Tuesday, January 26News That Matters

शहडोल

Share
मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा दु:ख व्यक्त
शहडोल | 15-दिसम्बर-2020
   मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने इंदौर उच्च न्यायालय की न्यायाधीश सुश्री वंदना कसरेकर के निधन पर दु:ख व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सुश्री कसरेकर की आत्मा की शांति और शोकाकुल परिजनो को यह दु:ख सहन करने की शक्ति देने  के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है।

आँगनवाड़ी केन्द्रों पर सहयोगिनी मातृ समिति का होगा पुनर्गठन

शहडोल | 09-दिसम्बर-2020

   आँगनवाड़ी सेवा योजना के तहत संचालित कार्यक्रमों में सेवा उपयोगकर्ताओं की सक्रिय भागीदारी से योजनाओं/गतिविधियों के प्रभावी क्रियान्वयन के बेहतर परिणाम प्राप्त किए जा सकते है। पूर्व में ग्राम स्तर पर संचालित कार्यक्रमों में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के लिए “सहयोगिनी मातृ समिति” का गठन किया गया था। वर्तमान में मैदानी स्तर की परिस्थितियों, योजनाओं के स्वरूप में परिवर्तन को देखते हुए आँगनवाड़ी केन्द्रों पर सहयोगिनी मातृ समिति का पुनर्गठन किया जा रहा है। संचालक महिला बाल विकास श्रीमती स्वाती मीणा नायक ने जानकारी दी कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 के तहत आँगनवाड़ी केन्द्र की गतिविधियों के सुदृढ़ीकरण, पारदर्शिता एवं जवाबदेही के लिए “सतर्कता समिति एवं सोशल ऑडिट व्यवस्था प्रावधानित है। मातृ सहयोगी समिति इस प्रयोजन के लिए “सतर्कता समिति” के रूप में कार्य करेगी।

समिति का स्वरूप

श्रीमती स्वाति मीणा नायक ने बताया कि प्रत्येक आँगनवाड़ी केन्द्र पर दस सदस्यीय एक मातृ सहयोगिनी समिति होगी। जिसका चयन वार्ड, ग्राम, टोले, मजरे, फलिये आदि के चयनित सदस्यों की उप-समिति में से किया जायेगा। आँगनवाड़ी के हितग्राही (गर्भवती एवं धात्री) अथवा बच्चों के परिवार की महिला सदस्य को नामांकित किया जायेगा। गाँव के पंच (प्राथमिकता महिला पंच) वार्ड की पार्षद, ऐसी सक्रिय महिला जो स्वेच्छा से अपनी सहयोग देगी, ग्राम/शहरी क्षेत्र की संबंधित शालाओं के शिक्षक, वार्ड स्तरीय अन्य विभागीय समितियों की महिला सदस्य, स्व-सहायता समूह की महिला अध्यक्ष को तीन वर्ष की अवधि के लिए नामांकित किया जायेगा। इसके अतिरिक्त जन्म से 6 वर्ष आयु तक के बच्चों की माता को एक वर्ष के लिए समिति से जोड़ा जायेगा। साथ ही किशोरी बालिका (11 से 17 वर्ष) की माता और 19 से 45 आयु वर्ग की महिलाओं को भी एक वर्ष की अवधि के लिए समिति में नामांकित किया जायेगा।

सेक्टर पर्यवेक्षक होंगे प्राधिकृत अधिकारी

सहयोगिनी मातृ समिति/ उप समिति के सदस्यों के चयन के लिए संबंधित क्षेत्र की सेक्टर पर्यवेक्षक प्राधिकृत अधिकारी होंगे। समिति का गठन कर पर्यवेक्षक द्वारा इसकी सूचना बाल विकास अधिकारी को दी जाएगी। बाल विकास अधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी एवं संभागीय संयुक्त संचालक अपने कार्य क्षेत्रों में समिति गठन कार्यवाही के उत्तरदायी होंगे।

