Thursday, December 12News That Matters

रतलाम

Share

पुलिस शहीद दिवस पर परिजनों का हुआ सम्मान

रतलाम | 22-अक्तूबर-2019

पुलिस शहीद दिवस पर रतलाम पुलिस लाइन में जिले के शहीद हुए जवानों के परिजनों का सम्मान किया गया। सलामी दी गई। इस दौरान महापौर डॉ. सुनीता यार्दे, कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान, डीआईजी श्री गौरव राजपूत, पुलिस अधीक्षक श्री गौरव तिवारी आदि उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ करेंगे जननी एम्बुलेंस (रिप्लेसमेंट) सेवा का शुभारंभ

रतलाम | 15-अक्तूबर-2019

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ 15 अक्टूबर को सुबह 10 बजे लाल परेड ग्राउण्ड पर संजीवनी-108 जननी एम्बुलेंस (रिप्लेसमेंट) सेवा का शुभारंभ करेंगे। मुख्यमंत्री इस मौके पर 40 नई एम्बुलेंस वाहनों को हरी-झण्डी दिखाकर रवाना करेंगे। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट कार्यक्रम में शामिल होंगे।
उल्लेखनीय है कि लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा प्रदेश में एकीकृत रेफरल ट्रांसपोर्ट प्रणाली के अंतर्गत संजीवनी-108 जननी एम्बुलेंस सेवा का संचालन फोन नम्बर-108 कॉल-सेंटर के माध्यम से किया जा रहा है। एकीकृत आपातकालीन सेवा का संचालन वर्ष 2017 से निरंतर 24×7 किया जा रहा है। इस सेवा में टोल-फ्री नम्बर-108 पर लैण्डलाइन फोन अथवा मोबाइल फोन से यह सेवा प्राप्त किये जाने की सुविधा है। इस प्रणाली में एम्बुलेंस वाहनों में जीपीएस सिस्टम भी लगे हैं।
नागरिकों को यह सुविधा नि:शुल्क उपलब्ध कराई जा रही है। प्रदेश के 52 जिलों में 737 जननी एम्बुलेंस वाहनों का संचालन किया जा रहा है। इस सेवा में उन वाहनों को बदला जा रहा है, जिन्होंने ढाई लाख किलोमीटर अथवा 5 वर्ष से अधिक की अवधि पूरी कर ली है।

मातृ एवं शिशु चिकित्सालय में पुलिस सहायता केंद्र आरंभ

रतलाम | 01 अक्टूबर -2019

शहर के मातृ एवं शिशु चिकित्सालय में अस्थाई पुलिस सहायता केंद्र प्रारंभ किया गया है। यहां की आवश्यकता को देखते हुए इस पुलिस सहायता केंद्र का आरंभ सोमवार शाम किया गया। कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान तथा पुलिस अधीक्षक श्री गौरव तिवारी की उपस्थिति में डिप्टी कलेक्टर सुश्री शिराली जैन तथा सिविल सर्जन डा. आनंद चंदेलकर ने फीता काटकर सहायता केंद्र प्रारंभ किया, यहां 24 घंटे पुलिस की तैनाती रहेगी। केंद्र पर आवश्यक हेल्पलाइन तथा नंबर उपलब्ध रहेंगे।
कलेक्टर ने निरीक्षण किया
कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान ने मातृ एवं शिशु चिकित्सालय परिसर में भ्रमण कर विस्तृत निरीक्षण किया। उन्होंने बच्चों की गहन चिकित्सा इकाई तथा वार्ड देखें। निरीक्षण के दौरान कलेक्टर ने सिविल सर्जन डॉ. चंदेलकर को निर्देशित किया कि चिकित्सालय में प्रत्येक बच्चे के लिए सिंगल बेड की व्यवस्था हो, मशीनें प्रत्येक समय चालू अवस्था में उपलब्ध रहें। कलेक्टर ने प्री-बोर्न वार्ड में और अधिक बेड की व्यवस्था के निर्देश सिविल सर्जन को दिए। साथ ही 24 घंटे डॉक्टर्स की उपलब्धता सुनिश्चित करने को कहा। बताया गया कि चिकित्सालय में गहन प्रसूता केयर यूनिट भी शीघ्र आरंभ की जाने वाली है।

लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट का भ्रमण कार्यक्रम

रतलाम | 24-सितम्बर-2019

प्रदेश के लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट 24 सितंबर को जिले के भ्रमण पर आएंगे। निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार श्री सिलावट 24 सितंबर को शाम 6:00 बजे विकासखंड जावरा के ग्राम पिपलियाजोधा तथा शाम 6:40 बजे हनुमंतिया आएंगे। वह शाम 7:00 बजे हनुमंतिया से उज्जैन प्रस्थान कर जाएंगे।

अतिवृष्टि प्रभावित 180 ग्रामीणों के घरों की मरम्मत के लिए एक करोड़ 42 लाख रुपए मंजूर किए गए

रतलाम | 17-सितम्बर-2019

कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान के निर्देश पर जिले के अतिवृष्टि प्रभावित ग्रामीणों की मदद के लिए अधिकारियों, कर्मचारियों द्वारा तत्काल कार्रवाई की जा रही है। जावरा अनुविभाग के 8 गांवों में ग्रामीणों के घरों की मरम्मत के लिए एक करोड़ 42 लाख रूपए मंजूर कर दिए गए हैं।
एसडीएम जावरा श्री एम.एल. आर्य ने बताया कि पिपलिया जोधा, ताराखेड़ी, बोरिया, रणायरा गुर्जर, मेहंदी, धत्तरावदा, रोला तथा किलगारी के 180 व्यक्तियों के घरो की दुरुस्ती हेतु 1 करोड़ 42 लाख रुपए की स्वीकृति राजस्व पुस्तक परिपत्र 6-4 के तहत कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान द्वारा जारी की गई है।

प्राधिकरण की परशुराम विहार योजना के हितग्राहियों को बड़ी राहत

संचालक मण्डल के निर्णयानुसार जिन हितग्राहियों के भूखण्डों के आकार में कोई वृद्धि नहीं, उनकी रजिस्ट्री तत्काल प्रारंभ होगी

