Sunday, May 16News That Matters

मुरैना

Share
 

खरीदी केन्द्र स्थल बदला
मुरैना | 20-अप्रैल-2021

गेहूं खरीदी के नोडल अधिकारी एवं संयुक्त कलेक्टर ने जौरा तहसील की प्राथमिक कृषि साख सहमति परसोटा के खरीदी केन्द्र के स्थान में परिवर्तन किया है। अब यह नवीन केन्द्र कृषि उपज मंडी प्रांगण जौरा में बनाया है। इसके नोडल अधिकारी आरएईओ श्री एमके शुक्ला हैं, जिनका मोबाइल नंबर 9826767858 है।
मुरैना जिले में 9 मार्च तक 68 गेहूं खरीदी केंद्र निर्धारित किये गये हैं। कृषि एवं किसान कल्याण विभाग द्वारा आरएईओ को सर्वेयर के कार्य हेतु नियुक्त किया है। आरएईओ उपार्जन केन्द्रों पर प्रतिदिन प्रातः 8 बजे उपस्थित होकर तथा उपार्जन केन्द्र पर किसानों द्वारा विक्रय फसल की गुणवत्ता का परीक्षण करेंगे तथा एफएक्यू क्वालिटी की फसल हेतु टोकन जारी करवायेंगे। उपार्जन केन्द्रों पर प्रतिदिन तुलाई समाप्त होने तक स्थाई रूप से उपस्थित रहेंगे। किसी भी स्थिति में नॉन एफएक्यू का उपार्जन होने की दशा में समस्त उत्तरदायित्व नोडल एवं समिति प्रबंधक का रहेगा।
वैक्सीन वाले दिन कोविड का लक्ष्य पूर्ण नहीं हुआ तो वेतन नहीं दूंगा – कलेक्टर श्री कार्तिकेयन

4 बीएमओ सहित टी.बी. ऑफीसर का वेतन काटने के निर्देश
मुरैना | 13-अप्रैल-2021

      प्रदेश सरकार की मंशा है कि लोंगो को समय पर शतप्रतिशत कोविड वैक्सीन लगे, इसके लिये प्रत्येक सप्ताह में 4 दिन चिन्हित किये गये है। जिसमें सोमवार, बुधवार, गुरूवार और शनिवार निर्धारित किये है। इन दिनों में जिले से प्रत्येक सीएससी, पीएससी के लिये लक्ष्य निर्धारित किया जायेगा, उस लक्ष्य के अनुसार टीकाकरण उन व्यक्तियों के किया जाये, जो चिन्हित किये जा चुके है। जिस दिन लक्ष्य पूर्ण नहीं होगा, उस दिन का वेतन उस बीएमओ, सीडीपीओ, एएनएम, आशा कार्यकर्ता, सुपरवाइजर, ग्राम पंचायत सचिव, ग्राम रोजगार सहायक को नहीं दिया जायेगा। ये निर्देश कलेक्टर श्री बी. कार्तिकेयन ने नवीन कलेक्ट्रेट सभाकक्ष मुरैना में चल रही कोविड वैक्सीन समीक्षा के दौरान अधिकारियों को दिये। बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री रोशन कुमार सिंह, नगर निगम कमिश्नर श्री अमरसत्य गुप्ता, महिला बाल विकास, सीएमएचओ, सिविल सर्जन, सीडीपीओ एवं बीएमओ तथा वर्चुअल कॉन्फ्रेस के माध्यम से जिले के समस्त एसडीएम, सीएमओ एवं जनपद सीईओ जुड़े हुये थे।
कलेक्टर श्री बी. कार्तिकेयन ने कोविड वैक्सीन की समीक्षा। समीक्षा के दौरान जिले का वैक्सीनेशन के दिन वाला लक्ष्य पूर्ण नहीं हो पा रहा था। इस पर कलेक्टर ने नाराजगी व्यक्त करते हुये 20 मार्च शनिवार को 29 सेंटरों पर 8 हजार का लक्ष्य प्रदान किया और सोमवार के दिन 10 हजार का लक्ष्य सौंपा है। कलेक्टर ने टीकाकरण लक्ष्य के अनुसार न होने पर उन्होंने बीएमओ पहाडगढ़ क्लेन्द्र यादव का 15 दिवस का वेतन काटने तथा कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिये है। उन्होंने कहा कि फ्रंट लाइन वाले कर्मचारी जो कोविड में टीकाकरण का कार्य कर रहे है, वे अपने स्वास्थ्य कर्मी है, उन्हीं का दूसरा डोज नहीं लगवा पा रहे है। यह मात्र 55 प्रतिशत तक पहुंचा है। यह स्थिति मैं बर्दाश्त नहीं करूंगा। कलेक्टर ने बीएमओ कैलारस की समीक्षा की। जिसमें दूसरा डोज 92 प्रतिशत होना पाया। इस पर कलेक्टर ने कैलारस बीएमओ श्री मिश्रा की एक वेतनवृद्धि रोकने के निर्देश दिये। कलेक्टर ने बीएमओ जौरा की समीक्षा की। जिसमें दूसरा डोज मात्र 67 प्रतिशत होना पाया। इस पर कलेक्टर ने जौरा बीएमओ मनोज त्यागी को कारण बताओ नोटिस तथा बीएमओ खड़ियाहार द्वारा दूसरे डोज पर 97 लोंगो को वैक्सीन 28 दिन बाद नहीं लगाई गई। इस पर खड़ियाहार बीएमओ जेसी कारखर का एक दिन का वेतन काटने तथा कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिये।
समीक्षा बैठक में टी.बी. ऑफीसर डॉ. बीएल मौर्य बैठक से सूचना होने के बावजूद भी उपस्थित नहीं हुये। इस पर कलेक्टर ने एक दिन का वेतन काटने, कारण बताओ नोटिस तथा बगैर कलेक्टर की अनुमति के मार्च माह का वेतन जारी नहीं करने के निर्देश दिये। समीक्षा में कलेक्टर ने जिले के समस्त सीडीपीओ को निर्देश दिये है कि जिसको जो जिम्मेदारियां दी गई है, वे प्लानिंग के साथ तैयारी करें। जिसमें जिस व्यक्ति को टीकाकरण कराना है, उस व्यक्ति को पहले से ही सूचना कर दी जाये। इसकी सूची समस्त आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, आशा कार्यकर्ता, एएनएम, पंचायत सचिव एवं सीडीपीओ और ब्लॉक ऑफीसर पर होनी चाहिये। इसके बाद जिस दिन टीकाकरण होना है, उस दिन संबंधित पंचायतों के पंचायत सचिव उन चिन्हित व्यक्तियों को ट्रेक्टर या अन्य किसी वाहन से केन्द्र तक पहुंचाना सुनिश्चित करें। सीडीपीओ और बीएमओ की जिम्मेदारी यह होगी कि जो व्यक्ति केन्द्र पर पहुंच रहे है, उन्हें वैक्सीन लग जायें। ऐसा न हो कि वैक्सीन नहीं है या अन्य स्वास्थ्य कर्मी मौजूद नहीं है। इस प्रकार की गलती पाई गई तो उसकी खैर नहीं होगी।

