पीएसएलवी-सी35 कल आठ उपग्रहों को अलग-अलग कक्षाओं में स्थापित करेगा
..................................................

 छतरपुर समाचार

 खंडवा समाचार

 छिंदवाड़ा समाचार

दमोह समाचार 

सीधी समाचार

 अनूपपुर समाचार

 अलीराजपुर समाचार

 आगर मालवा समाचार

 उज्जैन समाचार

 इंदौर समाचार

 उमरिया समाचार

 कटनी समाचार

 खरगोन समाचार

 गुना समाचार

 ग्वालियर समाचार

 झाबुआ समाचार

 टीकमगढ़ समाचार

 डिण्डोरी समाचार

 दतिया समाचार

अशोक नगर समाचार

 नरसिंहपुर समाचार

 नीमच समाचार

पन्ना समाचार

 बड़वानी समाचार

 बालाघाट समाचार

बुरहानपुर समाचार 

 बैतूल समाचार

 भिण्ड समाचार

 भोपाल समाचार

मंडला समाचार 

मंदसौर समाचार 

 मुरैना समाचार

 रतलाम समाचार

 राजगढ़ समाचार

 रायसेन समाचार

 विदिशा समाचार

 शहडोल समाचार

 शाजापुर समाचार

 शिवपुरी समाचार

 श्योपुर समाचार

 सतना समाचार

 सागर समाचार

 सिंगरौली समाचार

 सिवनी समाचार

 सीहोर समाचार

हरदा समाचार 

 होशंगाबाद समाचार

 धार समाचार

 रीवा समाचार

 जबलपुर समाचार

 

देवास समाचार 

 

       

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने दिया चुनाव आयोग को चैलेंज, 72 घंटे के लिए EVM हमें दे दें

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश में भिंड ज़िले के अटेर में ईवीएम मशीन के डेमो के दौरान किसी भी बटन को दबाने पर वोट भाजपा को मिलने के आरोप को लेकर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने बीजेपी पर निशाना साधा है. उन्होंने आरोप लगाया कि यूपी चुनाव के दौरान ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी की गई. एमपी के चुनाव के लिए यूपी के बंदे का नाम कैसे निकला. ये मशीन यूपी के कानपुर के गोविंदनगर से आई. कानून आप 45 दिन तक उन मशीनों का इस्तेमाल नहीं कर सकते. फिर चुनाव आयोग ने कानून की धज्जियां क्यों उड़ाईं. यूपी के चुनाव में भी ऐसी कई मशीनें हो सकती हैं, जो खराब हों. ऐसा लगता है सारी मशीनें टैंपर नहीं हैं, कुछ को टैंपर किया जा रहा है.

अरविंद केजरीवाल ने मांग की है कि जो मशीन भिंड में पकड़ी गई है इसकी सारी जानकारी चुनाव आयोग सार्वजनिक करें. उन्होंने चुनाव आयोग को चिट्ठी के जरिए चैलेंज दिया है कि आप कहते हैं कि आपकी ईवीएम को कोई रीड और री-राइट नहीं कर सकता. आप हमें 72 घंटे के लिए मशीन दे दें हम बता देंगे इसमें क्या-क्या हुआ है.राजौरी गार्डन में भी VVPAT मशीन यूपी से मंगाई जा रही है. अरविंद केजरीवाल ने मांग की बैलेट पेपर के जरिए चुनाव कराए जाएं.

पंजाब में हार को लेकर आत्मविश्लेषण की चुनाव आयोग की सलाह पर अरविंद केजरीवाल ने कहा कि इस राजनीतिक सलाह का धन्यवाद. हम सोच रहे हैं उन्हें अपनी पीएसी में शामिल कर लें.

गौरतलब है कि कांग्रेस  और आम आदमी पार्टी (आप) ने मध्य प्रदेश में वोटिंग मशीन (ईवीएम) में गड़बड़ी को निर्वाचन आयोग के समक्ष उठाया और मांग की कि आगामी चुनावों ईवीएम का प्रयोग रोक दिया जाए और मतपत्र के जरिये चुनाव करवाने की व्यवस्था बहाल की जाए. दोनों दलों के नेताओं ने मध्य प्रदेश में वीवीपीएटी मशीनों के ट्रायल को लेकर वायरल हुए वीडियो के हवाले से वोटिंग मशीनों में गड़बड़ी के अपने दावे को पुख्ता बताया. वीवीपीएटी वे मशीन होती हैं जिससे निकलने वाली पर्ची से पता चलता है कि मतदाता ने किसे वोट दिया.

समाचार

मेगा फूड पार्क एवं...

मेगा फूड पार्क एवं खाद्य प्रसंस्करण उद्योगों को बढ़ावा देने के संबंध में राज्य शासन द्वारा विशेष प्रयास किये जा रहे हैं। इन प्रयासों के तहत...

राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस...

राष्ट्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा बच्चों में विज्ञान के प्रति रुचि जागृत करने के लिये प्रतिवर्ष राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस का आयोजन जिला, राज्य और...

