Tuesday, January 26News That Matters

मन्दसौर

Share
विकास योजना के प्रारूप पर आपत्ति या सुझाव 30 दिन के भीतर प्रस्तुत करे
मन्दसौर | 15-दिसम्बर-2020
     उप संचालक नगर एवं ग्राम निवेश द्वारा बताया गया कि मंदसौर निवेश क्षेत्र के लिए विकास योजना का प्रारूप म.प्र. नगर तथा ग्राम निवेश अधिनियम 1973 की धारा 18 की उपधारा(1) के उपबंधो के अनुसार प्रकाशित किया गया है।  विकास योजना मंदसौर प्रारूप 2035 का प्रकाशन 11 दिसम्बर 2020 को किया गया है। जिसकी प्रदर्शनी कलेक्ट्रेट भवन के कक्ष क्रमांक 113 एवं  नगर पालिका कार्यालय टाउन हॉल प्रथम तल गांधी चौराहा मंदसौर पर जनसामान्य के लिए निरीक्षण एंव परीक्षण हेतु लगाई गई है। जिसमें आम नागरिक अपने दावे आपत्ति एवं अमूल्य सुचाव उपरोक्ते ई-मेल आईडी obj-sugg-devplan@mp.gov.in  पर मेल कर सकते है। या हार्ड कॉपी अर्थात बीवन पीटू एवं खसरा ट्रेस के साथ आवेदन कार्यालय उप संचालक नगर तथा ग्राम निवेश नीमच में  30  दिन के भीतर प्रस्तुत कर सकते है।

महापौर/अध्यक्ष पद का आरक्षण 9 दिसम्बर को

मन्दसौर | 09-दिसम्बर-2020

    प्रदेश के नगरपालिक निगमों, नगरपालिकाओं और नगर परिषदों के आगामी सामान्य निर्वाचन के लिये महापौर/अध्यक्ष पद के आरक्षण की कार्यवाही 9 दिसम्बर, 2020 को सुबह 11 बजे से रवीन्द्र भवन, भोपाल के सभागृह में की जायेगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किया गुरु नानक देव जी को नमन

मन्दसौर | 01-दिसंबर-2020

   मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज गुरु नानक जयंती के अवसर पर मुख्यमंत्री निवास में गुरु नानक देव जी की तस्वीर पर पुष्प अर्पित किए।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने गुरु नानक देव जी की तस्वीर के समक्ष माथा टेका और नमन किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कार्तिक पूर्णिमा एवं प्रकाश पर्व की प्रदेशवासियों को बधाई भी दी।

गाय बनेगी आर्थिक स्वावलंबन का आधार – मुख्यमंत्री श्री चौहान

गौ-धन संरक्षण और संवर्धन के लिए मंत्रिपरिषद समिति की प्रथम बैठक
मन्दसौर | 24-नवम्बर-2020

     मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने गौ-धन संरक्षण और संवर्धन के लिए गठित मंत्रिपरिषद समिति की वर्चुअल बैठक में कहा कि गौ-वंश के प्रति हमारी आस्था और श्रद्धा है। प्राचीनकाल में गाय और बैल ग्रामीण अर्थव्यवस्था के आधार थे। वर्तमान में भी गौ-संरक्षण और संवर्धन के कार्य आर्थिक स्वावलम्बन का आधार बन सकते हैं।
आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश बनाने के लिए राज्य सरकार कटिबद्ध है। इस दिशा में गौ-माता अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करेगी। गाय का दूध अमृत है। कुपोषण को दूर करने में गाय के दूध का भरपूर उपयोग हो सकता है। गाय का गोबर कृषि के लिये संजीवनी है। इसका उपयोग खाद बनाने में कर रासायनिक खाद के उपयोग को कम किया जा सकता है। गोबर से बड़े स्तर पर गौ-काष्ठ का निर्माण और उपयोग कर लकड़ी के प्रयोग को कम किया जा सकता है। जंगलों को बचाया जा सकता है। गौ-मूत्र से कीटनाशक और औषधियों बनती है।

गौ-मूत्र, गोबर, दूध का पूर्ण उपयोग

राज्य सरकार गौ-संरक्षण और संवर्धन के साथ दूध, गोबर और गौ-मूत्र का उपयोग पूरी गम्भीरता के साथ मानव कल्याण के लिए करेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि गौ-संरक्षण, संवर्धन के लिए पशुपालन विभाग, कृषि, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, गृह, वन और राजस्व विभागों को जिम्मेदारी सौंपी जाएगी। उन्होंने कहा गौ-संरक्षण एवं संवर्धन में मध्यप्रदेश देश में मिसाल कायम करे ऐसे प्रयास होंगे। गौ-संरक्षण एवं संवर्धन के लिये गठित मंत्रिपरिषद समिति की बैठक में निम्नानुसार निर्णय लिये गये हैं।

गौ-शालाओं का बेहतर संचालन

मुख्यमंत्री गौ-सेवा योजना अंतर्गत स्वीकृत गौ-शालाओं का संचालन शासन द्वारा सक्षम और इच्छुक समाजसेवी संस्थाओं तथा स्व-सहायता समूह के सहयोग से किया जाएगा। गौ-शालाओं के संचालन में जनसहयोग लिया जाएगा। गौ-शालाओं के संचालन और गौ-संरक्षण एवं संवर्धन के लिये आवश्यक होने पर वित्तीय संसाधन जुटाने के लिये उपकर लगाया जा सकता है। इस उपकर को लगाने में यह विशेष रूप से ध्यान रखा जाएगा कि आमजन पर आर्थिक भार नहीं बढ़े। गोबर गैस प्लान्ट स्थापित करने की भारत सरकार की योजना के अंतर्गत ग्रामों में गोबर गैस प्लान्ट स्थापित किये जा सकेंगे। ग्रामीण परिवारों को गोबर गैस प्लान्ट से कनेक्शन दिये जा सकेंगे। आगर-मालवा जिला स्थित गौ-अभ्यारण्य सालरिया में कृषि विज्ञान केन्द्र की तर्ज पर पशु चिकित्सा एवं पशु पालन विज्ञान केन्द्र की स्थापना नानाजी देशमुख पशु चिकित्सा विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर के माध्यम से की जाएगी।