शिवराज सिंह चौहान : जिनके हर कार्यकाल में मिला है विकास को नया आयाम “आलेख”

मुरैना | 05-मार्च-2021

    श्री शिवराज सिंह चौहान मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री के रूप में अलग पहचान स्थापित करने में सफल रहे हैं। उन्होंने इस पद की गरिमा को बढ़ाया है। आज अनेक योजनाओं के क्रियान्वयन में मध्यप्रदेश के अग्रणी रहने का श्रेय उन्हें दिया जा सकता है। वास्तविकता यह है कि मध्यप्रदेश और श्री शिवराज सिंह चौहान एक-दूसरे की पहचान बन गए हैं। मध्यप्रदेश के गठन के बाद जनता के कल्याण के लिए सबसे अधिक अवधि के मुख्यमंत्री ही नहीं जनता के मुख्यमंत्री के तौर पर श्री चौहान की छवि बनी है। उन्होंने हर कार्यकाल में यादगार कार्य किए हैं, जिनसे विकास के नए-नए आयाम सामने आए हैं।
मध्यप्रदेश में पिछले डेढ़ दशक से श्री चौहान सबसे अधिक लोकप्रिय राजनेता के रूप में जाने जाते हैं। इसके पीछे उनका कठोर परिश्रम, स्व-अनुशासन, परोपकार का भाव, करूणा से ओत-प्रोत व्यक्तित्व और राग-द्वेष के बिना हर तबके की भलाई के लिए तेजी से कार्य करने की विशिष्ट शैली प्रमुख है। उनका जन्म सीहोर जिले के ग्राम जैत में 5 मार्च 1959 को हुआ। नर्मदा मैया के किनारे गाँव होने से वे अच्छे तैराक भी बन गए। स्वामी विवेकानंद को आदर्श मानने के कारण खेलों में रूचि और स्वस्थ रहने के प्रति सजगता के कारण ऊर्जा से भरपूर भी रहे। कुछ वर्ष ग्राम में बचपन बिताने के बाद उच्चतर माध्यमिक शिक्षा के लिए भोपाल आ गए थे। यहाँ विद्यालय और महाविद्यालय में छात्र परिषद के पदाधिकारी भी बने। इसके पहले उनकी अपने गांव के मजदूरों को उचित मजदूरी दिलवाने के लिए चार मित्रों के साथ नारेबाजी और रैली से उनके सार्वजनिक जीवन की शुरूआत हो गई थी।

साहित्य अध्ययन

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने गीता, रामायण और धर्म-ग्रंथों के साथ ही राष्ट्र को स्वतंत्र कराने के लिए अपनी जान कुर्बान करने वाले शहीदों की जीवनियाँ पढ़ीं। युवावस्था में इस उत्कृष्ट साहित्य के पठन-पाठन से उनके लेखन और भाषण शैली का विकास हुआ। उन्होंने अपनी मौलिक चिंतन और कार्य-शैली भी विकसित की। आज भी वे प्रतिदिन एक घंटा साहित्य अध्ययन को देते हैं। उन्होंने अपने निवास में एक पुस्तकालय भी बनाया है।

कमिश्नर की अध्यक्षता में गूगल मीट का आयोजन आज

मुरैना | 26-फरवरी-2021

   मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा 13 मार्च 2021 को ली जाने वाली कलेक्टर्स, कमिश्नर्स, पुलिस अधीक्षक, पुलिस महानिरीक्षक वीडियो कॉन्फ्रेस की पूर्व तैयारियो की समीक्षा गूगल मीट के माध्यम से संभागायुक्त श्री अशीष सक्सेना की अध्यक्षता में 26 फरवरी को प्रातः 11 बजे से आयोजित की जावेगी।
कमिश्नर श्री आशीष सक्सेना ने मुरैना, भिण्ड, श्योपुर और दतिया के कलेक्टरों को गूगल मीट आयोजित करने के संबंध में निर्धारित एजेण्डा पर कार्यवाही करने के लिए सूचना पत्र जारी किया जा चुका है। गूगल मीट की बैठक के प्रथम घंटे मे जिलो की कानून व्यवस्था से संबंधित विषयों पर चर्चा की जावेगी। इसके बाद अन्य बिन्दुओ पर भी समीक्षा की जावेगी। गूगल मीट के लिए लिंक https://meet.google.com/nre-yqdj-kst  रहेगी।

