Friday, August 23News That Matters

डिंडोरी

Share

कलेक्टर श्री बी. कार्तिकेयन ने केन्द्रीय विद्यालय में ध्वजारोहण किया 

डिंडोरी | 16-अगस्त-2019

 कलेक्टर श्री बी. कार्तिकेयन ने राष्ट्रीय पर्व 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर केन्द्रीय विद्यालय डिण्डौरी में राष्ट्रीय ध्वज फहराया और राष्ट्रगान गाया गया। इस अवसर पर शिक्षक-शिक्षिकाएं सहित गणमान्य नागरिक एवं छात्र-छात्राए मौजूद थे। इस अवसर पर केन्द्रीय विद्यालय में छात्र-छात्राओं के द्वारा देशभक्ति एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए।

स्वच्छता अभियान के लिए लोक कलाकारों से 08 अगस्त तक आवेदन आमंत्रित 

डिंडोरी | 06-अगस्त-2019

 कलेक्टर श्री बी. कार्तिकेयन के निर्देशन में स्वच्छ भारत अभियान (ग्रामीण) के अंतर्गत सभी घरों में शौचालयों की उपलब्धता एवं उसके उपयोग द्वारा खुले में शौच से मुक्त (ग्रामीण) समुदाय बनाने का अभियान चलाया जायेगा। इस अवसर पर जिले में स्वच्छता अभियान के अंतर्गत समुदाय में सूचनाएं, शिक्षा व संचार की विविध गतिविधियां आयोजित करने के लिए लोकचित्र से स्वच्छता संवाद अभियान अगस्त माह से 2 अक्टूबर तक संचालित किया जायेगा। इसके लिए लोक चित्रकार जिला पंचायत कार्यालय डिण्डौरी में 08 अगस्त तक आवेदन प्रस्तुत कर सकेंगे।

 

बच्चों के अधिकारों के लिए उनकी सुरक्षा बहुत जरूरी- मंत्री श्रीमती इमरती देवी

यूनिसेफ और महिला-बाल विकास की तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला शुरू

डिंडोरी | 26-जुलाई-2019

 बच्चों के अधिकारों के लिए उनकी सुरक्षा करना बहुत जरूरी है। यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि कोई भी बच्चा सामाजिक सुरक्षा और  सुरक्षा तंत्र से न छूटे। महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती इमरती देवी ने आज होटल पलाश में तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला को संबोधित करते हुए यह बात कही। श्रीमती इमरती देवी ने कहा कि 18 वर्ष के पहले अगर लडकी की शादी की जाती है, तो उसका जीवन गंभीर परिस्थिति में पहुँच जाता है। कम उम्र में गर्भवती होने से बच्चियों में कुपोषण को बढ़ावा मिलता है। उन्होंने कहा कि हमारी कोशिश होनी चाहिए कि बहुत छोटी उम्र में आश्रम में आने वाले अनाथ बच्चों को जल्द ही उनके परिवार से मिलायें। यूनिसेफ के श्री माइकल जुमा ने कहा कि यह हमारी प्रतिबद्धता है कि बच्चों के अधिकार सुरक्षित रहें। उन्होंने कहा कि भारत में बच्चों के अधिकार सुरक्षित करने के लिए कानून और योजनाएँ बनाई गई हैं। इन पर अमल करना न सिर्फ महत्वपूर्ण है बल्कि जिले और ब्लाक स्तर पर भी सभी अधिकारियों को इसके लिए काम करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा यूनिसेफ और महिला-बाल विकास प्रदेश में बच्चों के खिलाफ बढ़ रही हिंसा को रोकने और बच्चों को सुरक्षित माहौल देने के लिये काम कर रहे हैं। श्री जुमा ने कहा कि हमारी जिम्मेदारी है कि समुदाय और तंत्र को कानूनी प्रावधानों के प्रति जागरूक करें। उन्होंने बताया कि बाल-विवाह को रोकने के लिए महिला-बाल विकास विभाग और यूनिसेफ मिलकर कार्य-योजना तैयार कर रहे हैं, जिसमें सभी विभागों की भागीदारी सुनिश्चित की जायेगी। प्रमुख सचिव महिला-बाल विकास श्री अनुपम राजन ने कहा कि बच्चों को उनके अधिकार नहीं मिलना भी हिंसा की एक श्रेणी हैं और व्यवस्था से जुड़े सभी लोग इसके लिए जिम्मेदार होते हैं। उन्होंने कहा कि हमारी सफलता इसमें है कि हमारे झूला घरों में एक भी बच्चा न हो, सभी को पूरा परिवार मिले। श्री राजन ने कहा कि बच्चों के समग्र विकास और उन्हें सशक्त तथा जिम्मेदार नागरिक बनाने के लिए सक्षम और सुरक्षात्मक वातावरण बनाने की जिम्मेदारी हम सबकी है। आयुक्त महिला-बाल विकास श्री एम.बी. ओझा ने कहा कि बाल संरक्षण के कार्य का ज्ञान होना आवश्यक है। सिर्फ निरीक्षण से सफलता हासिल नहीं होगी। कार्य की बेहतर मॉनिटरिंग से ही हमें परिणाम हासिल होंगे। विसंगतियों और लैंगिक अपराधों की रोकथाम के लिए यह कार्यशाला सहायक सिद्ध होगी। यूनिसेफ के बाल सुरक्षा विशेषज्ञ श्री लोलीचेन पी.जे. ने कहा कि कार्यशाला में विभाग और यूनिसेफ मिलकर बाल संरक्षण कानूनों के तकनीकी जानकारी साझा करेगी। प्रशिक्षण कार्यशाला में आईसीपीएस, पोक्सो और जे.जे अधिनियम की जानकारी दी जाएगी। प्रशिक्षण में भोपाल, नर्मदापुरम्, रीवा, शहडोल, भिंड और मुरैना जिले के अधिकारी शामिल हैं। इसके बाद ऐसी कार्यशाला इंदौर, उज्जैन और सागर में भी होगी।

