Wednesday, December 11News That Matters

बैतूल

Share

जिला संयुक्त परामर्शदात्री समिति की बैठक आयोजित

बैतूल | 18-अक्तूबर-2019

जिला संयुक्त परामर्शदात्री समिति की बैठक 17 अक्टूबर गुरूवार को कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में आयोजित की गई। बैठक में अपर कलेक्टर श्री साकेत मालवीय एवं सीईओ जिला पंचायत श्री एमएल त्यागी ने कर्मचारियों से संबंधित मुद्दों पर विचार-विमर्श किया। इस दौरान प्रस्तुत समस्याओं के निराकरण के संबंध में भी अधिकारियों को निर्देश दिए गए।

कलेक्टर ने रेशमी वस्त्र सेल का अवलोकन किया

बैतूल | 11-अक्तूबर-2019

मध्यप्रदेश स्टेट सेरीकल्चर डेव्हलपमेंट एण्ड ट्रेडिंग को-ऑपरेटिव्ह फेडरे शन लिमिटेड द्वारा 09 अक्टूबर से 12 अक्टूबर तक सिविल लाइन में रेशमी वस्त्रों की सेल लगाई गई है। कलेक्टर श्री तेजस्वी एस. नायक एवं अपर कलेक्टर श्री साकेत मालवीय सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी गुरुवार को इस सेल का अवलोकन करने पहुंचे। इस दौरान उन्होंने यहाँ से रेशमी वस्त्र भी खरीदे। इस सेल में रेशमी वस्त्रों की विशेष श्रृंखला ‘प्राकृत’ उपलब्ध है। इन वस्त्रों पर 10 प्रतिशत् +10 प्रतिशत् की आकर्षक छूट दी जा रही है। इसके अलावा 50 हजार की खरीदी पर 25 प्रतिशत् तक की विशेष छूट दी जाएगी। सेल का समय प्रतिदिन प्रात: 10 बजे से सायं 6 बजे तक है।

पीएचई मंत्री श्री सुखदेव पांसे 04 अक्टूबर को बैतूल आएंगे

बैतूल | 05-अक्तूबर-2019

प्रदेश के लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री श्री सुखदेव पांसे 04 अक्टूबर शुक्रवार को बैतूल आएंगे एवं विभिन्न कार्यक्रमों में शामिल होंगे।
प्राप्त जानकारी के अनुसार पीएचई मंत्री श्री पांसे 04 अक्टूबर शुक्रवार को प्रात: 11 बजे बैतूल सर्किट हाउस पहुंचेंगे। श्री पांसे दोपहर 12 बजे ग्राम केरपानी के लिए प्रस्थान करेंगे एवं दोपहर 12.30 बजे ग्राम केरपानी, अपरान्ह 1.30 बजे झल्लार एवं अपरान्ह 2.30 बजे गुदगांव में आयोजित स्वागत सम्मान समारोह में शामिल होंगे। अपरान्ह 3 बजे भैंसदेही में कलार समाज द्वारा आयोजित भगवान सहस्त्र बाहु मूर्ति स्थापना समारोह में शामिल होंगे एवं सायं 4 बजे नगर परिषद् भैंसदेही में विकास कार्यों के भूमिपूजन कार्यक्रम में शामिल होंगे। श्री पांसे सायं 5 बजे मुलताई के लिए प्रस्थान करेंगे।
पीएचई मंत्री श्री पांसे 05 अक्टूबर शनिवार को प्रात: 11 बजे ग्राम दातोरा में श्रद्धांजलि कार्यक्रम में शामिल होंगे एवं दोपहर 12 बजे छिंदवाड़ा के लिए प्रस्थान करेंगे।