दर्शक संख्या

Currently are 33 guests and no members online

हमारे साथ जुड़ें

महत्वपूर्ण लिंक

आज के समाचार

चौपाल और निगरानी के माध्यम से ग्रामीणजनों को किया गया स्वच्छता के प्रति जागरूक

पंचायतों में रात्रि चौपाल एवं सुबह निगरानी के माध्यम से ग्रामीणजनों को स्वच्छता के प्रति जागरूक किया गया। विभिन्न ग्राम पंचायतों में सुबह निगरानी के माध्यम से ग्रामीणजनों को खुले में शौच नही जाने के लिए प्रेरित किया गया। जो ग्रामीणजन खुले में शौच जाते मिले उन्हें सुबह निगरानी के दौरान उपस्थित अधिकारी, कर्मचारियों, ग्राम पंचायत सचिव, रोजगार सहायक, निगरानी समिति के सदस्य, स्वच्छता प्रेरकों द्वारा समझाईस दी गई, स्वच्छता का महत्व बताया गया। मानव मल की गंदगी से होने वाली बीमारियों की जानकारी दी गई।


ग्राम उदय से भारत उदय अभियान के संबंध में वीसी आज

ग्राम उदय से भारत उदय अभियान 14 अप्रैल से 31 मई 2017 तक संचालित किया जाएगा। इस अभियान के संबंध में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान 30 मार्च को प्रातः 10 बजे वीडियो कॉंफ्रेंसिंग के माध्यम से चर्चा करेंगे। सभी कलेक्टर्स, सीईओ जिला पंचायत तथा संबंधित विभागों के जिला अधिकारियों को वीडियो कॉफ्रेंसिंग में उपस्थित होने के निर्देश दिए गए हैं।


मंगलेश्वर तीर्थ के नाम से प्रसिद्ध था मांगरोल

नमामि देवी नर्मदा-नर्मदा सेवा यात्रा 28 मार्च को रायसेन जिले के भारकच्छ में पहुंचेगी। यात्रा 31 मार्च को जिले के मांगरोल पहुंचेगी। मांगरोल प्राचीन काल में मंगलेश्वर तीर्थ नाम से प्रसिद्ध था। इस स्थान के बारे में ऐसी मान्यता है कि भगवान शिव के स्वेद से उत्पन्न पुत्र मंगल द्वारा इस तीर्थ की स्थापना की गई है। इसी स्थान पर मंगल ने शिव की आराधना कर नव ग्रहों में स्थान प्राप्त किया था। नर्मदा पुराण में इसका उल्लेख मिलता है। इस स्थान का पितरों के मंगल के लिए स्नान एवं दान का विशेष महत्व है।


साधु-संत दे रहे नर्मदा नदी और पर्यावरण संरक्षण का संदेश जनसंवाद कार्यक्रमों में नर्मदा नदी के संरक्षण और स्वच्छता का लिया संकल्प, नर्मदा सेवा यात्रा में रायसेन सहित अन्य जिलों से बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए

जिले में नमामि देवी नर्मदे-नर्मदा सेवा यात्रा के दूसरे दिन ग्राम भारकच्छकलां में प्रातः 09 बजे संत-महंत, परिक्रमावासियों एवं लोगों द्वारा नर्मदा आरती की गई। इसके पश्चात नर्मदा सेवा यात्रा ने आगे के लिए प्रस्थान किया। नर्मदा सेवा यात्रा के मार्ग में आने वाले गांवों के लोगों द्वारा पुष्प वर्षा कर यात्रा का भव्य स्वागत किया गया। बड़ी संख्या में महिलाएं एक ही रंग की वेशभूषा में कलश सर पर रखकर यात्रा की अगवानी के लिए गांव के द्वार तक पहुंची। यात्रा आगमन पर नर्मदा सेवा यात्रा के ध्वज का पूजन किया गया। इस दौरान क्षेत्रीय विधायक श्री रामकिशन पटेल, मध्यप्रदेश राज्य कर्मचारी कल्याण आयोग के अध्यक्ष श्री रमेश शर्मा सहित अनेक जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।


समाज की जागरूकता से ही आएगा बदलाव पूरे समाज की सक्रिय भागीदारी से सफल होगी नमामि देवि नर्मदा- नर्मदा सेवा यात्रा

नमामि देवि नर्मदा-नर्मदा सेवा यात्रा 105 वें दिन बाड़ी विकास खण्ड के ग्राम मांगरोल से प्रस्थन कर शाम को अलीगंज पहुंची। अलीगंज में नर्मदा सेवा यात्रा का भव्य स्वागत किया गया। नर्मदा कलश एवं ध्वज का पूजन किया गया।
इस अवसर पर आयोजित जनसंवाद कार्यक्रम में विधायक श्री रामकिशन पटेल ने कहा कि मॉं नर्मदा को स्वच्छ रखने के लिए हमें दो महत्वपूर्ण काम करनें होंगे एक है नर्मदा के दोनों तट पर अधिक से अधिक पेड़ लगाना है। दूसरा काम सबसे महत्वपूर्ण है नर्मदा मंे गंदगी नहीं डालना। दूषित जल एवं ऐसी पूजन सामग्री जो मॉं नर्मदा के जल को अशुद्ध करे उसे नहीं डालने का संकल्प लेना होगा और नर्मदा के तट पर कुण्ड बनाकर उसमें डालना होगा। उन्होंने कहा कि हम सब मिलकर इस अनुष्ठान को सफल बनाएंगे।


चौपाल और निगरानी के माध्यम से ग्रामीणजनों को किया गया स्वच्छता के प्रति जागरूक

पंचायतों में रात्रि चौपाल एवं सुबह निगरानी के माध्यम से ग्रामीणजनों को स्वच्छता के प्रति जागरूक किया गया। विभिन्न ग्राम पंचायतों में सुबह निगरानी के माध्यम से ग्रामीणजनों को खुले में शौच नही जाने के लिए प्रेरित किया गया। जो ग्रामीणजन खुले में शौच जाते मिले उन्हें सुबह निगरानी के दौरान उपस्थित अधिकारी, कर्मचारियों, ग्राम पंचायत सचिव, रोजगार सहायक, निगरानी समिति के सदस्य, स्वच्छता प्रेरकों द्वारा समझाईस दी गई, स्वच्छता का महत्व बताया गया। मानव मल की गंदगी से होने वाली बीमारियों की जानकारी दी गई।


ग्राम उदय से भारत उदय अभियान के संबंध में वीसी आज

ग्राम उदय से भारत उदय अभियान 14 अप्रैल से 31 मई 2017 तक संचालित किया जाएगा। इस अभियान के संबंध में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान 30 मार्च को प्रातः 10 बजे वीडियो कॉंफ्रेंसिंग के माध्यम से चर्चा करेंगे। सभी कलेक्टर्स, सीईओ जिला पंचायत तथा संबंधित विभागों के जिला अधिकारियों को वीडियो कॉफ्रेंसिंग में उपस्थित होने के निर्देश दिए गए हैं।


