Sunday, May 16News That Matters

बालाघाट

Share
शासकीय एस.एस.पी.महा. वारासिवनी के रसायन शास्त्र विभाग में अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का हुआ आयोजन

बालाघाट | 20-अप्रैल-2021

   आज दिनांक 19 अप्रैल 2021 को शासकीय एस.एस.पी. महाविद्यालय वारासिवनी के रसायन शास्त्र विभाग में अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन किया गया। जिसमें रसायन शास्त्र विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. राकेश चौरे ने अंतर्राष्ट्रीय सेमिनार के मुख्य अतिथि डॉ. आशीष कुमार वर्मा जो कि अटलांटा शहर के एमोरी यूनिवर्सिटी, जॉर्जिया स्टेट यूएसए में है, के बारे में संक्षिप्त जानकारी दी एवं सभी प्रतिभागियों का स्वागत किया।
कार्यक्रम में उपस्थित महाविद्यालय के प्राचार्य श्री एस.डी. तिरपुड़े ने अपने संक्षिप्त व्याख्यान से सेमिनार में उपस्थित मुख्य अतिथि, विभाग के सभी सहायक प्राध्यापकों एवं समस्त प्रतिभागियों का मर्गदर्शन किया। विभाग के प्रमुख डॉ. राकेश चौरे ने कार्यक्रम में उपस्थित डॉ. आशीष कुमार वर्मा कार्यक्रम के मुख्य वक्ता के बारे मे बताया कि वे एमोरी यूनिवर्सिटी में पोस्ट डॉक्टोरल फेलो है। डॉ आशीष कुमार वर्मा ने एम.एससी. के बाद रसायन शास्त्र में विदेश में कैसे अपने एजुकेशन को जारी रखा जा सकाता है इस बारे में विस्तृत और महत्वपूर्ण जानकारी दी। सहायक प्राध्यापक श्री मोहनिश इड़़पाचे ने रसायन शास्त्र विभाग, महाविद्यालय और वारासिवनी केमिकल सोसायटी के बारे में विस्तृत जानकारी दी और सभी प्रतिभागियों का स्वागत किया।
कार्यक्रम के अंत में विभाग के सहायक प्राध्यापक श्रीमती सविता सेनवार ने सभी प्रतिभागियों, प्राचार्य एवं अतिथि व्याख्याता को धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम में रसायन शास्त्र विभाग के अलावा वारासिवनी केमिकल सोसायटी के अध्यक्ष श्री निखिलेश चौधरी, उपाध्यक्ष निराशा रहांगडाले, कोषाध्यक्ष धरमदीप पालेवार और विशाल पारधी मीडिया प्रभारी दीपिका हरिनखेड़े और भागवत डोहरे तथा समस्त केमिकल सोसायटी के सदस्य उपस्थित थे। इस कार्यक्रम में लगभग 300 से 400 प्रतिभागियों ने भाग लिया।

प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के अंतर्गत आईटीआई लांजी में लघु अवधि प्रशिक्षण का आयोजन

बालाघाट | 13-अप्रैल-2021
     भारत सरकार के “कौशल विकास एवं उधमशीलता  मंत्रालय” तथा म.प्र. राज्य कौशल विकास मिशन के तत्वाधान में  Skill Strengthening for Industrial Value Enhancement (STRIVE) योजना के तहत प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना 3.0 अंतर्गत जिले की शासकीय ओद्योगिक प्रशिक्षण संस्था, बालाघाट में डोमेस्टिक डाटा एंट्री  एवं सेल्फ एम्प्लोयेड टेलर, साथ ही वामपंथ उग्रवाद (lwe)  अंतर्गत शासकीय ओद्योगिक प्रशिक्षण संस्था पालडोंगरी, लांजी में डोमेस्टिक डाटा एंट्री ओपरेटर और डिस्ट्रीब्यूशन लाइनमेन कुल 04 जॉब रोल में प्रशिक्षण दिया जाना है। जिसके लिए न्यूनतम योग्यता 8वी एवं 10वी पास है अतः इच्छुक अभ्यर्थी  अपनी सुविधा एवं योग्यता अनुसार सम्बंधित संस्था में प्रशिक्षण हेतु संपर्क कर सकते है। यह योजना पूर्णतः निःशुल्क है।

सीपीसीटी परीक्षा सर्टिफिकेट की वैद्यता अवधि अब होगी 7 वर्ष : राज्य मंत्री श्री परमार

बालाघाट | 05-मार्च-2021

      स्कूल शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार) एवं सामान्य प्रशासन राज्य मंत्री श्री इन्दर सिंह परमार ने कहा कि सीपीसीटी परीक्षा सर्टिफिकेट की वैद्यता अवधि को 4 वर्ष से बढ़ाकर अब 7 वर्ष किया जा रहा है। श्री परमार मंत्रालय में सीपीसीटी परीक्षा संचालन संबंधी समीक्षा बैठक ले रहे थे। श्री परमार ने कहा कि इससे प्रदेश में सहायक ग्रेड-3, स्टेनो, डाटाएंट्री ऑपरेटर और आई.टी. ऑपरेटर जैसे पदों की भर्ती परीक्षाओं में सम्मिलित होने वाले छात्रों को लाभ होगा।
राज्य मंत्री श्री परमार ने कहा‍कि वर्तमान कोरोना काल की परिस्थितियों और परीक्षार्थियों की सहुलियत को देखते हुए यह फैसला लिया गया है। श्री परमार ने निर्देश दिये कि सीपीसीटी परीक्षा सर्टिफिकेशन की व्यवस्था इस तरह बनाएँ कि परीक्षार्थियों का स्कोर कार्ड दूसरे राज्यों की परीक्षाओं में भी मान्य हो। परीक्षाओं के संचालन की रीयल टाइम मॉनिटरिंग और त्वरित परीक्षा परिणाम जारी करने के लिये आधुनिक प्रौद्योगिकी और तकनीक को अपनाया जाये। परीक्षाओं के संचालन संबंधी सूचनाएँ परीक्षार्थियों को प्रचार-प्रसार के सभी माध्यमों पर उपलब्ध कराएँ।
बैठक में अपर मुख्य सचिव श्री विनोद कुमार, सचिव विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी श्री एम. सेलवेन्द्रन, निदेशक राज्य मुक्त स्कूल शिक्षा बोर्ड श्री प्रभातराज तिवारी और उप सचिव सामान्‍य प्रशासन विभाग श्रीमती दिशा नागवंशी सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