राष्ट्रीय पोषण माह 2019-छात्राओं के लिए स्वास्थ्य एवं पोषण परामर्श सत्र आयोजित

बैतूल | 27-सितम्बर-2019

राष्ट्रीय पोषण माह 2019 के तहत 26 सितंबर गुरूवार को एक निजी शिक्षण संस्था में छात्राओं के लिए स्वास्थ्य एवं पोषण परामर्श सत्र आयोजित किया गया। परामर्श सत्र में जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास श्री बीएल विश्नोई, सेक्टर पर्यवेक्षक सहित महाविद्यालयीन स्टाफ एवं छात्राएं उपस्थित रहीं।
परामर्श सत्र में श्री विश्नोई ने छात्राओं को राष्ट्रीय पोषण माह आयोजन के उद्देश्यों से अवगत कराया एवं बालिकाओं में एनीमिया रोकथाम के तहत आयरन युक्त फल, सब्जियां, अंकुरित अनाज के नियमित सेवन के बारे में जानकारी दी। उन्होंने आयरन की गोली का सप्ताह में एक बार सेवन करने एवं रसदार व खट्टे फल जैसे नींबू, संतरा, मौसंबी, विटीमिन-सी युक्त खाद्य पदार्थ के सेवन करने की सलाह दी।
सेक्टर पर्यवेक्षक सुश्री श्वेता वालम्बे छात्राओं को स्वास्थ्य संबंधी आवश्यक जानकारी प्रदान की गई एवं पॉस्को एक्ट के बारे में समझाया गया। परामर्श सत्र में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सुश्री शकुन बारंगे सहित आंगनबाड़ी सहायिकाओं का सहयोग रहा।

राष्ट्रीय पोषण माह अंतर्गत मीडिया कार्यशाला आयोजित

बैतूल | 20-सितम्बर-2019

राष्ट्रीय पोषण माह (01 सितंबर से 30 सितंबर तक) के व्यापक प्रचार-प्रसार एवं सफल आयोजन हेतु 19 सितंबर गुरूवार को जिला स्तरीय मीडिया कार्यशाला नगर पालिका सभागृह में आयोजित की गई। कार्यशाला में कलेक्टर श्री तेजस्वी एस. नायक सहित मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जीसी चौरसिया एवं जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास श्री बीएल विश्नोई ने इलेक्ट्रॉनिक एवं प्रिंट मीडिया के पत्रकारों को राष्ट्रीय पोषण माह से संबंधित जानकारी दी। इस दौरान कलेक्टर श्री नायक द्वारा द्वारा राष्ट्रीय पोषण माह को सफल बनाने के संबंध में उपस्थित अधिकारियों एवं मीडिया प्रतिनिधियों को शपथ भी दिलाई गई।
कार्यशाला में कलेक्टर श्री नायक ने बताया कि जिले में मौसमी बीमारियों के नियंत्रण के लिए पूरे अमले को सचेत किया गया है। आमजन में ऐसी बीमारियों से बचाव के लिए जागरूकता फैलाने के लिए विभिन्न स्थानों पर मॉक-ड्रिल भी आयोजित की जा रही है।
कार्यशाला में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जीसी चौरसिया ने मौसमी बीमारियों से बचाव की जानकारी देते हुए कहा कि बारिश के मौसम में अपने आसपास नियमित साफ-सफाई करें। वर्षा के जल को एक जगह एकत्रित न होने दें। मच्छर से फैलने वाले वाहक जनित रोग-मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया जैसी बीमारियों से सुरक्षा के लिए जनभागीदारी व जनजागृति का होना आवश्यक है। वर्षाकाल में जगह-जगह एकत्रित पानी में मच्छरों की उत्पत्ति व वृद्धि होती है। ये मच्छर, रोगी व्यक्ति को काटने पर संक्रमित हो जाते है व इन संक्रमित मच्छर के काटने से मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया, रोग का प्रसार होता है। इन बीमारियों से ग्रसित रोगी को बुखार सिरदर्द, बदनदर्द, उल्टी आना, ठंड लगना जैसे लक्षण होते हैं जिनका त्वरित उपचार आवश्यक है।
मलेरिया रोग एनाफिलीज मच्छर के काटने से फैलता है तथा यह मच्छर रात में सक्रिय रहता है। डेंगू व चिकनगुनिया रोग, सफेद चकते वाले एडीज मच्छर के काटने से फैलता है। यह मच्छर दिन में सक्रिय रहता है। बीमारी फैलाने वाले मच्छर घरों में नमी वाले अंधेरे स्थान में विश्राम करते है एवं साफ व रूके पानी में पनपते हैं जो कि हमारे घरों में व आसपास पानी से भरे पात्र जैसे- गमले, टंकी, टायर, मटके, कूलर, टूटाफूटा कबाड में भरे पानी, नल, हैण्डपंप व कुएं के आसपास भरे पानी में मच्छर अपने अण्डे देते हैं।
पानी से भरे बर्तन, टंकियों आदि का पानी सप्ताह में अवश्य बदलते रहें व कुएं, हैण्डपंप, नल के आसपास पानी इकट्ठा न होने दें। गड्ढों का मिट्टी से भराव करें या पानी की निकासी कराकर मच्छरों के उत्पत्ति स्थल को नष्ट करें, व मच्छरों के लार्वा नहीं पनपने दें। मच्छरों से बचाव करें। मच्छरों से बचाव के लिए सोते समय मच्छरदानी का उपयोग करें, पूरे आस्तीन के कपड़े पहने, मच्छर भगाने वाली क्रीम या क्वाइल का उपयोग करे, नीम की पत्ती का धुंआ करें।
कोई भी बुखार मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया हो सकता है जिसका इलाज संभव है। किसी भी बीमारी के लक्षण दिखने पर शीघ्र स्वास्थ्य केन्द्र में नि:शुल्क जांच करायें तथा चिकित्सक के परामर्श से पूर्ण उपचार लें। मलेरिया की जांच ग्राम स्तर तक आरोग्य केन्द्र व स्वास्थ्य केन्द्रो में नि:शुल्क उपलब्ध है।