उप समिति का स्वरूप

वार्ड/मोहल्ला, टोले/ मजरे/ फलिया स्तर पर उप समिति गठित की जायेगी। चयनित सदस्यों में से एक सदस्य को अध्यक्ष के रूप में चयनित किया जायेगा। समिति के सदस्यों का कार्यकाल एक वर्ष का रहेगा।
संचालक श्रीमती नायक ने बताया कि आँगनवाड़ी सेवा अन्तर्गत प्रदाय किए जाने वाले पूरक पोषण आहार की निगरानी के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम 2013 के प्रावधान अनुसार यह समिति सतर्कता समिति के रूप में कार्य करेगी। सतर्कता समिति द्वारा पूरक पोषण आहार, टेक होम राशन, स्व-सहायता समूह द्वारा प्रदाय कि जाने वाली नाश्ता, भोजन एवं कुपोषित बच्चों के लिए थर्ड मील की निरंतरता और गुणवत्ता की निगरानी एवं सुझाव और मार्गदर्शन का कार्य सम्पादित किया जायेगा। इसके अतिरिक्त समिति टीकाकरण एवं स्वास्थ्य जाँच, समुदाय आधारित गतिविधियों के आयोजन में सहयोग, कुपोषित/गंभीर कुपोषित बच्चों की देखभाल एवं पोषण स्तर की निगरानी का कार्य करेगी।

मध्यप्रदेश में कोविड-19 के दौरान बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य बनाए रखने के प्रयासों की सर्वोच्च न्यायालय ने की सराहना

अन्य राज्यों में अनुसरण के लिए पूल तैयार करने के निर्देश दिए
शहडोल | 01-दिसंबर-2020

     प्रदेश में कोविड-19 के दौरान बाल देखरेख संस्थानों में बच्चों का मानसिक स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए किए गए विशेष प्रयासों को सर्वोच्च न्यायालय ने सराहना की है। न्यायमूर्ति श्री रविंद्र भट्ट ने मध्यप्रदेश में प्रशिक्षित परामर्शदाताओं द्वारा कोविड के दौरान बच्चों को परामर्श के माध्यम से मानसिक रूप से स्वस्थ रखने, प्रत्येक बच्चे की व्यक्तिगत देखरेख योजना तैयार करने तथा उनकी रचनात्मकता में वृद्धि के प्रयासों को सराहा है। उन्होंने देश के अन्य राज्यों में भी मध्यप्रदेश के उत्कृष्ट कार्यों का अनुकरण करते हुए देखरेख और संरक्षण की आवश्यकता वाले बच्चों को परामर्श प्रदान करने और परामर्शदाता का पूल तैयार करने के निर्देश दिए।
हाल ही में सर्वोच्च न्यायालय द्वारा कोविड-19 के दौरान देखरेख एवं संरक्षण की आवश्यकता वाले बच्चों के रेस्टोरेशन तथा विधि का उल्लंघन करने वाले बच्चों की जमानत के विषय पर दो दिवसीय बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से की गई। मध्यप्रदेश की ओर से संचालक ,महिला बाल विकास श्रीमती स्वाति मीणा नायक ने प्रदेश में समस्त बाल देखरेख संस्थाओं में बच्चों के देखरेख और संरक्षण की आवश्यकता वाले बच्चों को कोविड के दौरान विशेष रूप से प्रशिक्षित परामर्शदाताओं  द्वारा गुणवत्तापूर्ण परामर्श के विषय में विस्तृत जानकारी का प्रस्तुतिकरण किया।
उल्लेखनीय है कि मध्यप्रदेश में समेकित बाल संरक्षण योजना के अंतर्गत संचालित बाल देखरेख संस्थाओं में बच्चों को परामर्श प्रदान करने के लिए  राज्य स्तर  से 106 मनोसामाजिक परामर्शदाताओं का पूल तैयार किया गया और सभी परामर्शदाताओं को राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य एवं स्नायु विज्ञान संस्थान (निमहासं) बेंगलुरु में तथा यूनिसेफ द्वारा विस्तृत एवं गुणवत्तापूर्ण प्रशिक्षण प्रदान किया गया। इन परामर्शदाताओं में से 69 परामर्शदाताओं को कॉविड के दौरान बच्चों का मानसिक स्वास्थ्य बनाए रखने तथा उनमें सकारात्मकता व रचनात्मकता के निर्माण के लिए मनोसामाजिक परामर्श के संबंध में विशेष रूप से प्रशिक्षण प्रदान किया गया। विशेष रूप से प्रशिक्षित मनोसामाजिक परामर्शदाताओं द्वारा कोविड के दौरान बच्चों के मानसिक स्वास्थ्य से जुड़े मुद्दों पर व्यक्तिगत रूप से 3921 सत्रों का आयोजन किया गया तथा बच्चों व उनके परिवारों के साथ 14029 सामूहिक परामर्श सत्रों का आयोजन किया गया, जिसके अत्यधिक सकारात्मक और उत्साहवर्धक परिणाम सामने आए हैं।