विकासखण्ड स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता में 30 दिव्यांग बच्चे हुए शामिल

बालाघाट | 26-फरवरी-2021
     जनपद शिक्षा केन्द्र बालाघाट में गत दिवस दिव्यांग बच्चों की विकासखण्ड स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में श्री पी0एल0 मेश्राम डीपीसी तथा विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी बालाघाट श्री एन.पी. मलगाम द्वारा दीप प्रज्जवलीत कर कार्यक्रम की शुरूआत की गई। इस प्रतियोगिता में ड्राईंग, पेंटिंग, रंगोली, गायन, मटकीफोड़, दौड़, कुर्सी दौड़ प्रतियोगिताओं रखी गई थी, जिसमें लगभग 30 दिव्यांग बच्चों ने भाग लिया। प्रतियोगिता के उपरान्त सभी छात्रों को पुरूस्कार वितरण किया गया। कार्यक्रम में बीआरसी, बीएसी, जनशिक्षक, एम.आर.सी. संबंधित स्कूल के प्रधाप पाठक उपस्थित रहे।

मिलावट से मुक्ति अभियान

खाद्य तेल विक्रेता प्रतिष्ठानो की हुई जांच, 15 लीटर नमूने एकत्र
बालाघाट | 19-फरवरी-2021
     मिलावट से मुक्ति अभियान के अंतर्गत कलेक्टर महोदय बालाघाट श्री दीपक आर्य के मार्गदर्शन में कार्यवाही करते हुए 15 लीटर पैक खाद्य तेल की मिलावट की शिकायत पर कार्रवाई करते हुए खाद्य सुरक्षा प्रशासन की टीम द्वारा नगर के चार प्रमुख खाद्य तेल विक्रेताओं पर कार्यवाही करते हुए 8 विभिन्न ब्रांड के 15 लीटर खाद्य तेलों के नमूने जांच हेतु लेकर राज्य खाद्य प्रयोगशाला भेजे गए साथ ही अपर कलेक्टर महोदय बालाघाट द्वारा खाद्य सुरक्षा एवं मानक अधिनियम के अंतर्गत आरोपित की गई रू.90000 की शास्ती की वसूली की गई एवं मैजिक बॉक्स से 30 नमूने विभिन्न खाद्य प्रतिष्ठानों से जांच  किए गए।

27 फरवरी को आयोजित होगी स्थाई एवं निरंतर लोक अदालत

बालाघाट | 13-फरवरी-2021

    म.प्र. राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, जबलपुर के निर्देशानुसार एवं श्री अमरनाथ केसरवानी, जिला एवं सत्र न्यायाधीश/अध्यक्ष, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के मार्गदर्शन में स्थाई एवं निरंतर लोक अदालत का आयोजन आगामी 27 फरवरी 2021 को दिन शनिवार को समय प्रात: 11 बजे से शाम 05 बजे तक जिला मुख्यालय में स्थित न्यायालयों एवं तहसील वारासिवनी, बैहर, लांजी, कटंगी के न्यायालयों में किया जावेगा।
लोक अदालत के माध्यम से राजीनामा योग्य सभी प्रकृति के मामले जैसे- धारा 138 एन.आई. एक्ट, मोटर व्हीकल एक्ट के अधीन क्षतिपूर्ति के मामले, पारिवारिक मामले, दाण्डिक मामले, सिविल प्रकृति के मामले साथ ही प्रिलिटिगेशन मामलों का निराकरण पक्षकार आपसी सहमति से राजीनामा करके अपने विवाद का अंतिम रूप से निराकरण करा सकते हैं। ऐसे मामले जिनमें न्यायालय शुल्क अदा किया गया है अगर उन मामलों में राजीनामा होता है तो न्यायालय शुल्क पूरा वापसी योग्य होगा। जिला न्यायालय बालाघाट में तीन खण्डपीठों का गठन किया गया है तथा तहसील वारासिवनी, बैहर में दो-दो खण्डपीठों का एवं कटंगी एवं लांजी में एक-एक खण्डपीठ का गठन किया गया है।
अतः पक्षकार जो अपने मामलों में राजीनामा करना चाहते हैं अपने अधिवक्ता से संपर्क करके राजीनामा प्रस्तुत करने की कार्यवाही शीघ्रता से करें जिससे उनका मामला लोक अदालत में रखा जा सके। दिनांक 18 जनवरी 2021 से न्यायालयों का कार्य सामान्य दिनों की तरह प्रारंभ हो चुका है। एक न्यायालय में एक बार में मास्क लगाकर अधिकतम दस व्यक्ति उपस्थित रह सकते हैं। कोविड-19 से बचाव के लिए सोशल डिस्टेंसिग, बार-बार हाथ धोना एवं मास्क लगाने हेतु जागरूकता कार्यक्रम लगातार जारी है तथा मास्क भी आवश्यकता के मुताबिक उपलब्ध कराये जा रहे हैं।

प्राध्यापकों को होगा जनवरी 2016 से लंबित एरियर्स का भुगतान

राज्य शासन द्वारा आदेश जारी
बालाघाट | 05-फरवरी-2021

    उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव के विशेष प्रयास से राज्य शासन द्वारा प्राध्यापकों को यूजीसी सातवें पुनरीक्षित वेतनमान के एरियर्स के भुगतान के संबंध में आदेश जारी कर दिये गये है। इसके तहत प्रदेश के महाविद्यालयों एवं विश्व विद्यालयों में कार्यरत प्राध्यापकों एवं अन्य शैक्षणिक अधिकारियों को 1 जनवरी 2016 से 31 दिसम्बर 2018 तक के एरियर्स का भुगतान किया जायेगा।
उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. यादव ने लंबित एरियर्स का भुगतान कराने के लिए व्यक्तिगत रूचि लेकर प्रयास किये। इसके परिणाम स्वरूप भारत सरकार से सातवें पुनरीक्षित वेतनमान के एरियर्स भुगतान की स्वीकृति प्राप्त हुई। जारी आदेश के अनुसार यूजीसी सातवें वेतनमान में कुल एरियर्स का 50 प्रतिशत भुगतान किया जायेगा। शेष राशि वित्त विभाग से उपलब्ध होने पर भुगतान की जायेगी। एरियर्स की राशि से नियमानुसार आयकर की कटौती कर अधिकारियों के भविष्य निधि खाते में स्थानान्तरित की जायेगी।