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता/सहायिका एवं मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं हेतु आवेदन आमंत्रित

बैतूल | 14-सितम्बर-2019

जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास श्री बीएल विश्नोई से प्राप्त जानकारी के अनुसार कार्यालय संभागीय संयुक्त संचालक महिला एवं बाल विकास नर्मदापुरम् संभाग होशंगाबाद द्वारा आंगनबाड़ी कार्यकर्ता/सहायिका एवं मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के पूर्णत: अस्थाई एवं मानदेय आधारित पदों के लिए पात्र महिला अभ्यर्थियों से रिक्त पदों की पूर्ति हेतु परियोजनावार आवेदन आमंत्रित किए गए हैं।
परियोजना आमला के तहत आंगनबाड़ी केन्द्र बासन्या एवं लादी में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व आंगनबाड़ी केन्द्र रिखड़ी में आंगनबाड़ी सहायिका, परियोजना बैतूल शहरी के तहत आंगनबाड़ी केन्द्र आजाद वार्ड में आंगनबाड़ी सहायिका, परियोजना भैंसदेही के तहत आंगनबाड़ी केन्द्र मासोद में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व आंगनबाड़ी केन्द्र मानुपुड़ाव में आंगनबाड़ी सहायिका, परियोजना घोड़ाडोंगरी के तहत आंगनबाड़ी केन्द्र भण्डारपानी में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिका, आंगनबाड़ी केन्द्र पाटानदी में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आंगनबाड़ी केन्द्र कोलहिया-2 में आंगनबाड़ी सहायिका, आंगनबाड़ी केन्द्र घुग्गी-1 में आंगनबाड़ी सहायिका, परियोजना शाहपुर के तहत आंगनबाड़ी केन्द्र खापा-1 एवं मालीसिलपटी में आंगनबाड़ी सहायिका, परियोजना प्रभातपट्टन के तहत आंगनबाड़ी केन्द्र उमरी व सिरडी-2 में आंगनबाड़ी सहायिका, परियोजना सारनी के तहत राधाकृष्णन वार्ड-2/3 एवं रानी दुर्गावती वार्ड-34/2 में आंगनबाड़ी सहायिका तथा परियोजना मुलताई के तहत आंगनबाड़ी केन्द्र जामुनढाना में मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के रिक्त पद हेतु 28 सितंबर 2019 तक आवेदन आमंत्रित किए गए हैं।
जिला कार्यक्रम अधिकारी ने बताया है कि आंगनबाड़ी केन्द्रों की नामवार सूची एवं नियम-निर्देश, शर्तें, आवेदन का प्रारूप एवं अन्य अर्हताएं संबंधित एकीकृत बाल विकास परियोजना कार्यालय से प्राप्त की जा सकती है। जिस ग्राम/वार्ड में रिक्त पद की पूर्ति हेतु विज्ञप्ति जारी की गई है, आवेदिका ग्रामीण क्षेत्र में उसी राजस्व ग्राम, शहरी क्षेत्र में उसी वार्ड की निवासी होना चाहिए। संबंधित महिला आवेदक अपने पूर्णत: भरे आवेदन पत्र एवं आवश्यक सहपत्रों सहित संबंधित एकीकृत बाल विकास परियोजना कार्यालय में कार्यालय दिवस एवं समय में 28 सितंबर 2019 तक जमा कराकर निर्धारित प्रारूप में प्राप्ति अभीस्वीकृति प्राप्त कर सकते हैं।