रतलाम | 06-सितम्बर-2019

रतलाम विकास प्राधिकरण की श्री परशुराम विहार योजना के हितग्राही, जिनके भूखण्डों के आकार में कोई वृद्वि नहीं हुई है, उनके भूखण्डों की रजिस्ट्री प्राधिकरण तत्काल प्रारम्भ करेंगा। योजना के हितग्राहीयों के हक में एक बड़ा फेसला लेते हुए जिला कलेक्टर एवं प्राधिकरण अध्यक्ष श्रीमती रूचिका चौहान की अध्यक्षता में आयोजित संचालक मण्डल की बैठक में आवंटियों को उक्त निर्णय द्वारा एक बड़ी राहत दी गई है। ज्ञातत्व है कि प्राधिकरण द्वारा उक्त योजना में 229 भूखण्डों में से 211 भूखण्डों का वर्ष 2013 एवं 2015 में व्ययन किया गया था जिसमें से 53 भूखण्डों के क्षेत्रफल में वृद्वि,83 भूखण्डों के क्षेत्रफल में कमी एवं 75 भूखण्डों के क्षेत्रफल में अंतिम माप में कोई परिर्वतन नहीं पाया गया।
आज सम्पन्न प्राधिकरण संचालक मण्डल की बैठक के निर्णयानुसार आकार में वृद्धि वाले 53 भूखण्डों को छोड़ कर शेष 158 भूखण्डों के पट्टाभिलेख एवं रजिस्ट्री की कार्यवाही तत्काल प्रारम्भ की जावेंगी। वृद्वित क्षेत्रफल वाले भूखण्डों के बढ़े हुए आकार का दर निर्धारण वित्तीय वर्ष 2017-18 में परशुराम विहार योजना क्षेत्र हेतु निर्धारित कलेक्टर गाईड लाईन के मान से गणित किया जावेंगा। उल्लेखनीय है कि वृद्वित क्षेत्रफल वाले भूखण्डों की दर निर्धारण के संबंध में प्राधिकरण ने पूर्व में आयोजित संचालक मण्डल की बैठक के निर्णय अनुसार उपमहाधिवक्ता, मा. उच्च न्यायालय,इन्दौर से विधिक परामर्श लिया गया था। प्राप्त परामर्श अनुसार भी वृद्वित क्षेत्रफल वाले भूखण्डों के बड़े हुए आकार का दर निर्धारण तत्समय क्षेत्र हेतु प्रचलित कलेक्टर गाईड लाईन के मान से लिया जाना होगा। इस आधार पर उनसे वृद्वित क्षेत्रफल की राशि ली जाकर तदुपरांत पटटाभिलेख एवं रजिस्ट्री की कार्यवाही की जायेगी।
संचालक मण्डल द्वारा लिये गये एक अन्य निर्णयानुसार प्राधिकरण की यातायात नगर योजना का क्रियान्वयन ग्राम सालाखेड़ी में किया जावेंगा। पूर्व में प्राधिकरण को उक्त योजना हेतु ग्राम मांगरोल एवं खाराखेड़ी में जिला प्रशासन द्वारा आरक्षित की गई थी परन्तु वह नगर विकास योजना-2021 अनुसार नगरीय क्षेत्र से बाहर तथा मास्टर प्लान में यातायात नगर हेतु प्रावधानित न होने के कारण योजना हेतु उपयुक्त नहीं पाई गई थी। संचालक मण्डल की गत बैठक में योजना के क्रियान्वयन हेतु उपयुक्त स्थल चयन की दृष्टि से नगर निगम,नगर तथा ग्राम निवेश एवं पी.आई.यू. के कार्यपालन यंत्रियों की सदस्यता में एक त्रिस्तरीय समिति गठित की गई थी। समिति द्वारा स्थल निरीक्षण किया गया, जिस अनुसार रतलाम विकास योजना-2021 में ट्रांसपोर्ट नगर हेतु ग्राम सालाखेड़ी में मास्टर प्लान अनुसार प्रावधानित भूमि ही ट्रांसपोर्ट नगर योजना हेतु उपयुक्त पाई गई तथा प्राधिकरण द्वारा खाराखेड़ी एवं मांगरोल स्थित भूमि जो प्राधिकरण के हित में आरक्षित की गई थी को निरस्त करने तथा सालाखेड़ी की भूमि प्राधिकरण के पक्ष में आरक्षित किये जाने हेतु जिला प्रशासन को पत्र प्रेषित किये जाने का भी निर्णय लिया गया है।
प्राधिकरण की आवासीय योजना मॉं कालिका विहार को नगर निगम को हस्तांतरित किये जाने के संबंध में भी संचालक मण्डल द्वारा निर्णय लेते हुए योजना के अपूर्ण विकास कार्यो को पूर्ण किये जाने हेतु सैद्वान्तिक स्वीकृति प्रदान की गई। इस हेतु पूर्व में गठित 5 विभागों की समिति के सुझावों के अनुसार अपूर्ण विकास कार्यो को पूर्ण कराये जाने हेतु प्राक्कलन तैयार करवाये जावेंगे एवं साथ ही उक्त योजना में अविक्रीत भूखण्डों के व्ययन हेतु भी कार्यवाही प्रारम्भ की जावेंगी। ज्ञातव्य है कि उक्त योजना में 135 भूखण्डों का व्ययन किया जाना शेष है। वही प्राधिकरण की अन्य अविक्रीत सम्पत्तियों के व्ययन की कार्यवाही भी तेजी से प्रारम्भ किये जाने के संचालक मण्डल द्वारा निर्देश दिये गये। कलेक्टर एवं प्राधिकरण अध्यक्ष के निर्देशानुसार सम्पत्तियों के ऑंनलाईन व्ययन हेतु पोर्टल तैयार किये जाने की प्रक्रिया भी प्राधिकरण प्रारम्भ करेगा।
बैठक में प्राधिकरण के वित्तीय वर्ष 2019-20 के बजट प्रस्तावों को भी मंजूरी दी गई। प्राधिकरण को वित्तीय वर्ष 2019-20 में नवीन योजनाओं में स्थित भूखण्ड/भवनों के व्ययन से कुल आय राशि रूपये 2286.60 लाख आशान्वित है। वही निर्माण तथा अन्य नियमित व्ययों पर लगभग राशि रूपये 2271.45 लाख व्यय होना प्रस्तावित किया गया है। इस प्रकार वित्तीय वर्ष 2019-20 हेतु प्राधिकरण को रूपये 15.15 लाख की बचत होना अनुमानित है। बजट प्रस्ताव अनुसार प्राधिकरण को पूर्व की योजनाओं से रू. 854.50 लाख, नवीन योजनाओं से रू. 1320.00 लाख अनुदान से 50.00 लाख, ब्याज से रू 10.10 लाख तथा विविध मदों एवं कर कटौत्रा से रू. 62.00 लाख अनुमानित है। वहीं प्राधिकरण की पूर्व की योजनाओं के संधारणन तथा अन्य निर्माण कार्यो पर रू. 356.90 लाख, नवीन योजनाओं पर रू.1600.00 लाख, स्थापना पर रू. 117.60 लाख, आकस्मिक/कटिन्जेन्सी व्यय पर रू. 144.95 लाख तथा विविध व्ययों पर रू. 52.00 लाख का व्यय का प्रावधान किया गया है।
प्राधिकरण संचालक मण्डल की आज आयोजित बैठक में प्राधिकरण की मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमती जमुना भिड़े, नगर निगम आयुक्त श्री एस.के.सिंह, नगर ग्राम निवेश विभाग के उपसंचालक श्री गोरेलाल वर्मा, म.प्र. विद्युत मण्डल, वन विभाग,लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के अधिकारीगण, प्राधिकरण के कार्यपालन यंत्री श्री चन्द्रशेखर नीम सहित प्राधिकरण के अधिकारी/ कर्मचारीगण उपस्थित थे।