संयुक्त संचालक श्री गौतम ने पशु पालन के विभागीय कार्यक्रमों का लिया जायजा

बालाघाट | 04-दिसम्बर-2020

   डॉ. ए.पी. गौतम, संयुक्त संचालक, पशु पालन विभाग जबलपुर संभाग, 02 एवं 03 दिसंबर 2020 को जिले के दो दिवसीय प्रवास पर रहे। अपने इस प्रवास के दौरान उन्होंने विभागीय कार्यक्रमो का निरीक्षण किया। उनके द्वारा पुनर्घनत्वीकरण के प्रस्तावों के क्रियान्वयन हेतु चर्चा की गई और एन.ए.डी.सी.पी कार्यक्रम के अंतर्गत विकासखंड बालाघाट के ग्राम टवेझरी एवं विकासखंड वारासिवनी के ग्राम सरण्डी का निरीक्षण किया गया।
संयुक्त संचालक डॉ गौतम द्वारा ग्राम टवेझरी में एनएडीसीपी के अलावा नेपीयर ग्रास, बायोगैस संयंत्र, बकरियों में कृत्रिम गर्भाधान, इन्टेग्रेटेड फार्मिग, केट्टस कल्टीवेशन, समाधी खाद आदि का भी निरीक्षण किया गया तथा इन्टेग्रेटेड फार्मिग को बढ़ाने के लिये निर्देश दिये गये। कंचनपुर, वि.ख. वारासिवनी में स्थित श्री भूपेन्द्र भगत एवं लोकेश गौतम के 18 हजार ब्रायलर पक्षियों को पूर्ण आटोमेटेड मुर्गी फार्म का निरीक्षण किया गया तथा विभागीय अधिकारियों को मुर्गी पालन एफ.पी.ओ. गठन हेतु निर्देश दिए गये। इसके अतिरिक्त गौवंश संरक्षण समिति गौशाला, वारासिवनी का भ्रमण कर श्री विनोद संचेती, सचिव गौशाला को पशुओं के चारा, भूसा तथा पेयजल एवं गौशाला के प्रबंधन हेतु आवश्यक निर्देश दिये गये। निरीक्षण के दौरान, डॉ. ए. के. खरे, पशु प्रजनन कार्यक्रम अधिकारी, डॉ. उमा परते, नोडल अधिकारी जिला गौशाला, डॉ. विनोद कुमार बिसेन, डॉ. योगेन्द्र घोड़ेसवार, डॉ अरूण नेमा, श्री विवेक कुमार जनबंधु, श्री पी.एल. कुमरे, सहायक पशु चिकित्सा क्षेत्र अधिकारी उपस्थित रहे।

28 नवंबर को जिले में हल्की वर्षा की संभावना

बालाघाट | 28-नवम्बर-2020
           राणा हनुमान सिंह कृषि विज्ञानं केंद्र बड़गाँव बालाघाट को, भारत मौसम विज्ञान विभाग के क्षेत्रीय कार्यालय भोपाल, से प्राप्त 5 दिवसीय मध्यम श्रेणी मौसम पूर्वानुमान के अनुसार बालाघाट जिले में 28 नवंबर 2020 को हल्‍की वर्षा की संभावना है। किसानों को सलाह दी गई है कि वे धान की कटाई न करें और जो धान कट गई है उसे सुरक्षित स्थान पर रखें।

कलेक्ट्रेट में कराया गया तीन जोड़ों का विवाह

बालाघाट | 20-नवम्बर-2020
     कलेक्ट्रेट कार्यालय बालाघाट में विशेष विवाह अधिनियम के तहत 18 नवम्बर को दोनों जोड़ो का विवाह कराया गया। विशेष विवाह अधिनियम के तहत विशेष विवाह अधिकारी एवं अपर कलेक्टर श्री फ्रेंक नोबल ए ने तीनों जोड़ों के गवाहों की पहचान कर उनके समक्ष नवविवाहित जोडो का विवाह करवाया और उन्हें विवाह प्रणाम पत्र प्रदान किया।
बालाघाट जिले की तहसील लांजी के वॉर्ड नम्बर 13 निवासी 25 वर्षीय प्रवीण कार्लेकर  एवं लांजी के वार्ड नंबर 13 की निवासी 19 वर्षीय संध्या उईके ने विवाह कराने के लिए विशेष विवाह अधिकारी के समक्ष आवेदन प्रस्तुत किया था। इसी प्रकार वारासिवनी तहसील के ग्राम मेहंदीवाडा के निवासी 24 वर्षीय सौरभ चौहान एवं वारासिवनी तहसील के ही ग्राम खापा की निवासी 22 वर्षीय  पायल शेन्द्रे एवं वारासिवनी तहसील के ग्राम लिंगमारा निवासी 25 वर्षीय विनोद बिजेवार व लालबर्रा तहसील के ग्राम नगपुरा की निवासी 19 वर्षीय शिवानी खांडेकर ने विशेष विवाह अधिकारी के समक्ष विवाह कराने के लिए आवेदन प्रस्तुत किया था।
18 नवम्बर को कलेक्ट्रेट कार्यालय में तीनों जोड़ों के वर-वधु ने एक दूजे को वरमाला पहनाकर मिठाई खिलाई और जीवन भर एक दूजे का साथ निभाने का संकल्प लिया। विवाहित जोडे इस विवाह से प्रसन्न थे। इस सरकारी शादी में आधुनिक होते हुए समाज में विवाह के बढ़ते खर्च को कम करने पर व जात-पात के बंधन को तोड़ने का संदेश भी दिया है।

रेरा में प्रोजेक्ट पंजीकरण के आवेदन अब ऑनलाईन जमा होंगे

ऑनलाईन परीक्षण के लिए सिर्फ 5 दस्तावेज की हार्ड कॉपी ही जमा होगी
बालाघाट | 10-जुलाई-2020

           कोरोना महामारी के चलते म.प्र. भू-संपदा विनियामक प्राधिकरण रेरा में परियोजना के प्रमोटर को प्रोजेक्ट पंजीकरण का आवेदन पत्र रेरा वेब एप्लीकेशन के माध्यम से ऑनलाईन जमा करना होगा। रेरा द्वारा परीक्षण करने के लिए प्रमोटर को मात्र पाँच आवश्यक दस्तावेज की हार्ड कॉपी ही जमा करनी होगी। शेष दस्तावेज ऑनलाईन ही जमा होंगे।