आर्थिक सहायता राशि स्वीकृत

शहडोल | 24-नवम्बर-2020
   कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट डॉ. सतेंद्र सिंह ने मुख्यमंत्री स्वेच्छानुदान मद से श्री कामता प्रसाद शर्मा पिता स्व. श्री शारदा प्रसार शर्मा निवासी वार्ड 27/36 पुरानी बस्ती जिला शहडोल को उपचार हेतु 40 हजार रूपये की आर्थिक सहायता राशि स्वीकृत की है।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा जारी किया संशोधित कैंप कैलेंडर

नसबंदी शिविर आयोजन हेतु चिकित्सको की लगाई गई ड्यूटी
शहडोल | 18-नवम्बर-2020
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ राजेश पांडे ने शिविर आयोजित करने हेतु  संशोधित कैप कैलेंडर जारी किया है। जारी संषोधित कैंप कैलेण्डर में  18 नवम्बर 2020 को  सिविल अस्पताल ब्यौहारी हेतु, श्रीमती नीता श्रीवास्तव, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र जयसिंहनगर में श्रीमती अनीता दत्त सर्जन डॉ. व्हीपी पटेल एवं डॉ. पीएल सागर, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सिंहपुर हेतु डॉ. पूजा दुबे सर्जन डीके सिंह एवं डॉ. सचिन कारखुर की डियूटी लगाई गई है। 19 नवम्बर 2020 को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र गोहपारू हेतु  श्रीमती राजकली पटेल, सर्जन डॉ. व्हीपी पटेल, डॉ. पीएल सागर, 21 नवम्बर 2020 को जिला चिकित्सालय शहडोल हेतु  डॉ. पूजा दुबे सर्जन डॉ. डीके सिंह, डॉ. सुनील स्थापक,  26 नवम्बर 2020 को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बुढार हेतु डॉ. शैली जैन सर्जन  डॉ. व्हीपी पटेल, डॉ. सचिन कारखुर 25 नवम्बर 2020 को सिविल अस्पताल ब्यौहारी हेतु श्रीमती नीता श्रीवास्तव, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र जयसिंहनगर हेतु श्रीमती  अनीता दत्त सर्जन व्ही.पी. पटेल एवं  डॉ पी.एल. सागर, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सिंहपुर हेतु डॉ. पूजा दुबे, सर्जन  डॉ. डीके सिंह एवं  डॉ. सचिन कारखुर एवं 26 नवम्बर 2020 को  सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र गोहपारू हेतु  श्रीमती राजकली पटेल सर्जन डॉ. डीके सिंह एवं पीएल सागर एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सिंहपुर एवं जिला चिकित्सालय शहडोल  हेतु कैंप का स्थान सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सिंहपुर के लिये डॉ. पूजा दुबे सर्जन डॉ. डीके सिंह एवं डॉ. सुनील स्थापक की डियूटी लगाई गई है।  मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने निर्देशित किया है कि खंड चिकित्सा अधिकारी शिविरों के अतिरिक्त यदि शिविर लगाना चाहते हैं तो सिविल लगाने के 2 दिन पूर्व मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय में सूचित करें जिससे उस कैंप के लिए सर्जन की व्यवस्था की जाए संस्थाओं के लिए निर्धारित दिवस में ही नसबंदी शिविर आयोजित किए जाएं प्रत्येक शिविर के लिए एक चिकित्सा को नोडल ऑफिसर नियुक्त किया जाए जो संपूर्ण व्यवस्था की जिम्मेदारी का निर्वाह करना सुनिश्चित करेंगे तथा प्रत्येक शिविर में प्रि ऑपरेटिंग, ओ.टी. पोस्ट ऑपरेटिव केयर के लिए कुशल स्टाफ की लिखित ड्यूटी लगाई जाए ओटी के लिए की लिखित ड्यूटी लगाई जाए महिला स्वीकार्यकर्ता की पेशाब जांच हेतु लैब टेक्नीशियन की ड्यूटी लगाई जाए ,शिविर प्रभारी सारी व्यवस्था पर निगरानी रखें प्रत्येक हितग्राही की ऑपरेटिंग जांच में बीपी एवं यूरिन जांच की रिपोर्ट आवेदन फार्म अंकित किए जाने के निर्देश दिए हैं किसी महिला पुरुष की नसबंदी सफलतापूर्वक नहीं हो पाती तो आवेदन पत्र में रिमार्क किया जाए।