31 अगस्त को निर्धारित से अतिरिक्त समय तक खुलेंगे केश काउन्टर

बैतूल | 31-अगस्त-2019

मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी द्वारा गैर घरेलू एवं इंडस्ट्रियल पॉवर के बकाया राशि वसूली के सघन प्रयास किये जा रहे हैं। सभी मैदानी अधिकारियों को बकाया राशि की वसूली के निर्देश दिये गये हैं।
कंपनी ने बकायादारों पर प्रभावी डिस्कनेक्शन की कार्यवाही के निर्देश दिए हैं। यह भी निर्देश दिये गये हैं कि काटे गये कनेक्शनों की रात्रि में चेकिंग की जाए ताकि बकायादार उपभोक्ता अवैध रूप से बिजली का उपयोग न करें। यदि कोई उपभोक्ता ऐसा करता पाया जाता है, तो उसके विरूद्ध बिजली अधिनियम-2003 की धारा 138 का प्रकरण बनाया जाए। कंपनी ने अधिकारियों और कर्मचारियों से कहा है कि टीम भावना से कार्य कर लक्ष्य की प्राप्ति करें।
कंपनी ने बकायादार बिजली उपभोक्ताओं से अपील की है कि बिजली कनेक्शन विच्छेदन की अप्रिय कार्यवाही से बचने के लिए विद्युत बिलों का भुगतान तत्काल सुनिश्चित करें। कम्पनी ने क्षेत्रीय अधिकारियों को निर्देशित किया है कि शहर संभागों और संचारण-संधारण संभागों में राजस्व संग्रहण के लिए केश काउन्टर 31 अगस्त को निर्धारित समय से अतिरिक्त समय तक खोलने की व्यवस्था करें।
कंपनी के द्वारा बकायादारों के विरूद्ध बड़े स्तर पर बिजली कनेक्शन विच्छेदन की कार्यवाही में ‘‘आपरेशन एवं मेंटेनेंस’’ अमले के साथ ‘‘विजिलेंस’’ को भी जोड़ा है। बिजली उपभोक्ताओं से अनुरोध किया गया है कि बिजली वितरण कंपनी के कार्मिकों द्वारा बिजली बिल के भुगतान की रसीद मांगे जाने पर उन्हें रसीद अवश्य दिखाएं, जिससे बिजली उपभोक्ताओं को अनावश्यक असुविधा न हो।

जिले के प्रभारी मंत्री श्री कमलेश्वर पटेल 27 अगस्त को बैतूल आएंगे 

बैतूल | 27अगस्त-2019

 जिले के प्रभारी एवं प्रदेश के पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री कमलेश्वर पटेल 27 अगस्त मंगलवार को बैतूल आएंगे एवं विभिन्न कार्यक्रमों में भाग लेंगे।
प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रभारी मंत्री श्री पटेल 27 अगस्त मंगलवार को अपरान्ह 3.30 बजे विकासखण्ड घोड़ाडोंगरी के ग्राम पाढर पहुंचेंगे एवं यहां आपकी सरकार-आपके द्वार कार्यक्रम में भाग लेंगे। श्री पटेल सायं 5 बजे पाढर से प्रस्थान करेंगे एवं सायं 5.40 बजे बैतूल सर्किट हाउस पहुंचेंगे। सायं 5.40 बजे से सायं 6 बजे तक का समय आरक्षित रखा गया है। प्रभारी मंत्री श्री पटेल सायं 6 बजे जिला चिकित्सालय परिसर में एमसीएच प्रोजेक्ट का भूमिपूजन करेंगे। सायं 7.30 बजे से रात्रि 8.30 बजे तक सर्किट हाउस में कार्यकर्ताओं व आमजनों से भेंट करेंगे। इसके पश्चात् रात्रि 8.30 बजे से रात्रि 10 बजे तक जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन के अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे। रात्रि 10 बजे से 10.45 बजे तक का समय आरक्षित रखा गया है। श्री पटेल रात्रि 10.45 बजे बैतूल से प्रस्थान करेंगे।

