Tuesday, October 15News That Matters

डिंडोरी

Share

15 हजार की सहायता राशि स्वीकृत

डिंडोरी | 11-अक्तूबर-2019

कलेक्टर श्री बी. कार्तिकेयन ने मृतक कालूराम पिता श्री प्रेमलाल निवासी़ ग्राम-समनपुरा तहसील शहपुरा, जिला डिण्डौरी की 23 अगस्त 2019 को सडक दुर्घटना में मृत्यु हो जाने के कारण मृतक के निकटतम वारसान पत्नि श्रीमति मंतो बाई को 15 हजार रूपए की आर्थिक अनुदान सहायता राशि की स्वीकृति प्रदान की है।

डिण्डौरी के खिलाड़ी राज्य स्तरीय खेल प्रतियोगिता इंदौर में दिखायेंगे अपने-अपने जौहर ’’खुशियों की दास्तान’’

डिंडोरी | 05-अक्तूबर-2019

प्रदेश शासन के मंत्री श्री ओमकार सिंह मरकाम आदिम जाति कल्याण विमुक्त घुमक्कड एवं अर्धघुमक्कड जनजाति कार्यविभाग ने गुरूवार को डिण्डौरी जिले के कबड्डी खिलाडी पुरूष एवं बालिका को राज्य स्तरीय सीनियर कबड्डी खेल प्रतियोगिता इंदौर में भाग लेने के लिए बहुत-बहुत शुभकामनाएं दी है। मंत्री श्री मरकाम ने कहा कि प्रदेश सरकार के द्वारा प्रदेश में युवा खिलाडियों को खेल प्रतियोगिता के लिए लगातार प्रोत्साहित किया जा रहा है। डिण्डौरी जिले की खेल प्रतिभाओं को इससे आगे बढने का अवसर मिलेगा। मंत्री श्री मरकाम ने कहा कि उन्हें बहुत प्रसन्नता हो रही है कि डिण्डौरी जिले में खेल प्रतियोगिता का आयोजन कर खिलाडियों को आगे बढने के लिए प्रेरित किया जाता है और गांव-गांव खेल में खिलाडियों का चयन कर उन्हें राष्ट्रीय एवं राज्य स्तरीय खेल प्रतियोगिताओं में भेजा जा रहा है। इस अवसर पर जिला कबड्डी संघ के अध्यक्ष श्री राधेलाल नागवंशी, मो. जावेद खान, श्री गोकुल सिंह तेकाम, श्री कोमल सिंह मरकाम, मो. शरीफ खान, श्री रमाकांत साहू, श्री अयोध्या प्रसाद बिसेन, श्री संदीप सिंह मरकाम, श्री ललित बनावल, श्री चेतराम अहिरवार, श्री खेमकरण सिंह उपस्थित थे। डिण्डौरी जिले के कबड्डी खिलाडी पुरूष एवं बालिका राज्य स्तरीय खेल प्रतियोगिता इंदौर में जाकर भाग लेंगे। जिसमें पुरूष खिलाडी विजय पाल, अमरलाल, संतोष यादव, हेमंत पुषाम, लारेन्द्र बर्मन, प्रदीप मरावी, देवेन्द्र आर्मो, लालसिंह आर्मो, शिवकुमार मरावी, निरंजन कुमार, प्रदीप कुमार, चेतराम वालरे, बालिका कबड्डी खिलाडी में सोना परस्ते, स्नेहा मरावी, देविका बर्मन, मोनिका मरावी, रीता सरौते, शिवकुमारी मरावी, संजना मार्को, साक्षी मरावी, गरिमा बैरागी, अंजनी परस्ते, अंजली आर्मो, वर्षा पाण्डेय इत्यादि कबड्डी खिलाडी राज्य स्तरीय प्रतियोगिता इंदौर में जाकर कबड्डी खेलकर जिले का नाम रोशन करेंगे।
जिला क्रीडा सचिव श्री चेतराम अहिरवार ने बताया कि 10 अक्टूबर से 13 अक्टूबर तक राज्य स्तरीय सीनियर कबड्डी खेल प्रतियोगिता का आयोजन इंदौर में किया जा रहा है। आयोजित कबड्डी खेल प्रतियोगिता में डिण्डौरी जिले के खिलाडियों को इंदौर ले जाया जायेगा। राज्य स्तरीय सीनियर कबड्डी खेल प्रतियोगिता इंदौर में अपने खेल का जौहर दिखाने के लिए सभी खिलाडी बहुत उत्सुक हैं। जिले में क्रीडा सचिव ने बताया कि खेल प्रशिक्षण के माध्यम से ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र के बालक एवं बालिकाओं को खिलाडी के रूप में तैयार किया जाता है। जिससे डिण्डौरी जिले के खिलाडी राष्ट्रीय एवं राज्य स्तरीय खेलों में जिले का नाम रोशन कर सकें। जिला कबड्डी संघ के अध्यक्ष श्री राधेलाल नागवंशी ने बताया कि राज्य स्तरीय सीनियर कबड्डी खेल प्रतियोगिता इंदौर में आयोजित की जा रही है। इस प्रतियोगिता के लिए जिले के ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र के कबडडी खिलाडियों का चयन किया गया है। जिला कबड्डी संघ डिण्डौरी के द्वारा जिले में बालक एवं बालिकाओं के लिए खेल प्रतियोगिता आयोजित कर उन्हें राज्य एवं राष्ट्रीय स्तर के खेल में भाग लेने के लिए प्रशिक्षण देकर तैयार किया जाता है। जिला कबड्डी संघ के अध्यक्ष श्री नागवंशी ने बताया कि डिण्डौरी जिले के खिलाडी खेल प्रतियोगिता के माध्यम से अपना सुनहरा भविष्य बना सकते हैं।

