Tuesday, August 11News That Matters

रायसेन

Share
मध्यप्रदेश में “खेलो इंडिया लघु केंद्र” योजना की शुरूआत
पूर्व चैंपियन खिलाड़ियों के माध्यम से किया जाएगा क्रियान्वयन, वर्ष 2020-21 के लिए जिलों से 20 जुलाई तक प्रस्ताव आमंत्रित

रायसेन | 09-जुलाई-2020
    भारत सरकार के युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय द्वारा खेलो इंडिया योजना के तहत जमीनी स्तर पर खेलों के विकास एवं प्रोत्साहन की महत्वपूर्ण “खेलो इंडिया लघु केंद्रष् योजना प्रारंभ की जा रही है। योजना के अंतर्गत पूरे देश में एक हजार केंद्र स्थापित किये जाएंगे। जमीनी स्तर पर खिलाड़ियों को प्रशिक्षित करने की इस महत्वपूर्ण योजना के अंतर्गत इसका संचालन पूर्व चैंपियन खिलाड़ियों के माध्यम से किया जाएगा।
प्रत्येक वर्ष तीन खेलो इंडिया केंद्रों का चयन खेल और युवा कल्याण विभाग के जिला खेल और युवा कल्याण अधिकारियों द्वारा जिला कलेक्टर की अनुशंसा से किया जाकर प्रस्ताव संचालनालय खेल और युवा कल्याण मध्य प्रदेश को प्रेषित किए जाएंगे। पूर्व चैंपियन खिलाड़ी नवोदित खिलाड़ियों के प्रशिक्षक एवं मार्गदर्शक बने व उनके अनुभव का पर्याप्त उपयोग खिलाड़ियों के प्रशिक्षण पर किया जाए। साथ ही योजना मे यह भी सुनिश्चित किया गया कि इन पूर्व चैंपियन खिलाड़ियों को इस कार्य से कुछ आय प्राप्त हो सके। इस सिलसिले में प्रदेश के समस्त जिला खेल अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि वे अपने जिले से वर्ष 2020-21 के लिए अधिकतम दो प्रस्ताव का चयन कर निर्धारित प्रपत्र में 20 जुलाई, 2020 तक संचालनालय खेल एवं युवा कल्याण को प्रेषित करें।

पूरे देश में एक हजार खेलों इंडिया सेंटर की होगी स्थापना

चार वर्षीय इस योजना में पूरे देश में 1000 खेलो इंडिया सेंटर की स्थापना की जाना है। इसमें ओलंपिक में खेले जाने वाले 14 खेल यथा आर्चरी (तीरंदाज़ी), एथलेटिक्स, बॉक्सिंग, बैडमिंटन, साइकिलिंग, फेंसिंग (तलवारबाज़ी), हॉकी, जूडो, रोइंग, शूटिंग, स्विमिंग (तैराकी), टेबल टेनिस, वेट लिफ्टिंग (भारोत्तोलन), रेसलिंग (कुश्ती) के साथ ही फुटबॉल एवं पारंपरिक खेल भी शामिल हैं। खेलो इंडिया सेंटर की स्थापना के लिए पूर्व चैंपियन खिलाड़ियों को प्रशिक्षक, सपोर्टिंग स्टाफ, खेल उपकरण क्रय, खेल किट, गैर-उपभोज्य (  conumaybel) एवं प्रतियोगिता में टीम को सम्मिलित करने के लिए अनुदान उपलब्ध कराया जाएगा। केन्द्रों का चयन करते समय खेल विभाग द्वारा संचालित 18 खेल अकादमियों के खेलों को प्राथमिकता दी जायेगी जिससे यह केन्द्र खेल अकादमी के सह प्रशिक्षण केन्द्र के रूप मे बेहतर प्रतिभा की नर्सरी तैयार कर सके। लघु खेलो इंडिया केंद्र योजना में पूर्व चैंपियन खिलाड़ियों द्वारा नवोदित खिलाड़ियों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रशिक्षण हेतु कुछ शुल्क भी पूर्व चैंपियन खिलाड़ी नवोदित खिलाड़ियों से प्राप्त कर सकते हैं।

चयनित केन्द्रों को मिलेगी आर्थिक सहायता

चयनित खेलो इंडिया केंद्रों को भारत सरकार द्वारा 4 वर्ष के लिए आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई जावेगी। चार वर्षों के पश्चात पूर्व चैंपियन खिलाड़ियों की पहचान स्थापित प्रशिक्षक के रूप में होने से वह स्वयं के संसाधनों से केंद्र का संचालन भविष्य मे निरंतर कर सकेंगे। चयनित खेलो इंडिया केंद्र को भारत सरकार द्वारा एक मुश्त 5 लाख रुपये केंद्र प्रति खेल के मान से खेल मैदान के रख रखाव, उन्नयन, खेल उपकरण, खेल किट आदि के लिए उपलब्ध कराई जाएगी। रिकरिंग वार्षिक अनुदान राशि 5 लाख रुपए प्रति खेल के मान से पूर्व चैंपियन खिलाड़ी प्रशिक्षक को मानदेय, सहायक स्टाफ, खेल उपकरण, खेल किट, गैर उपभोग सामग्री प्रतियोगिता में टीम को सहभागिता कराने आदि के लिए उपलब्ध कराई जाएगी। चैंपियन खिलाड़ी प्रशिक्षक को अधिकतम 3 लाख रुपए वार्षिक मानदेय प्राप्त करने की अनुमति होगी।

शासकीय, अशासकीय स्कूल/कॉलेज में उपलब्ध खेल अधोसंरचना का कर सकेंगे उपयोग

विकास खंड एवं जिला स्तर पर शासकीय और अशासकीय स्कूल, कॉलेज, संस्था एवं अन्य उपलब्ध खेल अधोसंरचना का उपयोग पूर्व चैंपियन खिलाड़ी-प्रशिक्षक द्वारा इन प्रस्तावित खेलो इंडिया केंद्र के अंतर्गत किया जा सकता है। पूर्व चैंपियन खिलाड़ी प्रशिक्षकों द्वारा नवोदित खिलाड़ियों को प्रशिक्षण देने के लिए इन केंद्रों के प्रस्ताव प्रेषित कर सकते हैं। एक पूर्व चैंपियन खिलाड़ी-प्रशिक्षक द्वारा एक ही खेल के प्रस्ताव प्रेषित किए जा सकते हैं। अशासकीय खेल संस्था जो कि विगत 5 वर्षों से खेलों को प्रोत्साहित कर रही है वह अधिकतम 3 खेलों के प्रस्ताव प्रेषित कर सकती है। एक जिले से इस वर्ष अधिकतम 2 प्रस्ताव ही स्वीकार किए जाएंगे। पूर्व चैंपियन खिलाड़ी अथवा संस्था के आवेदन पत्र निर्धारित आवश्यक दस्तावेज संलग्न कर चेक लिस्ट सहित जिला खेल और युवा कल्याण अधिकारी द्वारा जिला कलेक्टर की अनुशंसा सहित निर्धारित अवधि में प्रेषित करना होगा।