प्रदेश की गौ-नस्लों के संरक्षण की कार्ययोजना

मध्यप्रदेश में चार वर्णित गौवंश नस्ले – मालवी, निमाड़ी, केनकथा और गओलों है। इनके संरक्षण-संवर्धन की कार्ययोजना बनायी जायेगी। इनके द्वारा दुग्ध उत्पादन बढ़ाने के लिये भी योजना बनेगी। नगरीय क्षेत्रों में निराश्रित गौवंश के आश्रय और भरण-पोषण का सम्पूर्ण उत्तरदायित्व नगरीय निकायों को उनके वित्तीय संसाधनों को ध्यान में रखते हुये सौंपा जाएगा। इससे सड़कों पर विचरण करने वाली निराश्रित गौवंश को आश्रय मिलेगा और मार्ग पर होने वाली दुर्घटनाएं भी रूकेगी। वन विभाग के अंतर्गत आने वाले बिगड़े वनों में चारागाह का विकास किया जाएगा। चारे का उत्पादन बढ़ाकर चारा गौ-शालाओं में भेजा जाएगा।

जिले में एग्रो प्रोसेसिंग का वातावरण तैयार कर रोजगार की संभावनों को बढ़ाये – कलेक्टर श्री पुष्प

निर्यात संवर्धन सहायता समिति की बैठक सुशासन भवन में संपन्न
मन्दसौर | 18-नवम्बर-2020
   कलेक्टर श्री मनोज पुष्प की अध्यक्षता में कलेक्टर सभागृह में निर्यातक इकाईयों व निर्यात संवर्धन सहायता समिति की बैठक सुशासन भवन स्थित सभाकक्ष में दोपहर 12 बजे आयोजित की गई। बैठक के दौरान कलेक्टर श्री पुष्प द्वारा कहा गया कि मंदसौर में एग्रो प्रोसेसिंग हेतु वातावरण तैयार कर रोजगार संबंधी संभावनों को तैयार किया जाए। उत्पादन निर्यात कर अधिकतम मूल्य अथवा लाभ प्राप्त करने हेतु उद्योगीक प्रक्रियाओं से जुड़े अनुभवीजन मार्गदर्शन कर प्रक्रिया को अधिक सरल बनाया जाए। ऑनलाईन अथवा डिजिटल तरीके से कार्य कर 10 के स्थान पर 1 व्यक्ति के द्वारा भी कार्य किया जा सके। एक फार्मल एजेंडा तैयार किया जावे। जिसमें सभी अपने अनुभव साझा कर सके ताकि निर्यात में आनेवाली कठिनाईयों अथवा समस्याओं का समाधान किया जा सके। बैठक में मूल्य निर्धारण में प्रमाणन एवं उससे संबंधी आवश्यकताओं एवं कठिनायों पर भी चर्चा की गई। स्टार्च संबंधी उत्पादक इकाई द्वारा भी एक्सपोर्टेशन संबंधी समस्या एवं अनुभवों को साझा किया गया।
बैठक के दौरान कलेक्टर पुष्प द्वारा कहा गया कि मक्का उत्पादन के लिए जिले में एक रणनीति तैयार की जाए। मक्का उत्पादन पर किसानों का ध्यान केन्द्रित करे। जिससे किसानों को भी नाभान्वित किया जा सकें। बैठक में निर्यातक इकाईयों को निर्यात हेतु किन-किन ऐजेंसियों से डील करना होता है। इसके साथ ही मसाला पाउडर, चीनी पाउडर, मंगों पाउडर, टरमरीक पाउडर इत्यादि पर भी चर्चा की गई।

फार्मट्रेक द्वारा औद्योगिक समस्याओं का किया जाएगा निराकरण

फार्मट्रेक द्वारा मंदसौर में औद्योगिक समस्याओं के निराकरण किया जावेगा उक्त वक्तव्य कलेक्टर के द्वारा बैठक में कहे गए। गार्लिकों बेसेस उत्पादक इकाईयों द्वारा भी संबंधित समस्याओं पर विस्तृत चर्चा की गई। जिसमें कच्चे माल की समस्या, लॉकडाउन के कारण माल की पूर्ति अपेक्षा के अनुकूल नहीं होकर कम होना, किसान से सीधे लेने पर गुणवत्ता एवं मात्रा संबंधी समस्या इत्यादि पर चर्चा की गई। अनुभवी लोगों को नवीन उत्पादकों को मार्गदर्शन प्रदान करने के निर्देश दिये गए।

जिले में स्टेण्डर्ड रणनीति बनाई जायगी

बैठक के दौरान कहा गया कि जिले में स्टेण्डर्ड रणनीति बनाई जायगी। जिसके अंतर्गत लॉकडाउन में सामाजिक दूरी के पालन के साथ व्यक्ति, वाहन, बायर्स, कर्मचारी में संतुलन स्थापित कर निश्चित स्थान का चयन किया जाएगा। मसाला बोर्ड अंतर्गत रतलाम में कंटेनर डिपों बंद होने से उत्पन्न समस्या के समाधान के लिए विकल्प के रूप में शामगढ में स्थापित करने पर चर्चा की गई। इस सम्बंध में पर्याप्त एवं अनुकूल स्थान निन्हित कर इण्डियन कंटेनर डिपों शामगढ में स्थापित करने के प्रयास करेंगे।
बैठक में कलेक्टर द्वारा उत्पाद ग्रेडिंग, पेकेजिंग, स्टोरेज एवं हेण्डलिंग की प्रक्रियाओं को व्यवस्थित करने के निर्देश दिए। ऑरेंज फसल उत्पादकों ने भी उत्पादन एवं माल खपत संबंधी समस्याओं पर चर्चा की। कलेक्टर ने उद्योगपतियों से कहा कि आपकी प्रत्येक समस्या में सपोर्ट हेतु हम सदैव तत्पर है। इस हेतु हमे लिखित में समस्या से अवगत करावे एवं संबंधित विभाग को भी बताए, ताकि समाधान किया जा सके। प्रायवेट सेक्टर के लोगों को प्रोसेसिंग में सम्मिलित करेंगे एवं बड़े स्तर के उद्योगपतियों की जानकारी से भी शासन को अवगत करवाया जाएगा।

मध्य प्रदेश शासन के कैबिनेट मंत्री श्री देवड़ा 10 जुलाई को मंदसौर

मन्दसौर | 10-जुलाई-2020

    मध्यप्रदेश शासन के कैबिनेट मंत्री श्री जगदीश देवड़ा 10 जुलाई को प्रातः 6 बजे भोपाल से मंदसौर के लिए प्रस्थान करेंगे। दोपहर 1 बजे सर्किट हाउस पहुंचेंगे तथा उसके पश्चात स्थानी कार्यक्रमों में भाग लेंगे।