वरिष्ठ केन्द्रीय निर्वाचन उपायुक्त ने की मतदाता सत्यापन कार्यक्रम की समीक्षा

डिंडोरी | 27-सितम्बर-2019

वरिष्ठ केन्द्रीय निर्वाचन उपायुक्त श्री संदीप सक्सेना ने यहाँ निर्वाचन भवन में मतदाता सत्यापन कार्यक्रम की समीक्षा की। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री व्ही.एल. कान्ताराव सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी इस अवसर पर उपस्थित थे। उपायुक्त श्री सक्सेना ने कहा कि मतदाता सत्यापन कार्यक्रम को विशेष एप से कराये जाने का मुख्य उद्देश्य यह है कि मतदाता स्वयं अपनी जानकारी अद्यतन करें ताकि मतदाता सूची में गलती की गुंजाइश न रहे। फिलहाल यह कार्य बीएलओ द्वारा घर-घर जाकर किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि लक्ष्य यह है कि निकट भविष्य में आधार कार्ड की तरह व्यक्ति स्वयं ऑनलाईन जाकर मतदाता सूची में अपनी जानकारी अद्यतन करे। श्री सक्सेना ने कहा कि मतदाता सूची को सुधारने के लिए चुनाव आयोग प्रतिबद्ध है। जनता को अच्छी से अच्छी सुविधाएँ देना है ताकि निष्पक्ष एवं निर्बाध मतदान कराया जा सके। उन्होंने मतदाता सूची से मृतकों के नाम हटाने पर विशेष ध्यान देने को कहा। साथ ही सुझाव दिया कि श्मशान घाट/शांति स्थल से इस डेटा को आसानी से प्राप्त किया जा सकता है। श्री सक्सेना ने कहा कि जिस तरह पुलिस हेल्पलाईन नम्बर लोगों को याद है, उसी तरह 1950 नम्बर भी लोगों को याद होना चाहिए। मतदाता सत्यापन कार्यक्रम को स्थानीय निकायों की सहायता से भी आसानी से किया जा सकता है। उन्होंने मतदान केन्द्रों का युक्तियुक्त करण करने की बात कही ताकि कम श्रम में बेहतर प्रबंधन हो सके। उपायुक्त श्री सक्सेना एवं प्रबंधक आईटी, केन्द्रीय चुनाव आयोग श्री व्ही.एन. शुक्ला ने भोपाल जिले का भ्रमण कर मतदाता सत्यापन कार्य का निरीक्षण किया। श्री व्ही.एन. शुक्ला ने एप से जुड़ी तकनीकी जानकारी देते हुए कहा कि बीएलओ को प्रशिक्षण के दौरान ऐप के संबंध में सम्पूर्ण जानकारी विस्तार से दी जाये। उन्होंने बताया कि एक सितम्बर से अभी तक एप के चार वर्जन आ चुके हैं, जिनके बारे में बीएलओ पूरी तरह से अवगत नहीं हैं। वरिष्ठ केन्द्रीय निर्वाचन उपायुक्त ने कहा कि