मनरेगा के तहत खेत तालाब निर्माण से रघुवीर को मिली दोहरी खुशी “कहानी सच्ची है”
फसल सिंचाई की समस्या हुई दूर, तालाब निर्माण में रघुवीर सहित ग्रामीणों को मिला रोजगार
रायसेन | 18-जून-2020

    मनरेगा के तहत प्रारंभ की गई खेत तालाब योजना से एक ओर जहां किसान अपने खेत में तालाब निर्माण होने से खुश हैं, तो वहीं दूसरी ओर कोरोना महामारी के कठिन समय में प्रवासी श्रमिकों तथा स्थानीय ग्रामीणों को भी गांव में ही रोजगार उपलब्ध होने से राहत मिली है। सांची जनपद के ग्राम जोगीपुरा निवासी किसान श्री रघुवीर सिंह आ0 श्री नन्नूलाल भी उन हितग्राहियों में शामिल हैं, जिन्होंने खेत तालाब योजना के तहत अपने खेत में तालाब निर्माण कराया है।
श्री रघुवीर सिंह ने बताया कि अपने खेत में अपना तालाब पाकर अब वे काफी राहत महसूस कर रहे हैं। तालाब निर्माण में रघुवीर सिंह तथा उनके परिवार के सदस्यों सहित 19 लोगों को अभी तक 21 दिनों का रोजगार मिला है जिनमें प्रवासी श्रमिक तथा स्थानीय ग्रामीण शामिल हैं। रघुवीर सिंह अपने परिवार के भरण-पोषण के लिए खेती और मजदूरी पर निर्भर हैं। कोरोना महामारी के कारण कामकाज बंद होने से उनके सामने भी गंभीर संकट उत्पन्न हो गया था। ऐसे कठिन समय में मनरेगा के तहत खेत में तालाब निर्माण होने से रघुवीर और उनके परिवार को दोहरी खुशी मिली है। तालाब निर्माण होने से रघुवीर की फसल सिंचाई की समस्या दूर हो गई है। तालाब में बारिश का पानी एकत्रित होने के बाद वह बिना किसी परेशानी के फसल में सिंचाई कर सकेंगे। इसके अतिरिक्त तालाब निर्माण में काम मिलने से रघुवीर तथा अन्य श्रमिकों को आर्थिक संकट से भी निजात मिली है।

 

देश में संचालित हो जागरूकता अभियान

कोरोना नियंत्रण की जंग को हर हालत में जीतना है-मुख्यमंत्री श्री चौहान
रायसेन | 02-जून-2020

    मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना नियंत्रण के प्रयासों में निरंतर मिल रही कामयाबी के बाद भी पूरे प्रदेश में रोग नियंत्रण के लिये पूरी सावधानी रखने की आवश्यकता है। कोरोना से जंग को हर हालत में जीतना है। इस संबंध में जागरूकता अभियान का संचालन पूरे प्रदेश में किया जाये। इसमें एनसीसी, एनएसएस, जन अभियान परिषद और कम्युनिटी लीडर्स को शामिल किया जाये। एक ऐसी फौज तैयार हो जो लोगों को कोरोना वायरस से बचाव के सभी उपायों की सरल तरीके से जानकारी देते हुये जागरूक करें। जून के महीने में निरंतर जागरूकता के लिये भी सब्जी विक्रेताओं से लेकर अन्य सभी दुकानदारों को शिक्षित और जागरूक बनाने की आवश्यकता है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में किसी भी स्थान पर लापरवाही बरतने वाले दुकानदारों की दुकान सील की जाये। इस संबंध में दुकानदार स्वयं सजग रहकर दुकान एवं बाजार क्षेत्र को सेनेटाइज करने में भी सहयोग दें।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज मंत्रालय में प्रदेश में कोरोना नियंत्रण के प्रयासों की समीक्षा करते हुये कहा कि कोरोना ई-परामर्श सेवा को और अधिक लोकप्रिय बनाया जाये। आयुर्वेदिक काढ़े की उपलब्धता सुनिश्चित करवाई जाये। इसे बड़ी संख्या में नागरिकों तक निरूशुल्क वितरित किया गया है। शरीर को रोगों से लड़ने और वायरस से बचाव के लिये सक्षम बनाने में त्रिकटु चूर्ण और काढ़े का विशेष महत्व है, इसे सशुल्क उपलब्ध करवाने पर भी विचार किया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि भोपाल के चिरायु अस्पताल से 1000 से अधिक रोगियों का स्वस्थ होकर डिस्चार्ज होना एक उपलब्धि है। देश में बहुत कम चिकित्सा संस्थान इतने बेहतर कार्य कर पाये हैं। बैठक में बताया गया कि प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव रोगियों के रिकवर होने की दर काफी बढ़ी है। मध्यप्रदेश में रिकवरी रेट दूसरे क्रम पर है। इसके बाद भी प्रत्येक रोगी के उपचार के साथ ही संदिग्ध रोगियों की देखरेख भी गंभीरतापूर्वक की जाये। प्रदेश में मृत्यु दर भी अन्य राज्यों से कम है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में इस वायरस से मृत्यु नहीं होना चाहिये।
बैठक में स्वास्थ्य मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने आयुर्वेदिक काढ़े को अधिक से अधिक लोगों तक पहुंचाने के लिये आपूर्ति व्यवस्था लागू करने का सुझाव दिया। मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस ने फीवर क्लीनिक और अन्य उपायों द्वारा जिला स्तर पर सतत समीक्षा करने को कहा। अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान ने इंदौर से वीडियो कान्फ्रेंसिंग से भागीदारी करते हुये वायरस नियंत्रण की जानकारी दी। बैठक में आयुक्त स्वास्थ्य श्री फैज अहमद किदवई ने खरगौन एवं छतरपुर जिलों में कोरोना नियंत्रण के साथ ही अन्य जिलों में रोगियों के स्वास्थ्य में सुधार और अपनाये जा रहे एहतियाती उपायों का विस्तृत विवरण दिया। बैठक में पुलिस महानिदेशक श्री विवेक जौहरी, अपर सचिव मुख्यमंत्री श्री ओमप्रकाश श्रीवास्तव भी उपस्थित थे।