प्रदेश की 15 पंचायतों को मिला राष्ट्रीय पुरस्कार

पंचायतों को मिली सराहना
मन्दसौर | 19-जून-2020

      भारत सरकार द्वारा पंचायतों के राष्ट्रीय अवार्ड घोषित किए गए हैं। मध्यप्रदेश की 15 पंचायतों को यह अवार्ड मिला है। दो जिला पंचायत नीमच, मंदसौर और दो जनपद पंचायत आलोट एवं होशंगाबाद सहित प्रदेश की 11 ग्राम पंचायतों को पुरस्कार मिला है। पंचायतों द्वारा सेवाओं के बेहतर प्रदाय पर दीनदयाल उपाध्याय पंचायत सशक्तिकरण पुरस्कार दिया गया है। पंचायत राज मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा पुरस्कारों में जिला पंचायत को प्रमाण-पत्र सहित 50 लाख रूपये, जनपद पंचायत को प्रमाण-पत्र सहित 25 लाख रूपये और ग्राम पंचायतों को उनकी जनसंख्या के अनुसार प्रमाण-पत्र के साथ पाँच लाख से 15 लाख तक के पुरस्कार प्रदान किए गए हैं। प्रदेश की 11 ग्राम पंचायतों को राजस्व आय में बढोत्तरी, प्राकृतिक संसाधनों के बेहतर प्रबंधन और सामाजिक विकास के क्षेत्र में किये गये कार्यों के लिये पुरस्कृत किया गया है। राष्ट्रीय स्तर पर प्रदेश का नाम रौशन करने वाली ग्राम पंचायतों में नीमच जिले की ग्राम पंचायत भरवड़िया, सागर जिले की दो ग्राम पंचायत मरामाधौ एवं तुमरी, इंदौर जिले की ग्राम पंचायत पोटलोद, होशंगाबाद जिले की ग्राम पंचायत बाबईखुर्द, धार जिले की ग्राम पंचायत सुंदरेल, सीधी जिले की ग्राम पंचायत पनवार चौहानन, मंदसौर जिले की ग्राम पंचायत पाड़लिया मारू, रतलाम जिले की ग्राम पंचायत कंसर, सीहोर जिले की ग्राम पंचायत मूगली और रतलाम जिले की ग्राम पंचायत बरखेड़ी शामिल हैं। मध्यप्रदेश की पंचायतों को मिले ये पुरस्कार पंचायतों के बेहतर कामकाज के परिणाम हैं।

सिद्धहस्थ शिल्पियों को मिलेंगे राज्य-स्तरीय विश्वकर्मा पुरस्कार

30 अप्रैल तक प्रविष्टियाँ आमंत्रित
मन्दसौर | 11-फरवरी-2020
     राज्य शासन ने सिद्धहस्थ शिल्पियों को राज्य स्तरीय विश्वकर्मा पुरस्कार प्रदान करने का निर्णय लिया है। राज्य हस्तशिल्प एवं हथकरघा विकास निगम ने  सिद्धहस्थ शिल्पियों से पुरस्कार के लिये कलाकृतियों सहित 30 अप्रैल तक जिला स्तर पर प्रविष्टियाँ आमंत्रित की हैं। हस्तशिल्प एवं हथकरघा विकास निगम के कार्यालय अथवा जिला ग्रामोद्योग अधिकारी कार्यालय, जिला पंचायत में आवेदन जमा किये जा सकते हैं। राज्य स्तरीय विश्वकर्मा पुरस्कार में प्रथम पुरस्कार में एक लाख, द्वितीय पुरस्कार में 50 हजार, और तृतीय पुरस्कार में 25 हजार रूपये प्रदान किये जाएंगे। तीन शिल्पियों को 15-15 हजार रूपये प्रोत्साहन पुरस्कार भी दिये जाएंगे। पुरस्कार की पात्रता के लिए शिल्पी को मध्यप्रदेश का मूलनिवासी होना  आवश्यक है। शिल्पी का पंजीयन एवं निवास अनुशंसा करने वाले जिले में होना  चाहिए। शिल्पी  का संत रविदास मध्यप्रदेश हस्तशिल्प एवं हथकरघा विकास निगम अथवा कपड़ा मंत्रालय, भारत सरकार के विकास आयुक्त (हस्तशिल्प कार्यालय) में पंजीकृत होना  भी आवश्यक है।  जिलों में प्राप्त आवेदन पत्र जिला स्तरीय समिति द्वारा चयनित किए जाएंगे। इस प्रक्रिया के बाद वर्षांत तक चयनित शिल्पी पुरस्कृत किए जाएंगे।

आवश्यक रखरखाव के कारण 29 जनवरी को विद्युत प्रदाय बंद रहेगा

मन्दसौर | 28-जनवरी-2020

     कार्यपालन यंत्री एस. के. सूर्यवंशी ने बताया कि 11 केव्‍ही फीडर सर्किट विद्युत संबधी आवश्‍यक कार्य के कारण गुजरबर्डिया वितरण केन्‍द्र 11 केव्‍ही चिपलाना डीएल फीडर प्रात: 2 बजे से 4 बजे कुल 2 घंटे विद्युत प्रदाय बंद रहेगा। जिसके अंतर्गत लुहारीशेख, बर्डियाखेडी गाव प्रभावित रहेगे।

जिला स्‍वास्‍थ्‍य समिति एवं महिला एवं बाल विकास की संयुक्‍त बैठक 22 जनवरी को

मन्दसौर | 21-जनवरी-2020

    जिला चिकित्‍सा एवं स्‍वास्‍थ अधिकारी ने बताया कि जिला स्‍वास्‍थय समिति  एवं महिला एवं बाल विकास की संयुक्‍त बैठक 22 जनवरी को जिला पंचायत के सभाकक्ष में आयोजित की जाएगी। बैठक दोपहर 2 बजे आयोजित की जाएगी।