मुरैना जिले में 122.01 लाख मानव दिवस सृजित किये

3 हजार 980 निर्माण कार्य पूर्ण
मुरैना | 19-फरवरी-2021

     जिले में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के तहत लेबर बजट लक्ष्य 108.62 लाख मानव दिवस के विरूद्ध 122.01 लाख मानव दिवस सृजित किये जा चुके है, जो कुल लेबर बजट का 112.32 प्रतिशत है।
जिले को वर्ष 2020-21 में 108.62 लाख मानव दिवस का भौतिक जक्ष्य एवं 36 हजार 460 लाख रूपये का वित्तीय लक्ष्य निर्धारित किया था, जिसके विरूद्ध 122.1 लाख मानव दिवस सृजित किये गये, जिस पर 36 हजार 450 लाख रूपये से अधिक का व्यय किया गया। जो लक्ष्य का 112 प्रतिशत तथा वित्तीय लक्ष्य की शतप्रतिशत उपलब्धी है।
चंबल संभाग के संयुक्त आयुक्त विकास श्री राजेन्द्र सिंह ने बताया कि योजना के अन्तर्गत 9 हजार 851 निर्माण कार्य स्वीकृत किये गये थे, जिनमें से अभी तक 3 हजार 980 निर्माण कार्य पूर्ण किये जा चुके है। शेष 5 हजार 871 निर्माण कार्य प्रगतिरत है।
श्री सिंह ने बताया कि मनरेगा के अन्तर्गत अम्बाह जनपद पंचायत में स्वीकृत 669 कार्यो में से 372 निर्माण कार्य पूर्ण किये गये है। जौरा जनपद पंचायत में 1 हजार 474 स्वीकृत निर्माण कार्यो में से 521, कैलारस जनपद पंचायत में 1 हजार 794 स्वीकृत निर्माण कार्यो में से 756, मुरैना जनपद पंचायत में स्वीकृत 1 हजार 205 निर्माण कार्यो में से 639, पहाडगढ़ जनपद पंचायत में 1 हजार 982 स्वीकृत निर्माण कार्यो में से 721, पोरसा जनपद पंचायत में 1 हजार 59 स्वीकृत निर्माण कार्यो में से 519 और सबलगढ़ जनपद पंचायत में 1 हजार 668 स्वीकृत निर्माण कार्यो में से 452 निर्माण कार्य पूर्ण किये गये है।

अम्बाह स्थित अवैध कॉलोनियां पर सड़कों का किया गया जमींदोज

मुरैना | 13-फरवरी-2021
    श्री बी. कार्तिकेयन के निर्देशन में एसडीएम अम्बाह श्री राजीव समाधिया ने अंबाह में अवैध कालोनियों पर कार्यवाही की है। गल्ला मंडी अंबाह के पीछे स्थित कालोनी पर एसडीएम के मार्गदर्शन में तहसीलदार राजकुमार नागोरिया एवं मुख्य नगरपालिका अधिकारी श्री रामनिवास शर्मा के द्वारा राजस्व अमला, नगर पालिका अमला, एवं पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचकर अवैध कॉलोनियों के विरुद्ध कार्यवाही की गई। यह अवैध कालोनिया तहसील अंबाह के भूमि सर्वे क्रमांक 1982 रकबा 0.387 खसरा नंबर 1983 रकबा 0.366 एवं खसरा नंबर 1973/3 रकबा 0.254हेक्टेयर में स्थित तीन कॉलोनीयां है। जिस पर हिटेची चलाकर अवैध सड़कों को तोड़कर नष्ट किया। एसडीएम ने बताया कि तीनों अवैध कॉलोनियों को 3 दिन पूर्व ही दस्तावेज प्रस्तुत करने की नोटिस दिए गए थे, समय सीमा में किसी की भी द्वारा कोई दस्तावेज प्रस्तुत नहीं किए गए, ना ही नोटिस का जवाब दिया गया। इस कारण से प्रशासन के द्वारा अवैध कालोनियों के ऊपर कार्यवाही की गई। जिसमें मौके पर बनी हुई सड़क को उखाड़ दिया गया एवं मौके पर अवैध कॉलोनी का चिन्हाकन किया गया।

प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना व लाड़ली लक्ष्मी योजना में लापरवाही बर्दाश्त नहीं – कलेक्टर

जिले के 12 सुपरवाइजरों को कारण बताओ नोटिस पहाडगढ़ सीडीपीओ सहित सभी सुपरवाइजरों का वेतन तत्काल रोका जाये
मुरैना | 05-फरवरी-2021

    प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना और लाड़ली लक्ष्मी योजना में स्थिति ठीक नहीं। जिले के सभी सीडीपीओ और 77 सुपरवाइजर यह सुनिश्चित करें कि योजनाओं में गति नहीं आई तो कारण बताओ नोटिस देने के बाद ऐसे कर्मचारियों को सेवा से बाहर किया जायेगा। जो योजना में गति नहीं ला पायेंगे। ये निर्देश कलेक्टर श्री बी. कार्तिकेयन ने गुरूवार को चल रही महिला एवं बाल विकास विभाग की समीक्षा बैठक के दौरान समस्त सीडीपीओ, सुपरवाइजरों को दिये। इस अवसर पर जिला महिला एवं बाल विकास अधिकारी श्रीमती उपासना राय, सहायक संचालक श्री अंभ, समस्त सीडीपीओ एवं सुपरवाइजर उपस्थित थे।
कलेक्टर श्री बी. कार्तिकेयन ने प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना की समीक्षा की, जिसमें कई सुपरवाइजरों द्वारा योजना में बहुत घटिया कार्य प्रदर्शित किया है। जिस पर उन्होंने 12 सुपरवाइजरों को कारण बताओ नोटिस और वेतन काटने के निर्देश दिये। जिसमें नूराबाद की ज्योति जैन का 3 दिवस का वेतन, कारण बताओ नोटिस, कल्पना श्रीवास्तव को नोटिस, पुष्पा शर्मा की एक वेतनवृद्धि रोकने, नोटिस, जयममिनी पेंकरा का 3 दिवस का वेतन, कारण बताओ नोटिस, शीतल को नोटिस, विमला राठौर का नोटिस, गीता माहौर को नोटिस, मधुवाला डंडोतिया का 15 दिवस का वेतन काटने एवं नोटिस, मधुवाला गोयल को नोटिस जारी करने के निर्देश दिये।
योजना में पहाडगढ़ विकासखण्ड की स्थिति बहुत खराब पाई गई, जिस पर कलेक्टर ने पहाडगढ़ सीडीपीओ श्रीमती उमा शर्मा की एक वेतनवृद्धि रोकने तथा सुषमा सुपरवाइजर को छोड़कर शेष सभी सुपरवाइजरों का वेतन रोकने के निर्देश दिये है।
कलेक्टर श्री बी. कार्तिकेयन ने लाड़ली लक्ष्मी योजना की समीक्षा की, जिसमें पहाडगढ़ ब्लॉक की स्थिति बहुत खराब पाई गई। उन्होंने नाराजगी व्यक्त की और डीपीओ को निर्देश दिये कि एक सहायक संचालक तथा अतिरिक्त सुपरवाइजर जिले में है, उन्हें पहाडगढ़ पदस्थ कर लक्ष्य को पूर्ण करायें। उन्होंने सुपरवाइजर मधुवाला गोयल को चेतावनी बतौर निर्देश दिये कि एक सप्ताह में प्रोग्रेस नहीं आई तो एक वेतनवृद्धि रोक दी जावेगी। उन्होंने कहा कि आंगनवाड़ी केन्द्र पर किसी भी प्रकार की कमियां पाई गई या गर्भवती महिलाओं के पंजीकरण संधारित रजिस्टर नहीं पाये गये तो कार्रवाही आंगनवाड़ी कार्यकर्ता पर नहीं, बल्कि सुपरवाइजरों पर होंगी। उन्होंने कहा कि जितनी भी महिलायें गर्भवती है, उनकी शतप्रतिशत डिलेवरी हो। ऐसा नहीं कि डिलेवरी 90 प्रतिशत हो रही है तो 10 प्रतिशत महिलायें कहां अवर्सन करा रहीं है। ऐसे स्थानों को खोंजो। वहां कानूनी कार्रवाही करें।