कोरोना ई-परामर्श सेवा

कोरोना ई-परामर्श सेवा के अंतर्गत 2407 कॉल्स आये थे। टोल फ्री नंबर 104 से कोरोना ई-परामर्श सेवा को भी जोड़ा गया है। इसका उपयोग बढ़ाने पर ध्यान दिया जाएगा। प्रदेश में टेलीमेडिसीन सेवा को लोकप्रिय बनाया जाएगा। इसके लिय की गई व्यवस्था का लाभ अधिक लोग लें, इसके लिये टेली कंसलटेशन से अधिक विशेषज्ञों को जोड़ा जायेगा। वर्तमान में ई-संजीवनी ओपीडी के अंतर्गत 283 टेली कंसलटेशन दिए जा चुके हैं।

मध्यप्रदेश का रिकवरी रेट 60.4 है, जो देश में दूसरे क्रम पर सबसे अच्छा

समीक्षा में बैठक में जानकारी दी गई कि मध्यप्रदेश में रिकवरी रेट 60.4 है, जो राजस्थान के 68.3 के बाद देश में दूसरे क्रम पर बेहतर है। यह देश के रिकवरी रेट से 12.3 प्रतिशत अधिक है। गत 13 अप्रैल को प्रदेश में 9 प्रतिशत रिकवरी रेट ही था, जो डेढ़ माह में 60 प्रतिशत तक पहुंचा है। देश में रिकवरी रेट के मामले में उत्तरप्रदेश, गुजरात, तमिलनाडु और महाराष्ट्र मध्यप्रदेश से पीछे हैं, जो क्रमशरू 59.9, 59.1, 57.1 और 53.4 के साथ तीसरे से लेकर छटवें स्थान पर आते हैं। देश का औसत रिकवरी रेट 48.1 है। प्रदेश में 8283 प्रकरणों में से एक्टिव केसेस 2922 हैं। इनमें 5003 रिकवर केसेस हैं। प्रदेश में इस समय करीब 6000 टेस्ट प्रतिदिन की क्षमता विकसित हो गई है। रविवार को प्रदेश में 6023 टेस्ट हुये जो एक दिन में हुये सर्वाधिक टेस्ट हैं। प्रदेश में 21 लैब यह कार्य कर  रही हैं। इंदौर की स्थिति में सुधार परिलक्षित हुआ है। आई.सी.यू. और बिस्तर क्षमता की उपलब्ध व्यवस्था का लगभग एक तिहाई उपयोग करने की ही जरूरत पड़ रही है। प्रदेश में ऐसे जिलों की संख्या चार है जहाँ गत 21 दिन में कोई पॉजिटिव केस नहीं मिला है। अभी प्रदेश में 958 कंटेनमेंट क्षेत्र हैं। प्रदेश में 1149 मोबाइल मेडिकल यूनिट और 3670 सर्वे दल कार्य कर रहे हैं। फीवर क्लीनिक 1197 हैं।

 

 

सांची में पोषण प्रबंधन संबंधी कार्यशाला आयोजित

रायसेन | 18-फरवरी-2020
    सांची में अति कुपोषित बच्चों के समुदाय आधारित पोषण प्रबंधन के लिए सीसेम अभियान के तहत कार्यशाला आयोजित की गई। कार्यशाला में महिला बाल विकास परियोजना अधिकारी एवं विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी द्वारा असंतुलित, अपर्याप्त आहार के कारण बच्चे कुपोषण का शिकार होते हैं। इससे बच्चों की रोगों से लड़ने की क्षमता घट जाती है और संक्रमण की संभावना बढ़ जाती है। संक्रमण के कारण बच्चे की भूख तथा खाने की इच्छा कम हो जाती है। पोषक तत्वों की आवश्यकता बढ़ जाती है और पोषक तत्वों का अवषोषण कम हो जाता है। कार्यशाला में जानकारी दी गई कि माताओं तथा बच्चों की अपर्याप्त देखभाल, अस्वस्थ्य वातावरण एवं जागरूकता की कमी भी इसका कारण है। कार्यशाला में घर पर ही उपलब्ध खाद्य सामग्री से पोषण आहार बनाने की भी जानकारी दी गई। इस अवसर पर पर्यवेक्षक, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, एएनएम तथा आषा कार्यकर्ता उपस्थित थीं।

सिद्धहस्थ शिल्पियों को मिलेंगे राज्य-स्तरीय विश्वकर्मा पुरस्कार

30 अप्रैल तक प्रविष्टियाँ आमंत्रित
रायसेन | 11-फरवरी-2020
    राज्य शासन ने सिद्धहस्थ शिल्पियों को राज्य स्तरीय विश्वकर्मा पुरस्कार प्रदान करने का निर्णय लिया है। राज्य हस्तशिल्प एवं हथकरघा विकास निगम ने सिद्धहस्थ शिल्पियों से पुरस्कार के लिये कलाकृतियों सहित 30 अप्रैल तक जिला स्तर पर प्रविष्टियाँ आमंत्रित की हैं। हस्तशिल्प एवं हथकरघा विकास निगम के कार्यालय अथवा जिला ग्रामोद्योग अधिकारी कार्यालय, जिला पंचायत में आवेदन जमा किये जा सकते हैं।
राज्य स्तरीय विश्वकर्मा पुरस्कार में प्रथम पुरस्कार में एक लाख, द्वितीय पुरस्कार में 50 हजार, और तृतीय पुरस्कार में 25 हजार रूपये प्रदान किये जाएंगे। तीन शिल्पियों को 15-15 हजार रूपये प्रोत्साहन पुरस्कार भी दिये जाएंगे। पुरस्कार की पात्रता के लिए शिल्पी को मध्यप्रदेश का मूलनिवासी होना आवश्यक है। शिल्पी का पंजीयन एवं निवास अनुशंसा करने वाले जिले में होना चाहिए। शिल्पी का संत रविदास मध्यप्रदेश हस्तशिल्प एवं हथकरघा विकास निगम अथवा कपड़ा मंत्रालय, भारत सरकार के विकास आयुक्त (हस्तशिल्प कार्यालय) में पंजीकृत होना भी आवश्यक है। जिलों में प्राप्त आवेदन पत्र जिला स्तरीय समिति द्वारा चयनित किए जाएंगे। इस प्रक्रिया के बाद वर्षांत तक चयनित शिल्पी पुरस्कृत किए जाएंगे।