रेरा में प्रमोटर को आवेदन पत्र के साथ हार्ड कॉपी के रूप में जो पाँच दस्तावेज जमा करने होंगे, उनमें खसरा (फॉर्म बी 1) की जेरॉक्स की सत्यापित प्रति, नई परियोजना के लिए शपथ पत्र की मूल प्रति, शपथ-पत्र सह घोषणा (फॉर्म बी) की मूल प्रति या आवेदन में आवश्यकतानुसार कोई अन्य शपथ-पत्र देना शामिल है। साथ ही ए-3 आकार के कागज में नगर तथा ग्राम निवेश विभाग से स्वीकृत ले आउट प्लान और सक्षम प्राधिकरण से स्वीकृत भवन प्लान के सत्यापित दस्तावेज ही प्रस्तुत करना होगा। अन्य किसी अभिलेख की हार्ड कॉपी प्राधिकरण में जमा करने की आवश्यकता नहीं होगी। ऑनलाईन दस्तावेज ही पर्याप्त होंगे।

ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी नंदागौली निलंबन से बहाल

बालाघाट | 19-जून-2020

     11 मई 2020 को रात्री में कंजई बेरियर पर यात्रियों को लेकर आई बस को बगैर रोके बालाघाट जाने देने एवं कंजई बेरियर पर यात्रियों का स्वास्थ्य परीक्षण नहीं कराने के मामले में कलेक्टर श्री दीपक आर्य ने ग्रामीण कृषि विस्तार अधिकारी दिलीप कुमार नंदागौली के विरूद्ध निलंबन की कार्यवाही की थी। श्री नंदागौली द्वारा दिये गये अभयावेदन पर विचार करते हुए एवं वर्तमान खरीफ सीजन में कर्मचारियों की कमी को देखते हुए कलेक्टर श्री आर्य ने श्री नंदागौली को निलंबन से बहाल करने और उन्हें आगामी आदेश तक के लिए ग्राम कटंगझरी में पदस्थ करने का आदेश दिया है।

“गौवंश संरक्षण” के लिये स्लोगन प्रतियोगिता

बालाघाट | 11-फरवरी-2020

  “मुख्यमंत्री गौसेवा योजना” अंतर्गत “गौवंश संरक्षण” के महत्व पर पशुपालन विभाग ने mp.mygov.in के माध्यम से स्लोगन प्रतियोगिता आयोजित की है। इसकी पुरस्कार राशि 10 हजार रूपये है। प्रतिष्टियाँ प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि 29 फरवरी 2020 नियत की गई है। इस प्रतियोगिता में नागरिक अधिकतम 20 शब्दों में स्लोगन दे सकते है। प्रतिष्टि को उसके लॉग-इन विवरण के आधार पर ही प्रतियोगिता में शामिल किया जायेगा। प्राप्त प्रविष्टियों का उपयोग कर सर्वाधिकार गौपालन एवं पशुधन संवर्धन बोर्ड के पास सुरक्षित रहेगा। अधिक जानकारी के लिये वेब पोर्टल mp.mygov.in पर संपर्क किया जा सकता है।

आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम

24 दिसम्बर को मोहगांव एवं 26 दिसम्बर को अमई में शिविर का आयोजन
बालाघाट | 21-दिसम्बर-2019

  आम जनता की समस्याओं एवं शिकायतों का मौके पर ही निराकरण करने के मकसद से प्रदेश सरकार द्वारा आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम चलाया जा रहा है। इसके अंतर्गत आगामी 24 दिसम्बर को कटंगी विकासखंड के ग्राम मोहगांव में एवं 26 दिसम्बर को खैरलांजी विकासखंड के ग्राम अमई में समाधान शिविर लगाया जायेगा। शिविर प्रारंभ होने के पूर्व सभी अधिकारी संबंधित ग्राम का भ्रमण कर आम जनता से उसकी समस्याओं को जानने का प्रयास करेंगें। जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमती रजनी सिंह ने सभी विभागों के अधिकारियों को इन शिविरों में उपस्थित रहकर ग्रामीणों की अपने विभाग से संबंधित समस्याओं एवं शिकायतों का समाधान करें। इसके साथ ही शिविर में ग्रामीणों को अपने विभाग से संबंधित योजनाओं की जानकारी प्रदान करने कहा गया है।

शासकीय शालाओं में 19 अक्टूबर को शिक्षक-अभिभावक बैठक का आयोजन

बालाघाट | 18-अक्तूबर-2019

मध्यप्रदेश शासन स्कूल शिक्षा विभाग के निर्देशों के अनुसार जिले की समस्‍त शासकीय शालाओं में 19 अक्टूबर 2019 को शिक्षक-अभिभावक बैठक का आयोजन किया जाना है। सर्व शिक्षा अभियान के जिला परियोजना समन्वयक श्री पी के अंगूरे ने सभी शालाओं के प्रधान पाठकों को निर्देशित किया है कि वे समस्त शासकीय शालाओं में अभिभावकों की जनभागिदारी सुनिश्चित किये जाने के लिए बैठक की सूचना बच्चों के माध्यम से अभिभावकों तक पहुंचाना सुनिश्चित करे। शिक्षक-अभिभावक बैठक में अभिभावकों से बच्चों के त्रैमासिक परीक्षा परिणाम, दक्षता उन्नयन की कॉपीयां, बच्चों की उपस्थिति आदि एवं अन्य बिन्दुओं पर चर्चा की जायेगी।