बीएलओ का मानदेय तभी दिया जाए, जब वे अपना लक्ष्य पूरा करें। बीएलओ को मतदाता सत्यापन कार्यक्रम के एप के सम्बन्ध में प्रशिक्षण दिया जाये ताकि काम समय सीमा में पूरा हो। बीएलओ की निर्भरता को कम करने के लिये एप का उपयोग किया जा रहा है। बीएलओ को मतदाता का सत्यापन, मतदाता का परिवार बनाना, परिवार के प्रत्येक सदस्य की जानकारी का सत्यापन करना है। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री व्ही.एल. कान्ताराव ने मतदाता सत्यापन की जानकारी देते हुए बताया कि सभी राज्यों में मध्यप्रदेश पाँचवे स्थान पर है। सत्यापन का कार्य बारिश की वजह से थोड़ा धीमी गति से हुआ। मौसम खुलते ही कार्य गति पकडे़गा और सत्यापन समय सीमा में पूरा किया जायेगा। उन्होंने बताया कि प्रदेश में मतदाताओं के ब्लैक एण्ड व्हाइट फोटो को नवीन रंगीन फोटो में भी परिवर्तित करने का कार्य भी चल रहा है। उल्लेखनीय है कि भारत निर्वाचन आयोग ने एक सितम्बर को मतदाता सत्यापन कार्यक्रम प्रारंभ किया था। इसके तहत समस्त मतदाताओं की मतदाता सूची में दर्ज जानकारी का सत्यापन किया जायेगा। इसके लिये भारत निर्वाचन आयोग द्वारा नेशनल वोटर सर्विस पोर्टल (एन.व्ही.एस.पी.) पर मतदाताओं को सुविधा उपलब्ध करायी गयी है। इसके साथ ही, मतदाताओं को वोटर हेल्पलाईन मोबाईल एप की सुविधा भी दी गयी है। इस एप में एक क्लिक पर ही त्रुटि का सुधार हो जाता है। मतदाता सत्यापन कार्य 15 अक्टूबर तक पूरा किया जाना है। मतदाताओं द्वारा उनके विधानसभा क्षेत्र के मतदाता सहायता केन्द्र पर अथवा 1950 से भी यह सुविधा प्राप्त की जा सकती है।

19 सितम्बर तक जिले में हुई वर्षा की जानकारी

डिंडोरी | 20-सितम्बर-2019

अधीक्षक भू-अभिलेख डिण्डौरी से प्राप्त जानकारी के मुताबिक 19 सितम्बर 2019 की स्थिति में जिले की औसत वर्षा 1161.4 मिमी है। इसी प्रकार से 01 जून 2019 से 19 सितम्बर 2019 तक डिण्डौरी जिले के विकासखण्डों में हुई वर्षा की स्थिति में डिण्डौरी में 1312.0, अमरपुर में 1242.0, समनापुर में 1295.0, बजाग में 1208.8, करंजिया में 1036.3, शहपुरा में 1134.8 और मेंहदवानी में 901.3 वर्षा दर्ज की गई है। इस प्रकार से जिले की कुल वर्षा 8130.2 मिमी दर्ज हुई है।