दिसम्बर माह का नसबंदी कैलेण्डर जारी

मुरैना | 04-दिसम्बर-2020
      मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. आरसी बांदिल ने बताया कि परिवार कल्याण कार्यक्रम के अन्तर्गत दिसम्बर 2020 में नसबंदी सेवा आवश्यकता की पूर्ति की जाने हेतु फिक्स डे सर्विस कैलेण्डर की नई कार्ययोजना निरंतर जारी रखने के लिये तिथि निर्धारित की गई है। जिसमें सोमवार के दिन सबलगढ़, जौरा, कैलारस में 7,14,21,28 दिसम्बर को, बुधवार को जौरा, कैलारस, सबलगढ़, पहाडगढ़ में 2,9,16,23,30 दिसम्बर को, गुरूवार को खडियाहार में 3,10,17,24,31 दिसम्बर को, नूरावाद में गुरूवार को 3, 10,17,24,31 दिसम्बर को, शुक्रवार को अम्बाह-पोरसा में 4,11,18,25, शनिवार को अंबाह,पोरसा, जौरा, सबलगढ़ में 5,12,19,26 दिसम्बर को नसबंदी की सुविधा रहेगी। डॉ. बांदिल ने बताया कि जिला चिकित्सालय मुरैना में नसबंदी कार्य संपादित प्रतिदिन डॉ. विक्रम सक्सैना, डॉ. प्रदीप मिश्रा कार्य करेंगे।

स्वच्छता सर्वे के तहत नगर निगम ने चलाया सफाई अभियान

मुरैना | 28-नवम्बर-2020

स्वच्छ सर्वेक्षण-2021 के अंतर्गत नगर निगम आयुक्त श्री अमरसत्य गुप्ता के आदेशानुसार शहर के प्रमुख चौराहों, सड़कों एवं डिवाइडों की सफाई का निरीक्षण किया। जिसमें नगर निगम आयुक्त, असिस्टेंट इंजीनियर, सब इंजीनियर और नगर पालिक निगम के स्वच्छता शाखा के अधिकारी उपस्थित थे।
संस्था कल्पतरू टीम मेंबरों व सहाय समूह की महिलाओं द्वारा प्रमुख चौराह कैंटीन चौराहा वार्ड नंबर 43 में वृक्षारोपण का कार्य किया गया एवं शहर को स्वच्छ बनाने हेतु नागरिकों द्वारा स्वच्छता शपथ ली। वार्ड नंबर 24 एवं 25 में कल्पतरू टीम मेंबर द्वारा स्वच्छता एप डाउनलोड करवाया गया एवं दो डस्टबिन के उपयोग हेतु जागरूकता अभियान चलाया गया।

राज्य ओपन अंतर्गत कक्षा 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं 14 दिसंबर से

मुरैना | 20-नवम्बर-2020
      म.प्र. राज्य मुक्त स्कूल शिक्षा बोर्ड, भोपाल के अंतर्गत राज्य ओपन की कक्षा 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं का टाईम टेबल जारी कर दिया है। जारी टाईम टेबल के अनुसार परीक्षाएं 14 दिसंबर से प्रारंभ होगी, जो 29 दिसंबर तक चलेगी। कक्षा 10वीं की परीक्षा का समय प्रातः 8 बजे से 11 बजे तथा कक्षा 12वीं की परीक्षा का समय दोपहर 2 बजे से शाम 5 बजे तक रहेगा।
बोर्ड के संचालक ने जारी विज्ञप्ति में बताया कि इस परीक्षा में 1 सितंबर से 28 फरवरी 2020 तक सामान्य योजना के तहत संपूर्ण परीक्षा के लिए आवेदन करने वाले नए विद्यार्थी एवं 20 अक्टूबर 2020 तक आवेदन करने वाले क्रेडिट एवं शेष अन्य योजना के विद्यार्थी ही सम्मिलित हो सकेंगे। ऐसे विद्यार्थी, जो प्रथमवार परीक्षा में सम्मिलित हो रहे है अथवा पूर्व परीक्षा में अनुपस्थित, अनुत्तीर्ण रहे है उनकी प्रयोगिक परीक्षाएं निर्धारित परीक्षा केंद्र पर ही आयोजित होगी।
आवश्यक होने पर परीक्षा तिथि एवं समय में परिवर्तन किया जा सकेगा, जिसकी सूचना मप्र राज्य मुक्त स्कूल शिक्षा बोर्ड की वेबसाईट www.mpsos.nic.in  एवं मोबाईल एप्प पर परीक्षा केंद्र पर उपलब्ध रहेगी। विद्यार्थी प्रवेश पत्र में अंकित निर्धारित परीक्षा केंद्र एवं विषय में ही परीक्षा में सम्मिलित हो सकेंगे। द्वितीय से नवम अवसर के परीक्षार्थियों के अनुक्रमांक पूर्ववत ही रहेंगे।