कोरोना संक्रमण से बचाव की मुहिम

आयुर्वेद चिकित्सकों ने ग्रामीण क्षेत्रों में किया औषधीय पौधों का वितरण
शहडोल | 10-जुलाई-2020
     कोरोना वायरस के फैलाव को रोकने और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाने में आयुर्वेदिक औषधियों के उपयोग को देखते हुए औषधीय महत्व के पौधों का वितरण गांवों में किया जा रहा है। पण्डित खुशीलाल शर्मा आयुर्वेदिक चिकित्सालय के चिकित्सकों की टीम आयुर्वेदिक औषधियां वितरित करने के साथ ही लोगों को पौधे भी उपलब्ध करा रही है।
औषधीय पोधो में आमलकी, सहिजन, गुडुची, अश्वगंधा, शतावरी आदि पौधों के बारे में लोगों को बताया जा रहा है। आयुष ग्राम कालापानी एवं सुखी सेवनिया में आयुष ग्राम के नोडल अधिकारी ने बताया कि जब तक गांव में लोग औषधीय महत्व के पौधें की उपयोगिता नहीं जानेंगे तब तक इनका उपयोग पूरी तरह नहीं हो पायेगा। इस संबंध में स्थानीय लोगों का ज्ञान बढाना और उन्हें वैज्ञानिक जानकारी देना जरूरी है।
आयुर्वेद चिकित्सकों ने आयुष ग्राम कालापानी के ओषधालय में औषधीय पौधों का वृक्षारोपण किया। चिकित्सकों की टीम ने लोगों को अपने-अपने घरों में पौधा लगाने के लिये पोधे उपलब्ध कराये। उल्लेखनीय है कि आयुष ग्राम कालापानी में कोरोना का संक्रमण बिल्कुल नहीं है।

शाला प्रारंभ करने के संबंध में आमजन से सुझाव आमंत्रित

शहडोल | 18-जून-2020

     कोविड-19 के संक्रमण को ध्यान में रखते हुए केन्द्रीय गृह मंत्रालय एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी निर्देशानुसार समस्त शैक्षणिक संस्थाओं को मार्च 2020 से बंद कर दिया गया था। इस महामारी के नियंत्रण के पश्चात् शैक्षणिक संस्थाएँ पुन: प्रारंभ करने पर विचार किया जा रहा है।
स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा शाला प्रारंभ करने के लिये आमजन से सुझाव आमंत्रित किये गये हैं। सुझाव के लिये शिक्षा विभाग के एजुकेशन पोर्टल पर http://educationportal.mp.gov.in/feedback/public/RegisterUser.aspx लिंक पर सत्र 2020-21 में शाला प्रारंभ करने के संबंध में जनसमुदाय (विद्यार्थी, अभिभावक, स्कूल प्रबंधन, एनजीओ, शिक्षाविद) अपने सुझाव दे सकते हैं।
सुझाव देने के लिये अपना मोबाइल नम्बर फीड करना होगा। फीड किये गये मोबाइल नम्बर पर ओटीपी के वेरिफिकेशन होने पर व्यक्ति अपने सुझाव दे सकते हैं। एक मोबाइल नम्बर से एक ही बार सुझाव दर्ज किया जा सकेगा।