मंगलेश्वर तीर्थ के नाम से प्रसिद्ध था मांगरोल

नमामि देवी नर्मदा-नर्मदा सेवा यात्रा 28 मार्च को रायसेन जिले के भारकच्छ में पहुंचेगी। यात्रा 31 मार्च को जिले के मांगरोल पहुंचेगी। मांगरोल प्राचीन काल में मंगलेश्वर तीर्थ नाम से प्रसिद्ध था। इस स्थान के बारे में ऐसी मान्यता है कि भगवान शिव के स्वेद से उत्पन्न पुत्र मंगल द्वारा इस तीर्थ की स्थापना की गई है। इसी स्थान पर मंगल ने शिव की आराधना कर नव ग्रहों में स्थान प्राप्त किया था। नर्मदा पुराण में इसका उल्लेख मिलता है। इस स्थान का पितरों के मंगल के लिए स्नान एवं दान का विशेष महत्व है।


साधु-संत दे रहे नर्मदा नदी और पर्यावरण संरक्षण का संदेश जनसंवाद कार्यक्रमों में नर्मदा नदी के संरक्षण और स्वच्छता का लिया संकल्प, नर्मदा सेवा यात्रा में रायसेन सहित अन्य जिलों से बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए

जिले में नमामि देवी नर्मदे-नर्मदा सेवा यात्रा के दूसरे दिन ग्राम भारकच्छकलां में प्रातः 09 बजे संत-महंत, परिक्रमावासियों एवं लोगों द्वारा नर्मदा आरती की गई। इसके पश्चात नर्मदा सेवा यात्रा ने आगे के लिए प्रस्थान किया। नर्मदा सेवा यात्रा के मार्ग में आने वाले गांवों के लोगों द्वारा पुष्प वर्षा कर यात्रा का भव्य स्वागत किया गया। बड़ी संख्या में महिलाएं एक ही रंग की वेशभूषा में कलश सर पर रखकर यात्रा की अगवानी के लिए गांव के द्वार तक पहुंची। यात्रा आगमन पर नर्मदा सेवा यात्रा के ध्वज का पूजन किया गया। इस दौरान क्षेत्रीय विधायक श्री रामकिशन पटेल, मध्यप्रदेश राज्य कर्मचारी कल्याण आयोग के अध्यक्ष श्री रमेश शर्मा सहित अनेक जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।


समाज की जागरूकता से ही आएगा बदलाव पूरे समाज की सक्रिय भागीदारी से सफल होगी नमामि देवि नर्मदा- नर्मदा सेवा यात्रा

नमामि देवि नर्मदा-नर्मदा सेवा यात्रा 105 वें दिन बाड़ी विकास खण्ड के ग्राम मांगरोल से प्रस्थन कर शाम को अलीगंज पहुंची। अलीगंज में नर्मदा सेवा यात्रा का भव्य स्वागत किया गया। नर्मदा कलश एवं ध्वज का पूजन किया गया।
इस अवसर पर आयोजित जनसंवाद कार्यक्रम में विधायक श्री रामकिशन पटेल ने कहा कि मॉं नर्मदा को स्वच्छ रखने के लिए हमें दो महत्वपूर्ण काम करनें होंगे एक है नर्मदा के दोनों तट पर अधिक से अधिक पेड़ लगाना है। दूसरा काम सबसे महत्वपूर्ण है नर्मदा मंे गंदगी नहीं डालना। दूषित जल एवं ऐसी पूजन सामग्री जो मॉं नर्मदा के जल को अशुद्ध करे उसे नहीं डालने का संकल्प लेना होगा और नर्मदा के तट पर कुण्ड बनाकर उसमें डालना होगा। उन्होंने कहा कि हम सब मिलकर इस अनुष्ठान को सफल बनाएंगे।


चौपाल और निगरानी के माध्यम से ग्रामीणजनों को किया गया स्वच्छता के प्रति जागरूक

पंचायतों में रात्रि चौपाल एवं सुबह निगरानी के माध्यम से ग्रामीणजनों को स्वच्छता के प्रति जागरूक किया गया। विभिन्न ग्राम पंचायतों में सुबह निगरानी के माध्यम से ग्रामीणजनों को खुले में शौच नही जाने के लिए प्रेरित किया गया। जो ग्रामीणजन खुले में शौच जाते मिले उन्हें सुबह निगरानी के दौरान उपस्थित अधिकारी, कर्मचारियों, ग्राम पंचायत सचिव, रोजगार सहायक, निगरानी समिति के सदस्य, स्वच्छता प्रेरकों द्वारा समझाईस दी गई, स्वच्छता का महत्व बताया गया। मानव मल की गंदगी से होने वाली बीमारियों की जानकारी दी गई।


ग्राम उदय से भारत उदय अभियान के संबंध में वीसी आज

ग्राम उदय से भारत उदय अभियान 14 अप्रैल से 31 मई 2017 तक संचालित किया जाएगा। इस अभियान के संबंध में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान 30 मार्च को प्रातः 10 बजे वीडियो कॉंफ्रेंसिंग के माध्यम से चर्चा करेंगे। सभी कलेक्टर्स, सीईओ जिला पंचायत तथा संबंधित विभागों के जिला अधिकारियों को वीडियो कॉफ्रेंसिंग में उपस्थित होने के निर्देश दिए गए हैं।