कर्फ्यू के दौरान दुकान खोलने पर 11 दुकानदारों के खिलाफ एफ.आई.आर. दर्ज

मुरैना | 17-जुलाई-2020

    कोरोना की बढ़ती संख्या को देखते हुये कलेक्टर श्रीमती प्रियंका दास ने नगर निगम क्षेत्र में कर्फ्यू 30 जून से लगाया है। कर्फ्यू के दौरान कोई भी दुकानदान अपनी दुकान या शॉप खोलता है तो उसके खिलाफ कार्रवाही करने के निर्देश दिये थे। कर्फ्यू के दौरान एसडीएम मुरैना शहर के 11 दुकानदार दुकान खोलते हुये पाया गया तो उनके खिलाफ एफ.आई.आर. दर्ज कराई जा चुकी है। जिसमें इमरान पुत्र इकबाल बेल्डिंग की दुकान, अन्नू पुत्र लेखराम बाथम टायर की दुकान, मुरारी लाल पुत्र गोपीराम कुशवाह पंचर की दुकान, नीसू गोयल पुत्र मुकेश गोयल कबाड़े की दुकान, शिवकुमार पुत्र मुन्नालाल मित्तल न्यू गजक नमकीन, विनीत गोयल पुत्र विपिन गोयल मोटरर्स, पंकज पुत्र रमेश पचौरी किराना, रामसेवक पुत्र पूजाराम गौड़ सायकिल की दुकान, कल्ला पुत्र लाल सिंह डीजे साउण्ड, राधा लाल कौरव मिल्क रिपेयरिंग और दीपू पुत्र बच्चन सिंह कंषाना नायक पुरा के खिलाफ दुकान खोलने पर एफ.आई.आर. दर्ज कराई है।

शाला प्रारंभ करने के संबंध में आमजन से सुझाव आमंत्रित

मुरैना | 19-जून-2020

      कोविड-19 के संक्रमण को ध्यान में रखते हुए केन्द्रीय गृह मंत्रालय एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी निर्देशानुसार समस्त शैक्षणिक संस्थाओं को मार्च 2020 से बंद कर दिया गया था। इस महामारी के नियंत्रण के पश्चात् शैक्षणिक संस्थाएँ पुन: प्रारंभ करने पर विचार किया जा रहा है।
स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा शाला प्रारंभ करने के लिये आमजन से सुझाव आमंत्रित किये गये हैं। सुझाव के लिये शिक्षा विभाग के एजुकेशन पोर्टल पर http://educationportal.mp.gov.in/feedback/public/RegisterUser-aspx  लिंक पर सत्र 2020-21 में शाला प्रारंभ करने के संबंध में जनसमुदाय (विद्यार्थी, अभिभावक, स्कूल प्रबंधन, एनजीओ, शिक्षाविद) अपने सुझाव दे सकते हैं। सुझाव देने के लिये अपना मोबाइल नम्बर फीड करना होगा। फीड किये गये मोबाइल नम्बर पर ओटीपी के वेरिफिकेशन होने पर व्यक्ति अपने सुझाव दे सकते हैं। एक मोबाइल नम्बर से एक ही बार सुझाव दर्ज किया जा सकेगा।

चना एवं सरसों में समन्वित कीट प्रबंधन के लिए किसानों को सलाह

मुरैना | 11-फरवरी-2020

     उप संचालक कृषि श्री पी.सी. पटेल ने बताया कि इस समय चना फसल खेतों में अपनी वनस्पतिक अवस्था से निकलकर फूल तथा फली वाली अवस्था में प्रवेश कर रही है। कीट प्रबन्धन की दृष्टि से देखा जाये तो वर्तमान में चना तथा सरसों फसल में कीट का प्रकोप देखा जा रहा है तथा चने में कटुआ इल्ली का प्रकोप शुरूआत अवस्था में है। इसके समन्वित नियंत्रण के लिए कृषि महाविद्यालय के वैज्ञानिकों द्वारा किसान भाइयों को खेत में टी आकार की 25 खुटियाँ प्रति एकड़ के हिसाब से फसल से 8-10 से.मी. ऊँची लगाने की सलाह दी गई है। रासायनिक नियन्त्रण के लिए प्रोफेनोफास 50 ईसी को 2 मि.ली. प्रति लीटर पानी के हिसाब से छिड़काव करने की सलाह दी गई है। सरसों में माहू के प्रकोप से नियंत्रण हेतु डायमेथोएट 30 ईसी 1 मि.ली.प्रति लीटर पानी की दर से छिड़काव करने पर नियत्रंण हो जाता है।

तीन जुआरियों को न्यायालय ने किया दण्डित

मुरैना | 28-जनवरी-2020

    सहायक जिला अभियोजन अधिकारी डॉ. रश्मि वैभव शर्मा ने बताया कि 20 जनवरी 2020 को थाना बामौर पुलिस ने बामौर क्लब के पास जुआ खेलते हुये आरोपी कृष्णा खटीक पुत्र कमलेश खटीक, बादल पुत्र फल्लो खटीक और रिंकू पुत्र मलखान खटीक निवासी बामौर को पकड़ा था। पुलिस ने धारा 13 के तहत प्रकरण दर्ज कर चालान न्यायालय मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी श्रीमती शिल्पा तिवारी के यहां पेश किया। जहां पर सुनवाई के दौरान न्यायालय ने आरोपीगण को दोष सिद्ध कर न्यायालय उठने तक की सजा एवं 100-100 रूपये के अर्थदण्ड से दण्डित किया। इस प्रकरण में अभियोजन की ओर से पैरवी सहायक जिला अभियोजन अधिकारी कु. वंदना बंसल मुरैना ने की।

बैठक के दौरान मोबाइल बजने पर 500 रूपये का किया फाईन

मुरैना | 21-जनवरी-2020
    कलेक्टर श्रीमती प्रियंका दास टाइम लिमिट बैठक की समीक्षा कर रहीं थी, इसी दौरान मुख्य नगर पालिका अधिकारी श्री रामप्रकाश जगनेरिया के मोबाइल की घण्टी बजी और वे धीमी आवाज में बात करने लगे, कलेक्टर ने बात को सुन लिया और उन्होंने तत्काल 500 रूपये रेडक्रॉस में जमा करने तथा मोबाइल बैठक के दौरान स्टेनो पर जमा करने के निर्देश दिये।