कोरोना की चपेट में आया ककरहाई गांव का एक और युवक

शहडोल  02-जून-2020

जिले में कोरोना संक्रमितों की संख्या अब 11 हो गई है हालांकि इसमें से 3 स्वस्थ होकर घर चले गए हैं लेकिन आठ मरीज अभी भी मेडिकल कॉलेज के कोविड 19 केयर सेंटर में भर्ती हैं जिनकी देखभाल में डॉक्टरों का अमला दिन रात जुटा हुआ है। जिले के सोहागपुर ब्लॉक के गांव ककरहाई में एक और पॉजिटिव केस मिला है। इस गांव में दो सगे भाइयों का

प्रभारी मंत्री ने हायर सेकण्डरी स्कूल भवन छतवई का किया लोकार्पण

शहडोल | 18-फरवरी-2020

प्रदेश शासन के विमुक्त घुमक्कड़ एवं अर्द्ध घुमक्कड़ जनजाति कल्याण विभाग मंत्री एवं शहडोल जिले के प्रभारी  मंत्री श्री ओमकार सिंह मरकाम ने आज शहडोल  जिले के ग्राम छतवई के शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय भवन छतवई में 1 करोड 43 लाख रूपये की लागत से नवनिर्मित हायर सेकण्डरी स्कूल भवन का लोकार्पण किया। इस अवसर पर उन्होने कहा कि ग्राम छतवई में बनाए गए हायर सेकण्डरी स्कूल भवन क्षेत्र के छात्र-छात्राओं के उज्जवल भविष्य केलिए वरदान सबित होगा। उन्होने कहा कि शिक्षक छात्राओं के भविष्य के गढने के लिए उन्हें गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दें। शिक्षा के साथ छात्र-छात्रओं को नैतिक शिक्षा भी दें।

उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार युवाओं का बेहतर भविष्य बनाने के लिए प्रयास कर रही है। इस अवसर पर जिला पंचायत  अध्यक्ष श्री नरेन्द्र सिंह मरावी, विधायक जयसिंहनगर श्री जयसिंह मरावी,  अध्यक्ष जनपद पंचायत बुढार श्री ललन सिंह, कलेक्टर श्री ललित दाहिमा, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री पार्थ जायसवाल सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थें।

लेखिकाओं के लिये करेंगे पुस्तकालय का प्रबंध : मंत्री श्री शर्मा

हिन्दी लेखिका संघ का रजत जयंती समारोह आयोजित
शहडोल | 11-फरवरी-2020

    जनसम्पर्क मंत्री श्री पी.सी. शर्मा ने मध्यप्रदेश हिंदी लेखिका संघ के रजत जयंती समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश में लेखिकाओं के द्वारा साहित्य सृजन के क्षेत्र में प्रशंसनीय कार्य किया जा रहा है। श्री शर्मा ने कहा कि लेखिका संघ द्वारा निरंतर गोष्ठियों का आयोजन किया जाना साहित्य के प्रति रुचि और रचनात्मकता को प्रदर्शित करता है। उन्होंने लेखिकाओं के प्रयासों को दृष्टिगत रखते हुए भोपाल में पुस्तकालय और सभा-कक्ष के स्थायी प्रबंध किये जाने के लिए आश्वस्त किया है।
मंत्री श्री शर्मा ने समारोह में अमृता प्रीतम के व्यक्तित्व और कृतित्व पर केन्द्रित वार्षिक पत्रिका श्सर्जनाश् का विमोचन किया। कार्यक्रम की समन्वयक श्रीमती साधना गंगराड़े ने बताया कि रजत जयंती सम्मान समारोह का आयोजन दो चरणों में किया गया। प्रथम चरण में पुरुस्कार एवं सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। जिसमें मंत्री श्री शर्मा ने उत्कृष्ट लेखन के लिए पुररूस्कृत किया। द्वितीय सत्र में अखिल भारतीय काव्य गोष्ठी का आयोजन हुआ, जिसमें रचनाकारों ने बसंत का स्वागत, समसामयिक मुद्दों, नारी सशक्तिकरण और विमर्श की रचनाएं सुनाई। कार्यक्रम का संचालन प्रथम सत्र में शशि बंसल एवं द्वितीय सत्र में अनुपमा अनुश्री द्वारा किया गया। आभार प्रदर्शन राधा रानी चौहान द्वारा किया गया।
समारोह को विशिष्ट अतिथि डॉ संतोष चौबे, कुलाधिपति रवीन्द्र नाथ टैगोर विश्वविद्यालय और पद्मश्री मेहरुन्निसा परवेज ने भी संबोधित किया। समारोह में आशा श्रीवास्तव और रितुप्रिया ने बसंत और फाग गीत गाए, प्रभा मिश्रा, मधुलिका सक्सेना,उषा सोनी, मंजरी चतुर्वेदी, नविता जौहरी, हंसा श्रीवास्तव, जय तागडे, सीमा हरी शर्मा, सपना ताम्रकार, महिमा श्रीवास्तव वर्मा ने भी अपनी रचनाओं का पाठ किया।