अल्पकालीन लेखा प्रशिक्षण 21 अक्टूबर से 21 नवम्बर तक

बालाघाट | 11-अक्तूबर-2019

शासकीय लेखा प्रशिक्षण शाला जबलपुर में 21 अक्टूबर से 21 नवम्बर तक संभाग के सभी शासकीय कार्यालयों के कर्मचारियों के लिए अल्पकालिक लेखा प्रशिक्षण का आयोजन किया जाएगा। इस प्रशिक्षण में पहले लेखा प्रशिक्षण प्राप्त कर्मचारी भी सम्मिलित हो सकते हैं।
प्राचार्य शासकीय लेखा प्रशिक्षण शाला ने बताया कि संभाग के सभी कार्यालय प्रमुखों से अपील की गई है कि प्रशिक्षण के लिए कार्यालय से कर्मचारियों का नाम प्रस्तावित करें। प्रशिक्षण सशुल्क है। जिसकी राशि विभाग द्वारा प्रवेश के समय चालान के माध्यम से जमा की जाएगी। पेंशन संबंधी प्रशिक्षण 21 अक्टूबर से 23 अक्टूबर तक, अंकेक्षण प्रशिक्षण 24 अक्टूबर से 31 अक्टूबर तक, भण्डार प्रबंधन एक नवम्बर से सात नवम्बर तक और कैशियर एवं एकाउंटेंट संबंधी कार्य का प्रशिक्षण 8 नवम्बर से 21 नवम्बर तक दिया जाएगा। पेंशन के 500 रूपए, अंकेक्षण हेतु 1000 रूपए, भण्डार प्रबंधन के लिए एक हजार रूपए और कैशियर एवं एकाउंटेंट कार्य प्रशिक्षण शुल्क प्रति प्रशिक्षार्थी दो हजार रूपए होगा।

जिले में 1230 मि.मी. औसत वर्षा रिकार्ड

बालाघाट | 05-अक्तूबर-2019

जिले में चालू वर्षा सत्र के दौरान एक जून से 04 अक्टूबर 2019 तक 1230 मि.मी. औसत वर्षा रिकार्ड की गई है। जबकि गत वर्ष इसी अवधि में भी 1035 मि.मी. वर्षा रिकार्ड की गई थी। जिले की औसत सामान्य वर्षा 1447 मि.मी. है। चालू वर्षा सत्र-2019 में अब तक सबसे अधिक 1714 मि.मी. वर्षा परसवाड़ा तहसील में तथा सबसे कम 626 मि.मी. वर्षा खैरलांजी तहसील में हुई है। इस वर्ष जिले में अब तक गत वर्ष की तुलना में 195 मि.मी. अधिक वर्षा हुई है।
चालू वर्षा सीजन-2019 में बालाघाट तहसील में 1341 मि.मी., वारासिवनी में 1278 मि.मी., बैहर में 1431 मि.मी., लांजी में 1033 मि.मी., कटंगी में 984 मि.मी., किरनापुर में 1535 मि.मी., लालबर्रा मे 1186 मि.मी., बिरसा में 1337 मि.मी. तथा तिरोडी में 1052 मि.मी. वर्षा रिकार्ड की गई है।
04 अक्टूबर 2019 को प्रात: 08 बजे समाप्त हुए 24 घंटे के दौरान कटंगी तहसील में 11 मि.मी., खैरलांजी मे 14 मि.मी. एवं तिरोड़ी तहसील में 09 मि.मी. वर्षा रिकार्ड की गई है। इस प्रकार बीते 24 घंटों मे बालाघाट जिले में 03 मि.मी. औसत वर्षा रिकार्ड की गई है।
गत वर्ष 2018 में इसी अवधि में बालाघाट तहसील में 1080 मि.मी., वारासिवनी में 903 मि.मी., बैहर में 1130 मि.मी., लांजी में 1028 मि.मी., कटंगी में 641 मि.मी., किरनापुर में 1420 मि.मी., खैरलांजी में 1203 मि.मी., लालबर्रा में 795 मि.मी., बिरसा में 884 मि.मी., तिरोड़ी में 1006 मि.मी. तथा परसवाड़ा तहसील में 1177 मि.मी. वर्षा रिकार्ड की गई थी। माह अक्टूबर में सामान्य रूप से 63 मि.मी. वर्षा होना चाहिए और 01 जून से 04 अक्टूबर तक औसत 1450 मि.मी. वर्षा होना चाहिए। लेकिन इस वर्ष कम वर्षा हुई है।

जिले में 1135 मि.मी. औसत वर्षा रिकार्ड

बालाघाट | 27-सितम्बर-2019

जिले में चालू वर्षा सत्र के दौरान एक जून से 26 सितम्बर 2019 तक 1135 मि.मी. औसत वर्षा रिकार्ड की गई है। जबकि गत वर्ष इसी अवधि में भी 1035 मि.मी. वर्षा रिकार्ड की गई थी। जिले की औसत सामान्य वर्षा 1447 मि.मी. है। चालू वर्षा सत्र-2019 में अब तक सबसे अधिक 1552 मि.मी. वर्षा परसवाड़ा तहसील में तथा सबसे कम 574 मि.मी. वर्षा खैरलांजी तहसील में हुई है। इस वर्ष जिले में अब तक गत वर्ष की तुलना में 100 मि.मी. अधिक वर्षा हुई है।
चालू वर्षा सीजन-2019 में बालाघाट तहसील में 1261 मि.मी., वारासिवनी में 1173 मि.मी., बैहर में 1287 मि.मी., लांजी में 1018 मि.मी., कटंगी में 813 मि.मी., किरनापुर में 1465 मि.मी., लालबर्रा मे 1101 मि.मी., बिरसा में 1254 मि.मी. तथा तिरोडी में 974 मि.मी. वर्षा रिकार्ड की गई है।
26 सितम्बर 2019 को प्रात: 08 बजे समाप्त हुए 24 घंटे के दौरान बालाघाट तहसील में 19 मि.मी., वारासिवनी में 10 मि.मी., बैहर मे 08 मि.मी., लांजी में 20 मि.मी., कटंगी में 53 मि.मी., किरनापुर मे 44 मि.मी., खैरलांजी में 46 मि.मी. लालबर्रा में 07 मि.मी., बिरसा में 08 मि.मी., तिरोड़ी मे 21 मि.मी. एवं परसवाड़ा तहसील में 11 मि.मी. वर्षा रिकार्ड की गई है। इस प्रकार बीते 24 घंटों मे बालाघाट जिले में 23 मि.मी. औसत वर्षा रिकार्ड की गई है।
गत वर्ष 2018 में इसी अवधि में बालाघाट तहसील में 1080 मि.मी., वारासिवनी में 903 मि.मी., बैहर में 1130 मि.मी., लांजी में 1028 मि.मी., कटंगी में 641 मि.मी., किरनापुर में 1420 मि.मी., खैरलांजी में 1203 मि.मी., लालबर्रा में 795 मि.मी., बिरसा में 884 मि.मी., तिरोड़ी में 1006 मि.मी. तथा परसवाड़ा तहसील में 1177 मि.मी. वर्षा रिकार्ड की गई थी। माह सितम्बर में सामान्य रूप से 238 मि.मी. वर्षा होना चाहिए और 01 जून से 25 सितम्बर तक औसत 1412 मि.मी. वर्षा होना चाहिए। लेकिन इस वर्ष कम वर्षा हुई है।