नो पार्किंग जोन में वाहन खड़े करने पर चालानी कार्रवाई की गई

रतलाम | 31-अगस्त-2019

रतलाम कलेक्टर कार्यालय के सामने नो पार्किंग जोन में वाहन खड़े करने पर उनके विरुद्ध चालानी कार्रवाई की गई है। जिला परिवहन विभाग द्वारा तीन वाहनों को जप्त कर जिला परिवहन कार्यालय परिसर में खड़ा किया गया है। जिला परिवहन अधिकारी श्री दीपक माझी ने बताया कि कई बार निर्देशित किए जाने के बावजूद वाहनों को कलेक्टर कार्यालय के सामने नो पार्किंग जोन में खड़ा किया जा रहा है, इसके विरुद्ध विभाग द्वारा सख्त कार्रवाई की जाएगी।

पेंशनरों और परिवार पेंशनरों को महंगाई राहत मंजूर 

रतलाम | 27-अगस्त-2019

 राज्य सरकार ने पेंशनरों और परिवार पेंशनरों की महँगाई राहत में जनवरी 2019 से वृद्धि की हैं। वित्त विभाग द्वारा जारी आदेशानुसार जनवरी 2019 की फरवरी 2019 में देय पेंशन से यह दर प्रभावशील होगी। छठवें वेतनमान में महँगाई राहत में वृद्धि दर 6 प्रतिशत तथा सातवें वेतनमान में 3 प्रतिशत होगी। वृद्धि के परिणामस्वरूप छठवें वेतनमान में महँगाई राहत की दर 154 प्रतिशत और सातवें वेतनमान में 12 प्रतिशत होगी। अस्सी वर्ष अथवा उससे अधिक आयु के पेंशनरों को देय अतिरिक्त पेंशन पर भी महँगाई राहत देय होगी।