आदिम जाति कल्याण एवं शिक्षा विभाग के निर्माण कार्यों की कमिश्नर ने ली संभागीय स्तरीय समीक्षा बैठक

संभाग के सभी प्राचार्य परीक्षा का रिजल्ट सुधारने करें प्रयत्न- आयुक्त
शहडोल | 28-जनवरी-2020

कमिश्नर शहडोल संभाग श्री आर.बी. प्रजापति ने आज कमिश्नर कार्यालय के सभागार में आदिम जाति कल्याण एवं शिक्षा विभाग के निर्माण कार्यों की  संभाग स्तरीय समीक्षा बैठक लेकर प्राचार्यों को निर्देश दिए है कि आशा के अनुरूप परीक्षा के परिणामों में प्रगति परिलक्षित नही होने पर परीक्षा का रिजल्ट सुधारने के प्रयत्न करें। उन्होने कहा कि  निकट भविष्य में वार्षिक परीक्षाएं होने वाली है जिसे दृष्टिगत रखते हुए सभी प्राचार्य परीक्षा के बेहतर परिणाम लाने हेतु भरसक प्रयास करें। उन्होने कहा कि विद्यालयों के जो निर्माण कार्य पूर्ण हो चुके है उनके संचालन हेतु जिला प्रभारी मंत्री से सम्पर्क कर उनका विधिवत उद्घाटन कराकर उनका विधिवत संचालन कराना सुनिश्चित करें। बैठक में संयुक्त संचालक शिक्षा श्री सुखदेव मरावी, सहायक आयुक्त शहडोल श्री आर.के. श्रोती, उमरिया श्री सिन्हा, पी.आई.यू. के अनुविभागीय अधिकारी गण एवं विद्यालयों के प्राचार्यगण उपस्थित थें।
संभाग स्तरीय विद्यालयों के निर्माण कार्यों की जिलेवार समीक्षा करते हुए कमिश्नर ने कहा कि गोहपारू के घूरसि विद्यालय के निर्माण कार्य के संबंध में तहसीलदार, नायब तहसीलदार एवं आर.आई. को समस्त अभिलेखों सहित 29 जनवरी 2020 को प्राचार्य समक्ष में उपस्थित होकर वस्तुस्थिति से अवगत कराएं। इसी प्रकार बरमानियां विद्यालय, कन्या शिक्षा परिसर शहडोल, बिरौडी कन्या शिक्षा परिसर, बुढ़ार आवासीय आदर्श विद्यालय गुरूकुलम आदि के निर्माण कार्यों की समीक्षा की गई। समीक्षा के दौरान कमिश्नर ने कहा कि जिन निर्माण कार्यों में बजट  उपलब्ध नही है उनके बजट  प्राप्त हेतु शीघ्र पत्र भेजे। बैठक में उमरिया एवं अनूपपुर जिलों के विद्यालयों के निर्माण कार्यों की भी जिलेवार समीक्षा की गई।
बैठक में  शिक्षा विभाग के  निर्माण कार्यों की समीक्षा करते हुए सरवाही, भन्नी, कन्या सोहागपुर, भमरहा, सेहरा, बुढ़नवार, नगनौड़ी, बसई, हुटाहा, भटगावहा, पपरेडी आदि  विद्यालय  के भवनों की जानकारी ली गई। बैठक में अपूर्ण निर्माण कार्यों एवं अप्रारंभ कार्यों की भी  कार्यबार विस्तार से समीक्षा की गई तथा कार्यों में गुणवत्ता पर विशेष नजर रखने एवं समय पर कार्य पूर्ण कराने के निर्देश संबंधित जिलों के पी.आई.यू. के अनुविभागीय अधिकारियों को निर्देशित किया ।

