Friday, August 23News That Matters

पन्ना

Share

मुख्यमंत्री ने दी उपचार सहायता 

पन्ना | 09-अगस्त-2019

 मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ ने अपने स्वैच्छानुदान मद से एक जरूरतमंद को उपचार के लिए 25 हजार रूपये की सहायता राशि की स्वीकृति दी है। संयुक्त कलेक्टर पन्ना ने बताया है कि श्री गिरधारी लाल बिधौलिया निवासी ग्राम बडवारा तहसील देवेन्द्रनगर जिला पन्ना को उपचार के लिए 25 हजार रूपये की सहायता दी गयी है।

गरिमामय ढंग से हर्षोल्लास के साथ मनाया जाएगा स्वतंत्रता दिवस-कलेक्टर

अधिकारी सौंपे गए दायित्व के अनुसार तैयारियां प्रारंभ करें-कलेक्टर 

पन्ना | 30-जुलाई-2019

 कलेक्ट्रेट सभागार में कलेक्टर श्री कर्मवीर शर्मा की अध्यक्षता में स्वतंत्रता दिवस समारोह गरिमापूर्वक मनाए जाने के संबंध में बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में आयोजन के संबंध में विचार विमर्श कर विभिन्न निर्णय लिए गए। बैठक में कलेक्टर श्री शर्मा ने कहा कि स्वतंत्रता दिवस राष्ट्रीय गौरव का दिन है, यह पूरे जिले में गरिमा और उल्लास के साथ मनाया जायेगा। इस दिन पूरे जिले में आन-बान-शान से तिरंगा लहराएगा। मुख्य समारोह पुलिस परेड मैदान में आयोजित होगा। सभी अधिकारी सौपे गये दायित्व के अनुसार सभी तैयारियां करें। इसमें छोटी- छोटी बातों का भी पूरा ध्यान रखे। समारोह में लाउड स्पीकर तथा माइक्रोफोन की व्यवस्था अच्छी रखें। समारोह में आकर्षक परेड तथा रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति की पूरी तैयारी करें। जिले के साथ-साथ तहसील तथा ग्राम पंचायतों में भी समारोहपूर्वक स्वतंत्रता दिवस मनाएं। सभी प्राथमिक तथा माध्यमिक शालाओं में विशेष मध्यान्ह भोजन का आयोजन कराएं। कलेक्टर ने सभी शासकीय भवनों में स्वतंत्रता दिवस की रात में रोशनी की व्यवस्था करने के निर्देश दिए।

छात्रावासों में शिक्षा के साथ विद्यार्थियों का सर्वांगीण विकास हो-कलेक्टर 

उत्तीर्ण हो चुके विद्यार्थियों को छात्रावास में रूकने की अनुमति न दें-श्री शर्मा

पन्ना | 26-जुलाई-2019

 कलेक्टर श्री कर्मवीर शर्मा की अध्यक्षता में आदिम जाति/अनुसूचित जाति, पिछडा वर्ग एवं अल्प संख्यक कल्याण विभाग की योजनाओं की समीक्षा बैठक आयोजित की गयी। बैठक में उन्होंने निर्देश दिए कि छात्रावास में रहने वाले बच्चों की शिक्षा के साथ उनका सर्वांगीण विकास होना सुनिश्चित करें। छात्रावासों में रहकर जो विद्यार्थी निर्धारित कक्षाओं को उत्तीर्ण कर चुके हैं उन्हें छात्रावासों में अनाधिकृत रूप से रूकने की अनुमति नही दी जाए।
कलेक्टर ने बैठक में निर्देश दिए कि छात्रावास एवं आश्रमों के परिसर में अधीक्षक निवास निर्मित है उन निवासों में अनिवार्य रूप से अधीक्षक एवं अधीक्षिकाएं निवासरत होकर संस्थाओं एवं बच्चों की देखरेख करें। छात्रावास एवं आश्रमों में मैस व्यवस्था, साफ-सफाई, विद्यार्थियों की सुविधाओं पर ध्यान दें। जिला कार्यालय द्वारा संस्थाओं में सामग्री पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें। कन्या आश्रमों में किशोरी बालिकाओं का स्वास्थ्य परीक्षण प्रत्येक 3 माह में कराए जाने का रोस्टर निर्धारित कर एएनएम के माध्यम से स्वास्थ्य परीक्षण कराया जाना सुनिश्चित करें। यदि दिव्यांग विद्यार्थी हैं तो अधीक्षक बेसिक समस्याओं का निराकरण सुनिश्चित करें। छात्रावासों के लिए मिलने वाली कन्टनजेन्सी राशि का उपयोग छात्रावासों के सुधार पर व्यय करें। छात्रावासों की आवंटित भूमि का सीमांकन राजस्व अधिकारियों से कराकर अतिक्रमण होने से रोका जाना सुनिश्चित किया जाए। महाविद्यालयीन छात्रावासों में प्रवेशित विद्यार्थियों को शिक्षा एवं प्रतियोगी परीक्षाओं के प्रति रूझान विकसित करने के लिए केरियर काउंसिलिंग कराई जाए। छात्रावास आश्रमों में प्रवेशित बच्चों के शत प्रतिशत आधार कार्ड, समग्र आईडी, जाति प्रमाण पत्र तैयार कराकर हितग्राही प्रोफाइल में पंजीयन कराएं।

 