कलेक्टर द्वारा निर्माणाधीन प्रधानमंत्री आवासों की समीक्षा बैठक लेकर की गई

रतलाम | 16-अगस्त-2019

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत निर्माणाधीन आवासों की प्रगति की समीक्षा कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान द्वारा एक बैठक में की गई। बुधवार को आयोजित इस बैठक में बताया गया कि रतलाम नगर में लगभग 1400 आवासों का निर्माण योजना में किया जा रहा है। कलेक्टर ने जिले के सभी नगरी निकायों के अधिकारियों से उनके निकाय में निर्माणाधीन आवासों की जानकारी प्राप्त की।

बैठक में निगम आयुक्त श्री एस.के. सिंह ने बताया कि रतलाम नगर में प्रधानमंत्री आवास के तहत साढ़े आठ सौ के आसपास ईडब्ल्यूएस आवासों का निर्माण होगा, इसके अलावा एलआईजी आवास की संख्या लगभग साढे पांच सौ रहेगी। बैठक में कलेक्टर द्वारा जिले के अन्य नगरी निकायों में योजना के तहत निर्मित किए जा रहे हैं आवासों की जानकारी ली गई।

 

सावन शिल्प मेले में रेशमी धागे व मोती के वर्क की मोजड़ी लुभा रही है ग्राहको को 

रतलाम | 06-अगस्त-2019

  मध्यप्रदेश हस्तशिल्प एवं हथकरघा विकास निगम के मृगनयनी एंपोरियम भोपाल द्वारा आयोजित सावन शिल्प 2019 रोटरी हॉल रतलाम में 13 अगस्त तक आयोजित किया गया है। आयोजित प्रदर्शनी का अवलोकन पारस सकलेचा द्वारा किया गया। सकलेचा के साथ पुरुषोत्तम पुरोहित ने भी अवलोकन किया। सकलेचा द्वारा कारीगरों की कारीगरी की प्रशंसा की गई।

प्रदर्शनी में चंदेरी साड़ी, महेश्वरी साड़ी व सूट, मलपरी साड़ी, बूटिक सूट व साड़ी, ड्रेस मटेरियल के साथ इंदौर की मोजड़ी, जूते मेले का आकर्षण केंद्र बने हुए है।

इस मेले में मलपरी साड़ी अपने अनोखे ताने-बाने के साथ परंपरा बॉर्डर से ग्राहकों को लुभा रही है साथ ही कारीगरों की कारीगरी प्रदर्शित हो रही है।

प्रारंभ में ही रोग की पहचान होने पर मात्र एक डोज में कुष्ठ रोगी 99 प्रतिशत तक रोग मुक्त हो जाता है

नवीन कुष्ठ रोगी खोज अभियान 1 अगस्त से 

रतलाम | 23-जुलाई-2019

 जिले में नवीन कुष्ठ रोगी खोज अभियान आगामी 1 अगस्त से आरंभ किया जाएगा। जो 20 अगस्त तक चलेगा। इस संबंध में एक बैठक कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में संपन्न हुई। बताया गया कि आरंभ में ही कुष्ठ रोग की पहचान हो जाने पर मात्र एक डोज में ही कुष्ठ रोगी 99 प्रतिशत तक रोग मुक्त हो जाता है।
बैठक में कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान, पुलिस अधीक्षक श्री गौरव तिवारी, सीएमएचओ डॉक्टर प्रभाकर ननावरे, मेडिकल कॉलेज के डर्मेटोलॉजिस्ट डॉ. सुधांशु तथा जिला महिला बाल विकास अधिकारी श्रीमती सुनीता यादव आदि उपस्थित थे।
बैठक में डॉक्टर जी.आर. गौड़ ने कुष्ठ रोग लक्षण की जानकारी देते हुए बताया कि कुष्ठ रोग कभी भी किसी भी व्यक्ति को हो सकता है। शरीर पर कोई दाग हो जिसमें सुन्नता हो तो यह रोग का प्रारंभिक लक्षण हो सकता है। उन्होंने बताया कि शहर के शास्त्री नगर कॉलोनी में कुष्ठ रोगी खोज के लिए जब कार्यकर्ता एक घर पर पहुंचा तो वहां घर में मौजूद सज्जन जो बैंकर हैं, बाहर आए कार्यकर्ता ने घर आने का उद्देश्य बताया तो वह सज्जन बुरा मान गए, नाराज होकर पलट कर जाने लगे तो कार्यकर्ता की नजर उनकी पीठ पर पड़ी उसने वहां दाग देखा। कार्यकर्ता ने उन्हें बताया कि यह कुष्ठ रोग का लक्षण हो सकता है। उनकी जांच के दौरान यह सामने आया कि यह कुष्ठ रोग का प्रारंभिक लक्षण है। उनका उपचार शुरू हुआ और वे रोग मुक्त भी हो गए हैं।
बैठक में बताया गया कि कुष्ठ रोग का उपचार जिले के सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र तथा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर उपलब्ध है। कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान ने सीएमएचओ को निर्देशित किया कि सुनियोजित ढंग से कार्ययोजना तैयार कर नवीन कुष्ठ रोगियों को निर्धारित समय अवधि में खोज करके उनका समुचित उपचार सुनिश्चित करें।