मध्यप्रदेश शासन, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग मंत्री श्री कमलेश्वर पटेल 21 जनवरी को प्रेस से चर्चा करेगें

शहडोल | 21-जनवरी-2020

   मध्यप्रदेश शासन के पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग मंत्री श्री कमलेश्वर पटेल 21 जनवरी 2020 को  सर्किट हाउस शहडोल दोपहर 2 बजे पत्रकारों  से चर्चा करेगें।

कमिश्नर का फोटो निर्वाचक नामावली के द्वितीय चरण का भ्रमण कार्यक्रम जारी

शहडोल | 14-जनवरी-2020
    कमिश्नर शहडोल संभाग श्री आर.बी. प्रजापति का फोटो निर्वाचक नामावली का विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण की समीक्षा कार्यक्रम का द्वितीय चरण का भ्रमण कार्यक्रम जारी किया गया हैं जारी कार्यक्रम के अनुसार 17 जनवरी 2020 को 10.30 बजे कोतमा, 18 जनवरी 2020 को 10.30 जयसिंहनगर एवं 22 जनवरी 2020 को 10.30 पुष्पराजगढ़ में आयुक्त महोदय द्वारा समस्त बीएलओ, सुपर बाइजर, ईआरओ एवं एईआरओ की बैठक लेंगे तथा निरीक्षण भी करेंगे। जारी निर्देश के अनुसार कमिश्नर के भ्रमण कार्यक्रम जन प्रतिनिधीगण, विधायकों तथाा संसद महोदय को भी अवगत कराया जायें एवं इस संबंध में व्यापक प्रचार-प्रसार किया जायें।

नगर परिषद चंदियॉ के तत्कालीन उपयंत्री अशोक कुमार श्रीवास्तव निलंबित

शहडोल | 07-जनवरी-2020
कमिश्नर शहडोल संभाग श्री आर.बी. प्रजापति ने संयुक्त संचालक नगरीय प्रशासन संभाग शहडोल के जॉच प्रतिवेदन आधार पर तत्कालीन प्रभारी उपयंत्री नगर परिषद चंदियॉ वर्तमान लोक निर्माण विभाग उमरिया को मध्यप्रदेश सविल सेवा (वर्गीकरण नियंत्रण तथा अपील) नियम 1966 के नियम 9(1) के तहत तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। निंलबन अवधि में नियमानुसार उन्हें जीवन निर्वाह भत्ते की पात्रता होगी।
जारी आदेश मे उल्लेखित किया गया है कि श्री अशोक कुमार श्रीवास्तव द्वारा नगर परिषद चंदियॉ जिला उमरिया में पदस्थापना अवधि में नगरीय क्षेत्रान्तर्गत भरोसा तालाब, भास्कर तालाब, छोहाई तालाब, जटवार तालाबों के गहरीकरण एवं सौदर्यीकरण कार्य में प्रशासकीय एवं वित्तीय अनियमितता एवं वार्ड नम्बर 6 में नाली निर्माण, वार्ड नम्बर 12 में सीसीरोड़ निर्माण में तकनीकी एवं वित्तीय अनियमितता की गई है। जिससे 24 लाख 46 हजार 727 रूपये की शासन को आर्थिक क्षति पहुँचाई गई है। उक्त कृत्य मध्यप्रदेश नगर पालिका अधिनियम 1961 की धारा 97 एवं मध्यप्रदेश सिविल सेवा आचरण नियम के 1965 के नियम 3 का स्पष्ट उल्लंघन है।