बानूरखापा डेम में वेस्ट वेयर बनाकर पानी की निकासी की गई 

बैतूल | 16-अगस्त-2019

मुलताई तहसील अंतर्गत ग्राम बानूरखापा में निर्माणाधीन बानूरखापा जलाशय में रिसाव की जानकारी मिलने पर तहसीलदार मुलताई श्री सुधीर जैन द्वारा आरईएस के उपयंत्री श्री नितेश पानकर, राजस्व निरीक्षक सांईंखेड़ा श्री रवि पदाम एवं ग्राम सरपंच श्री अन्नालाल पंवार व अन्य ग्रामीणों के साथ मौके पर पहुंचकर स्थिति को देखा गया। उपयंत्री श्री पानकर द्वारा बताया गया कि बांध अभी निर्माणाधीन है, जिसका 60 प्रतिशत् कार्य ही पूर्ण हुआ है। बांध का वेस्ट वेयर का काम न होने के कारण लीकेज की स्थिति उत्पन्न हुई थी, जिस पर तात्कालिक व्यवस्था करते हुए दूसरी दिशा में वेस्ट वेयर बनाकर स्थिति को नियंत्रित किया गया है। बांध से सायफन सिस्टम से भी पानी की निकासी की जा रही है। श्री पानकर के अनुसार अब पानी का रिसाव नहीं के बराबर है। तहसीलदार श्री सुधीर जैन एवं उपयंत्री आरईएस श्री नितेश पानकर ने बताया कि वर्तमान में किसी प्रकार के कोई खतरे की स्थिति नहीं है।

पटेल वार्ड की आंगनबाड़ी में स्तनपान के संबंध में परामर्श सत्र आयोजित “विश्व स्तनपान सप्ताह”

बैतूल | 06-अगस्त-2019

 विश्व स्तनपान सप्ताह 1 से 7 अगस्त 2019 तक सम्पूर्ण जिले में आयोजित किया जा रहा है। इसी के तारतम्य में 5 अगस्त सोमवार को पटेल वार्ड बैतूल की आंगनबाड़ी में महिलाओं को स्तनपान के संबंध में परामर्श प्रदाय किया गया। कार्यक्रम में स्वास्थ्य विभाग से जिला मीडिया अधिकारी श्रीमती श्रुति गौर तोमर एवं महिला बाल विकास विभाग से सीडीपीओ श्रीमती कल्पना जोनाथन, ईसीसीई को-आर्डिनेटर श्रीमती टीना शर्मा,  परामर्शदात्री श्रीमती हेमलता पटेल, सुश्री सुभांगी नामदेव, सुपरवाइजर श्रीमती श्वेता वालंबे, आशा कार्यकर्ता श्रीमती लीना, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता श्रीमती साधना वर्मा, सहायिका श्रीमती बबीता आंगनबाड़ी एवं समाजसेवी श्रीमती चंद्रप्रभा चौकीकर रहे। इस दौरान महिलाओं को स्तनपान के संबंध में जानकारीयां प्रदान करते हुये प्रश्नोत्तरी का आयोजन किया गया एवं सही जवाब देने वाली महिलाओं को प्रोत्साहन स्वरूप उपहार प्रदान किये गये।
परामर्श सत्र में जिला मीडिया अधिकारी श्रीमती श्रुति गौर तोमर ने बताया कि स्तनपान अमृत समान है। स्तनपान शिशु का रक्षक है। वातावरण में तरह-तरह के रोगाणु मौजूद है, जिनका सामना छोटा शिशु एकदम से नहीं कर सकता। शिशु में रोगों से लडऩे की शक्ति धीर-धीरे विकसित होती है, मां का दूध प्राकृतिक तौर पर शिशु को बीमारियों से बचाता है। यह शिशु का सबसे पहला अधिकार है, शिशु को इससे कदापि वंचित न किया जाये। शिशु को दूध के अतिरिक्त पानी एवं अन्य कोई भी द्रव 6 माह तक इसलिये नहीं पिलाना है क्योंकि मां के दूध में पर्याप्त मात्रा में पानी रहता है। बाहर के पानी में कीटाणुओं के कारण संक्रमण हो सकता है। समुदाय के हर सदस्य को यह बात जानना चाहिये और हमें व्यवहार में परिवर्तन लाकर शिशु मृत्यु दर में इस माध्यम से कमी लाना है।
परामर्शदात्री श्रीमती हेमलता पटेल ने बताया कि जन्म के तुरंत बाद 1 घंटे के भीतर मां द्वारा नवजात शिशु को स्तनपान कराये जाने, 6 माह तक शिशु को केवल मां का दूध ही पिलाने एवं 6 माह के पश्चात मां के दूध के साथ साथ ऊपरी खाद्य पदार्थ प्रारंभ करवाने की जानकारी दी । स्तनपान प्राकृतिक रूप से यह साफ  एवं शुद्व है, रोग प्रतिरोधक है, 24 घंटे उपलब्ध है एवं हर बच्चे का यह प्रथम अधिकार है। शिशु की आंखों में काजल लगाना, शिशु की मालिश करना, मां के स्तनपान का निर्धारित समय, नाल गिरने की प्रक्रिया एवं शिशु को दूध पिलाने के बाद सही तरीके से डकार दिलाने के संबंध में जानकारी दी एवं व्याप्त भ्रांतियों के निराकरण के संबंध में चर्चा की।