जिला स्तरीय पर्यटन क्विज प्रतियोगिता 7 अगस्त को

तलाम | 12-जुलाई-2019

मध्य प्रदेश पर्यटन द्वारा प्रदेश के बच्चों में प्रतियोगिता के माध्यम से प्रदेश के समृद्ध शाली इतिहास, परम्पराओं, ऐतिहासिक धरोहर, सांस्कृतिक रंगो, कला, प्राकृतिक समृद्धि, महापुरूषों, पर्यटन महत्व की संभावनाओं आदि से परिचित कराने तथा पर्यटन के माध्यम से सीखने की प्रक्रिया को विकसित करने के उद्देश्य से मध्य प्रदेश टूरिज्म बोर्ड द्वारा विगत 03 वर्षों की भांति इस वर्ष भी “मध्य प्रदेश पर्यटन क्विज प्रतियोगिता 2019 का चतुर्थ आयोजन किया जा रहा है।

मध्य प्रदेश पर्यटन क्विज प्रतियोगिता 2019, दो स्तरों पर संपादित होगी। प्रथम चरण – जिला स्तर पर 07 अगस्त, 2019 को तथा द्वितीय चरण – राज्य स्तर पर 05 सितम्बर, 2019 को आयोजित है। इसमें सहभागिता से बच्चों में भविष्य में पर्यटन के लिए मध्यप्रदेश के विविध क्षेत्रों के प्रति आकर्षण होगा।

जिला स्तर प्रतियोगिता आयोजन हेतु जिला कलेक्टर, मुख्य कार्यपालन अधिकारी, जिला पंचायत, जिला स्तर पर पर्यटन हेतु प्रमोशन/संबर्धन हेतु गठित परिषद (डी.टी.पी.सी.) डिस्ट्रिक्ट टूरिज्म प्रमोशन काऊंसिल, जिला शिक्षा अधिकारी, एवं शिक्षा विभाग से एक क्विज मास्टर के सहयोग समन्वय से यह प्रतियोगिता संपादित होगी।

जिला स्तरीय क्विज प्रतियोगिता में विद्यार्थियों की सहभागिता पंजीयन प्रपत्र दिनांक 21 जून, से 20 जुलाई, 2019 तक जिला शिक्षा अधिकारी/प्राचार्य जिला स्तर उत्कृष्ट विद्यालय/जिला टूरिज्म प्रमोशन काऊंसिल कार्यालय (कलेक्ट्रेट) में जमा करना होगा।

प्रतियोगिता हेतु क्विज के दोनों चरण हेतु प्रश्न म.प्र. के पर्यटन एवं पर्यटन से संबंधित परिक्षेत्र, कला, संवर्धन, अध्यात्म, प्राकतिक एवं सांस्कृतिक परिवेश से संबंधित होगें।प्रथम चरण में चयनित 06 टीमों के मध्य द्वितीय चरण में आडियो विजुअल/मल्टीमिडिया आधारित क्विज होगा। इसमें प्रथम स्थान प्राप्त प्रतिभागी विद्यालय, राज्य स्तर पर सहभागिता करती है।