कमिश्नर द्वारा धान खरीदी केन्द्र उफरी का किया गया निरीक्षण

शहडोल | 28-दिसम्बर-2019
    कमिश्नर शहडोल संभाग श्री आर.बी. प्रजापति ने शहडोल जिले के जयसिंहनगर तहसील के धान खरीदी केन्द्र उफरी का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान बताया गया कि आज किसी भी कृषक द्वारा विक्रय हेतु धान केन्द्र में नही लायी गई है। विक्रय केन्द्र उफरी में अन्य कार्य सुपारू रूप से पाया गया।

सभी प्रकार के माफियाओं को चिन्हित कर सख्त कार्यवाही करें:-कमिश्नर

शहडोल | 17-दिसम्बर-2019

कमिश्नर शहडोल संभाग श्री आर.बी. प्रजापति ने शहडोल संभाग के सभी कलेक्टरों को पत्र जारी करते हुए निर्देश दिए है कि शासन की मंशा के अनुरूप समस्त प्रकार के माफियाओं को चिन्हित कर जनता में विश्वास कायम करने के लिए उनके विरूद्व दृढ़ता के साथ कार्यवाही करें।  कमिश्नर ने निर्देश दिए है कि विशेष तौर से खनिज माफिया, भू-माफिया, वन माफियॉ, परिवहन माफिया, शराब माफिया, बाजार माफिया, नारकोटिस माफिया एवं सहकारी माफिया आदि को चिन्हित कर व्यापक अभियान चलाकर ऐसे तत्वों के विरूद्व कठोर कार्यवाही करे, तथा संबंधित विभागों से समन्वय स्थापित कर उक्त तत्वों के विरूद्व कठोर कार्यवाही किया जाना सुनिश्चित करें तथा प्रत्येक माफियाओं के संबंध में सूची तैयार कर मध्यप्रदेश शासन, गृह विभाग भोपाल एवं कमिश्नर कार्यालय शहडोल को भी अवगत कराना सुनिश्चित करें।

जिले नायब तहसीलदारो की पदस्थापना के आदेश जारी

शहडोल | 25-अक्तूबर-2019

  अपर कलेक्टर श्री अशोक ओहरी ने जिले के पदस्थ नायब तहसीलदारो की नवीन पदस्थापना के आदेश जारी किए है। जारी आदेश के अनुसार श्री बी.आर. नेताम नायब तहसीलदार सोहागपुर से तहसील ब्यौहारी, श्री भरत सोनी नायब तहसीलदार को तहसील बुढ़ार, श्री के.एल. टेकाम नायब तहसीलदार बुढ़ार को तहसील गोहपारू, श्री अभयानंद शर्मा नायब तहसीलदार गोहपारू से तहसील सोहागपुर में पदस्थापना की गई है।

श्री के.के. सिंह लेखापाल निलंबित

शहडोल | 22-अक्तूबर-2019

कलेक्टर श्री ललित दाहिमा ने कार्यालय परियोजना प्रशासक एकीकृत आदिवासी विकास शहडोल के लेखापाल श्री के.के. सिंह को निलंबित कर दिया है। जारी निलंबित आदेश में संभागीय उपायुक्त आदिम जाति एवं अनुसूचित जाति विकास विभाग शहडोल द्वारा श्री के.के. सिंह व अन्य के विरूद्ध कोतवाली शहडोल में आपराधिक प्रकरण क्रमांक 368/15 धारा 409,420,434 दर्ज किया गया था। जिसका माननीय न्यायालय में चालान प्रस्तुत किया गया। जिसकी जानकारी श्री सिंह द्वारा विभाग को नही दी गई है। अतः न्यायालय में चालान प्रस्तुत होने के फलस्वरूप श्री के.के. सिंह, लेखापाल को मध्यप्रदेश सिविल सेवा वर्गीकरण नियंत्रण एवं अपील नियम 1966 के नियम 9(1)(ख) के तहत तत्काल प्रभाव से कलेक्टर श्री दाहिमा द्वारा निलंबित कर उनका मुख्यालय खण्ड शिक्षा कार्यालय सोहागपुर नियत किया गया है। निलंबन अवधि में श्री सिंह को जीवन निर्वाह भत्ते की पात्रता होगी।