्यक्त किये ।
बीमारियों से बचाते हैं टीके
डॉ.बी.डी.सोनवानी ने बताया की इंद्रधनुष के 07 रंगों की तरह बच्चों को 7 प्रकार के टीके लगाएं जाते हैं, जो उन्हें 7 जानलेवा बीमारियों से बचाते हैं। ये टीके स्वास्थ्य केन्द्रों में निःशुल्क लगाए जाते हैं। श्री श्रीवास्तव ने बताया कि जिले में जन्म से 02 वर्ष तक के वे बच्चे एवं गर्भवती माताओं को जिन्हें किन्हीं कारणों से टीकाकरण की सम्पूर्ण खुराक नहीं मिल पाई है। उनके टीकाकरण हेतु आज 23 सितम्बर से 05 अक्टूबर 2019 तक जिले के 129 उपस्वास्थ्य केन्द्र के अन्तर्गत 441 चिन्हित ग्रामों में अभियान के तहत टीकाकरण किया जा रहा है। कार्यक्रम मे स्वास्थ्य विभाग एवं महिला बाल विकास विभाग के कार्यकर्ता एवं काफी संख्या में ग्रामवासी उपस्थित थे।

राजस्व अधिकारियों की समीक्षा बैठक 23 सितम्बर को

अनुपपुर | 17-सितम्बर-2019

सोमवार 23 सितम्बर को समय-सीमा बैठक के उपरांत राजस्व अधिकारियों की समीक्षा बैठक का आयोजन किया गया है। इस बैठक में प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना, सीएम हेल्पलाईन, लोक सेवाओं के गारंटी अधिनियम के तहत समय-सीमा के बाहर प्रकरण, आरसीएमएस के प्रकरण, वसूली, कमिश्नर के समय-सीमा के लंबित पत्रों के प्रतिवेदन की जानकारी, भू-अर्जन प्रकरणों की समीक्षा की जाएगी। कलेक्टर श्री चंद्रमोहन ठाकुर ने जिले के समस्त अनुविभागीय अधिकारियों, तहसीलदारों, नायब तहसीलदारों, अधीक्षक भू-अभिलेख, प्रबंधक लोकसेवा, प्रबंधक ई-गवर्नेंस को 15 सितम्बर 2019 की स्थिति में 18 सितम्बर तक संबंधित जानकारी हार्डकापी व साफटकापी में उपलब्ध कराने तथा सभी राजस्व अधिकारियों को निर्धारित अवधि में बैठक में आवश्यक जानकारी के साथ उपस्थित होने के निर्देश दिए हैं।