शहीद राजा शंकर शाह एवं कुंवर रघुनाथ शाह के बलिदान दिवस कार्यक्रम में शामिल हुए खनिज मंत्री श्री जायसवाल

बालाघाट | 20-सितम्बर-2019

आदिवासी गोंडवाना समाज द्वारा 18 सितम्बर को वारासिवनी में बलिदान दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। गोंडवाना के अमर शहीद राजा शंकरशाह और कुंवर रघुनाथ शाह के बलिदान दिवस पर आयोजित इस कार्यक्रम में मध्यप्रदेश शासन के खनिज साधन मंत्री श्री प्रदीप जायसवाल भी शामिल हुए और अमर शहीदों को श्रद्धांजली दी। इस कार्यक्रम में नगर पालिका वारासिवनी के अध्यक्ष श्री विवेक पटेल भी उपस्थित थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता श्री तारासिंह मर्सकोले ने की। इस कार्यक्रम में गोंडवाना छात्र संगठन श्री श्री मोहन मरकाम विशिष्ट अतिथि के रूप में उपस्थित थे।
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि खनिज मंत्री श्री जायसवाल ने इस अवसर पर अपने संबोधन में कहा कि राजा शंकरशाह और कुंवर रघुनाथ शाह की क्रांतिकारी गतिविधियों के कारण अंग्रेज हुकूमत ने 14 सितम्बर 1857 को पिता और पुत्र को गिरफ्तार कर लिया था और 17 सितम्बर 1857 को पिता-पुत्र को मौत की सजा सुनाते वक्त कहा गया यदि वे माफी मांग लें तो सजा माफ कर दी जाएगी। परन्तु आजादी के दीवाने पिता-पुत्र ने माफी नहीं मांगी और 18 सितम्बर को देश के लिए बलिदान हो गए।
मंत्री श्री जायसवाल ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ ने आदिवासी वर्ग के कल्याण के लिए सार्थक पहल की है। आदिवासी वर्ग के परिवार में बच्चे के जन्म एवं किसी सदस्य की मृत्यु होने पर अनाज देने की योजना बनाई है। आदिवासी वर्ग के सामाजिक कार्यक्रमों के लिए बड़े बर्तन प्रदाय करने की व्यवस्था की गई है। आदिवासी वर्ग के लोगों को साहूकारों के शोषण से बचाने के लिए कदम उठाये गये है। आदिवासी वर्ग के लोगों को 10 हजार रुपये तक के ओव्हर ड्राफ्ट की सुविधा प्रदान की गई है। मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ के नेतृत्व वाली प्रदेश सरकार आदिवासी वर्ग के कल्याण एवं विकास के लिए कोई कसर बाकी नहीं रखेगी।
मंत्री श्री जायसवाल ने कहा कि आदिवासी वर्ग के सामुदायिक भवन की बाउंड्रीवाल, शौचालय, किचन आदि के लिए विधायक निधि से राशि उपलब्ध कराई जायेगी। इसके अलावा जो भी जरूरी कार्य होंगें उनके लिए भी राशि उपलब्ध कराई जायेगी। इस अवसर पर आदिवासी वर्ग के प्रतिभावान छात्र-छात्राओं को सम्मानित किया गया।

जिले में 1074 मि.मी. औसत वर्षा रिकार्ड

परसवाड़ा तहसील में सबसे अधिक 1474 मि.मी. वर्षा

बालाघाट | 14-सितम्बर-2019

जिले में चालू वर्षा सत्र के दौरान एक जून से 13 सितम्बर 2019 तक 1074 मि.मी. औसत वर्षा रिकार्ड की गई है। जबकि गत वर्ष इसी अवधि में भी 1006 मि.मी. वर्षा रिकार्ड की गई थी। जिले की औसत सामान्य वर्षा 1447 मि.मी. है। चालू वर्षा सत्र-2019 में अब तक सबसे अधिक 1474 मि.मी. वर्षा परसवाड़ा तहसील में तथा सबसे कम 485 मि.मी. वर्षा खैरलांजी तहसील में हुई है। इस वर्ष जिले में अब तक गत वर्ष की तुलना में 68 मि.मी. अधिक वर्षा हुई है।
चालू वर्षा सीजन-2019 में बालाघाट तहसील में 1220 मि.मी., वारासिवनी में 1132 मि.मी., बैहर में 1279 मि.मी., लांजी में 940 मि.मी., कटंगी में 726 मि.मी., किरनापुर में 1378 मि.मी., लालबर्रा मे 1085 मि.मी., बिरसा में 1235 मि.मी. तथा तिरोडी में 854 मि.मी. वर्षा रिकार्ड की गई है।
13 सितम्बर 2019 को प्रात: 08 बजे समाप्त हुए 24 घंटे के दौरान बालाघाट तहसील में 03 मि.मी., वारासिवनी में 13 मि.मी., बैहर मे 25 मि.मी., लांजी में 20 मि.मी., कटंगी में 04 मि.मी., किरनापुर मे 15 मि.मी., खैरलांजी में 07 मि.मी. लालबर्रा में 23 मि.मी., बिरसा में 16 मि.मी., तिरोड़ी मे 18 मि.मी. एवं परसवाड़ा तहसील में 35 मि.मी. वर्षा रिकार्ड की गई है। इस प्रकार बीते 24 घंटों मे बालाघाट जिले में 16 मि.मी. औसत वर्षा रिकार्ड की गई है।
गत वर्ष 2018 में इसी अवधि में बालाघाट तहसील में 1058 मि.मी., वारासिवनी में 892 मि.मी., बैहर में 1110 मि.मी., लांजी में 934 मि.मी., कटंगी में 636 मि.मी., किरनापुर में 1341 मि.मी., खैरलांजी में 1183 मि.मी., लालबर्रा में 792 मि.मी., बिरसा में 858 मि.मी., तिरोड़ी में 990 मि.मी. तथा परसवाड़ा तहसील में 1152 मि.मी. वर्षा रिकार्ड की गई थी। माह सितम्बर में सामान्य रूप से 238 मि.मी. वर्षा होना चाहिए और 01 जून से 13 सितम्बर तक औसत 1313 मि.मी. वर्षा होना चाहिए। लेकिन इस वर्ष कम वर्षा हुई है।