अब आसानी से बन सकेंगे जाति प्रमाण पत्र
जाति प्रमाण पत्र बनाने की प्रक्रिया का हुआ सरलीकरण

पन्ना | 23-जुलाई-2019

सामान्य प्रशासन विभाग के द्वारा अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजातियों, अन्य पिछडे वर्गो एंव विमुक्त घुमक्कड, अर्द्ध घुमक्कड जनजाति के व्यक्तियों को जाति प्रमाण पत्र जारी करने के संबंध में प्रक्रिया का सरलीकरण करते हुए निर्देश जारी किए गए हैं।
शासन के ध्यान में यह तथ्य लाया गया है कि राजस्व अधिकारियों द्वारा इन निर्देशों का समुचित रूप से पालन नही किया जा रहा है। अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के ऐसे व्यक्ति जिनके पास किसी कारणवश वर्ष 1950 की स्थिति में प्रदेश में निवासरत होने का लिखित रिकार्ड नही होने पर उनके जाति प्रमाण पत्र के आवेदनों को मौके पर जाकर जांच पडताल किए बिना ही निरस्त किया जा रहा है।
इस संबंध में संदर्भित परिपत्र दिनांक 13 जनवरी 2014 की कंडिका अनुसार आवेदक जिनके पास वर्ष 1950 (अन्य पिछडे वर्गो के लिए 1984) या उससे पहले से मध्यप्रदेश का निवासी होने संबंधी लिखित रिकार्ड नही है तो उसे यह लिखित रिकार्ड प्रस्तुत करने हेतु विवश न किया जाए। राजस्व अधिकारियों को स्वयं मौके पर जाकर/कैम्प में जांच कर आवेदन पत्र में उल्लेखित जानकारी की पुष्टि करना चाहिए। इसके लिए आवेदक/संबंधित सरपंच/पार्षद/ उस ग्राम, मोहल्ले के संभ्रांत व्यक्तियों से पूछताछ कर उनके बयान दर्ज किया जाना चाहिए और स्वयं की संतुष्टि के बाद स्थाई स्थाई जाति प्रमाण पत्र जारी करने की अनुशंसा करना चाहिए।
इसी अनुक्रम में परिपत्र दिनांक 11 अगस्त 2016 एवं 13 अगस्त 2018 द्वारा भी ऐसे नागरिक जिनके परिवार के किसी सदस्य पिता/भाई/बहन को पूर्व में अनुविभागीय अधिकारी राजस्व द्वारा जाति प्रमाण पत्र जारी किया गया है, उन प्रकरणों में छानबीन नही कर जाति प्रमाण पत्र जारी करने के निर्देश है क्योंकि आवेदक एवं उसके परिवार के संबंध में एक बार, छानबीन कर जाति एवं निवास की पुष्टि की जा चुकी है। शासन के इस निर्देशों का कडाई से पालन सुनिश्चित किया जाए।

राजस्व एवं पुलिस अधिकारियों की संयुक्त बैठक 12 को 

पन्ना | 12-जुलाई-2019

    अपर कलेक्टर श्री जे.पी. धुर्वे ने बताया है कि 12 जुलाई को प्रातः 10.30 बजे से दोपहर 12.30 बजे तक राजस्व एवं पुलिस अधिकारियों की संयुक्त समीक्षा बैठक कलेटर श्री कर्मवीर शर्मा की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित की गयी है। बैठक में जिले में कानून व्यवस्था की स्थिति, सीआरपीसी के अन्तर्गत आपराधिक प्रकरणों, जिले में आगामी त्यौहारों पर कानून एवं व्यवस्था, जिले में संभावित बाढ प्रभावित क्षेत्रों में राहत एवं बचाव कार्य हेतु अब तक की गयी कार्यवाही, पिछले चार माह के दौरान राजस्व एवं पुलिस अधिकारियों के संयुक्त भ्रमण, आबकारी विभाग के प्रकरणो एवं खनिज विभाग के प्रकरणों पर समीक्षा की जाएगी। उन्होंने सभी संबंधितों से बैठक में उपस्थित रहने की अपेक्षा की है।

खेती करने के लिए ग्राम छापर में आते हैं लोग 

पन्ना | 06-जून-2019  कार्यपालन यंत्री लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी द्वारा बताया गया कि पन्ना विकासखण्ड की ग्राम पंचायत जनवार में ग्राम छापर एक बसाहट है। इस बसाहट में 3 हैण्डपम्प स्थापित हैं। एक हैण्डपम्प का जल स्तर समाप्त होने के कारण बंद है। शेष 2 हैण्डपम्पों में रूक-रूककर पानी आता है।
कार्यपालन यंत्री लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी द्वारा ग्राम छापर का अपने विभाग के सहायक यंत्री एवं उपयंत्री द्वारा भ्रमण किया गया। भ्रमण के दौरान ग्राम के लोगों से जानकारी प्राप्त हुई है कि खेती बाडी करने के उपरांत गर्मी के दिनों में ग्राम के लोग ककरहटी ग्राम पंचायत में बने अपने घरों में चले जाते हैं। इस ग्राम में केवल 10 से 12 घर हैं। वर्तमान में बस्ती में 3 लोग निवासरत हैं। कार्यपालन यंत्री द्वारा इस क्षेत्र में एक नवीन नलकूप खनन करने का आदेश भी जारी किया गया है।