इंडस्ट्रियल पॉवर और गैर घरेलू परिसरों में विद्युत लोड सर्वे का विशेष अभियान

अनुपपुर | 06-सितम्बर-2019

मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के प्रबंध संचालक श्री विशेष गढ़पाले ने कहा कि है कि कंपनी द्वारा 10 सितम्बर तक गैर घरेलू परिसर और इंडस्ट्रियल पॉवर परिसरों में लोड सर्वे का विशेष अभियान चलाया जा रहा है। उन्होंने मैदानी अधिकारियों से कहा कि वे सभी व्यवसायिक परिसरों और इंडस्ट्रियल पॉवर परिसरों जैसे आटा चक्की और ऑयल मिल आदि का सर्वे कर वास्तविक लोड के आधार पर लोड स्वीकृत करें। इससे उपभोक्ता को पर्याप्त वोल्टेज पर बिजली और कंपनी को सही राजस्व मिल सकेगा।
श्री गढ़पाले ने मैदानी अधिकारियों को निर्देशित किया कि बिजली की हर यूनिट की गणना, बिलिंग और राजस्व संग्रहण प्रभावी ढंग से करें। विशेष अभियान में करीब एक हजार 500 से अधिक गैर घरेलू परिसरों के लोड में वृद्धि की गई है। इसी प्रकार करीब 150 से अधिक इंडस्ट्रियल पॉवर उपभोक्ताओं के परिसरों के लोड में भी वृद्धि की गई है।
प्रबंध संचालक ने खराब तथा जले ट्रांसफार्मर क्षेत्रीय भण्डार में वापस करने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि समय-सीमा में ट्रांसफार्मर नहीं लौटाने पर संबंधित अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी। जहां बार-बार वितरण ट्रांसफार्मर फेल होते हैं, उन स्थानों को चिन्हित कर तकनीकी खामियों को दूर किया जाए। नल-जल योजना के ए.एम.आर. मीटर समय सीमा में स्थापित करें और इनका भौतिक सत्यापन भी करें।
प्रबंध संचालक ने कृषि पम्पों पर भार वृद्धि के लिए सर्वे करने के निर्देश दिए हैं ताकि रबी सीजन में किसानों को पर्याप्त वोल्टेज पर बिजली आपूर्ति सुनिश्चित की जा सके। रबी सीजन का लोड आने के पहले पात्रता वाले सभी खराब तथा जले हुए ट्रांसफार्मर एक सप्ताह में बदल दें। उन्होंने कहा कि इंदिरा गृह ज्योति योजना के विस्तार के निर्णय के बाद जुड़ने वाले नए हितग्राहियों को समुचित लाभ दिलाना सुनिश्चित करें। प्रबंध संचालक ने सभी अधिकारियों को अस्थायी कनेक्शन आसानी से उपलब्ध कराने के निर्देश भी दिए।
शिकायतों का विश्लेषण
मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के प्रबंध संचालक ने कहा कि अगर शहरी और अर्धशहरी क्षेत्रों में किसी उपभोक्ता की लगातार शिकायतें आती है, तो ऐसी शिकायत का विश्लेषण करें। उन्होंने कहा कि क्षेत्रवार भी शिकायतों के विश्लेषण की जरूरत है ताकि उपभोक्ता शिकायतों को कम किया जा सके।

राष्ट्रीय पोषण माह के रूप में मनाया जायेगा सितम्बर माह

अनुपपुर | 31-अगस्त-2019

प्रदेश में राष्ट्रीय पोषण अभियान में इस वर्ष भी सितंबर माह राष्ट्रीय पोषण माह के रूप में मनाया जायेगा। 1 से 30 सितम्बर तक मनाये जाने वाले पोषण माह की टैग लाईन “हर घर पोषण का त्यौहार” रखी गयी है। पूरे माह राज्य, जिला, विकासखण्ड और आँगनवाड़ी स्तर पर पोषण जागरूकता एवं इसे जन-आंदोलन का रूप देने विभिन्न कार्यक्रम होंगे।
राष्ट्रीय पोषण माह का मुख्य उद्देश्य स्वास्थ्य एवं पोषण आवश्यकता के प्रति जागरूकता, गर्भावस्था जाँच और पोषण देखभाल, शीघ्र स्तनपान व्यवहार, सही समय पर ऊपरी आहार और निरन्तरता आदि पर प्रचार-प्रसार कर समुदाय को जागरूक करना है। इसके अतिरिक्त एनीमिया या शरीर में खून की कमी को दूर करने के लिये आयरन सेवन एवं खाद्य विविधता संबंधित उपायों तथा पाँच वर्ष तक के बच्चों की शारीरिक वृद्धि निगरानी, किशोरी-शिक्षा, पोषण शिक्षा का अधिकार, सही उम्र में विवाह, सफाई और स्वच्छता की गतिविधियों के माध्यम से पोषण विषय को जन-आन्दोलन का रूप देना है।
पोषण माह के सफल आयोजन में महिला-बाल विकास विभाग के साथ-साथ नगरीय प्रशासन एवं विकास, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, स्कूल शिक्षा, खाद्य-नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन, उच्च शिक्षा, दूरदर्शन एवं रेडियो, आकाशवाणी तथा डेव्हलपमेंट पार्टनर्स (यूनिसेफ, जीआईजेड डब्ल्यू. डब्ल्यू. एच CHAI, पीरामल फाउन्डेशन, एन.आई. ACF, न्यूट्रीशन बोर्ड, ल्यूपिन) आदि सहभागी होंगे।
पोषण माह में होने वाली सभी गतिविधियों की जानकारी केन्द्र सरकार के पोर्टल पर अपडेट की जाएगी तथा वेबसाइट के माध्यम से इसकी रोजाना समीक्षा भी होगी।