जेलों में सुधार, सुदृढ़ीकरण और आधुनिकीकरण की शुरूआत

मन्दसौर | 14-जनवरी-2020

   राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की ताजा रिपोर्ट के अनुसार देश में जेलों की क्षमता से अधिक कैदियों की मौजूदगी समस्या बन गई है। मध्यप्रदेश ने जेलों की इस समस्या का निदान कर लिया है। नई राज्य सरकार ने प्रारम्भ में 10 नई जेल बनाने का निर्णय लिया है। इसके मुताबिक केन्द्रीय जेल इंदौर और सब जेल गाडरवारा, कुक्षी तथा मैहर एवं खुली जेल रीवा सहित जिला जेल बैतूल, रतलाम, राजगढ़, मुरैना और मन्दसौर में नई जेल बनाई जा रही हैं।

वीडियो कॉन्फ्रेंस से कैदियों की पेशी

राज्य सरकार ने जेलों में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग उपकरण लगवाये हैं। अब जेल से ही कैदी कोर्ट रूम में हाजरी लगाकर अपना पक्ष रख सकेंगे। इस व्यवस्था से कैदियों को कोर्ट ले जाने-लाने का खर्चा बचेगा और उनकी सुरक्षा की चिन्ता से भी मुक्ति मिलेगी।

जेलों का आधुनिकीकरण

राज्य सरकार ने छिन्दवाड़ा में नये जेल कॉम्पलेक्स (संकुल) के निर्माण के लिए करीब 225 करोड़ की मंजूरी दी है। इससे प्रदेश में पहली बार एक ही संकुल में केन्द्रीय जेल, जिला जेल तथा खुली कॉलोनी स्थित होगी। इंदौर में नयी केन्द्रीय जेल के निर्माण की भी सैद्धांतिक सहमति हो गई है। शिवपुरी जेल शुरू हो गयी है और भिंड जेल का कार्य प्रगति पर है। केन्द्रीय जेल भोपाल में मार्च-2019 को खुली जेल शुरू की गई। केन्द्रीय जेल, नरसिंहपुर परिसर में 20 बंदियों के लिये खुली जेल के निर्माण के लिए सवा 2 करोड़ से अधिक की राशि स्वीकृत की गई है।

कलेक्टर ने पोस्ट मेट्रिक कन्या छात्रावास का किया निरीक्षण

सभी को जुडो ओर योग का अभ्यास करवाये
मन्दसौर | 07-जनवरी-2020

    कलेक्टर श्री मनोज पुष्प द्वारा पोस्ट मैट्रिक कन्या छात्रावास का औचक निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान छात्रावास की समस्याओं, दिक्कतों के बारे में बच्चों से चर्चा की। उड़ान कार्यक्रम के अंतर्गत उनका मेडिकल चेकअप हुआ या नहीं इसके बारे में भी पूछा। इस दौरान छात्रावास की छात्राओ द्वारा बताया गया कि छात्रावास के पास स्थित कैफे अड्डा ध्वनि प्रदूषण होता है। इस संबंध में शिकायत दर्ज कराई गई। जिस पर कलेक्टर के द्वारा जल्द समाधान का आश्वासन दिया गया।

अपने आप कमजोर ना आंके

कलेक्टर द्वारा सभी को प्रोत्साहित करते हुवे बताया गया कि अपने आप को कमजोर ना आके, आपके अंदर वह प्रतिभाएं हैं। जिसके माध्यम से आप बहुत कुछ हासिल कर सकते हैं। इसलिए जीवन में हमेशा आगे बढ़ने के बारे में सोचें। पीछे हटने के लिए नहीं। उड़ान अभियान के अंतर्गत जिले में 25 कन्या छात्रावासों में निवासरत 1250 छात्राओं का स्वास्थ्य परीक्षण किया जाएगा। उड़ान एक अभिनव पहल है। किशोरी स्वास्थ्य शिक्षा एवं पोषण अभियान जिला स्तर पर तैयार किया गया एक अभिनव प्रयास हैं। जिले में आवासी कन्या छात्रावासों में अध्ययनरत छात्राओं के लिए बहुत ही सार्थक हैं। इस अभियान में समस्त छात्राओं को सम्मिलित करते हुए उनके स्वास्थ्य, शारीरिक विकास शिक्षा, मनोवैज्ञानिक पक्ष मजबूत करना एवं स्वयं की देखभाल कैसे करें इत्यादि गतिविधियां सम्मिलित हैं।

प्रदेश में पहली बार सरकारी अस्पताल में हुआ लकवे का सफल ऑपरेशन

प्रमुख सचिव श्री शुक्ला ने डॉक्टर्स को दी बधाई
मन्दसौर | 28-दिसम्बर-2019

  प्रदेश में पहली बार सरकारी अस्पताल में लकवाग्रस्त मरीज का सफल ऑपरेशन किया गया है। यह अस्पताल है जबलपुर का सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल। पैतालीस वर्षीय मरीज अशोक पुरी गोस्वामी को दाहिनी तरफ लकवा और बोलने में तकलीफ के कारण जबलपुर के नेताजी सुभाष मेडीकल कॉलेज के शासकीय चिकित्सालय में भर्ती कराया गया था। एक घंटे में ही मरीज बेहोश होने के साथ बोलने में भी असमर्थ हो गया था। डॉ. निष्ठा यादव, डॉ. अम्बुज कुमार और डॉ. केतन की टीम ने सिटी स्केन द्वारा बीमारी की पहचान कर तुरंत आधी रात में ही मरीज का उपचार शुरू किया और उसकी जान बच गई। ऑपरेशन के बाद मरीज तुरंत होश में आ गया और बात करने लगा। प्रमुख सचिव श्री शिव शेखर शुक्ला ने ऑपरेशन में शामिल डॉक्टरों की टीम की प्रशंसा करते हुए बधाई दी है। डीन डॉ. कसार ने बताया कि मरीज की खून की नली (बाईं इन्टरनल कैरोटिड ऑर्टरी) में खून का थक्का जमा था। इसी वजह से न वह बोल पा रहा था और दाहिनी ओर लकवा लग गया था। उसकी जाँघ पर एक छोटा-सा चीरा लगाकर खून की नस का थक्का एक कैथेटर द्वारा निकाला गया। मेडीसिन और एनेस्थीसिया के डॉ. आशीष गुप्ता, डॉ. रजत देव, डॉ. कमल राज, डॉ. अनिवेष जैन और डॉ. प्रशांत पाइकरा ने भी ऑपरेशन के दौराना भरपूर मदद की। डीन डॉ. कसार ने लोगों से अपील की है कि लकवे के बाद मरीज को जितना जल्दी हो सके, अस्पताल में दिखायें। उन्होंने कहा कि लकवा अटेक के 24 घंटे के भीतर यदि ऑपरेशन होता है, तो मरीज के बचने औार ठीक होने की अधिक संभावना रहती है।

