Friday, August 23News That Matters

रतलाम

Share

कलेक्टर द्वारा निर्माणाधीन प्रधानमंत्री आवासों की समीक्षा बैठक लेकर की गई

रतलाम | 16-अगस्त-2019

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत निर्माणाधीन आवासों की प्रगति की समीक्षा कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान द्वारा एक बैठक में की गई। बुधवार को आयोजित इस बैठक में बताया गया कि रतलाम नगर में लगभग 1400 आवासों का निर्माण योजना में किया जा रहा है। कलेक्टर ने जिले के सभी नगरी निकायों के अधिकारियों से उनके निकाय में निर्माणाधीन आवासों की जानकारी प्राप्त की।

बैठक में निगम आयुक्त श्री एस.के. सिंह ने बताया कि रतलाम नगर में प्रधानमंत्री आवास के तहत साढ़े आठ सौ के आसपास ईडब्ल्यूएस आवासों का निर्माण होगा, इसके अलावा एलआईजी आवास की संख्या लगभग साढे पांच सौ रहेगी। बैठक में कलेक्टर द्वारा जिले के अन्य नगरी निकायों में योजना के तहत निर्मित किए जा रहे हैं आवासों की जानकारी ली गई।

 

सावन शिल्प मेले में रेशमी धागे व मोती के वर्क की मोजड़ी लुभा रही है ग्राहको को 

रतलाम | 06-अगस्त-2019

  मध्यप्रदेश हस्तशिल्प एवं हथकरघा विकास निगम के मृगनयनी एंपोरियम भोपाल द्वारा आयोजित सावन शिल्प 2019 रोटरी हॉल रतलाम में 13 अगस्त तक आयोजित किया गया है। आयोजित प्रदर्शनी का अवलोकन पारस सकलेचा द्वारा किया गया। सकलेचा के साथ पुरुषोत्तम पुरोहित ने भी अवलोकन किया। सकलेचा द्वारा कारीगरों की कारीगरी की प्रशंसा की गई।

प्रदर्शनी में चंदेरी साड़ी, महेश्वरी साड़ी व सूट, मलपरी साड़ी, बूटिक सूट व साड़ी, ड्रेस मटेरियल के साथ इंदौर की मोजड़ी, जूते मेले का आकर्षण केंद्र बने हुए है।

इस मेले में मलपरी साड़ी अपने अनोखे ताने-बाने के साथ परंपरा बॉर्डर से ग्राहकों को लुभा रही है साथ ही कारीगरों की कारीगरी प्रदर्शित हो रही है।

प्रारंभ में ही रोग की पहचान होने पर मात्र एक डोज में कुष्ठ रोगी 99 प्रतिशत तक रोग मुक्त हो जाता है

नवीन कुष्ठ रोगी खोज अभियान 1 अगस्त से 

रतलाम | 23-जुलाई-2019

 जिले में नवीन कुष्ठ रोगी खोज अभियान आगामी 1 अगस्त से आरंभ किया जाएगा। जो 20 अगस्त तक चलेगा। इस संबंध में एक बैठक कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में संपन्न हुई। बताया गया कि आरंभ में ही कुष्ठ रोग की पहचान हो जाने पर मात्र एक डोज में ही कुष्ठ रोगी 99 प्रतिशत तक रोग मुक्त हो जाता है।
बैठक में कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान, पुलिस अधीक्षक श्री गौरव तिवारी, सीएमएचओ डॉक्टर प्रभाकर ननावरे, मेडिकल कॉलेज के डर्मेटोलॉजिस्ट डॉ. सुधांशु तथा जिला महिला बाल विकास अधिकारी श्रीमती सुनीता यादव आदि उपस्थित थे।
बैठक में डॉक्टर जी.आर. गौड़ ने कुष्ठ रोग लक्षण की जानकारी देते हुए बताया कि कुष्ठ रोग कभी भी किसी भी व्यक्ति को हो सकता है। शरीर पर कोई दाग हो जिसमें सुन्नता हो तो यह रोग का प्रारंभिक लक्षण हो सकता है। उन्होंने बताया कि शहर के शास्त्री नगर कॉलोनी में कुष्ठ रोगी खोज के लिए जब कार्यकर्ता एक घर पर पहुंचा तो वहां घर में मौजूद सज्जन जो बैंकर हैं, बाहर आए कार्यकर्ता ने घर आने का उद्देश्य बताया तो वह सज्जन बुरा मान गए, नाराज होकर पलट कर जाने लगे तो कार्यकर्ता की नजर उनकी पीठ पर पड़ी उसने वहां दाग देखा। कार्यकर्ता ने उन्हें बताया कि यह कुष्ठ रोग का लक्षण हो सकता है। उनकी जांच के दौरान यह सामने आया कि यह कुष्ठ रोग का प्रारंभिक लक्षण है। उनका उपचार शुरू हुआ और वे रोग मुक्त भी हो गए हैं।
बैठक में बताया गया कि कुष्ठ रोग का उपचार जिले के सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र तथा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर उपलब्ध है। कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान ने सीएमएचओ को निर्देशित किया कि सुनियोजित ढंग से कार्ययोजना तैयार कर नवीन कुष्ठ रोगियों को निर्धारित समय अवधि में खोज करके उनका समुचित उपचार सुनिश्चित करें।