जिले में 771 मि.मी. औसत वर्षा रिकार्ड
परसवाड़ा तहसील में सबसे अधिक 1079 मि.मी. वर्षा

बालाघाट | 31-अगस्त-2019

जिले में चालू वर्षा सत्र के दौरान एक जून से 30 अगस्त 2019 तक 771 मि.मी. औसत वर्षा रिकार्ड की गई है। जबकि गत वर्ष इसी अवधि में भी 933 मि.मी. वर्षा रिकार्ड की गई थी। जिले की औसत सामान्य वर्षा 1447 मि.मी. है। चालू वर्षा सत्र-2019 में अब तक सबसे अधिक 1079 मि.मी. वर्षा परसवाड़ा तहसील में तथा सबसे कम 366 मि.मी. वर्षा खैरलांजी तहसील में हुई है। इस वर्ष जिले में अब तक गत वर्ष की तुलना में 173 मि.मी. कम वर्षा हुई है।
चालू वर्षा सीजन-2019 में बालाघाट तहसील में 882 मि.मी., वारासिवनी में 916 मि.मी., बैहर में 888 मि.मी., लांजी में 697 मि.मी., कटंगी में 425 मि.मी., किरनापुर में 885 मि.मी., लालबर्रा मे 774 मि.मी., बिरसा में 924 मि.मी. तथा तिरोडी में 642 मि.मी. वर्षा रिकार्ड की गई है।
गत वर्ष 2018 में इसी अवधि में बालाघाट तहसील में 916 मि.मी., वारासिवनी में 811 मि.मी., बैहर में 1039 मि.मी., लांजी में 854 मि.मी., कटंगी में 611 मि.मी., किरनापुर में 1208 मि.मी., खैरलांजी में 1091 मि.मी., लालबर्रा में 789 मि.मी., बिरसा में 818 मि.मी., तिरोड़ी में 941 मि.मी. तथा परसवाड़ा तहसील में 1084 मि.मी. वर्षा रिकार्ड की गई थी। माह अगस्त में सामान्य रूप से 445 मि.मी. वर्षा होना चाहिए और 01 जून से 30 अगस्त तक औसत 1200 मि.मी. वर्षा होना चाहिए। लेकिन इस वर्ष कम वर्षा हुई है।

कोटवार जाति पिछड़ा वर्ग सूची से विलोपित 

बालाघाट | 27-अगस्त-2019

राज्य शासन ने कोटवार जाति को पिछड़ा वर्ग की सूची से विलोपित कर दिया है। पिछड़ा वर्ग की सूची में कोटवार जाति सरल क्रमांक-57 पर दर्ज थी। पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण विभाग ने इस बारे में आदेश जारी कर दिया है।

जिले में 627 मि.मी. औसत वर्षा रिकार्ड

परसवाड़ा तहसील में सबसे अधिक 896 मि.मी. वर्षा 

बालाघाट | 16-अगस्त-2019

 जिले में चालू वर्षा सत्र के दौरान एक जून से 15 अगस्त 2019 तक 627 मि.मी. औसत वर्षा रिकार्ड की गई है। जबकि गत वर्ष इसी अवधि में भी 656 मि.मी. वर्षा रिकार्ड की गई थी। जिले की औसत सामान्य वर्षा 1447 मि.मी. है। चालू वर्षा सत्र-2019 में अब तक सबसे अधिक 896 मि.मी. वर्षा परसवाड़ा तहसील में तथा सबसे कम 262 मि.मी. वर्षा खैरलांजी तहसील में हुई है। इस वर्ष जिले में अब तक गत वर्ष की तुलना में 29 मि.मी. वर्षा कम हुई है।
चालू वर्षा सीजन-2019 में बालाघाट तहसील में 749 मि.मी., वारासिवनी में 751 मि.मी., बैहर में 680 मि.मी., लांजी में 604 मि.मी., कटंगी में 341 मि.मी., किरनापुर में 735 मि.मी., लालबर्रा मे 587 मि.मी., बिरसा में 7367 मि.मी. तथा तिरोडी में 523 मि.मी. वर्षा रिकार्ड की गई है।
15 अगस्त 2019 को प्रात: 08 बजे समाप्त हुए 24 घंटे के दौरान बालाघाट तहसील में 19 मि.मी., वारासिवनी में 06 मि.मी., बैहर मे 20 मि.मी., लांजी में 05 मि.मी., कटंगी में 08 मि.मी., किरनापुर मे 00 मि.मी., खैरलांजी में 07 मि.मी. लालबर्रा में 13 मि.मी., बिरसा में 28 मि.मी., तिरोड़ी मे 08 मि.मी. एवं परसवाड़ा तहसील में 33 मि.मी. वर्षा रिकार्ड की गई है। इस प्रकार बीते 24 घंटों मे बालाघाट जिले में 13 मि.मी. औसत वर्षा रिकार्ड की गई है।
गत वर्ष 2018 में इसी अवधि में बालाघाट तहसील में 629 मि.मी., वारासिवनी में 534 मि.मी., बैहर में 912 मि.मी., लांजी में 704 मि.मी., कटंगी में 325 मि.मी., किरनापुर में 878 मि.मी., खैरलांजी में 622 मि.मी., लालबर्रा में 367 मि.मी., बिरसा में 690 मि.मी., तिरोड़ी में 619 मि.मी. तथा परसवाड़ा तहसील में 802 मि.मी. वर्षा रिकार्ड की गई थी। माह अगस्त में सामान्य रूप से 445 मि.मी. वर्षा होना चाहिए और 01 जून से 15 अगस्त तक औसत 984 मि.मी. वर्षा होना चाहिए। लेकिन इस वर्ष कम वर्षा हुई है।