उच्च शिक्षा का स्वर्णिम वर्ष : उम्‍मीदें रंग लाईं, तरक्‍की मुस्‍कुराई

मन्दसौर | 17-दिसम्बर-2019

 उच्च शिक्षा की गुणवत्ता और उत्कृष्टता से युवाओं का स्वर्णिम भविष्य सुनिश्चित होता है। मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार ने अपने कार्यकाल के पहले वर्ष में ही उल्लेखनीय कदम उठाकर करोड़ों युवाओं के मन में उनके सुनहरे कल का विश्वास जगाया है। देश के चुनिंदा और बेहतर शिक्षा के लिए अग्रणी प्रदेशों के समकक्ष बनने की ओर मध्यप्रदेश ने शिक्षक-छात्र अनुपात बेहतर करने के साथ मजबूती से कदम बढ़ाये हैं। आधुनिक संसाधनों से शिक्षा संस्थानों को परिपूर्ण करना, अधोसंरचना का निर्माण, बेटियों के लिए सुलभ और बेहतर शिक्षा, प्रवेश प्रक्रिया को सरल बनाने, कौशल विकास और रोजगारमुखी शिक्षा, ग्रंथपाल और क्रीड़ा अधिकारियों की नियुक्ति, ई-लायब्रेरी और खेल मैदान की उपलब्धता जैसी नीतियों के लागू और पूरा होने से प्रदेश का शैक्षणिक परिवेश रचनात्मक और विश्वसनीय बना है। मध्यप्रदेश ने उच्च शिक्षा की अनदेखी का बुरा दौर देखा है, महाविद्यालयों में पढ़ने वाले विद्यार्थी कई सालों से शिक्षकों की कमी से जूझ रहे थे, इसका असर प्रदेश में शिक्षा के स्तर पर भी पड़ा। लेकिन वर्तमान सरकार युवाओं का भविष्य उज्जवल बनाने के लिए कृत-संकल्पित है। कमलनाथ सरकार ने प्रतिबद्धता से इस ओर कदम उठाए हैं। इसीलिए प्रदेश के शिक्षा संस्थान अब प्राध्यापक विहीन नहीं रहेंगे। उच्च स्तर की परीक्षाओं में चयनित हमारे काबिल शिक्षक प्रदेश के कोने-कोने में उत्कृष्ट शिक्षा देने के लिए विद्यार्थियों के बीच उपलब्ध होंगे। आधुनिकतम लायब्रेरी में उच्च स्तर और गुणवत्तापूर्ण पुस्तकें हों और उसका लाभ आम विद्यार्थी को मिले, इसलिए ग्रंथपालों की नियुक्ति की गई है। शिक्षा के साथ युवा वर्ग खेल की विधाओं में भी राज्य और देश का नाम रोशन करें, इसलिए कोई भी महाविद्यालय अब क्रीड़ा अधिकारी विहीन नहीं होगा, यह सुनिश्चित किया जा रहा है।

छात्रों ने पोर्टल के जरिये जानी सरकार की नीतियाँ और योजनाएँ

एम पी माय गव टीम का ई-युवा कार्यक्रम

मन्दसौर | 25-अक्तूबर-2019

एमपी माय गव की टीम द्वारा भोपाल स्थित के.एन.पी कॉलेज ऑफ साइंस एण्ड टेक्नोलॉजी में नागरिक सहभागिता के लिए जन-संवाद “ई-युवा” कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में 100 से अधिक महाविद्यालयीन छात्र-छात्राओं ने हिस्सा लिया। “ई-युवा” कार्यक्रम नियमित रूप से स्कूलों और कॉलेजों में आयोजित किया जाता है। कार्यक्रम का उद्देश्य एमपी माय गव पोर्टल के माध्यम से सरकार और नागरिकों के मध्य सरकार की नीतियों और योजनाओं की जानकारी के लिए सहभागिता स्थापित करना है। कार्यक्रम की शुरुआत में एम पी माय गव टीम द्वारा उद्देश्य और कार्य-शैली के बारे में छात्र-छात्राओं को जानकारी दी गई। पोर्टल पर मध्यप्रदेश सरकार  की संचालित  नीतियों और योजनाओं के बारे में छात्र-छात्राओं को बताया गया। छात्र-छात्राओं ने पोर्टल के माध्यम से राज्य सरकार के साथ नये विचारों को साझा किया। कार्यक्रम में स्पॉट क्विज का आयोजन किया गया। क्विज के दौरान कार्यक्रम में मौजूद सभी छात्र-छात्राओं से सवाल पूछे गये, जिनका उन्होंने उत्साहपूर्वक जवाब दिया। कार्यक्रम में क्विज़ विजेताओं को प्रमाण-पत्र दिये गये।

मुख्‍यमंत्री स्‍वेच्‍छानुदान मद से 25 हजार रूपये स्‍वीकृत

मन्दसौर | 22-अक्तूबर-2019

मुख्‍यमंत्री श्री कमलनाथ ने मुख्‍यमंत्री स्‍वेच्‍छानुदान मद से मंदसौर जिले के रोग पीडितों को उपचार हेतु कुल 25 हजार रूपये स्‍वीकृत किये है। कलेक्‍टर श्री मनोज पुष्‍प ने मुख्‍यमंत्री स्‍वेच्‍छानुदान मद से यह आर्थिक मदद मंजूरी आदेश भी जारी कर दिये है। जारी आदेशानुसार जिले की निवासी सुवासरा श्री दयानंद वर्मा 25 हजार रूपये उपचार हेतु मुख्‍यमंत्री स्‍वेच्‍छादान से स्‍वीक़त किये गये है।