समाधान एक दिन तत्काल सेवा प्रदाय व्यवस्था प्रारम्भ

मुरैना | 21-दिसम्बर-2019

    राज्य शासन द्वारा लोक सेवा गारंटी कानून 2010 के अन्तर्गत अधिसूचित सेवाओं में से चिन्हित सेवाओं को लेकर समाधान एक दिन तत्काल सेवा प्रदाय व्यवस्था दी गई है। इस व्यवस्था के अंतर्गत प्रथम चरण में 13 विभागों की सेवाऐं चिन्हित की गई है। जिसमें सामान्य प्रशासन राजस्व सामाजिक न्याय श्रम महिला एवं बाल विकास गृह एवं परिवहन विभाग की महत्वपूर्ण सेवाओं को तत्काल सेवा के दायरे में लाया गया है। तत्काल सेवा प्रदाय व्यवस्था के अंतर्गत चिन्हित समस्त सेवाएं जिला एवं ब्लॉक मुख्यालय पर संचालित लोक सेवा केन्द्रों के माध्यम से प्रदाय की जा रही है। लोक सेवा केन्द्रों पर समाधान 1 दिवस व्यवस्था प्रत्येक कार्य दिवस के लिए होगी, कलेक्टर द्वारा प्राधिकृत ब्लॉक स्तर के अधिकारियों के लिए प्रत्येक कार्यदिवस हेतु साप्ताहिक रोस्टर तैयार किया जाएगा तथा इन अधिकारियों के लिंक अधिकारी भी प्राधिकृत किया जाएगे।

आज विद्युत बंद रहेगी

मुरैना | 18-अक्तूबर-2019

उपमहाप्रबंधक श्री राजेश सिंह भदौरिया ने बताया कि दीपावली पूर्व लाइन रख-रखाव (मेन्टीनेन्स) कार्य हेतु 18 अक्टूबर 2019 को सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे तक 33 के.व्ही जींगनी फीडर एवं वहीं 8 बजे से दोपहर 12 बजे तक 11 केव्ही कब्रिस्तान फीडरों से संबंधित उपभोक्ताओं की विद्युत सप्लाई बंद रहेगी।

संभागीय मुख्यालय के जिला में सभी टेस्ट होना सुनिश्चत करायें – कलेक्टर

मुरैना | 11-अक्तूबर-2019

स्वास्थ्य सुविधाओं में लोगों को बेहतर ईलाज मिले। यह स्वास्थ्य अधिकारी सुनिश्चित करें। यह निर्देश कलेक्टर श्रीमती प्रियंका दास ने गुरूवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक में स्वास्थ्य अधिकारियों को दिये। उन्होनें कहा कि संभागीय मुख्यालय जिला होने पर निर्धारित सभी टेस्ट होना सुनिश्चित करायें। जो टेस्ट नहीं हो रहे है, उन्हें तीन दिवस के अन्दर प्रारंभ करायें। शासन द्वारा मुरैना जिले को 361 दवाईयां निःशुल्क रोगियों को देने के निर्देश है। जिसमें 311 दवाईयां वितरित की जा रही है। 50 दवाईयां जिला अस्पताल में उपलब्ध न होकर वितरण नहीं हो पा रही है। इस आरोप में डॉ. गिर्राज गुप्ता को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिये है। उन्होनें कहा कि सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में भी निर्धारित सूची के अनुसार दवायें उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें, अन्यथा दो वेतनवृद्धि डॉ. गिर्राज गुप्ता की रोक दी जावेंगी। बैठक में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. विनोद गुप्ता, प्रभारी सिविल सर्जन डॉ. ए.डी. शर्मा, डॉ. आरसी बांदिल, बीएमओ, आरएमओ सहित अन्य स्वास्थ्य संबंधी अधिकारी, कर्मचारी उपस्थित थे।
कलेक्टर श्रीमती प्रियंका दास ने कहा कि जिला चिकित्सालय में ब्लड़ बैंक, लैब में सभी प्रकार की 48 जांच करने के निर्देश है। जिसमें से मात्र 36 जांचे की जा रही है। यह स्थिति ठीक नहीं है। शेष जांचे 3 दिवस के अन्दर प्रारंभ कराना सुनिश्चित करें। उन्होनें कहा कि संभागीय मुख्यालय का जिला होेने पर सभी टेस्ट नहीं होना यह प्रशासन के लिये चिन्ता का विषय है। कलेक्टर ने कहा कि शासन द्वारा 361 दवाईयां वितरित करने के निर्देश है। जिसमें से 311 दवाईयां वर्तमान में वितरित की जा रही है। शेष 50 दवाईयों का डिमान्ड भेजें। जिला अस्पताल में 361 वितरण कराना सीएमएचओ सुनिश्चित करें।
कलेक्टर ने कहा कि जिला अस्पताल सहित जिले के अन्य सिविल हॉस्पीटल में सायनैज बोर्ड 7 दिवस के अन्दर लगाना सुनिश्चित करें। इसके साथ ही उन्होनें हाउसिंग बोर्ड के ई को दूरभाष पर निर्देश दिये कि जिला चिकित्सालय में चल रहे टाइल्स निर्माण कार्य को करते समय मटेरियल को तत्काल उठायें, अन्यथा 5 हजार रूपये का जुर्माना लगाया जावेगा, जो संबंधित निर्माण एजेन्सी से वसूल किया जावेगा। उन्होनें कहा कि जिला चिकित्सालय सहित अन्य प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों के पलंगों पर नम्बर प्लेट लगवायें। यह कार्य 1 नवम्बर तक पूर्ण हो जाना चाहिये। कलेक्टर ने कहा कि जिला चिकित्सालय में सफाई कार्य दिन 3 वार हो, निरीक्षण के दौरान गंदगी मिली तो खैर नहीं होगी। पब्लिक में साफ-सफाई के प्रति अच्छा मैसेज पहुंचना चाहिये।
कलेक्टर ने जिला चिकित्सालय में समस्त डॉक्टरों को निर्देश दिये है कि ड्यूटी को चिकित्सक महत्व दें, प्रातः 9 बजे, दोपहर 2.30 बजे और अपरान्ह 4 बजे बायोमैट्रिक मशीन से उपस्थिति ली जावेगी। इसकी जानकारी प्रतिदिन मुझे मिलना सीएमएचओ सुनिश्चित करावें। जिसमें पैरामेडिकल स्टॉफ भी शामिल रहेगा।
कलेक्टर ने कहा कि ओपीडी का निरीक्षण मेरे द्वारा किसी भी अधिकारी एवं कर्मचारी से कराया जावेगा। जो डॉक्टर अनुपस्थित पाये गये तो उनके खिलाफ कार्यवाही की जावेगी। देखने में आया है कि कई डॉक्टर्स लंच के बाद ओपीडी में उपस्थित नहीं होते है, वे नियमित पूरे समय ओपीडी में बैठना सुनिश्चित करें। कलेक्टर ने बायोमैट्रिक मशीन सीएससी पर क्रय करने की अनुमति भी प्रदान की। कलेक्टर ने कहा कि जिला चिकित्सालय के बाहर स्ट्रैक्चर एवं 3 कर्मचारी ड्रैस के साथ उपस्थित मिले। मेरे भ्रमण के समय अनुपस्थित मिले तो कार्यवाही होगी।
कलेक्टर ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा चिकित्सालय का कायाकल्प के नाम पर बजट प्रतिवर्ष प्राप्त होता है। यह राशि का सद्पयोग होना सुनिश्चित करें। इस वर्ष की राशि दिसम्बर माह के अन्त तक सद्पयोग हो अन्यथा संबंधित चिकित्सक के खिलाफ कार्यवाही होगी। बैठक में अम्बाह हॉस्पीटल के बीएमओ ने बताया कि चिकित्सालय के अन्दर अवैध पार्किंग बनाकर वाहन खड़े कर दिये जाते है, इस पर कलेक्टर ने आरटीओ से 7 दिवस के लिये चालान काटने के निर्देश दिये है।