जिला स्तरीय पर्यटन क्विज प्रतियोगिता 7 अगस्त को

तलाम | 12-जुलाई-2019

मध्य प्रदेश पर्यटन द्वारा प्रदेश के बच्चों में प्रतियोगिता के माध्यम से प्रदेश के समृद्ध शाली इतिहास, परम्पराओं, ऐतिहासिक धरोहर, सांस्कृतिक रंगो, कला, प्राकृतिक समृद्धि, महापुरूषों, पर्यटन महत्व की संभावनाओं आदि से परिचित कराने तथा पर्यटन के माध्यम से सीखने की प्रक्रिया को विकसित करने के उद्देश्य से मध्य प्रदेश टूरिज्म बोर्ड द्वारा विगत 03 वर्षों की भांति इस वर्ष भी “मध्य प्रदेश पर्यटन क्विज प्रतियोगिता 2019 का चतुर्थ आयोजन किया जा रहा है।

मध्य प्रदेश पर्यटन क्विज प्रतियोगिता 2019, दो स्तरों पर संपादित होगी। प्रथम चरण – जिला स्तर पर 07 अगस्त, 2019 को तथा द्वितीय चरण – राज्य स्तर पर 05 सितम्बर, 2019 को आयोजित है। इसमें सहभागिता से बच्चों में भविष्य में पर्यटन के लिए मध्यप्रदेश के विविध क्षेत्रों के प्रति आकर्षण होगा।

जिला स्तर प्रतियोगिता आयोजन हेतु जिला कलेक्टर, मुख्य कार्यपालन अधिकारी, जिला पंचायत, जिला स्तर पर पर्यटन हेतु प्रमोशन/संबर्धन हेतु गठित परिषद (डी.टी.पी.सी.) डिस्ट्रिक्ट टूरिज्म प्रमोशन काऊंसिल, जिला शिक्षा अधिकारी, एवं शिक्षा विभाग से एक क्विज मास्टर के सहयोग समन्वय से यह प्रतियोगिता संपादित होगी।

जिला स्तरीय क्विज प्रतियोगिता में विद्यार्थियों की सहभागिता पंजीयन प्रपत्र दिनांक 21 जून, से 20 जुलाई, 2019 तक जिला शिक्षा अधिकारी/प्राचार्य जिला स्तर उत्कृष्ट विद्यालय/जिला टूरिज्म प्रमोशन काऊंसिल कार्यालय (कलेक्ट्रेट) में जमा करना होगा।

प्रतियोगिता हेतु क्विज के दोनों चरण हेतु प्रश्न म.प्र. के पर्यटन एवं पर्यटन से संबंधित परिक्षेत्र, कला, संवर्धन, अध्यात्म, प्राकतिक एवं सांस्कृतिक परिवेश से संबंधित होगें।प्रथम चरण में चयनित 06 टीमों के मध्य द्वितीय चरण में आडियो विजुअल/मल्टीमिडिया आधारित क्विज होगा। इसमें प्रथम स्थान प्राप्त प्रतिभागी विद्यालय, राज्य स्तर पर सहभागिता करती है।