मंगलेश्वर तीर्थ के नाम से प्रसिद्ध था मांगरोल

नमामि देवी नर्मदा-नर्मदा सेवा यात्रा 28 मार्च को रायसेन जिले के भारकच्छ में पहुंचेगी। यात्रा 31 मार्च को जिले के मांगरोल पहुंचेगी। मांगरोल प्राचीन काल में मंगलेश्वर तीर्थ नाम से प्रसिद्ध था। इस स्थान के बारे में ऐसी मान्यता है कि भगवान शिव के स्वेद से उत्पन्न पुत्र मंगल द्वारा इस तीर्थ की स्थापना की गई है। इसी स्थान पर मंगल ने शिव की आराधना कर नव ग्रहों में स्थान प्राप्त किया था। नर्मदा पुराण में इसका उल्लेख मिलता है। इस स्थान का पितरों के मंगल के लिए स्नान एवं दान का विशेष महत्व है।


साधु-संत दे रहे नर्मदा नदी और पर्यावरण संरक्षण का संदेश जनसंवाद कार्यक्रमों में नर्मदा नदी के संरक्षण और स्वच्छता का लिया संकल्प, नर्मदा सेवा यात्रा में रायसेन सहित अन्य जिलों से बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए

जिले में नमामि देवी नर्मदे-नर्मदा सेवा यात्रा के दूसरे दिन ग्राम भारकच्छकलां में प्रातः 09 बजे संत-महंत, परिक्रमावासियों एवं लोगों द्वारा नर्मदा आरती की गई। इसके पश्चात नर्मदा सेवा यात्रा ने आगे के लिए प्रस्थान किया। नर्मदा सेवा यात्रा के मार्ग में आने वाले गांवों के लोगों द्वारा पुष्प वर्षा कर यात्रा का भव्य स्वागत किया गया। बड़ी संख्या में महिलाएं एक ही रंग की वेशभूषा में कलश सर पर रखकर यात्रा की अगवानी के लिए गांव के द्वार तक पहुंची। यात्रा आगमन पर नर्मदा सेवा यात्रा के ध्वज का पूजन किया गया। इस दौरान क्षेत्रीय विधायक श्री रामकिशन पटेल, मध्यप्रदेश राज्य कर्मचारी कल्याण आयोग के अध्यक्ष श्री रमेश शर्मा सहित अनेक जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।


समाज की जागरूकता से ही आएगा बदलाव पूरे समाज की सक्रिय भागीदारी से सफल होगी नमामि देवि नर्मदा- नर्मदा सेवा यात्रा

नमामि देवि नर्मदा-नर्मदा सेवा यात्रा 105 वें दिन बाड़ी विकास खण्ड के ग्राम मांगरोल से प्रस्थन कर शाम को अलीगंज पहुंची। अलीगंज में नर्मदा सेवा यात्रा का भव्य स्वागत किया गया। नर्मदा कलश एवं ध्वज का पूजन किया गया।
इस अवसर पर आयोजित जनसंवाद कार्यक्रम में विधायक श्री रामकिशन पटेल ने कहा कि मॉं नर्मदा को स्वच्छ रखने के लिए हमें दो महत्वपूर्ण काम करनें होंगे एक है नर्मदा के दोनों तट पर अधिक से अधिक पेड़ लगाना है। दूसरा काम सबसे महत्वपूर्ण है नर्मदा मंे गंदगी नहीं डालना। दूषित जल एवं ऐसी पूजन सामग्री जो मॉं नर्मदा के जल को अशुद्ध करे उसे नहीं डालने का संकल्प लेना होगा और नर्मदा के तट पर कुण्ड बनाकर उसमें डालना होगा। उन्होंने कहा कि हम सब मिलकर इस अनुष्ठान को सफल बनाएंगे।


चौपाल और निगरानी के माध्यम से ग्रामीणजनों को किया गया स्वच्छता के प्रति जागरूक

पंचायतों में रात्रि चौपाल एवं सुबह निगरानी के माध्यम से ग्रामीणजनों को स्वच्छता के प्रति जागरूक किया गया। विभिन्न ग्राम पंचायतों में सुबह निगरानी के माध्यम से ग्रामीणजनों को खुले में शौच नही जाने के लिए प्रेरित किया गया। जो ग्रामीणजन खुले में शौच जाते मिले उन्हें सुबह निगरानी के दौरान उपस्थित अधिकारी, कर्मचारियों, ग्राम पंचायत सचिव, रोजगार सहायक, निगरानी समिति के सदस्य, स्वच्छता प्रेरकों द्वारा समझाईस दी गई, स्वच्छता का महत्व बताया गया। मानव मल की गंदगी से होने वाली बीमारियों की जानकारी दी गई।


ग्राम उदय से भारत उदय अभियान के संबंध में वीसी आज

ग्राम उदय से भारत उदय अभियान 14 अप्रैल से 31 मई 2017 तक संचालित किया जाएगा। इस अभियान के संबंध में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान 30 मार्च को प्रातः 10 बजे वीडियो कॉंफ्रेंसिंग के माध्यम से चर्चा करेंगे। सभी कलेक्टर्स, सीईओ जिला पंचायत तथा संबंधित विभागों के जिला अधिकारियों को वीडियो कॉफ्रेंसिंग में उपस्थित होने के निर्देश दिए गए हैं।


मंगलेश्वर तीर्थ के नाम से प्रसिद्ध था मांगरोल

नमामि देवी नर्मदा-नर्मदा सेवा यात्रा 28 मार्च को रायसेन जिले के भारकच्छ में पहुंचेगी। यात्रा 31 मार्च को जिले के मांगरोल पहुंचेगी। मांगरोल प्राचीन काल में मंगलेश्वर तीर्थ नाम से प्रसिद्ध था। इस स्थान के बारे में ऐसी मान्यता है कि भगवान शिव के स्वेद से उत्पन्न पुत्र मंगल द्वारा इस तीर्थ की स्थापना की गई है। इसी स्थान पर मंगल ने शिव की आराधना कर नव ग्रहों में स्थान प्राप्त किया था। नर्मदा पुराण में इसका उल्लेख मिलता है। इस स्थान का पितरों के मंगल के लिए स्नान एवं दान का विशेष महत्व है।