15 हजार की सहायता राशि स्वीकृत

डिंडोरी | 14-सितम्बर-2019

कलेक्टर श्री बी. कार्तिकेयन ने मृतक श्री पंकज किशोर झारिया पिता श्री प्रकाश कुमार झारिया ग्राम-अमठेरा तहसील शहपुरा, जिला डिण्डौरी की 29 मई 2019 को सडक दुर्घटना में मृत्यु हो जाने के कारण मृतक निकटतम वारिस श्री प्रकाश कुमार झारिया को 15 हजार रूपए की आर्थिक अनुदान सहायता राशि की स्वीकृति प्रदान की है।

नरबदिया बाई के हाथ नहीं है फिर तैयार कर ली किस्मत की लकीरें ’’खुशियों की दास्तान’’

डिंडोरी | 31-अगस्त-2019

डिण्डौरी जिले के ग्राम खन्नात की रहने वाली नरबदिया बाई के पास हाथ नहीं है फिर भी वह अपनी मेहनत से किस्मत की लकीरें तैयार कर कामयाबी हासिल कर ली है। नरबदिया बाई के हाथ नहीं होने पर वह जबडे में ’’पेंटिंग ब्रष’’ दबाकर चित्रकारी का काम करती है। उसके द्वारा बनाई गई पेंटिंग दुर्लभ एव परम्परागत कला को प्रदर्षित करती है। पेंटिंग देखने वाला प्रशंसा किये बिना नहीं रह सकता है। नरबदिया बाई के हाथ नहीं होने के बावजूद भी वह भरण-पोषण के लिए अपने परिवार पर निर्भर नहीं है। नरबदिया बाई ने हाथ नहीं होने पर कभी अपने किस्मत को नहीं कोसा बल्कि कुछ अलग करने की ठानी। नरबदिया बाई घर का अधिकांश काम मुह में सामान दबाकर ही कर लेती है, फिर उसने कुछ अलग करने की सोची। वह मुंह में ’’पेंटिंग ब्रश’’ दबाकर चित्रकारी करने लगी, लगातार अभ्यास से वह धीरे-धीरे बेहतर और लुभावने चित्र बनाने लगी। नरबदिया बाई के द्वारा बनाये जाने वाले चित्रों की चर्चा धीरे-धीरे जिले में होने लगी। उसने अपने चित्रों को और भी बेहतर ढंग से बनाने के लिए आजीविका परियोजना से प्रशिक्षण लिया। इसके बाद नरबदिया बाई ने कोरे कागजों में रंग भरना प्रारम्भ किया तो उन कोरे कागजों ने नरबदिया बाई के जीवन को रंगीन बना दिया। आजीविका परियोजना के प्रबंधक ने बताया कि नरबदिया बाई के द्वारा बनाई गई पेंटिंग 500 रूपए से लेकर 1000 रूपए तक की कीमत में बिकती है। आजीविका परियोजना द्वारा 9 अगस्त 2019 को उत्कृष्ट विद्यालय मैदान में आयोजित विश्व आदिवासी दिवस के कार्यक्रम में नरबदिया बाई के द्वारा बनाई गई पेंटिंग को बेचने के लिए स्टॉल लगाया गया था। इस अवसर पर विधायक श्री भूपेन्द्र सिंह मरावी और कलेक्टर श्री बी. कार्तिकेयन ने नरबदिया बाई के द्वारा बनाई गई पेंटिंग खरीदी। आजीविका परियोजना के द्वारा बताया गया कि आयोजित कार्यक्रम में 16 हजार रूपए की पेंटिंग बेची गई। कलेक्टर श्री बी. कार्तिकेयन ने नरबदिया बाई के चित्रकला की जमकर प्रसंशा करते हुए उनकी हरसंभव मदद करने की बात कही है।