त्रि-स्तरीय पंचायत आम निर्वाचन हेतु आरक्षण की कार्यवाही 30 जनवरी को

रायसेन | 28-जनवरी-2020
   त्रि-स्तरीय पंचायत आम निर्वाचन 2019-20 के लिए जनपद पंचायत अध्यक्षों एवं जिला पंचायत सदस्यों के निर्वाचन क्षेत्रों के आरक्षण की कार्यवाही 30 जनवरी को प्रातः 11 बजे कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में की जाएगी। कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव द्वारा आरक्षण कार्यवाही के लिए बीडीओ श्रीमती रश्मि चौहान, सहायक सांख्यिकी अधिकारी श्री प्रवीण झोपे तथा वरिष्ठ लेखा परीक्षक श्री जीएस पवार कार्यालय जिला पंचायत की ड्यूटी लगाई गई है।

लकवाग्रस्त मरीजों के लिए निःशुल्क जागरूकता एवं रोग निदान शिविर 24 जनवरी को

शिविर के लिए 7089189189 पर करा सकते हैं निःशुल्क पंजीयन
रायसेन | 21-जनवरी-2020

 रायसेन स्थित सामुदायिक भवन में 24 जनवरी को प्रातः 10 बजे से दोपहर 02 बजे तक लकवा ग्रस्त मरीजों एवं उनके परिजनों के लिए निःशुल्क जागरूकता एवं रोग निदान शिविर आयोजित किया जा रहा है। शासकीय होम्योपैथी अस्पताल भोपाल एवं हम साथ हैं डीबीएल सोशल वेलफेयर फाउन्डेशन द्वारा आयोजित इस शिविर के लिए मोबाईल नम्बर 7089189189 पर निःशुल्क पंजीयन करा सकते हैं।
इस निःशुल्क जागरूकता एवं रोग निदान शिविर में लकवा पैरालिसिस, मुहॅ का टेढ़ा होना, चेहरे का लकवा, पैराप्लिजिया व क्वाड्री प्लिजिया, मॉसपेशियों में कमजोरी आना (मस्कुलर डिस्ट्रौपी), अचानक पूरे शरीर का काम न कर पाना जीबीएस, बैलेंस प्रोब्लम, चलने में लचक आना (गेट प्रोब्लम), सेरेब्रल पाल्सी, रिस्ट ड्रोप व फुट ड्रोप, पार्किन्सन बीमारी तथा नसों का दर्द जैसी बीमारियों पर विशेषज्ञों द्वारा फिजियोथेरेपी परामर्श दिया जाएगा। शिविर द्वारा जरूरतमंद मरीजों को शासकीय होम्योपैथिक अस्पताल आयुष परिसर भोपाल में निःशुल्क न्यूरो फिजियोथेरेपी की सुविधा एवं होम्योपैथिक ईलाज की सुविधा उपलब्ध कराई जाती है। हम साथ हैं एक अनोखी निःशुल्क हेल्पलाईन है जो लकवा मरीजों के परिजनो को मरीज से संबंधित सभी आयामो की जानकारी देती है।

प्रदेश के सर्वांगीण विकास के लिए काम कर रही है प्रदेश सरकार- स्कूल शिक्षा मंत्री

स्कूल शिक्षा मंत्री ने गैरतगंज में 76.44 लाख रूपए से बनने वाले कम्यूनिटी हॉल निर्माण कार्य का किया भूमिपूजन
रायसेन | 14-जनवरी-2020
    रायसेन जिले के गैरतगंज में स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी ने 76.44 लाख रूपए लागत से होने वाले नगर परिषद गैरतगंज कम्प्यूनिटी हॉल कम पेवल्स ब्लाक निर्माण कार्य का भूमिपूजन किया। इस अवसर पर स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ चौधरी ने कहा कि जब यह हॉल बनकर तैयार हो जाएगा तो लोगों को इसका लाभ मिलेगा और सामाजिक, सांस्कृतिक गतिविधियों के आयोजन में सुविधा होगी।
स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ चौधरी ने कहा कि प्रदेश का तेजी से विकास हो इसके लिए मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ के नेतृत्व में प्रदेश सरकार निरंतर काम कर रही है। प्रदेश के सर्वांगीण विकास और युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए हैं। युवाओं का मुख्यमंत्री युवा स्वाभिमान योजना के तहत कौशल उन्नयन कर उन्हें रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है। इसके साथ ही प्रदेश में स्थापित होने वाली औद्योगिक इकाईयों में 70 प्रतिशत रोजगार स्थानीय लोगों को देने का भी महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया है। इससे युवाओं को प्रदेश में रोजगार के नए अवसर प्राप्त होंगे और उन्हें नौकरी के लिए भटकना नहीं पड़ेगा। प्रदेश में औद्योगिक निवेश को बढ़ावा देने के लिए कुछ समय पूर्व इंदौर में मैग्नीफिसेंट एमपी का भी आयोजन किया गया तथा औद्योगिक नीति को भी सरल बनाया गया है।
स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ चौधरी ने कहा कि लोगों को अपनी समस्याओं के समाधान और शासकीय योजनाओं का लाभ लेने के लिए भटकना न पड़े, इसके लिए मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ ने अभिनव पहल करते हुए आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम प्रारंभ किया है।  शासन की विभिन्न योजनाओं को जन-जन तक पहुँचाने और शहर से लेकर ग्रामीण अंचलों के हर तबके तक रोजमर्रा की समस्याओं के समाधान के लिए जिले के गांवों का आकस्मिक भ्रमण किया जा रहा है। समस्या का तत्काल निराकरण ना किए जाने की स्थिति में समय सीमा भी निर्धारित की गई है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने जनता को दिए वचन प्राथमिकता के साथ पूरे किए हैं। प्रदेश में जय किसान फसल ऋण माफी योजना के तहत लगभग 20 लाख किसानों को फसल ऋण माफ किया जा चुका है तथा शेष पात्र किसानों के फसल ऋण माफी करने की प्रक्रिया भी प्रारंभ हो गई हैं।