साधु-संत दे रहे नर्मदा नदी और पर्यावरण संरक्षण का संदेश जनसंवाद कार्यक्रमों में नर्मदा नदी के संरक्षण और स्वच्छता का लिया संकल्प, नर्मदा सेवा यात्रा में रायसेन सहित अन्य जिलों से बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए

जिले में नमामि देवी नर्मदे-नर्मदा सेवा यात्रा के दूसरे दिन ग्राम भारकच्छकलां में प्रातः 09 बजे संत-महंत, परिक्रमावासियों एवं लोगों द्वारा नर्मदा आरती की गई। इसके पश्चात नर्मदा सेवा यात्रा ने आगे के लिए प्रस्थान किया। नर्मदा सेवा यात्रा के मार्ग में आने वाले गांवों के लोगों द्वारा पुष्प वर्षा कर यात्रा का भव्य स्वागत किया गया। बड़ी संख्या में महिलाएं एक ही रंग की वेशभूषा में कलश सर पर रखकर यात्रा की अगवानी के लिए गांव के द्वार तक पहुंची। यात्रा आगमन पर नर्मदा सेवा यात्रा के ध्वज का पूजन किया गया। इस दौरान क्षेत्रीय विधायक श्री रामकिशन पटेल, मध्यप्रदेश राज्य कर्मचारी कल्याण आयोग के अध्यक्ष श्री रमेश शर्मा सहित अनेक जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।


समाज की जागरूकता से ही आएगा बदलाव पूरे समाज की सक्रिय भागीदारी से सफल होगी नमामि देवि नर्मदा- नर्मदा सेवा यात्रा

नमामि देवि नर्मदा-नर्मदा सेवा यात्रा 105 वें दिन बाड़ी विकास खण्ड के ग्राम मांगरोल से प्रस्थन कर शाम को अलीगंज पहुंची। अलीगंज में नर्मदा सेवा यात्रा का भव्य स्वागत किया गया। नर्मदा कलश एवं ध्वज का पूजन किया गया।
इस अवसर पर आयोजित जनसंवाद कार्यक्रम में विधायक श्री रामकिशन पटेल ने कहा कि मॉं नर्मदा को स्वच्छ रखने के लिए हमें दो महत्वपूर्ण काम करनें होंगे एक है नर्मदा के दोनों तट पर अधिक से अधिक पेड़ लगाना है। दूसरा काम सबसे महत्वपूर्ण है नर्मदा मंे गंदगी नहीं डालना। दूषित जल एवं ऐसी पूजन सामग्री जो मॉं नर्मदा के जल को अशुद्ध करे उसे नहीं डालने का संकल्प लेना होगा और नर्मदा के तट पर कुण्ड बनाकर उसमें डालना होगा। उन्होंने कहा कि हम सब मिलकर इस अनुष्ठान को सफल बनाएंगे।


चौपाल और निगरानी के माध्यम से ग्रामीणजनों को किया गया स्वच्छता के प्रति जागरूक

पंचायतों में रात्रि चौपाल एवं सुबह निगरानी के माध्यम से ग्रामीणजनों को स्वच्छता के प्रति जागरूक किया गया। विभिन्न ग्राम पंचायतों में सुबह निगरानी के माध्यम से ग्रामीणजनों को खुले में शौच नही जाने के लिए प्रेरित किया गया। जो ग्रामीणजन खुले में शौच जाते मिले उन्हें सुबह निगरानी के दौरान उपस्थित अधिकारी, कर्मचारियों, ग्राम पंचायत सचिव, रोजगार सहायक, निगरानी समिति के सदस्य, स्वच्छता प्रेरकों द्वारा समझाईस दी गई, स्वच्छता का महत्व बताया गया। मानव मल की गंदगी से होने वाली बीमारियों की जानकारी दी गई।


ग्राम उदय से भारत उदय अभियान के संबंध में वीसी आज

ग्राम उदय से भारत उदय अभियान 14 अप्रैल से 31 मई 2017 तक संचालित किया जाएगा। इस अभियान के संबंध में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान 30 मार्च को प्रातः 10 बजे वीडियो कॉंफ्रेंसिंग के माध्यम से चर्चा करेंगे। सभी कलेक्टर्स, सीईओ जिला पंचायत तथा संबंधित विभागों के जिला अधिकारियों को वीडियो कॉफ्रेंसिंग में उपस्थित होने के निर्देश दिए गए हैं।


मंगलेश्वर तीर्थ के नाम से प्रसिद्ध था मांगरोल

नमामि देवी नर्मदा-नर्मदा सेवा यात्रा 28 मार्च को रायसेन जिले के भारकच्छ में पहुंचेगी। यात्रा 31 मार्च को जिले के मांगरोल पहुंचेगी। मांगरोल प्राचीन काल में मंगलेश्वर तीर्थ नाम से प्रसिद्ध था। इस स्थान के बारे में ऐसी मान्यता है कि भगवान शिव के स्वेद से उत्पन्न पुत्र मंगल द्वारा इस तीर्थ की स्थापना की गई है। इसी स्थान पर मंगल ने शिव की आराधना कर नव ग्रहों में स्थान प्राप्त किया था। नर्मदा पुराण में इसका उल्लेख मिलता है। इस स्थान का पितरों के मंगल के लिए स्नान एवं दान का विशेष महत्व है।


साधु-संत दे रहे नर्मदा नदी और पर्यावरण संरक्षण का संदेश जनसंवाद कार्यक्रमों में नर्मदा नदी के संरक्षण और स्वच्छता का लिया संकल्प, नर्मदा सेवा यात्रा में रायसेन सहित अन्य जिलों से बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए

जिले में नमामि देवी नर्मदे-नर्मदा सेवा यात्रा के दूसरे दिन ग्राम भारकच्छकलां में प्रातः 09 बजे संत-महंत, परिक्रमावासियों एवं लोगों द्वारा नर्मदा आरती की गई। इसके पश्चात नर्मदा सेवा यात्रा ने आगे के लिए प्रस्थान किया। नर्मदा सेवा यात्रा के मार्ग में आने वाले गांवों के लोगों द्वारा पुष्प वर्षा कर यात्रा का भव्य स्वागत किया गया। बड़ी संख्या में महिलाएं एक ही रंग की वेशभूषा में कलश सर पर रखकर यात्रा की अगवानी के लिए गांव के द्वार तक पहुंची। यात्रा आगमन पर नर्मदा सेवा यात्रा के ध्वज का पूजन किया गया। इस दौरान क्षेत्रीय विधायक श्री रामकिशन पटेल, मध्यप्रदेश राज्य कर्मचारी कल्याण आयोग के अध्यक्ष श्री रमेश शर्मा सहित अनेक जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।


समाज की जागरूकता से ही आएगा बदलाव पूरे समाज की सक्रिय भागीदारी से सफल होगी नमामि देवि नर्मदा- नर्मदा सेवा यात्रा

नमामि देवि नर्मदा-नर्मदा सेवा यात्रा 105 वें दिन बाड़ी विकास खण्ड के ग्राम मांगरोल से प्रस्थन कर शाम को अलीगंज पहुंची। अलीगंज में नर्मदा सेवा यात्रा का भव्य स्वागत किया गया। नर्मदा कलश एवं ध्वज का पूजन किया गया।
इस अवसर पर आयोजित जनसंवाद कार्यक्रम में विधायक श्री रामकिशन पटेल ने कहा कि मॉं नर्मदा को स्वच्छ रखने के लिए हमें दो महत्वपूर्ण काम करनें होंगे एक है नर्मदा के दोनों तट पर अधिक से अधिक पेड़ लगाना है। दूसरा काम सबसे महत्वपूर्ण है नर्मदा मंे गंदगी नहीं डालना। दूषित जल एवं ऐसी पूजन सामग्री जो मॉं नर्मदा के जल को अशुद्ध करे उसे नहीं डालने का संकल्प लेना होगा और नर्मदा के तट पर कुण्ड बनाकर उसमें डालना होगा। उन्होंने कहा कि हम सब मिलकर इस अनुष्ठान को सफल बनाएंगे।


चौपाल और निगरानी के माध्यम से ग्रामीणजनों को किया गया स्वच्छता के प्रति जागरूक

पंचायतों में रात्रि चौपाल एवं सुबह निगरानी के माध्यम से ग्रामीणजनों को स्वच्छता के प्रति जागरूक किया गया। विभिन्न ग्राम पंचायतों में सुबह निगरानी के माध्यम से ग्रामीणजनों को खुले में शौच नही जाने के लिए प्रेरित किया गया। जो ग्रामीणजन खुले में शौच जाते मिले उन्हें सुबह निगरानी के दौरान उपस्थित अधिकारी, कर्मचारियों, ग्राम पंचायत सचिव, रोजगार सहायक, निगरानी समिति के सदस्य, स्वच्छता प्रेरकों द्वारा समझाईस दी गई, स्वच्छता का महत्व बताया गया। मानव मल की गंदगी से होने वाली बीमारियों की जानकारी दी गई।


ग्राम उदय से भारत उदय अभियान के संबंध में वीसी आज

ग्राम उदय से भारत उदय अभियान 14 अप्रैल से 31 मई 2017 तक संचालित किया जाएगा। इस अभियान के संबंध में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान 30 मार्च को प्रातः 10 बजे वीडियो कॉंफ्रेंसिंग के माध्यम से चर्चा करेंगे। सभी कलेक्टर्स, सीईओ जिला पंचायत तथा संबंधित विभागों के जिला अधिकारियों को वीडियो कॉफ्रेंसिंग में उपस्थित होने के निर्देश दिए गए हैं।


मंगलेश्वर तीर्थ के नाम से प्रसिद्ध था मांगरोल

नमामि देवी नर्मदा-नर्मदा सेवा यात्रा 28 मार्च को रायसेन जिले के भारकच्छ में पहुंचेगी। यात्रा 31 मार्च को जिले के मांगरोल पहुंचेगी। मांगरोल प्राचीन काल में मंगलेश्वर तीर्थ नाम से प्रसिद्ध था। इस स्थान के बारे में ऐसी मान्यता है कि भगवान शिव के स्वेद से उत्पन्न पुत्र मंगल द्वारा इस तीर्थ की स्थापना की गई है। इसी स्थान पर मंगल ने शिव की आराधना कर नव ग्रहों में स्थान प्राप्त किया था। नर्मदा पुराण में इसका उल्लेख मिलता है। इस स्थान का पितरों के मंगल के लिए स्नान एवं दान का विशेष महत्व है।


साधु-संत दे रहे नर्मदा नदी और पर्यावरण संरक्षण का संदेश जनसंवाद कार्यक्रमों में नर्मदा नदी के संरक्षण और स्वच्छता का लिया संकल्प, नर्मदा सेवा यात्रा में रायसेन सहित अन्य जिलों से बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए

जिले में नमामि देवी नर्मदे-नर्मदा सेवा यात्रा के दूसरे दिन ग्राम भारकच्छकलां में प्रातः 09 बजे संत-महंत, परिक्रमावासियों एवं लोगों द्वारा नर्मदा आरती की गई। इसके पश्चात नर्मदा सेवा यात्रा ने आगे के लिए प्रस्थान किया। नर्मदा सेवा यात्रा के मार्ग में आने वाले गांवों के लोगों द्वारा पुष्प वर्षा कर यात्रा का भव्य स्वागत किया गया। बड़ी संख्या में महिलाएं एक ही रंग की वेशभूषा में कलश सर पर रखकर यात्रा की अगवानी के लिए गांव के द्वार तक पहुंची। यात्रा आगमन पर नर्मदा सेवा यात्रा के ध्वज का पूजन किया गया। इस दौरान क्षेत्रीय विधायक श्री रामकिशन पटेल, मध्यप्रदेश राज्य कर्मचारी कल्याण आयोग के अध्यक्ष श्री रमेश शर्मा सहित अनेक जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।