प्रत्येक जिले के प्रथम 3 विजेता टीमों को 02 रात्रि 03 दिन तथा 3 उपविजेता टीम को मध्यप्रदेश राज्य पर्यटन विकास निगम के होटलों में 01 रात्रि 02 दिन ठहरने हेतु कूपन प्रदाय किया जायेगा। संबधित पर्यटन स्थल तक लाना. ले-जाना, भोजन, रुकना,स्थानीय भ्रमण आदि का व्यय मध्यप्रदेश पर्यटन बोर्ड वहन करता है।

नौगांवा कला के कृषक की मेहनत से शासकीय भूमि पर लहलहाए आम के पेड़ 

कलेक्टर ने प्रयास को सराहा और आगामी योजना सलाह से बनाने हेतु प्रेरित किया

रतलाम | 06-जून-2019    रतलाम क्षेत्र के ग्राम नौगांवा कला के कृषक भेरूलाल चतुर्भुज धाकड़ ने ग्राम की शासकीय भूमि पर अपनी मेहनत से आम की फसल खड़ी कर दी। उनकी तमन्ना समीप बने पहाड़ी क्षेत्र पर भी फलदार वृक्ष लगाने की है। इस प्रेरक कार्य को कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान ने सराहा और उनके द्वारा लगाए गए आम के  इस  बाग में पहुंचकर इसी तरह कार्य करने हेतु प्रेरित किया। इस अवसर पर जिला पंचायत सीईओ श्री सोमेश मिश्रा, वन मंडल अधिकारी डॉक्टर शैलेंद्र कुमार गुप्ता ,अतिरिक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री दिनेश वर्मा एवं संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।
ग्राम नौगावां कला के भेरूलाल धाकड़ ने अपने खेत के समीप पड़ी एक हैक्टेयर भूमि पर आम के वृक्ष लगाने की चाहत 2015 -16 में व्यक्त की थी।  तब उन्हें 5 लाख 92 हजार की लागत से आम के पौधे मनरेगा के तहत उपलब्ध कराए गए थे। आज यह पौधे बड़े हो गए हैं और इनपर तोतापुरी आम लहरा है रहे हैं। इस सफलता से उत्साहित धाकड़ ने उपरांत इसी के समीप पड़ी एक हैक्टेयर भूमि पर भी  आम के पौधे लगाने का विचार व्यक्त किया और वर्ष 2018 में उन्हें 200 पौधे और प्रदान किए गए। हालांकि या पौधे सुरक्षा एवं पानी के अभाव में जीवित नहीं रह सके लेकिन वे चाहते हैं कि इस बार फिर  फलदार वृक्ष लगाएं। ताकि यह क्षेत्र हरा भरा हो सके।
कलेक्टर श्रीमती रुचिका चौहान ने धाकड़ की इच्छा को प्रेरणादायी बताते हुए कहा कि यह अच्छा कार्य है और इसको साइंटिफिक टीम के मार्गदर्शन में किया जाए तो इसके और अच्छे परिणाम प्राप्त हो सकते हैं। पौधों के बीच दूरी अधिक रखें और उन्हें अच्छी तरह पानी दे ताकि वे जीवित रहे। उन्होंने जनपद पंचायत सीईओ को निर्देश दिए कि
इन्हें फलदार पौधे उपलब्ध कराए जाएं और इनका एक स्वयं सहायता समूह बनाया जाए। इस समूह में पंचायत और इनकी शेयरिंग रहे ताकि यहां उत्पादित होने वाले फलों को विक्रय कर इनकी आय भी हो सके। जिला पंचायत सीईओ श्री मिश्रा ने सोमवार तक स्वयं सहायता समूह गठित करने के निर्देश जनपद सीईओ को दिए।
डीएफओ डॉ गुप्ता ने बताया कि यदि ये आम के पौधों के आसपास सुरक्षा की दृष्टि से बॉस के पौधे लगाना चाहे तो इन्हें विभाग की बांस मिशन योजना के तहत पौधे प्रदान किए जा सकते हैं और इसमें इन्हें 120 रूपए  प्रति पौधा जीवित रहने पर  प्रोत्साहन राशि भी प्राप्त हो सकेगी।