 

एकलव्य आवासीय विद्यालयों में होगी स्मार्ट क्लास

अनुपपुर | 23-अगस्त-2019

  प्रदेश में आदिवासी विद्यार्थियों के लिये चलाये जा रहे 33 एकलव्य आवासीय विद्यालयों में स्मार्ट क्लास शुरू करने की मंजूरी दी गई है। आदिम जाति कल्याण विभाग ने प्रत्येक एकलव्य विद्यालय में 22 लाख रुपये लागत के आई.सी.टी. सेंटर स्वीकृत किये हैं।
एकलव्य आवासीय विद्यालयों में कम्प्यूटर लैब एवं स्मार्ट क्लास बनाई जा रही है। इसमें वेब कैमरा, प्रोजेक्टर, साउण्ड-प्रूफ ब्लैक बोर्ड आदि लगाये जा रहे हैं। स्मार्ट क्लास शुरू होने से प्रदेश भर में 9 हजार 500 विद्यार्थियों को फायदा होगा। इन विद्यालयों में आधुनिक शिक्षण सुविधाएँ और इंटरनेट कनेक्टिविटी दी जा रही है। इस परियोजना के लिये 7 करोड़ 26 लाख रूपये मंजूर किये गये हैं।

ऑनलाइन मिलेगी पोस्ट-मेट्रिक छात्रवृत्ति

    आदिम-जाति कल्याण विभाग ने पोस्ट-मेट्रिक छात्रवृत्ति के लिये ऑनलाईन सुविधा मुहैया कराई है। इसके अंतर्गत छात्रवृत्ति स्वीकृत और वितरण करने की पूरी व्यवस्था पारदर्शी होगी। इसमें पेपरलेस वर्क होगा और स्व-सत्यापित प्रक्रिया लागू होगी। ऑनलाइन व्यवस्था से अभी तक 27 हजार आदिवासी विद्यार्थियों को लगभग 21 करोड़ रुपये पोस्ट-मेट्रिक छात्रवृत्ति वितरित की गई है।

चार जिलों में इस वर्ष 2000 हेक्टेयर में काजू की खेती

अनुपपुर | 09-अगस्त-2019

    प्रदेश में इस वर्ष चार जिलों बैतूल, सिवनी, बालाघाट एवं छिन्दवाड़ा में 2000 हेक्टेयर क्षेत्र में काजू की खेती की जायेगी। बैतूल प्रदेश का पहला जिला है, जहाँ वर्ष 2018 से काजू की व्यवसायिक खेती प्रारंभ की गई है। उद्यानिकी विभाग ने बैतूल जिले में क्रियान्वित उद्यानिकी प्लान के मुताबिक सिवनी, बालाघाट और छिन्दवाड़ा में काजू को प्रमुख फसल के रूप में शामिल किया है।
उद्यानिकी विभाग के अधिकारियों को हाल ही में कर्नाटक राज्य के उडुपी में काजू की खेती के लिए तीन दिवसीय राष्ट्रीय प्रशिक्षण दिलवाया गया। प्रशिक्षण में चारों  जिले के उद्यानिकी अधिकारी शामिल हुए। देश के काजू उत्पादक अन्य 8 राज्यों के 51 उद्यानिकी एवं कृषि विभाग के अधिकारी भी प्रशिक्षण में शामिल हुए।