प्रदेश की महिलाओं ने पंजाब के किसानों को सिखाए जैविक-खेती के गुर 

डिंडोरी | 27-अगस्त-2019

मध्यप्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के स्व-सहायतों समूहों में प्रशिक्षित महिलाएँ पंजाब सहित अन्य राज्यों के किसानों को भी जैविक खेती के गुर सिखा रही हैं। मिशन द्वारा स्व-सहायता समूहों की 5 हजार महिलाओं को जैविक खेती और पशु-पालन की नवीन तकनीकी सिखाई गई है। इन्हें समूह में सामूदायिक स्त्रोत व्यक्ति के रूप में चिन्हित किया गया हैं। आम बोल-चाल की भाषा में इन्हे ष्कृषि-सखीष् कहा जाता है। पिछले जुलाई – अगस्त माह में 20 कृषि-सखियों ने पंजाब के 4 जिलों में किसानों को प्रशिक्षण दिया। उन्होंने भू-नाडेप, वर्मीपिट, मृदा परीक्षण, बीज चयन, बीज श्रेणीकरण, फसल चक्र आदि के बारे में समझाया। परम्परागत सामग्री और तकनीकों के विषय में भी वहाँ के किसानों को बताया। कृषि सखियों ने किसानों को उनके गाँव में रहकर ही प्रयोग भी करके दिखाए। सीधी जिले की कृषि सखी  लक्ष्मी ताम्रकार,  विमलेश यादव,  ललिता साहू,  पूजा रजक एवं रीवा जिले की  निर्मला दुबे ने पंजाब के गुरदासपुर जिले का भ्रमण किया। अनुपपुर जिले की  चंपा सिंह,  राधा सिंह,  यशोदा धनवार,  इंद्रवती और शहडोल जिले की ज्ञानवती यादव ने पंजाब के फिरोजपुर जिले का, पन्ना जिले की  तुलसी विश्वास,  ऋतु अहिरवार, शिवपुरी जिले से  ऊषा परिहार,  सरोज कुशवाह और शहडोल जिले की रेखा पटेल ने पंजाब के पटियाला जिले का तथा शहडोल जिले की  रूही बेगम,  ललिता पनिका,  माया पटेल,  पुष्पा कचेर,  गीता केवट ने पंजाब के संगरूर जिले के किसानों को जैविक खेती की पद्धति से परिचित कराया।

कलेक्टर श्री बी. कार्तिकेयन ने केन्द्रीय विद्यालय में ध्वजारोहण किया 

डिंडोरी | 16-अगस्त-2019

 कलेक्टर श्री बी. कार्तिकेयन ने राष्ट्रीय पर्व 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर केन्द्रीय विद्यालय डिण्डौरी में राष्ट्रीय ध्वज फहराया और राष्ट्रगान गाया गया। इस अवसर पर शिक्षक-शिक्षिकाएं सहित गणमान्य नागरिक एवं छात्र-छात्राए मौजूद थे। इस अवसर पर केन्द्रीय विद्यालय में छात्र-छात्राओं के द्वारा देशभक्ति एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए।

स्वच्छता अभियान के लिए लोक कलाकारों से 08 अगस्त तक आवेदन आमंत्रित 

डिंडोरी | 06-अगस्त-2019

 कलेक्टर श्री बी. कार्तिकेयन के निर्देशन में स्वच्छ भारत अभियान (ग्रामीण) के अंतर्गत सभी घरों में शौचालयों की उपलब्धता एवं उसके उपयोग द्वारा खुले में शौच से मुक्त (ग्रामीण) समुदाय बनाने का अभियान चलाया जायेगा। इस अवसर पर जिले में स्वच्छता अभियान के अंतर्गत समुदाय में सूचनाएं, शिक्षा व संचार की विविध गतिविधियां आयोजित करने के लिए लोकचित्र से स्वच्छता संवाद अभियान अगस्त माह से 2 अक्टूबर तक संचालित किया जायेगा। इसके लिए लोक चित्रकार जिला पंचायत कार्यालय डिण्डौरी में 08 अगस्त तक आवेदन प्रस्तुत कर सकेंगे।

 