सकारात्मक सोच से तनाव कम करें पुलिसकर्मी : विशेष पुलिस महानिदेशक श्री सागर

मन्दसौर | 15-अक्तूबर-2019

विशेष पुलिस महानिदेशक श्री महान भारत सागर ने पीटीआरआई में “फिट इण्डिया-फिट पुलिस” कार्यक्रम में कहा कि तनाव को कम करने के लिये सकारात्मक सोच जरूरी है। उन्होंने कहा कि अच्छा मौसम, अच्छा काम और अच्छी संगत का लुत्फ लेकर तनाव को आसानी से कम किया जा सकता है। श्री सागर कहा कि स्वस्थ रहेंगे, तो मस्तिष्क भी स्वस्थ रहेगा। तनाव को कम करने के लिये म्यूजिक, खेल, पढ़ने की आदत, पेंटिंग आदि को दिनचर्या में शामिल किया जा सकता है।
स्पेशल डी.जी. श्री के.एन. तिवारी ने कहा कि निरंतर सक्रिय कार्य-प्रणाली से तनाव ज्यादा होता है। दिन-रात शरीर की परवाह किये बिना काम को करने से बीमारियों घेर लेती हैं। ऐसे में हेल्थ चेकअप कैम्प प्रभावी होते हैं। उन्होंने कहा कि एक निश्चित अंतराल पर कैम्प आयोजित कर पुलिसकर्मियों को फिट रखा जा सकता है।
एडीजी श्री आदर्श कटियार ने कहा कि स्वस्थ रहने के लिये डाइट का विशेष ख्याल रखना आवश्यक है। बाहर के खाने से परहेज कर एक निश्चित समय पर भोजन करना चाहिये। मुथूट ग्रुप के जी.एम. श्री अभिनव अय्यर ने संस्थान की उपलब्धियों की जानकारी दी। ह्रदय रोग विशेषज्ञ डॉ. सुब्रोतो मण्डल ने कहा कि स्वस्थ रहने के लिये तन-मन और रिलेशन स्वस्थ होना जरूरी है। उन्होंने सरसों के तेल का उपयोग बढ़ाने तथा चावल और रोटी को कम करने की सलाह दी। परिसर में सुबह से पुलिसकर्मियों का डॉक्टरों द्वारा स्वास्थ्य परीक्षण किया गया।

1 अक्‍टूबर एवं 3 अक्‍टूबर को आवश्‍यक कार्य के कारण इन जगह विद्युत प्रदाय बंद रहेगा

मन्दसौर | 01 अक्टूबर -2019

मंदसौर (सं/सं) संभाग के कार्यपालन यंत्री एस.के. सूर्यवंशी ने बताया कि कि विद्युत संबधी आवश्‍यक कार्य एवं पोस्ट मानसुन मेन्टेनेस कार्य के कारण दलौदा वितरण केन्द्र के अंतर्गत 33 केव्ही दलौदा सब-स्टेशन पर 11 केव्ही लखमाखेड़ी क्स् फीडर एवं 33 केव्ही दलौदा फीडर प्रातः 7 बजे से 12बजे कुल 5 घंटे विद्युत प्रदाय बंद रहेगा । जिसके अंतर्गत दलौदा रेल, लखमाखेड़ी, दलौदा, बानीखेडी, नई फतेगढ़ एवं पुरनी फतेगढ, सोनगरी, निरधारी, पिपलीयामुजावर, निम्बाखेडी, मोरखेडा़, एलची, पटेला, धमनार गांव प्रभावित रहेगे।

बाढ़ पीड़ितों को राहत देने के लिए जिला प्रशासन एवं अधिकारीगण मिशन रूप में में काम करें  – मुख्यमंत्री  श्री कमलनाथ

मन्दसौर | 24-सितम्बर-2019

मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ ने आज बाढ़ राहत की समीक्षा बैठक मंदसौर जिले के ग्राम कयामपुर में लेकर सभी विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे बाढ़ पीड़ितों को राहत देने के लिए एक मिशन के रूप मे कार्यं करे। श्री कमलनाथ ने कहा कि जिला प्रशासन बारिश से हुए नुकसान की वास्तविक जांच करे, अनावश्यक कागजी कार्यवाही न करे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ लोग ऐसे अवसरों का नाजायज फायदा उठाने का प्रयास करेंगे, इसके लिए अधिकारी पहले से ही सतर्क रहें। उन्होंने कहा कि बाढ़ पीड़ितों राहत देने के लिए जो समय सीमा निर्धारित की गई है, उक्त समय सीमा का पालन प्राथमिकता से किया जाए। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि किसानों को समय पर बीज की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। साथ ही बीज का वितरण भी किया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह मिशन तभी सफल होगा जब जनता से हमें इस आशय का प्रमाण पत्र मिल जाएगा। मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ ने कहा कि जनता को यह महसूस होना चाहिए कि उन्हें शासन के द्वारा सुविधा मिल रही है। उन्होंने कहा कि यदि व्यापारीगण इस संबंध में कोई सुझाव देते हैं तो उन्हें भी शासन को भेजा जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि इन सब कार्यों में यदि किसी प्रकार की अड़चन आ रही हो तो मंत्रालय को सूचित किया जाएगा।
कलेक्टर के कार्य की प्रशंसा की
मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ ने बैठक में जिला प्रशासन और विशेष तौर पर कलेक्टर श्री मनोज पुष्प द्वारा बाढ़ प्रभावितों को राहत देने के के लिए किए गए प्रयासों की सराहना की और कहा कि संकट की इस घड़ी में कलेक्टर एवं अधिकारीगणों ने बहुत ही सराहनीय कार्य किया है। बैठक में विधायक श्री हरदीप सिंह डंग ने भी कलेक्टर एवं उनकी टीम द्वारा विगत दिवस बाढ़ प्रभावितों के लिए किए गए कार्यों की प्रशंसा की। बैठक में जल संसाधन मंत्री एवं जिले के प्रभारी मंत्री श्री हुकुम सिंह कराड़ा, पूर्व सांसद श्री मीनाक्षी नटराजन, प्रमुख सचिव श्री अशोक कुमार वर्णवाल, उज्जैन संभागायुक्त श्री अजीत कुमार, पुलिस महानिरीक्षक श्री राकेश गुप्ता, कलेक्टर श्री मनोज पुष्प एवं एसपी श्री हितेश चौधरी जिले के अन्य अधिकारी मौजूद थे।