बच्चों को कृमिनाशक दवा खिलाने के लिए लालबर्रा में दिया गया प्रशिक्षण 

बालाघाट | 06-अगस्त-2019

आज सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र लालबर्रा में राष्ट्रीय कृमि दिवस की उन्मुखीकरण कार्यशाला का आयोजन किया गया था। स्वास्थ्य विभाग एवं महिला बाल विकास के सहयोग से आयोजित इस कार्यशाला में क्लिंटन फाउंडेशन के परियोजना समन्वयक एनिमिया और कुपोषण अमरेश सिंह परिहार ने आंगनवाड़ी कार्यकर्त्ता को बताया कि आगामी 08 अगस्त को राष्ट्रीय कृमि दिवस पर आंगनवाड़ी केन्द्र के सभी बच्चों को कृमि नाशक दवा एल्‍बेंडाजोल की गोली खिलाना है। एक से 2 साल के बच्चो को आधी गोली पीस कर तथा 2 साल से ऊपर बच्चो को एक गोली देना है और जो बच्चे छूट जाएंगे उनको 13 तारीख को मापअप दिवस में खिलाना है। कार्यशाला में ब्लाक प्रोग्राम मैनेजर श्री भुवनेश्वर बोपचे, बीईई श्रीमती बिसेन, महिला बाल विकास से, श्रीमती यशोदा भगत, पर्यवेक्षक, श्रीमती सुषमा चौबे, श्रीमती यशोदा उइके, श्रीमती गीता बिसेन, श्रीमती संगीता गोपाल, श्रीमती पूजा शेन्द्रे, श्रीमती नाजिया खान सहित सभी आंगनवाड़ी कार्यकर्ता उपस्थित थी।

खाद्य सामग्री में मिलावट की जांच के लिए बैहर में लिए गये सैंपल 

बालाघाट | 26-जुलाई-2019

कलेक्टर श्री दीपक आर्य ने खाद्य एवं औषधि प्रशासन के अधिकारियों को खाद्य सामग्री विक्रय करने वाले प्रतिष्ठानों की जांच करने एवं उनमें बिकने वाली खाद्य सामग्री के सेंपल जांच के लिए एकत्र करने के निर्देश दिये है। इसी कड़ी में आज बैहर में खाद्य सामग्री विक्रेताओं के प्रतिष्ठानों की जांच की गई और वहां से खाद्य सामग्री के सेंपल एकत्र किये गये है। बैहर के एसडीएम श्री चन्द्र प्रताप गोहल ने बताया कि खाद्य सामग्री के एकत्र नमूनों को जांच के लिए प्रयोगशाला में भेजा जा रहा है। प्रयोगशाला में जांच में खाद्य सामग्री में मिलावट पायी जायेगी तो संबंधित विक्रेता के विरूद्ध प्रकरण दर्ज कर कार्यवाही की जायेगी। सिंथेटिक दूध और इससे बने अन्य दुग्ध उत्पाद आमजन के स्वास्थ्य के लिये बहुत घातक हैं। मिलावटी खाद्य सामग्री के व्यवसाय पर रोक लगाने के लिए प्रदेश सरकार गंभीरता से कार्यवाही कर रही है।

केंद्रीय विद्यालय मलान्जखंड में किया गया वृक्षारोपण 

बालाघाट | 23-जुलाई-2019

 केन्द्रीय विद्यालय मलान्जखंड परिसर में स्काउट और गाइड के बच्चों द्वारा गत दिवस पर्यावरण संरक्षण के लिए वृक्षारोपण का कार्य किया गया। जिसमें विद्यालय के स्काउट मास्टर्स, गाइड कैप्टन और विद्यालय के स्काउट गाइड आन्दोलन से जुड़ें बच्चों ने संकल्प लिया कि पर्यावरण की रक्षा हेतु अपने जन्मदिन के अवसर पर एक पौधा अवश्य ही लगाएँगे और उसकी उचित देखभाल भी करेंगे। इस अवसर पर विद्यालय परिसर में सैकड़ो पौधे रोपे गये। विद्यालय प्राचार्य श्री अमित दाहिया ने अपने उद्बोदन में बच्चों को प्रोत्साहित किया और पर्यावरण संरक्षण का महत्व बताया उन्होंने कहा कि भविष्य की सुखद परिकल्पना के लिए पेड़ लगाना आवश्यक है तथा कागजों का दुरुपयोग नहीं करना चाहिए, जिससे हम कई पेड़ो को कटने से बचा सकते है। प्रकृति संतुलन से भविष्य में मानव जीवन का संतुलन बना रहें। स्काउट मास्टर श्री महेंद्र सिंह टेकाम का इस अवसर पर विशेष योगदान रहा।

मध्‍यप्रदेश राज्‍य अल्‍पसंख्‍यक आयोग की बैठक में हुए महत्‍वपूर्ण निर्णय

बालाघाट | 12-जुलाई-2019

म.प्र. राज्‍य अल्‍पसंख्‍यक आयोग की 185 वीं बैठक में आज 11 जुलाई 2019 को सम्‍पन्‍न  हुई। बैठक में पूर्व में लिए गये निर्णयों, अनुशंसाओं की वर्तमान स्थिति पर चर्चा की गई एवं संबंधित को स्‍मरण पत्र लिखने का निर्णय लिया गया। बैठक में आयोग में चल रहे प्रकरणों की स्थिति पर भी विचार हुआ। बैठक में बताया गया कि 2017 से अब तक आयोग ने 45 प्रकरण निराकृत किये गये हैं ।

पूर्व से प्रचलित जिला बालाघाट, ग्राम भरवेली में नव युवक बौद्ध समिति के लिए बौद्ध बिहार निर्माण हेतु भूमि उपलब्‍ध किये जाने हेतु शासन से अनुशंसा किये जाने का निर्णय लिया गया। बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि शासन के अल्‍पसंख्‍यक कल्‍याण विभाग को धर्मस्‍थलों के जीर्णोद्धार के लिए दी जाने वाली राशि सीधे हितग्राहियों को ना देते हुए शासकीय एजेंसी को दी जाये, जिससे वह शासकीय एजेंसी जीर्णोद्धार का कार्य करें। अनुशंसा की गई कि आयोग जिला स्‍तर पर जानकारी एकत्रित करेगा कि शासन की योजनाओं का लाभ अल्‍पसंख्‍यक समाज के कितने लोगों को मिला है। इसाई वक्‍फ बोर्ड बनाने हेतु भी शासन को स्‍मरण पत्र लिखने हेतु निर्णय लिया गया।

आयोग की बैठक में अध्‍यक्ष श्री नियाज मोहम्‍मद खान, सदस्‍यगण श्री आनंदबर्नाड, डॉ. तुकड़या दास वैद्य, श्री कमाल भाई और सचिव श्री विनय निगम उपस्थित रहे। बैठक आयोग के अध्‍यक्ष की अध्‍यक्षता में सम्‍पन्‍न हुई।