बच्चों के अधिकारों के लिए उनकी सुरक्षा बहुत जरूरी- मंत्री श्रीमती इमरती देवी

यूनिसेफ और महिला-बाल विकास की तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला शुरू

डिंडोरी | 26-जुलाई-2019

 बच्चों के अधिकारों के लिए उनकी सुरक्षा करना बहुत जरूरी है। यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि कोई भी बच्चा सामाजिक सुरक्षा और  सुरक्षा तंत्र से न छूटे। महिला-बाल विकास मंत्री श्रीमती इमरती देवी ने आज होटल पलाश में तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला को संबोधित करते हुए यह बात कही। श्रीमती इमरती देवी ने कहा कि 18 वर्ष के पहले अगर लडकी की शादी की जाती है, तो उसका जीवन गंभीर परिस्थिति में पहुँच जाता है। कम उम्र में गर्भवती होने से बच्चियों में कुपोषण को बढ़ावा मिलता है। उन्होंने कहा कि हमारी कोशिश होनी चाहिए कि बहुत छोटी उम्र में आश्रम में आने वाले अनाथ बच्चों को जल्द ही उनके परिवार से मिलायें। यूनिसेफ के श्री माइकल जुमा ने कहा कि यह हमारी प्रतिबद्धता है कि बच्चों के अधिकार सुरक्षित रहें। उन्होंने कहा कि भारत में बच्चों के अधिकार सुरक्षित करने के लिए कानून और योजनाएँ बनाई गई हैं। इन पर अमल करना न सिर्फ महत्वपूर्ण है बल्कि जिले और ब्लाक स्तर पर भी सभी अधिकारियों को इसके लिए काम करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा यूनिसेफ और महिला-बाल विकास प्रदेश में बच्चों के खिलाफ बढ़ रही हिंसा को रोकने और बच्चों को सुरक्षित माहौल देने के लिये काम कर रहे हैं। श्री जुमा ने कहा कि हमारी जिम्मेदारी है कि समुदाय और तंत्र को कानूनी प्रावधानों के प्रति जागरूक करें। उन्होंने बताया कि बाल-विवाह को रोकने के लिए महिला-बाल विकास विभाग और यूनिसेफ मिलकर कार्य-योजना तैयार कर रहे हैं, जिसमें सभी विभागों की भागीदारी सुनिश्चित की जायेगी। प्रमुख सचिव महिला-बाल विकास श्री अनुपम राजन ने कहा कि बच्चों को उनके अधिकार नहीं मिलना भी हिंसा की एक श्रेणी हैं और व्यवस्था से जुड़े सभी लोग इसके लिए जिम्मेदार होते हैं। उन्होंने कहा कि हमारी सफलता इसमें है कि हमारे झूला घरों में एक भी बच्चा न हो, सभी को पूरा परिवार मिले। श्री राजन ने कहा कि बच्चों के समग्र विकास और उन्हें सशक्त तथा जिम्मेदार नागरिक बनाने के लिए सक्षम और सुरक्षात्मक वातावरण बनाने की जिम्मेदारी हम सबकी है। आयुक्त महिला-बाल विकास श्री एम.बी. ओझा ने कहा कि बाल संरक्षण के कार्य का ज्ञान होना आवश्यक है। सिर्फ निरीक्षण से सफलता हासिल नहीं होगी। कार्य की बेहतर मॉनिटरिंग से ही हमें परिणाम हासिल होंगे। विसंगतियों और लैंगिक अपराधों की रोकथाम के लिए यह कार्यशाला सहायक सिद्ध होगी। यूनिसेफ के बाल सुरक्षा विशेषज्ञ श्री लोलीचेन पी.जे. ने कहा कि कार्यशाला में विभाग और यूनिसेफ मिलकर बाल संरक्षण कानूनों के तकनीकी जानकारी साझा करेगी। प्रशिक्षण कार्यशाला में आईसीपीएस, पोक्सो और जे.जे अधिनियम की जानकारी दी जाएगी। प्रशिक्षण में भोपाल, नर्मदापुरम्, रीवा, शहडोल, भिंड और मुरैना जिले के अधिकारी शामिल हैं। इसके बाद ऐसी कार्यशाला इंदौर, उज्जैन और सागर में भी होगी।