नवनिर्मित हाल का लोकार्पण करेंगे स्कूल शिक्षा मंत्री

रायसेन | 07-जनवरी-2020

 स्कूल शिक्षा मंत्री डॉक्टर प्रभुराम चौधरी 9 जनवरी 2020 को दोपहर 12:00 बजे उत्कृष्ट विद्यालय रायसेन में  नवनिर्मित हाल का लोकार्पण करेंगे । इसके साथ ही वे युवा संसद व पालक मेला के आयोजन के मुख्य अतिथि होंगें। कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव भी इस कार्यक्रम में  अतिथि के रूप में उपस्थित रहेंगे।

बेतवा नदी के उद्गम स्थल को किया जाएगा विकसित प्रशासन और ग्रामवासियों में सहमति

भोपाल | 28-दिसम्बर-2019
रायसेन जिले के रातापानी अभ्यारण के अंतर्गत वनग्राम झिरी बहेड़ा में ग्रामवासियों से कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव एवं एसपी श्री मनोज कुमार सिंह द्वारा चर्चा की गई। चर्चा के दौरान कलेक्टर श्री भार्गव ने ग्रामवासियों को आश्वस्त किया कि बेतवा नदी के उद्गम स्थल को विकसित किया जाएगा।
         कलेक्टर, एसपी से चर्चा के दौरान सभी ग्रामवासियों ने  बेतवा नदी के उद्गम स्थल को विकसित किए जाने को लेकर सहमति जताई।  उल्लेखनीय है कि अतिक्रमण हटाए जाने को लेकर ग्रामवासियों द्वारा आपत्ति करते हुए उदग्म स्थल के विकास की मांग की गई थी। ग्रामवासियों से चर्चा के दौरान जिला पंचायत सदस्य श्री विनोद इरपाचे भी उपस्थित थे।

उच्च शिक्षा का स्वर्णिम वर्ष “विशेष लेख”

रायसेन | 17-दिसम्बर-2019

 उच्च शिक्षा की गुणवत्ता और उत्कृष्टता से युवाओं का स्वर्णिम भविष्य सुनिश्चित होता है। मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार ने अपने कार्यकाल के पहले वर्ष में ही उल्लेखनीय कदम उठाकर करोड़ों युवाओं के मन में उनके सुनहरे कल का विश्वास जगाया है। देश के चुनिंदा और बेहतर शिक्षा के लिए अग्रणी प्रदेशों के समकक्ष बनने की ओर मध्यप्रदेश ने शिक्षक-छात्र अनुपात बेहतर करने के साथ मजबूती से कदम बढ़ाये हैं। आधुनिक संसाधनों से शिक्षा संस्थानों को परिपूर्ण करना, अधोसंरचना का निर्माण, बेटियों के लिए सुलभ और बेहतर शिक्षा, प्रवेश प्रक्रिया को सरल बनाने, कौशल विकास और रोजगारमुखी शिक्षा, ग्रंथपाल और क्रीड़ा अधिकारियों की नियुक्ति, ई-लायब्रेरी और खेल मैदान की उपलब्धता जैसी नीतियों के लागू और पूरा होने से प्रदेश का शैक्षणिक परिवेश रचनात्मक और विश्वसनीय बना है।

    मध्यप्रदेश ने उच्च शिक्षा की अनदेखी का बुरा दौर देखा है, महाविद्यालयों में पढ़ने वाले विद्यार्थी कई सालों से शिक्षकों की कमी से जूझ रहे थे, इसका असर प्रदेश में शिक्षा के स्तर पर भी पड़ा। लेकिन वर्तमान सरकार युवाओं का भविष्य उज्जवल बनाने के लिए कृत-संकल्पित है। कमलनाथ सरकार ने प्रतिबद्धता से इस ओर कदम उठाए हैं। इसीलिए प्रदेश के शिक्षा संस्थान अब प्राध्यापक विहीन नहीं रहेंगे। उच्च स्तर की परीक्षाओं में चयनित हमारे काबिल शिक्षक प्रदेश के कोने-कोने में उत्कृष्ट शिक्षा देने के लिए विद्यार्थियों के बीच उपलब्ध होंगे। आधुनिकतम लायब्रेरी में उच्च स्तर और गुणवत्तापूर्ण पुस्तकें हों और उसका लाभ आम विद्यार्थी को मिले, इसलिए ग्रंथपालों की नियुक्ति की गई है। शिक्षा के साथ युवा वर्ग खेल की विधाओं में भी राज्य और देश का नाम रोशन करें, इसलिए कोई भी महाविद्यालय अब क्रीड़ा अधिकारी विहीन नहीं होगा, यह सुनिश्चित किया जा रहा है।

सांची विवि में सात दिवसीय व्याख्यानमाला का समापन

रायसेन | 15-अक्तूबर-2019

सांची बौद्ध-भारतीय ज्ञान अध्ययन विश्वविद्यालय में सप्त दिवसीय कार्यशाला के आखिरी दिन भारतीय चित्रकारी विभाग की प्रमुख डॉ सुष्मिता नंदी ने गुरु रबिंद्रनाथ टैगोर के संदर्भ में कला और राष्ट्रवाद विषय पर बात की। डॉ सुष्मिता नंदी ने बताया कि टैगोर, राष्ट्र को भौगोलिक सीमा से नहीं बल्कि मूल्यबोध के आधार पर परिभाषित करते थे। उन्होंने बताया कि 20वीं शताब्दी के प्रारंभिक दशकों में गुरु रविंद्रनाथ टौगोर राष्ट्रवाद का समर्थन संस्कृति के आधार पर करते थे लेकिन बाद के दशकों में जब राष्ट्रवाद, मानववाद के विरुद्ध खड़ा दिखाई देने लगा तो उन्होंने राष्ट्रवाद के विषय को छोड़ दिया।
डॉ सुष्मिता नंदी ने बताया कि गुरु रविंद्रनाथ टैगोर अपने दौर के समकालीन चित्रकारों रवि वर्मा, म्हात्रे, जेपी गांगुली इत्यादि से प्रभावित थे। टैगोर ने लोगों को जापान की चित्रकला के विषय में जागरुक किया। उनका कहना था कि टैगोर, ईवी हैवल, ए.के कुमारास्वामी, ओकाकोरा काकुज़ो, ताइशो, सिस्टर निवेदिता इत्यादि की कला से भी प्रभावित थे। इस सप्त दिवसीय कार्यशाला में डॉ. संतोष प्रियदर्शी ने ‘सांची के तोरण द्वारों में प्रतीक’ विषय पर व्याख्यान में बताया कि इन चारों तोरण द्वारों में जातक कथाओं को उकेरा गया है। इसके अलावा अन्य कहानियां और स्थानीय किंवदंतियों को भी इन तोरण द्वारों में समाहित किया गया है। डॉ प्रियदर्शी का कहना था कि भगवान बुद्ध की 550 जातक कथाएं हैं जिनमें से 547 प्राप्त होती हैं। डॉ संतोष प्रियदर्शी ने बताया कि महान सम्राट अशोक ने बौद्ध धर्म की दीक्षा लेने के बाद 84 हज़ार स्तूपों का निर्माण करवाया था।
डॉ प्रियदर्शी ने सांची और विदिशा के महत्व के विषय में भी छात्रों को बताया कि उत्तर और दक्षिण भारत को जोड़ने वाले मुख्य मार्ग के चौराहे के रूप में विदिशा (सांची) स्थित था। डॉ संतोष प्रियदर्शी ने बताया कि भगवान बुद्ध ने अपने जीवन में ही घोषणा कर दी थी कि उनकी न प्रतिमा बनाई जाए और न ही चित्र। लेकिन बाद के दौर में उनकी मूर्तियां भी बनाई गईं और चित्र भी। गांधार कला में सबसे पहले बुद्ध की मूर्ति प्राप्त होती है। इसी तरह से मथुरा कला में बलुआ पत्थर पर भी बुद्ध की सुंदर प्रतिमाएं बनाई गईं।