समाज की जागरूकता से ही आएगा बदलाव पूरे समाज की सक्रिय भागीदारी से सफल होगी नमामि देवि नर्मदा- नर्मदा सेवा यात्रा

नमामि देवि नर्मदा-नर्मदा सेवा यात्रा 105 वें दिन बाड़ी विकास खण्ड के ग्राम मांगरोल से प्रस्थन कर शाम को अलीगंज पहुंची। अलीगंज में नर्मदा सेवा यात्रा का भव्य स्वागत किया गया। नर्मदा कलश एवं ध्वज का पूजन किया गया।
इस अवसर पर आयोजित जनसंवाद कार्यक्रम में विधायक श्री रामकिशन पटेल ने कहा कि मॉं नर्मदा को स्वच्छ रखने के लिए हमें दो महत्वपूर्ण काम करनें होंगे एक है नर्मदा के दोनों तट पर अधिक से अधिक पेड़ लगाना है। दूसरा काम सबसे महत्वपूर्ण है नर्मदा मंे गंदगी नहीं डालना। दूषित जल एवं ऐसी पूजन सामग्री जो मॉं नर्मदा के जल को अशुद्ध करे उसे नहीं डालने का संकल्प लेना होगा और नर्मदा के तट पर कुण्ड बनाकर उसमें डालना होगा। उन्होंने कहा कि हम सब मिलकर इस अनुष्ठान को सफल बनाएंगे।


चौपाल और निगरानी के माध्यम से ग्रामीणजनों को किया गया स्वच्छता के प्रति जागरूक

पंचायतों में रात्रि चौपाल एवं सुबह निगरानी के माध्यम से ग्रामीणजनों को स्वच्छता के प्रति जागरूक किया गया। विभिन्न ग्राम पंचायतों में सुबह निगरानी के माध्यम से ग्रामीणजनों को खुले में शौच नही जाने के लिए प्रेरित किया गया। जो ग्रामीणजन खुले में शौच जाते मिले उन्हें सुबह निगरानी के दौरान उपस्थित अधिकारी, कर्मचारियों, ग्राम पंचायत सचिव, रोजगार सहायक, निगरानी समिति के सदस्य, स्वच्छता प्रेरकों द्वारा समझाईस दी गई, स्वच्छता का महत्व बताया गया। मानव मल की गंदगी से होने वाली बीमारियों की जानकारी दी गई।


ग्राम उदय से भारत उदय अभियान के संबंध में वीसी आज

ग्राम उदय से भारत उदय अभियान 14 अप्रैल से 31 मई 2017 तक संचालित किया जाएगा। इस अभियान के संबंध में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान 30 मार्च को प्रातः 10 बजे वीडियो कॉंफ्रेंसिंग के माध्यम से चर्चा करेंगे। सभी कलेक्टर्स, सीईओ जिला पंचायत तथा संबंधित विभागों के जिला अधिकारियों को वीडियो कॉफ्रेंसिंग में उपस्थित होने के निर्देश दिए गए हैं।


मंगलेश्वर तीर्थ के नाम से प्रसिद्ध था मांगरोल

नमामि देवी नर्मदा-नर्मदा सेवा यात्रा 28 मार्च को रायसेन जिले के भारकच्छ में पहुंचेगी। यात्रा 31 मार्च को जिले के मांगरोल पहुंचेगी। मांगरोल प्राचीन काल में मंगलेश्वर तीर्थ नाम से प्रसिद्ध था। इस स्थान के बारे में ऐसी मान्यता है कि भगवान शिव के स्वेद से उत्पन्न पुत्र मंगल द्वारा इस तीर्थ की स्थापना की गई है। इसी स्थान पर मंगल ने शिव की आराधना कर नव ग्रहों में स्थान प्राप्त किया था। नर्मदा पुराण में इसका उल्लेख मिलता है। इस स्थान का पितरों के मंगल के लिए स्नान एवं दान का विशेष महत्व है।


साधु-संत दे रहे नर्मदा नदी और पर्यावरण संरक्षण का संदेश जनसंवाद कार्यक्रमों में नर्मदा नदी के संरक्षण और स्वच्छता का लिया संकल्प, नर्मदा सेवा यात्रा में रायसेन सहित अन्य जिलों से बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए

जिले में नमामि देवी नर्मदे-नर्मदा सेवा यात्रा के दूसरे दिन ग्राम भारकच्छकलां में प्रातः 09 बजे संत-महंत, परिक्रमावासियों एवं लोगों द्वारा नर्मदा आरती की गई। इसके पश्चात नर्मदा सेवा यात्रा ने आगे के लिए प्रस्थान किया। नर्मदा सेवा यात्रा के मार्ग में आने वाले गांवों के लोगों द्वारा पुष्प वर्षा कर यात्रा का भव्य स्वागत किया गया। बड़ी संख्या में महिलाएं एक ही रंग की वेशभूषा में कलश सर पर रखकर यात्रा की अगवानी के लिए गांव के द्वार तक पहुंची। यात्रा आगमन पर नर्मदा सेवा यात्रा के ध्वज का पूजन किया गया। इस दौरान क्षेत्रीय विधायक श्री रामकिशन पटेल, मध्यप्रदेश राज्य कर्मचारी कल्याण आयोग के अध्यक्ष श्री रमेश शर्मा सहित अनेक जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।


समाज की जागरूकता से ही आएगा बदलाव पूरे समाज की सक्रिय भागीदारी से सफल होगी नमामि देवि नर्मदा- नर्मदा सेवा यात्रा