मुख्यमंत्री श्री नाथ द्वारा श्रीमती शीला दीक्षित के निधन पर शोक व्यक्त 

डिंडोरी | 23-जुलाई-2019

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने नई दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस की मूर्धन्य नेता श्रीमती शीला दीक्षित के निधन पर शोक व्यक्त किया है। श्री कमल नाथ ने शोक संदेश में कहा कि नागरिक सुविधाओं की दृष्टि से नई दिल्ली का कायाकल्प करने में श्रीमती शीला दीक्षित के योगदान को हमेशा याद रखा जाएगा। मुख्यमंत्री श्री नाथ ने कहा कि नागरिक मुद्दों के प्रति संवेदनशील श्रीमती दीक्षित गांधीवादी दर्शन और सिद्धांतों पर आधारित राजनीति की पक्षधर थी। वे संगठन क्षमता में पूर्ण दक्ष थीं। उन्होंने लंबे समय तक कांग्रेस पार्टी की सेवा करते हुए विकास के लिए प्रतिबद्ध राजनीति की। मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की शांति और शोकाकुल परिजनों को यह दु:ख सहने की शक्ति देने की ईश्वर से प्रार्थना की है।

 

इंजीनियर प्रशांत ने पथरीली जमीन पर की फायदेमंद खेती 

डिंडोरी | 12-जुलाई-2019

युवा इंजीनियर प्रशांत सोनी ने पथरीली जमीन पर एलोवेरा और नीबू की फायदेमंद खेती से तीन गुना आमदनी की मिसाल कायम की है। कटनी जिले में रीठी विकासखण्ड के ग्राम मुरावल निवासी इस इंजीनियर को उद्यानिकी विभाग के विशेषज्ञों ने हर कदम पर मार्गदर्शन दिया। प्रशान्त के पास गाँव में लगभग 8 एकड़ पैतृक पथरीली जमीन है। इस पर लम्बे समय से खेती नहीं हो पा रही थी। प्रशांत ने परम्परागत खेती की लीक से हटकर उद्यानिकी फसल लेने का मन बनाया। उद्यानिकी विभाग के विशेषज्ञों  की सलाह पर प्रशांत ने पथरीली जमीन में सिंचाई के लिये बोरिंग कराकर स्प्रिंकलर सेट लगाये। खेत के 3 एकड़ में एलोवेरा के 38 हजार पौधे और 3 एकड़ में 1100 नीबू के पौधे लगाए। एलोवेरा से 72 टन उत्पादन की संभावना है। प्रशान्त ने लखनऊ की आयुर्वेद औषधि निर्माता कम्पनी से 6 से 10 रुपये प्रति किलो ग्राम की दर से एलोवेरा बेचने का करारनामा भी कर लिया है। नीबू की फसल से अगले साल से उत्पादन शुरू होगा। प्रशान्त का मानना है कि उद्यानिकी और कृषि अर्न्तवर्ती फसलों से हमेशा अच्छी आमदनी होती है। इसमें जोखिम भी बहुत कम रहता है।

मत्स्याखेट 16 जून से 15 अगस्त तक प्रतिबंधित 

डिंडोरी | 06-जून-2019      प्रदेश में 16 जून से 15 अगस्त 2019 तक मत्स्याखेट प्रतिबंधित रहेगा। संचालक मत्स्योद्योग द्वारा मत्स्य प्रजनन काल को देखते हुए नदीय मत्स्योद्योग नियम के तहत यह आदेश जारी किया गया है। आदेश में स्पष्ट किया गया है कि छोटे तालाब अथवा अन्य स्त्रोत जिनका कोई संबंध किसी नदी से नहीं है और जिन्हें निर्दिष्ट जल की परिभाषा में नहीं लिया गया है।