गॉधी जी का 150वॉ जयंती वर्ष प्रदेश में समारोह पूर्वक मनाई जायेगी

रायसेन | 01 अक्टूबर -2019

राज्य शासन ने निर्णय लिया है कि राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के 150वें जयंती वर्ष को पूरे प्रदेश में समारोहपूर्वक मनाया जायेगा। राज्य शासन ने सभी जिलों के कलेक्टर्स को निर्देश जारी किये हैं कि गाँधी जी के सिद्धांतों, विचारों और प्रेरणाओं को बच्चों, युवाओं और आमजन तक पहुँचाने के लिये 2 अक्टूबर 2019 से 2 अक्टूबर 2020 तक लगातार गतिविधियाँ आयोजित की जाए। प्रदेश के विद्यालयों और महाविद्यालयों में गाँधी जी के आदर्शों, विचारों एवं प्रेरणाओं पर आधारित चित्रकला प्रतियोगिता, निबंध प्रतियोगिता, भाषण, क्विज, विचार गोष्ठी और सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे। शहर के वरिष्ठ नागरिकों, लेखकों, कलाकारों, रंगकर्मियों, साहित्यिक एवं सांस्कृतिक संस्थाओं को कार्यक्रमों से जोड़ा जायेगा। गाँधी जयंती पर 2 अक्टूबर को जिलों में प्रभात फेरी निकाली जायेगी। इसमें शहर के संस्कृति कर्मी, सामाजिक कार्यकर्ता और नागरिक शामिल होंगे। प्रभात फेरी के समापन स्थल पर भजन कार्यक्रम होगा। गाँधी जी के जीवन दर्शन, ग्राम स्वराज, नशा मुक्ति, कुटीर उद्योगों पर आधारित प्रदर्शनियों का आयोजन भी किया जायेगा।

आदतन अपराधी जिलाबदर

रायसेन | 24-सितम्बर-2019

कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट द्वारा विभिन्न अपराधों में आरोपी रेशु राजपूत पिता इंदर सिंह राजपूत निवासी चैनपुर रोड शक्ति नगर थाना बरेली जिला रायसेन को 06 माह के लिए रायसेन जिले की सीमाओं से निष्कासित किया गया है। आरोपी वर्ष 2013 से लगातार हिंसात्मक आपराधिक घटनाओं के द्वारा क्षेत्र की शांति व्यवस्था को भंग करता आ रहा है। आरोपी रेशु राजपूत के कृत्य से थाना क्षेत्र बरेली एवं आसपास के क्षेत्र में भय एवं आतंक का माहौल बना हुआ है। आरोपी के विरूद्ध विभिन्न अपराधों में 13 आपराधिक प्रकरण पंजीबद्ध है। न्यायालय कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट द्वारा आरोपी रेशु राजपूत को 06 माह के लिए जिलाबदर करने संबंधि पारित आदेश के अनुसार जिला रायसेन एवं जिला रायसेन के सीमावर्ती जिला भोपाल, विदिशा, सागर, सीहोर, होशंगाबाद एवं नरसिंहपुर जिले की राजस्व सीमाओं से 06 माह के लिए निष्कासित किया गया है।

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती की थीम पर होंगे पर्यटन पर्व

रायसेन | 17-सितम्बर-2019

सचिव पर्यटन श्री फैज अहमद किदवई ने जिला पर्यटन संर्वधन परिषदों को निर्देश दिये हैं कि जिलों में महात्मा गांधी की 150वीं जयंती की थीम पर 2 अक्टूबर को पर्यटन पर्व आयोजित करें। वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से परिषदों की समीक्षा करते हुए उन्होंने कहा कि गांधी जी के जीवन दर्शन को पर्यटन से जोड़ने के लिये विभिन्न स्थानों, संस्थाओं और व्यक्तियों की जानकारी एकत्रित करें। श्री किदवई ने कहा कि भारत सरकार के निर्देश पर 2 से 27 अक्टूबर तक स्वच्छता अभियान और 18 अक्टूबर से प्रदेश में इन्वेस्टर्स मीट के पहले भूमि और हैरिटेज सम्पत्ति पर्यटन विभाग को हस्तान्तरित करें।
अपर प्रबंध संचालक मध्यप्रदेश पर्यटन बोर्ड श्रीमती भावना वाल्मिबे ने जिला पर्यटन संवर्धन परिषदों को जिला पुरातत्व एवं पर्यटन परिषदों में परिवर्तित करने के निर्देश दिये। श्रीमती वालिम्बे ने कहा कि सभी परिषद आवंटित सहायता राशि का उपयोगिता प्रमाण पत्र तुरंत भेजें। वीडियो कॉन्फ्रेंस में जिला पर्यटन संवर्धन परिषदों के लिये मध्यप्रदेश नीति 2016, जल पर्यटन नीति और कैम्पिंग नीति की कार्य-योजना तथा गतिविधियों को पॉवर पाइंट के माध्यम से प्रस्तुत किया गया। सचिव श्री किदवई ने प्रत्येक जिले की पर्यटन कार्य-योजना बनाने पर जोर दिया। वीडियो कॉन्फ्रेंस में निगम की अपर प्रबंध संचालक सुश्री सोनिया मीणा और पर्यटन बोर्ड के अधिकारी उपस्थित थे।