महिलाओं को पेपर बैग बनाने का प्रशिक्षण सम्पन्न

मुरैना | 05-अक्तूबर-2019

सेन्ट आरसेटी मुरैना, राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन से शहर की गरीब बैरोजगार 20 महिलाओं को 4 दिवसीय पेपर बैग एवं लिफाफे बनाने के साथ-साथ कपड़े के थैले बनाने का प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षण भारत सरकार की पॉलीथिन हटाओ अभियान के तहत दिया गया। इसके द्वारा महिलायें अपनी आमदनी के साथ ही पर्यावरण को बचाने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेंगी। प्रशिक्षण का समापन शुक्रवार को संस्था के निर्देशक श्री आरके सक्सैना द्वारा किया गया।

कृषक संध्या शिविर का आयोजन नूरावाद में किया गया

मुरैना | 27-सितम्बर-2019

वित्तीय साक्षरता एवं साख परामर्श केन्द्र सेन्ट्रल बैंक आफ इंडिया, मुरैना द्वारा कृषक संध्या शिविर का आयोजन 25 सितम्बर को ग्राम पंचायत नूराबाद में किया गया। जिसमें भारतीय रिजर्व बैंक के प्रतिनिधि श्री नरेन्द्र ढ़ोणे, जिले के अग्रणी जिला प्रबंधक श्री कर्नल कुमार, सेन्ट्रल बैंक ऑफ इंडिया, बानमोर के शाखा प्रबंधक श्री राजेश वर्मा, वित्तीय साक्षरता प्रभारी श्री एस.सी. लाल एवं यूको बैंक नूराबाद के शाखा प्रबंधक ग्राम पंचायत नूराबाद शिविर में उपस्थित हुये। लगभग 50 महिला, पुरूषों को प्रधानमंत्री द्वारा चलाई जा रही, जीवन ज्योति बीमा योजना, सुरक्षा बीमा योजना, अटल पेंशन योजना एवं सुकन्या समृद्धि योजना तथा एटीएम कार्ड एवं खातों के माध्यम से होने वाली धोखाधड़ी को रोकने के सम्बंध में एवं रिजर्व बैंक द्वारा अन्य वित्तीय जानकारी प्रदान की गयी। शिविर में उपस्थित महिलाएं स्वयं सहायता समूह से संबंधित थी। जिन्हे शासकीय योजनांतर्गत दी जाने वाली विभिन्न प्रकार की ऋण सुविधाओं की जानकारी भी दी गयी।

पत्रकार बीमा योजना बढ़ी हुई प्रीमियम राशि कम की जायेगी

आवेदन की अंतिम तारीख 25 सितंबर की गयी – जनसम्पर्क मंत्री श्री शर्मा

मुरैना | 20-सितम्बर-2019

जनसम्पर्क मंत्री श्री पी.सी. शर्मा ने कहा है कि पत्रकार बीमा प्रीमियम की राशि में की गई वृद्धि को कम किया जायेगा। पत्रकारों द्वारा बीमा योजना में आवेदन करने के लिये निर्धारित की गई 20 सितंबर की अंतिम तिथि को बढ़ाकर अब 25 सितंबर कर दिया गया है। मंत्री श्री शर्मा ने यह निर्देश गत दिवस मंत्रालय में विभागीय अधिकारियों और बीमा कंपनी के प्रतिनिधियों की बैठक में दिये।
मंत्री श्री शर्मा ने कहा कि पत्रकारों के हितों को ध्यान में रखा जायेगा। उन्होंने कहा कि बीमा कंपनी द्वारा बढ़े हुये प्रीमियम को कम करने का प्रस्ताव बीमा कंपनी मुख्यालय भेजा जा रहा है।