 

किसानों के डेटा फीडिंग कार्य में गति लाने के निर्देश 

कलेक्टर ने ली राजस्व अधिकारियों की बैठक 

बैतूल | 26-जुलाई-2019

कलेक्टर श्री तेजस्वी एस. नायक ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत किसानों के डेटा फीडिंग कार्य में गति लाने के राजस्व अधिकारियों को निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि इस कार्य में किसी तरह की ढिलाई न बरती जाए। गुरूवार को आयोजित राजस्व अधिकारियों की बैठक में उन्होंने कहा कि नामांतरण एवं सीमांकन के मामलों में भी राजस्व अधिकारी विलंब न करें, आमजन के इस तरह के आवेदन तत्परता से निपटाए जाएं। बैठक में अपर कलेक्टर श्री साकेत मालवीय सहित जिले के राजस्व अधिकारी मौजूद थे।
बैठक में कलेक्टर द्वारा आरसीएमएस के तहत प्रकरणों के निराकरण की स्थिति की समीक्षा की गई। साथ ही जनसुनवाई तथा सीएम हेल्पलाइन में प्राप्त शिकायतों का समय-सीमा पर निराकरण सुनिश्चित करने के अधिकारियों को निर्देश दिए गए। बैठक में कलेक्टर ने आरबीसी 6(4) के तहत दर्ज प्रकरणों में भी तत्परता से राहत उपलब्ध कराने के लिए भी राजस्व अधिकारियों को पाबंद किया।

शासकीय अस्थि बाधितार्थ विद्यालय में दिव्यांग बालकों को प्रवेश

बैतूल | 23-जुलाई-2019

उप संचालक सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण ने बताया कि अस्थि बाधितार्थ विद्यालय प्रताप वार्ड बैतूल में कक्षा पहली से 12वीं तक के दिव्यांग बालकों को नि:शुल्क शिक्षा, वस्त्र, भोजन, निवास आदि छात्रावास सुविधा प्रदान की जाती है। उन्होंने जिले की समस्त जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारियों, परियोजना अधिकारियों एकीकृत बाल विकास परियोजना, विकासखण्ड शिक्षा अधिकारियों एवं विकासखण्ड स्त्रोत समन्वयकों से संबंधित क्षेत्र के दिव्यांग बालकों को जो 40 प्रतिशत् अस्थिबाधित दिव्यांग हैं, प्रमाण पत्र के साथ बालकों को विद्यालय में प्रवेश दिलाने की अपेक्षा की है।