प्रत्येक जिले के प्रथम 3 विजेता टीमों को 02 रात्रि 03 दिन तथा 3 उपविजेता टीम को मध्यप्रदेश राज्य पर्यटन विकास निगम के होटलों में 01 रात्रि 02 दिन ठहरने हेतु कूपन प्रदाय किया जायेगा। संबधित पर्यटन स्थल तक लाना. ले-जाना, भोजन, रुकना,स्थानीय भ्रमण आदि का व्यय मध्यप्रदेश पर्यटन बोर्ड वहन करता है।

नौगांवा कला के कृषक की मेहनत से शासकीय भूमि पर लहलहाए आम के पेड़ 

कलेक्टर ने प्रयास को सराहा और आगामी योजना सलाह से बनाने हेतु प्रेरित किया

रतलाम | 06-जून-2019    रतलाम क्षेत्र के ग्राम नौगांवा कला के कृषक भेरूलाल चतुर्भुज धाकड़ ने ग्राम की शासकीय भूमि पर अपनी मेहनत से आम की फसल खड़ी कर दी। उनकी तमन्ना समीप बने पहाड़ी क्षेत्र पर भी फलदार वृक्ष लगाने की है। इस प्रेरक कार्य को कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान ने सराहा और उनके द्वारा लगाए गए आम के  इस  बाग में पहुंचकर इसी तरह कार्य करने हेतु प्रेरित किया। इस अवसर पर जिला पंचायत सीईओ श्री सोमेश मिश्रा, वन मंडल अधिकारी डॉक्टर शैलेंद्र कुमार गुप्ता ,अतिरिक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री दिनेश वर्मा एवं संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।
ग्राम नौगावां कला के भेरूलाल धाकड़ ने अपने खेत के समीप पड़ी एक हैक्टेयर भूमि पर आम के वृक्ष लगाने की चाहत 2015 -16 में व्यक्त की थी।  तब उन्हें 5 लाख 92 हजार की लागत से आम के पौधे मनरेगा के तहत उपलब्ध कराए गए थे। आज यह पौधे बड़े हो गए हैं और इनपर तोतापुरी आम लहरा है रहे हैं। इस सफलता से उत्साहित धाकड़ ने उपरांत इसी के समीप पड़ी एक हैक्टेयर भूमि पर भी  आम के पौधे लगाने का विचार व्यक्त किया और वर्ष 2018 में उन्हें 200 पौधे और प्रदान किए गए। हालांकि या पौधे सुरक्षा एवं पानी के अभाव में जीवित नहीं रह सके लेकिन वे चाहते हैं कि इस बार फिर  फलदार वृक्ष लगाएं। ताकि यह क्षेत्र हरा भरा हो सके।
कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान ने धाकड़ की इच्छा को प्रेरणादायी बताते हुए कहा कि यह अच्छा कार्य है और इसको साइंटिफिक टीम के मार्गदर्शन में किया जाए तो इसके और अच्छे परिणाम प्राप्त हो सकते हैं। पौधों के बीच दूरी अधिक रखें और उन्हें अच्छी तरह पानी दे ताकि वे जीवित रहे। उन्होंने जनपद पंचायत सीईओ को निर्देश दिए कि
इन्हें फलदार पौधे उपलब्ध कराए जाएं और इनका एक स्वयं सहायता समूह बनाया जाए। इस समूह में पंचायत और इनकी शेयरिंग रहे ताकि यहां उत्पादित होने वाले फलों को विक्रय कर इनकी आय भी हो सके। जिला पंचायत सीईओ श्री मिश्रा ने सोमवार तक स्वयं सहायता समूह गठित करने के निर्देश जनपद सीईओ को दिए।
डीएफओ डॉ गुप्ता ने बताया कि यदि ये आम के पौधों के आसपास सुरक्षा की दृष्टि से बॉस के पौधे लगाना चाहे तो इन्हें विभाग की बांस मिशन योजना के तहत पौधे प्रदान किए जा सकते हैं और इसमें इन्हें 120 रूपए  प्रति पौधा जीवित रहने पर  प्रोत्साहन राशि भी प्राप्त हो सकेगी।