धान एवं मोटे अनाज की समर्थन मूल्य पर खरीदी पंजीयन 16 सितम्बर से

मुरैना | 14-सितम्बर-2019

खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग द्वारा खरीफ विपणन वर्ष-2019-20 समर्थन मूल्य पर धान एवं मोटे अनाज (ज्वार, बाजरा) खरीदने के लिए किसान पंजीयन की प्रक्रिया का निर्धारण किया गया है। खरीफ विपणन 2019-20 में समर्थन मूल्य में एफएक्यू गुणवत्ता की कृषि उपजों का उपार्जन किया जाना है। धान कामन का न्यूनतम समर्थन मूल्य 1815, धान ग्रेड-ए 1835, ज्वार 2550 एवं बाजरा 2000 रूपए प्रति क्विंटल का दाम तय किया गया है।
किसानों को समर्थन मूल्य पर उपार्जन हेतु अपना धान एवं मोटे अनाज (ज्वार, बाजरा) का पंजीयन 16 सितंबर से 16 अक्टूबर तक कराने की तिथि निर्धारित की गई है। किसान उपार्जन केंद्रों पर प्रातः 8 बजे से सायंकाल 8 बजे तक शासकीय कार्य दिवस में पंजीयन करा सकते हैं। यह पंजीयन भू-स्वामियों को एमपी किसान एप, ई-उपार्जन मोबाइल एप, पब्लिक डोमेन में ई-उपार्जन पोर्टल पर एवं विगत वर्ष के खरीफ उपार्जन केंद्रों पर कराया जा सकता है। किसानों को अपनी उपज विक्रय के समय उपार्जन केंद्र पर किसान पंजीयन पर्ची के प्रिंटआउट के साथ आधार कार्ड की प्रति, बैंक पास बुक की प्रति, समग्र सदस्य आईडी की प्रति (न होने की दशा में पेन कार्ड की प्रति), वन अधिकार पट्टाधारी को पट्टे की प्रति, सिकमीदार किसानों को सिकमी अनुबंध की प्रति उपार्जन कार्य के अंतर्गत लानी होगी।

राष्ट्रीय स्तर का उद्यमिता पुरूस्कार एवं जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन

मुरैना | 31-अगस्त-2019

सेन्टआर सेटी संस्थान में शुक्रवार को दोपहर 2 बजे से सायं 5 बजे तक राष्ट्रीय स्तर का उद्यमिता पुरूस्कार चयन एवं जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें अपने-अपने क्षेत्र के सफल उद्यमी एवं नये प्रगतिशील उद्यमियों को आमंत्रित किया गया।
कार्यक्रम में सफल उद्यमियों द्वारा अपनी सफलता के अनुभव एवं नये उद्यमियों को प्रेरणा देने के साथ ही राष्ट्रीय स्तर के पुरूस्कार नामों का चयन कर उनका नाम राष्ट्रीय उद्यमिता पुरूस्कार हेतु नई दिल्ली प्रेषित किये जाने की प्रक्रिया की विस्तार पूर्वक जानकारी दी गयी। इस कार्यक्रम के द्वारा किसी भी प्रकार के सफल एवं प्रगतिशील व्यवसायी राष्ट्रीय स्तर के उद्यमिता पुरूस्कार के लिए 9 नवम्बर को प्रधानमंत्री कार्यालय में पुरूस्कार प्रदान किये जायेगें। संस्था द्वारा मुरैना के अलग – अलग क्षेत्र के 10 व्यवसायिओं का नाम उक्त पुरूस्कार हेतु प्रेषित किया गया है।

कोटवार जाति पिछड़ा वर्ग सूची से विलोपित 

मुरैना | 27-अगस्त-2019

   राज्य शासन ने कोटवार जाति को पिछड़ा वर्ग की सूची से विलोपित कर दिया है। पिछड़ा वर्ग की सूची में कोटवार जाति सरल क्रमांक-57 पर दर्ज थी। पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण विभाग ने इस सम्बन्ध में आदेश जारी  कर दिए हैं।

भुजरिया मेला के त्यौहार पर कार्यपालिक मजिस्ट्रेट नियुक्त

मुरैना | 16-अगस्त-2019

 16 अगस्त को भुजरिया मेला त्यौहार पर कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिये कलेक्टर श्रीमती प्रियंका दास ने कार्यपालिक मजिस्टेªटों की ड्यूटी लगाई है। जिसमें बड़ोखर तालाब का सम्पूर्ण क्षेत्र तहसीदार श्री आर.एल. बागरी, नायब तहसीलदार श्री रत्नेश शर्मा, महोदव नाका, हनुमान चौराहा रेल्वे स्टेशन का सम्पूर्ण क्षेत्र के लिये श्रीमती काजल दीक्षित अधीक्षक भू-अभिलेख, नायब तहसीलदार कु. कल्पना शर्मा, पुल तिराहे से बड़ोखर का सम्पूर्ण क्षेत्र के लिये डिप्टी कलेक्टर श्री सुरेश बराहदिया, एस.एल.आर श्री गजेन्द्र हर्षाना, अम्बाह वाय-पास मुडिया खेड़ा का सम्पूर्ण क्षेत्र के लिये डिप्टी कलेक्टर सुश्री शिवानी तरेटिया और बानमौर का सम्पूर्ण क्षेत्र के लिये तहसीलदार बामौर श्री अनिल राघव और श्रीमती सुनील शर्मा को तैनात किया गया है।

विशेष पिछड़ी जनजातियों को शासकीय सेवा में नियुक्ति के लिये विशेष प्रावधान 

मुरैना | 05-अगस्त-2019

 राज्य शासन के प्रदेश की तीन विशेष पिछड़ी जनजातियों सहरिया, बैगा और भारिया के लिये शासकीय सेवा में नियुक्ति के विशेष प्रावधान का पालन कराने के निर्देश दिये हैं। समस्त सभी शासकीय विभागों, संभागायुक्तों, कलेक्टरों को इस संबंध में परिपत्र जारी पूर्व से किया है।
मध्यप्रदेश लोक सेवा (अनुसूचित जातियों, अनुसूचित जनजातियों और अन्य पिछड़े वर्गों के लिये आरक्षण) नियम-1998 में विशेष पिछड़ी जनजातियों को शासकीय सेवा में भर्ती प्रक्रिया अपनाये बिना नियुक्त करने का प्रावधान है। विशेष उपबंध के अन्तर्गत मुरैना, भिण्ड, श्योपुर, दतिया, ग्वालियर, शिवपुरी, गुना और अशोकनगर जिले में निवासरत सहारिया/सहरिया आदिम जनजाति को संविदा शाला शिक्षक या तृतीय/चतुर्थ श्रेणी के किसी भी पद के लिये या वन रक्षक (कार्यपालिक) के लिये आवेदन करने पर उस पद के लिये विहित की गई न्यूनतम अर्हता रखने पर उसे भर्ती प्रक्रिया को अपनाये बिना उस पद पर नियुक्त किया जायेगा। सहरिया की तरह मंडला, डिण्डोरी, शहडोल, उमरिया, बालाघाट तथा अनूपपुर जिले की बैगा आदिम जनजाति और छिन्दवाड़ा एवं सिवनी जिलों की भारिया जनजाति के लोगों को भी इस नियम का लाभ देने का प्रावधान है।