उपभोक्ता जागरूकता संगठनों से ऑनलाइन प्रस्ताव आमंत्रित

रायसेन | 06-सितम्बर-2019

उपभोक्ता हितों के संरक्षण एवं संवर्धन के क्षेत्र में कार्यरत स्वैच्छिक उपभोक्ता संगठनों से ऑनलाईन प्रस्ताव आमंत्रित किए गये हैं। प्रस्ताव 25 सितम्बर 2019 तक वेबसाइट jagograhakjago.gov.in/cwf पर भेजे जा सकते हैं। संचालक खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण ने बताया कि भारत सरकार द्वारा उपभोक्ता हित संरक्षण की गतिविधियों में संलग्न संगठनों को वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है।

शासकीय आईटीआई में क्यूपी प्लम्बर जनरल में निःशुल्क प्रशिक्षण प्रारंभ रायसेन

31-अगस्त-2019

मुख्यमंत्री कौशल संवर्धन योजना के अंतर्गत शासकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्था रायसेन में क्यूपी प्लम्बर जनरल में निःशुल्क प्रशिक्षण प्रारंभ किया जा रहा है। इस योजना के अंतर्गत प्रशिक्षण के इच्छुक आठवीं कक्षा उत्तीर्ण बेरोजगार युवक-युवतियां अपनी अंकसूची, आधार कार्ड, मूल निवासी तथा पासपोर्ट साईज फोटो लेकर कार्यालय शासकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्था रायसेन में कार्यालयीन समय में उपस्थित होकर प्रथम आओ प्रथम पाओ के आधार पर प्रवेश प्राप्त कर सकते हैं। इस संबंध में अधिक जानकारी के लिए कार्यालयीन समय मेंं मोबाईल नम्बर 9098836817 पर सम्पर्क कर सकते हैं।

कलेक्टर सहित सभी जिला अधिकारियों ने किया बिजनहाई और उड़दमऊ गांव का भ्रमण “आपकी सरकार आपके द्वार”

कलेक्टर ने ग्रामवासियों से चर्चा कर जानी समस्याएं, अधिकारियों को त्वरित निराकरण के दिए निर्देश, बेहतर कार्य संपादन के लिए कलेक्टर ने की पंचायत सचिव तथा शिक्षकों की सराहना

रायसेन | 23-अगस्त-2019

कलेक्टर ने भ्रमण के दौरान ग्रामवासियो से पूछी समस्याऐं

    कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव ने बिजनहाई और उड़दमऊ ग्राम के भ्रमण के दौरान ग्रामवासियों से उनकी समस्याएं सुनी। उन्होंने ग्रामवासियो से बात कर पूछा कि राशन दुकान कितने दिन खुलती है ? आंगनवाड़ी में बच्चों को मीनू अनुसार पोषण आहार मिलता है या नही ? दस्तक अभियान के दौरान् स्वास्थ्यकर्मी घर पहुंचे थे ? स्कूल में मध्यान्ह भोजन मीनू के अनुसार मिलता है या नहीं ?  स्कूल नियमित खुलता है या नहीं और शिक्षक कब आते हैं ? कलेक्टर श्री भार्गव ने बुजुर्गों से बात कर वृद्धा पेंशन के बारे में पूछा। उन्होंने ग्रामवासियो से 5 वर्ष तक की आयु के सभी बच्चों को नियमित आंगनवाड़ी भेजकर पोषण आहार प्राप्त करने के लिए कहा। गांव भ्रमण के दौरान कलेक्टर श्री भार्गव ने आंगनबाड़ी, स्कूल, पंचायत भवन, राशन दुकान आदि का निरीक्षण किया। कलेक्टर श्री भार्गव ने आंगनबाड़ी केन्द्र के निरीक्षण के दौरान उपस्थिति पंजी में दर्ज बच्चों की संख्या, आंगनबाड़ी में बच्चों की उपस्थिति, मध्यान्ह भोजन आदि के संबंध में जानकारी ली।
ग्राम बिजनहाई में शासकीय योजनाओं से ग्रामवासियों को पात्रतानुसार लाभान्वित करने पर कलेक्टर श्री भार्गव ने पंचायत सहित श्री रामबाबू अहिरवार की सराहना की। ग्राम बिजनहाई में ग्रामवासियों द्वारा गांव के समीप स्थित ढाबे पर अवैध रूप से शराब मिलने की शिकायत करने पर कलेक्टर श्री भार्गव ने आबकारी अधिकारी को तुरंत ढाबे की जांच कर कार्यवाही करने के निर्देश दिए। आबकारी अधिकारी द्वारा कलेक्टर श्री भार्गव के निर्देशानुसार उसी समय ढाबे पर पहुंचकर जांच करते हुए अवैध शराब जप्त की। आबकारी अधिकारी द्वारा नियमानुसार जप्ती का प्रकरण बनाकर आवश्यक कार्यवाही की गई। इसी प्रकार शासकीय स्कूल के निरीक्षण के दौरान उन्होंने बच्चों से मीनु अनुसार मध्यान्ह भोजन मिलने तथा शैक्षणिक गतिविधियों के संबंध में जानकारी ली। कलेक्टर श्री भार्गव द्वारा कक्षा 4 की छात्रा निशा से पाठ पढ़ने के लिए कहा। निशा द्वारा पाठ नहीं पढ़ पाने पर कलेक्टर ने नाराजगी जाहिर की। ग्राम उड़दमऊ में शाला निरीक्षण के दौरान ग्रामवासियों से शिक्षकों द्वारा कराए जाने वाले अध्यापन कार्य, स्कूल खुलने का समय, शिक्षकों की उपस्थिति आदि के संबंध में जानकारी ली। ग्रामवासियों द्वारा गांव में शाला निर्धारित समय पर खुलने तथा शिक्षकों के नियमित आने की बात कहने पर कलेक्टर श्री भार्गव ने शिक्षकों की सराहना की।

एक ही बस से गांव पहुंचा समुचा प्रशासन

    ग्रामवासियों की समस्याओं को जानने और उनके प्रभावी निराकरण के लिए कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सहित सभी जिला अधिकारी एक बस से ही उदयपुरा विकासखण्ड के बिजनहाई और उड़दमउ गांव पहुंचे। एक साथ सभी की मौजूदगी से लोगों की समस्याऐं जानने एवं उसके निराकरण में आसानी हुई।