कलेक्टर ने झारड़ा की बस्ती का किया निरीक्षण

बहुत जल्द सड़को का सर्वे शुरू होगा

मन्दसौर | 17-सितम्बर-2019

कलेक्टर श्री मनोज पुष्प द्वारा मल्हारगढ़ विकासखंड की ग्राम पंचायत झारड़ा स्थित बस्ती का औचक निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान बस्ती में हुवे नुकसान के संबंध में संबंधित पटवारी को निर्देश दिये कि जल्द सर्वे कर रिपोर्ट प्रस्तुत करे। ऐसे लोग जिनके घर पूरी तरह से बर्बाद हो गए हैं। उन घरों को तुरंत 50 किलो गेहूं देने की बात भी कलेक्टर के द्वारा कही गई। झारड़ा के लोगों के द्वारा बताया गया कि सड़कें पूरी तरह से उखड़ चुकी हैं। इस संबंध में कलेक्टर के द्वारा कहा गया कि सड़कों के मरम्मत के लिए सर्वे कार्य बहुत जल्द प्रारंभ कर दिया जाएगा। सड़के जल्द से जल्द दुरुस्त हो, इसके लिए पीडब्ल्यूडी, पीएमजीवाईएस, एमपीआरडीसी को निर्देशित कर दिया गया है। निरीक्षण के दौरान कलेक्टर श्री मनोज पुष्प, पुलिस अधीक्षक श्री हितेश चौधरी, सीईओ जिला पंचायत श्री क्षितिज सिंघल, मल्हारगढ़ एसडीएम श्रीमती रोशनी पाटीदार, तहसीलदार, नायब तहसीलदार, पटवारी व बड़ी संख्या में ग्रामीण जन उपस्थित थे।

व्यापार का भविष्य सुरक्षित करने के लिये ई-कॉमर्स अपनाना जरूर

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ से मिला कैट प्रतिनिधि-मंडल

मन्दसौर | 06-सितम्बर-2019

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के प्रतिनिधि मंडल से चर्चा करते हुए कहा कि विश्वभर में ऑनलाइन बिजनिस को बढ़ते देख यह आवश्यक हो गया है कि आने वाले समय में व्यापारियों को ई-कॉमर्स सिस्टम अपनाना होगा। उन्होंने कहा कि व्यवसाय को ऑफलाइन के साथ-साथ आनॅलाइन पर भी रखें। श्री कमल नाथ ने कहा कि मध्यप्रदेश में ई-कॉमर्स सिस्टम अभियान के रूप में चलायेंगे। विश्वविद्यालयों के छात्र-छात्राएँ इसमें प्रतिभागी रहेंगे। छोटे कारोबारियों को बिना किसी आर्थिक भार के ई-कॉमर्स में शामिल किया जायेगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि मंडियों में किसानों को नगद भुगतान आवश्यक है। बैंकों में कैश उपलब्ध न होने की स्थिति में किसान को परेशानी होती है। उन्होंने कहा कि हम केन्द्र सरकार से बात करेंगे ताकि व्यापरियों को परेशानी न हो और किसान को भी उसकी फसल का पैसा तुरंत मिले। मुख्यमंत्री ने कहा कि इसके लिए योजना बनाई जायेगी।
मुख्यमंत्री ने कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के ‘‘बैज‘‘ का लोकार्पण किया। कैट के प्रदेश अध्यक्ष श्री भूपेन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को पहला बैज लगाकर सम्मानित किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि महिला उद्यमियों के लिये प्रत्येक जिले में मुद्रा लोन शिविर लगाये जायेंगे। विश्वविद्यालय स्तर पर स्टार्टअप समिट होगी। मुख्यमंत्री ने व्यापारियों और कारोबारियों को आमंत्रित करते हुए कहा कि जो अधिक से अधिक रोजगार देगा, उसको राज्य शासन से हरसंभव मदद मिलेगी।
इस अवसर पर कैट के राष्ट्रीय महामंत्री श्री प्रवीण खंडेलवाल ने कैट, सीएससी, मास्टर कार्ड एवं ग्लोबल लिंकर ई-कॉमर्स बिजनिस की परिकल्पना से मुख्यमंत्री को अवगत कराया। उन्होंने कहा कि कैट राज्य शासन के साथ मिलकर प्रदेश के आर्थिक विकास के लिए कार्य करने के लिए तैयार है।
इस मौके पर मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री अशोक वर्णबाल, वरिष्ठ राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री कैलाश अग्रवाल, प्रदेश अध्यक्ष श्री भूपेन्द्र जैन, ग्लोबल लिंकर के श्री समीर वकील, कैट के सोशल मीडिया प्रभारी श्री सुमित अग्रवाल, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री राधेश्याम माहेश्वरी, सेन्ट्रल जोन कोर्डिनेटर श्री रमेश गुप्ता, महामंत्री श्री मुकेश अग्रवाल, संयुक्त सचिव श्री मनोज चौरसिया, श्री अजय चौरसिया, श्री अविचल जैन, श्री नरेन्द्र मांडिल उपस्थित थे।

विधायक श्री डंग ने बसई में 27.72 लाख से निर्मित होने वाली गौशाला का किया भूमिपूजन

मन्दसौर | 31-अगस्त-2019

प्रदेश में गायों के संरक्षण के लिए सरकार द्वारा हर विकासखंड स्तर पर गौशाला निर्माण का कार्य किया जा रहा है। इसके अंतर्गत सीतामऊ तहसील के बसई में 27 लाख 72 हजार से निर्मित होने वाली गौशाला का भूमि पूजन विधायक श्री हरदीप सिंह डंग द्वारा किया गया। इस दौरान कलेक्टर श्री पुष्प द्वारा कहा गया कि गौशाला निर्माण में गुणवत्ता का विशेष तौर पर ध्यान रखा जाए। बारिश का दौर खत्म हो चुका है। इसलिए निर्माण का कार्य जल्द प्रारंभ कर, जल्द खत्म करें। गौशाला नियंत्रण एजेंसी जनपद पंचायत को निर्देश दिए कि समय-समय पर गौशाला निर्माण कार्य का निरीक्षण भी करते रहे। इस संबंध में ब्लॉक स्तर की समिति की बैठक तुरंत आयोजित करें। गौशाला निर्माण के आगे की कार्यवाही शुरू करें। गौशाला निर्माण को लेकर जहां जहां पर जमीन का विवाद है। उसका भी तुरंत निराकरण कर गौशाला निर्माण कार्य प्रारंभ करें। दौरान कलेक्टर श्री मनोज पुष्प, सीतामऊ एसडीएम, नायब तहसीलदार, ग्रामीण जन एवं किसान उपस्थित थे।