मुख्यमंत्री श्री नाथ द्वारा श्रीमती शीला दीक्षित के निधन पर शोक व्यक्त 

डिंडोरी | 23-जुलाई-2019

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने नई दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस की मूर्धन्य नेता श्रीमती शीला दीक्षित के निधन पर शोक व्यक्त किया है। श्री कमल नाथ ने शोक संदेश में कहा कि नागरिक सुविधाओं की दृष्टि से नई दिल्ली का कायाकल्प करने में श्रीमती शीला दीक्षित के योगदान को हमेशा याद रखा जाएगा। मुख्यमंत्री श्री नाथ ने कहा कि नागरिक मुद्दों के प्रति संवेदनशील श्रीमती दीक्षित गांधीवादी दर्शन और सिद्धांतों पर आधारित राजनीति की पक्षधर थी। वे संगठन क्षमता में पूर्ण दक्ष थीं। उन्होंने लंबे समय तक कांग्रेस पार्टी की सेवा करते हुए विकास के लिए प्रतिबद्ध राजनीति की। मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की शांति और शोकाकुल परिजनों को यह दु:ख सहने की शक्ति देने की ईश्वर से प्रार्थना की है।

 

इंजीनियर प्रशांत ने पथरीली जमीन पर की फायदेमंद खेती 

डिंडोरी | 12-जुलाई-2019

युवा इंजीनियर प्रशांत सोनी ने पथरीली जमीन पर एलोवेरा और नीबू की फायदेमंद खेती से तीन गुना आमदनी की मिसाल कायम की है। कटनी जिले में रीठी विकासखण्ड के ग्राम मुरावल निवासी इस इंजीनियर को उद्यानिकी विभाग के विशेषज्ञों ने हर कदम पर मार्गदर्शन दिया। प्रशान्त के पास गाँव में लगभग 8 एकड़ पैतृक पथरीली जमीन है। इस पर लम्बे समय से खेती नहीं हो पा रही थी। प्रशांत ने परम्परागत खेती की लीक से हटकर उद्यानिकी फसल लेने का मन बनाया। उद्यानिकी विभाग के विशेषज्ञों  की सलाह पर प्रशांत ने पथरीली जमीन में सिंचाई के लिये बोरिंग कराकर स्प्रिंकलर सेट लगाये। खेत के 3 एकड़ में एलोवेरा के 38 हजार पौधे और 3 एकड़ में 1100 नीबू के पौधे लगाए। एलोवेरा से 72 टन उत्पादन की संभावना है। प्रशान्त ने लखनऊ की आयुर्वेद औषधि निर्माता कम्पनी से 6 से 10 रुपये प्रति किलो ग्राम की दर से एलोवेरा बेचने का करारनामा भी कर लिया है। नीबू की फसल से अगले साल से उत्पादन शुरू होगा। प्रशान्त का मानना है कि उद्यानिकी और कृषि अर्न्तवर्ती फसलों से हमेशा अच्छी आमदनी होती है। इसमें जोखिम भी बहुत कम रहता है।

मत्स्याखेट 16 जून से 15 अगस्त तक प्रतिबंधित 

डिंडोरी | 06-जून-2019      प्रदेश में 16 जून से 15 अगस्त 2019 तक मत्स्याखेट प्रतिबंधित रहेगा। संचालक मत्स्योद्योग द्वारा मत्स्य प्रजनन काल को देखते हुए नदीय मत्स्योद्योग नियम के तहत यह आदेश जारी किया गया है। आदेश में स्पष्ट किया गया है कि छोटे तालाब अथवा अन्य स्त्रोत जिनका कोई संबंध किसी नदी से नहीं है और जिन्हें निर्दिष्ट जल की परिभाषा में नहीं लिया गया है।