प्लास्टिक अवशिष्ट से साढ़े 6 हजार किलोमीटर सड़कों का रिकार्ड निर्माण- मंत्री श्री पटेल 

रायसेन | 09-अगस्त-2019

 पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री कमलेश्वर पटेल ने कहा है कि म.प्र. ग्रामीण सड़क विकास प्राधिकरण ने प्लास्टिक अवशिष्ट से प्रदेश में साढ़े 6 हजार किलोमीटर सड़क मार्ग निर्माण का रिकार्ड स्थापित किया है। सड़क निर्माण के क्षेत्र में यह विशेष पहल है।
मंत्री श्री पटेल ने बताया कि प्लास्टिक वेस्ट मटेरियल का सदुपयोग पर्यावरण प्रदूषण को नियंत्रण करने में सहायक है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में इस मटेरियल के उपयोग से सड़को का निर्माण, स्वच्छ भारत मिशन में सहयोगी है। प्राधिकरण द्वारा प्लास्टिक वेस्ट मटेरियल का उपयोग कर प्रदेश में रायसेन जिले में 117 किलोमीटर, आगर में 70 किलोमीटर, अलीराजपुर 59, अनुपपूर 40, अशोक नगर 240, बालाघाट 159, बड़वानी 139, बैतूल 333, भिण्ड 99, भोपाल 4, बुरहानपुर 31, छिन्दवाड़ा 167, दमोह 29, दतिया 94, देवास 111, धार 302, डिंडोरी 123, गुना 111, ग्वालियर 15, हरदा 73, इंदौर 153, जबलपुर 58, झाबुआ 169, कटनी 65, खण्डवा 71, खरगौन 67, मंडला 304, मंदसौर 149, मुरैना 13, नरसिंहपुर 69, नीमच 112, राजगढ़ 64, रतलाम 113, रीवा 184, सागर 4, सतना 159, सीहोर 140, सिवनी 298, श्योपुर 54, शहडोल 125, शाजापुर 304, सीधी 57, सिंगरौली 168, टीकमगढ़ 31, उज्जैन 397, उमरिया 75, विदिशा जिले में 138 किलोमीटर सड़कों का निर्माण पूर्ण किया गया है।

कक्षा 9वीं से 12वीं तक के विद्यार्थियों के लिए मीन्स कम मेरिट छात्रवृत्ति योजना 

रायसेन | 30-जुलाई-2019

राष्ट्रीय मीन्स कम मेरिट छात्रवृति योजना में कक्षा 9वी से 12वीं तक भारत सरकार के प्रावधान अनुसार छात्रवृति की पात्रता होती है। जिसमें प्रतिवर्ष प्राचार्यो से प्राप्त जानकारी अनुसार संबंधित छात्रों की पात्रता निर्धारण उपरांत प्रस्ताव कार्यालय स्तर से राज्य शिक्षा केन्द्र भोपाल को प्रेषित किए जाते है। इस योजना का क्रियान्वयन एनएसपी पोर्टल के माध्यम से किया जा रहा है। जिसके तहत छात्रों की जानकारी ऑनलाईन पोर्टल पर दर्ज की जाकर छात्रवृति का भुगतान किया जा रहा है।

‘‘आपकी सरकार आपके द्वार‘‘ के 03 अगस्त को गैरतगंज में लगेगा शिविर 

रायसेन | 26-जुलाई-2019

 ग्रामीण अंचलों में रहने वाले लोगों की रोजमर्रा की समस्याओं के समाधान तथा आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए जिले के गांवों का आकस्मिक भ्रमण किया जाएगा। भ्रमण के उपरांत ‘‘आपकी सरकार आपके द्वार‘‘ के तहत सभी विकासखण्डों में शिविर आयोजित किए जाएंगे। इसी क्रम में 03 अगस्त को दोपहर 02 बजे कृषि उपज मण्डी परिसर गैरतगंज में शिविर आयोजित किया गया है। कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव ने आपकी सरकार आपके द्वार अभियान के सफल क्रियान्वयन के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए हैं।

समस्याओं का त्वरित निराकरण करने के निर्देश

   कलेक्टर श्री भार्गव ने प्रत्येक विभाग के जिला अधिकारी को शिविर में उठाए जाने वाले संभावित बिन्दुओं की स्वयं पहचान कर ऐसे बिन्दुओं तथा मुद्दों के निराकरण के संबंध में पूर्व से ही योजना तैयार करने के निर्देश दिए हैं। ताकि समस्याओं तथा शिकायतों के त्वरित निराकरण में सुविधा हो। इन शिविरों में जो आवेदक अपनी समस्याओं को लेकर आएंगे उनका त्वरित निराकरण किया जाना आवश्यक है। समस्या का तत्काल निराकरण नहीं किए जाने की स्थिति में आवेदक को निराकरण करने की समय सीमा निर्धारित कर सूचना दी जाएगी। निर्धारित समय सीमा में समस्या के निराकरण के उपरांत निराकरण की सूचना विभाग द्वारा आवेदक को दी जाएगी तथा पोर्टल पर निराकरण की स्थिति अपडेट करनी होगी। शिविर की अवधि आवेदकों की सुनवाई पूर्ण होने या उनके द्वारा दिए जाने वाले आवेदनों के प्राप्त होने तक रखी जाएगी।

रायसेन तथा ग्वालियर जिले के किसानों को लगातार 10 घण्टे बिजली 

रायसेन | 23-जुलाई-2019

 ऊर्जा मंत्री प्रियव्रत सिंह ने जानकारी दी है कि रायसेन तथा ग्वालियर जिले के किसानों को सिंचाई के लिये अब लगातार 10 घण्टे बिजली की सप्लाई की जायेगी। अभी इन्हें दो बार में 10 घण्टे बिजली मिल रही है। श्री सिंह ने बताया कि यह निर्णय क्षेत्रीय जन-प्रतिनिधियों और किसानों की मांग पर लिया गया है। उन्होंने कहा कि अन्य जिलों से भी इस तरह की मांग आने पर विद्युत सप्लाई का समय में परिवर्तन करने पर विचार किया जायेगा। नये प्लान के मुताबिक 2 समूह में से समूह ए में सुबह 8 से शाम 6 बजे तक और समूह बी में रात 10 से सुबह 8 बजे तक लगातार विद्युत सप्लाई की जायेगी। प्रत्येक सोमवार को ए और बी समूह में विद्युत सप्लाई का समय रोटेड किया जायेगा।