सैनिक भर्ती रैली 2 से 8 सितम्‍बर तक

मन्दसौर | 23-अगस्त-2019

जिला सैनिक कल्‍याण अधिकारी मंदसौर कर्नल जय सिंह हाड़ा (से.नि.) ने बताया कि मन्दसौर एवं नीमच जिले के आर्मी मेडिकल कोर के सेवानिवृत्त सैनिकों/सैनिक विधवाओ सेवारत सैनिक के आश्रितो को सूचित किया जाता हैं कि यूनिट हेडक्वॉटर कोटे के तहत सोलजर जी.डी.(एम.टी), सोलजर नर्सिग सहायक, सोलजर कर्ल्‍क/एस.के.टी. एवं सोलजर ट्रेडमेन के पदो पर 2 सितम्बर 2019 से 08 सितम्बर 2019 तक आर्मी मेडिकल सेन्टर एण्ड कॉलेज, लखनऊ (उ.प्र.) में भर्ती रैली का आयोजन किया जा रहा हैं। भर्ती रैली में आर्मी मेडिकल कोर के सेवानिवृत्त सैनिकों/सैनिक विधवाओ के बच्चे एवं सेवारत सैनिक के आश्रितो को आर्मी मेडिकल कोर के द्वारा जारी आश्रीत प्रमाण पत्र धारी को ही प्रात्रता हैं।

बहते हुये पानी मे से स्कूली वाहन निकालने पर श्री दशरथ का ड्रायविंग लायसेस निरस्त

मन्दसौर | 09-अगस्त-2019

 क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी जिला मंदसौर द्वारा बताया गया कि व्हाट्सएप पर प्राप्त शिकायत इस कार्यालय को प्राप्त हुई है। जिसमे 8 अगस्त को स्कूल वाहन क्रमांक MP14 PA 0290 में स्कूली बच्चों को वाहन मे बैठाकर पुलिया पर बहते हुये पानी मे से वाहन को निकाला गया है। जो उन बच्चो की जान को जोखिम मे डालते हुवे वाहन का संचालन किया है। जिस कारण कोई बड़ी जनहानि एवं दुर्घटना हो सकती थी। किये गये इस कृत्य के कारण ड्रायविंग लायसेंस क्रमांक MP14R – 2019 – 0020638 दिनांक 28/ 02/ 2013 जो इस कार्यालय से जारी किया गया है। जिसकी वैधता दिनांक 21/ 02/ 2022 तक है। श्री दशरथ पिता भेरूलाल निवासी – बाजखेडी, जिला – मंदसौर के लायसेंस को तत्काल प्रभाव से निलंबित/ निरस्त किया जाता है एवं आपको निर्देशित किया जाता है कि अपना मुल ड्रायविंग लायसेंस इस कार्यालय में जमा कराये एवं लायसेंस निलंबन अवधि में किसी भी वाहन का संचालन ना करे, यदि आप उक्त निलंबन/ निरस्त अवधि में किसी भी प्रकार के वाहन का संचालन करते हवे पाये जाते है, तो आपके विरूद्ध नियमानुसार वैधानिक कार्यवाही की जावेगी।

जंगल, बाघ और जैव विविधता से मध्यप्रदेश की विश्व में पहचान 

अंतर्राष्ट्रीय बाघ दिवस समारोह में मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ 

मन्दसौर | 30-जुलाई-2019

मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने कहा है कि जंगल, बाघ और जैव विविधता के कारण मध्यप्रदेश की देश में ही नहीं, पूरे विश्व में पहचान है। श्री नाथ गत दिवस मिंटो हाल में अंतर्राष्ट्रीय बाघ दिवस पर आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आज हमारे देश में बाघ और जंगल सुरक्षित हैं, तो इसका श्रेय पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय श्रीमती इंदिरा गांधी को जाता है। श्री नाथ ने कहा कि 1980 में विरोध के बावजूद उन्होंने लोकसभा में फॉरेस्ट एक्ट पास करवाया। तब इसे विकास विरोधी कहा गया था। उन्होंने कहा कि इसी एक्ट ने हमारे देश की जैव विविधिता को न केवल संरक्षित किया, बल्कि संवर्धित भी किया।
श्री कमल नाथ ने कहा कि भारत जैव विविधता के मामले में दुनिया का सबसे धनी देश है। उन्होंने कहा कि देश में जैव विविधता के साथ ही अन्य कई ऐसे फैसले लिये गये, जिनमें बाघों का संरक्षण भी शामिल है। इसके कारण ही हमारा देश बाघों की संख्या के मामले में पूरी दुनिया में अव्वल है। उन्होंने कहा कि बाघ हमारे इको सिस्टम का हार्ट हैं। यह एकमात्र प्राणी है, जिसके कारण हमारे देश में पर्यावरणीय संतुलन बना हुआ है।

सीएम हेल्‍प लाईन पर लंबित शिकायतों का निराकरण विभाग शिविर आयोजित कर मौके पर ही करें

मन्दसौर | 23-जुलाई-2019

कलेक्टर श्री मनोज पुष्प ने निर्देश जारी करते हुए कहा है कि जितने भी विभाग जिनकी सीएम हेल्पलाइन पर शिकायत बहुत ज्यादा समय से लंबित हैं। वे सभी विभाग जिसमें लीड बैंक मैनेजर, राजस्व विभाग, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग, शिक्षा विभाग, कृषि विभाग, नगर पालिका, वन विभाग अपने-अपने स्तर पर शिविर का आयोजन करेंगे तथा हितग्राहियों को शिविर में बुलाकर तुरंत मौके पर ही निराकरण करें

14 जुलाई को आवश्‍यक कार्य के कारण इन जगह विद्युत प्रदाय बंद रहेगा 

मन्दसौर | 12-जुलाई-2019

मंदसौर (सं/सं) संभाग के कार्यपालन यंत्री एस.के. सूर्यवंशी ने बताया कि विद्युत संबंधित आवश्‍यक कार्य के कारण मंदसौर (शहर) एवं खिलचीपुरा वितरण केन्द्र के अंतर्गत 11 केव्ही खानपुरा डी.एच.क्यु. फीडर प्रातः 7 बजे से 12 बजे कुल 5 घंटे विद्युत प्रदाय बंद रहेगा। जिसके अंतर्गत खानपुरा खरंजा, लक्कडपीठा, शेखाचैक, प्रतापगढ़ रोड, सत्संग भवन, गुदरी तौडा एवं पशुपतिनाथ रोड क्षेत्र प्रभावित रहेगे।अस्पतालों में प्रदर्शित करें नया ओपीडी टाइम