नमामि देवि नर्मदा-नर्मदा सेवा यात्रा 105 वें दिन बाड़ी विकास खण्ड के ग्राम मांगरोल से प्रस्थन कर शाम को अलीगंज पहुंची। अलीगंज में नर्मदा सेवा यात्रा का भव्य स्वागत किया गया। नर्मदा कलश एवं ध्वज का पूजन किया गया।
इस अवसर पर आयोजित जनसंवाद कार्यक्रम में विधायक श्री रामकिशन पटेल ने कहा कि मॉं नर्मदा को स्वच्छ रखने के लिए हमें दो महत्वपूर्ण काम करनें होंगे एक है नर्मदा के दोनों तट पर अधिक से अधिक पेड़ लगाना है। दूसरा काम सबसे महत्वपूर्ण है नर्मदा मंे गंदगी नहीं डालना। दूषित जल एवं ऐसी पूजन सामग्री जो मॉं नर्मदा के जल को अशुद्ध करे उसे नहीं डालने का संकल्प लेना होगा और नर्मदा के तट पर कुण्ड बनाकर उसमें डालना होगा। उन्होंने कहा कि हम सब मिलकर इस अनुष्ठान को सफल बनाएंगे।


चौपाल और निगरानी के माध्यम से ग्रामीणजनों को किया गया स्वच्छता के प्रति जागरूक

पंचायतों में रात्रि चौपाल एवं सुबह निगरानी के माध्यम से ग्रामीणजनों को स्वच्छता के प्रति जागरूक किया गया। विभिन्न ग्राम पंचायतों में सुबह निगरानी के माध्यम से ग्रामीणजनों को खुले में शौच नही जाने के लिए प्रेरित किया गया। जो ग्रामीणजन खुले में शौच जाते मिले उन्हें सुबह निगरानी के दौरान उपस्थित अधिकारी, कर्मचारियों, ग्राम पंचायत सचिव, रोजगार सहायक, निगरानी समिति के सदस्य, स्वच्छता प्रेरकों द्वारा समझाईस दी गई, स्वच्छता का महत्व बताया गया। मानव मल की गंदगी से होने वाली बीमारियों की जानकारी दी गई।


ग्राम उदय से भारत उदय अभियान के संबंध में वीसी आज

ग्राम उदय से भारत उदय अभियान 14 अप्रैल से 31 मई 2017 तक संचालित किया जाएगा। इस अभियान के संबंध में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान 30 मार्च को प्रातः 10 बजे वीडियो कॉंफ्रेंसिंग के माध्यम से चर्चा करेंगे। सभी कलेक्टर्स, सीईओ जिला पंचायत तथा संबंधित विभागों के जिला अधिकारियों को वीडियो कॉफ्रेंसिंग में उपस्थित होने के निर्देश दिए गए हैं।


मंगलेश्वर तीर्थ के नाम से प्रसिद्ध था मांगरोल

नमामि देवी नर्मदा-नर्मदा सेवा यात्रा 28 मार्च को रायसेन जिले के भारकच्छ में पहुंचेगी। यात्रा 31 मार्च को जिले के मांगरोल पहुंचेगी। मांगरोल प्राचीन काल में मंगलेश्वर तीर्थ नाम से प्रसिद्ध था। इस स्थान के बारे में ऐसी मान्यता है कि भगवान शिव के स्वेद से उत्पन्न पुत्र मंगल द्वारा इस तीर्थ की स्थापना की गई है। इसी स्थान पर मंगल ने शिव की आराधना कर नव ग्रहों में स्थान प्राप्त किया था। नर्मदा पुराण में इसका उल्लेख मिलता है। इस स्थान का पितरों के मंगल के लिए स्नान एवं दान का विशेष महत्व है।


साधु-संत दे रहे नर्मदा नदी और पर्यावरण संरक्षण का संदेश जनसंवाद कार्यक्रमों में नर्मदा नदी के संरक्षण और स्वच्छता का लिया संकल्प, नर्मदा सेवा यात्रा में रायसेन सहित अन्य जिलों से बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए

जिले में नमामि देवी नर्मदे-नर्मदा सेवा यात्रा के दूसरे दिन ग्राम भारकच्छकलां में प्रातः 09 बजे संत-महंत, परिक्रमावासियों एवं लोगों द्वारा नर्मदा आरती की गई। इसके पश्चात नर्मदा सेवा यात्रा ने आगे के लिए प्रस्थान किया। नर्मदा सेवा यात्रा के मार्ग में आने वाले गांवों के लोगों द्वारा पुष्प वर्षा कर यात्रा का भव्य स्वागत किया गया। बड़ी संख्या में महिलाएं एक ही रंग की वेशभूषा में कलश सर पर रखकर यात्रा की अगवानी के लिए गांव के द्वार तक पहुंची। यात्रा आगमन पर नर्मदा सेवा यात्रा के ध्वज का पूजन किया गया। इस दौरान क्षेत्रीय विधायक श्री रामकिशन पटेल, मध्यप्रदेश राज्य कर्मचारी कल्याण आयोग के अध्यक्ष श्री रमेश शर्मा सहित अनेक जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।


समाज की जागरूकता से ही आएगा बदलाव पूरे समाज की सक्रिय भागीदारी से सफल होगी नमामि देवि नर्मदा- नर्मदा सेवा यात्रा

नमामि देवि नर्मदा-नर्मदा सेवा यात्रा 105 वें दिन बाड़ी विकास खण्ड के ग्राम मांगरोल से प्रस्थन कर शाम को अलीगंज पहुंची। अलीगंज में नर्मदा सेवा यात्रा का भव्य स्वागत किया गया। नर्मदा कलश एवं ध्वज का पूजन किया गया।
इस अवसर पर आयोजित जनसंवाद कार्यक्रम में विधायक श्री रामकिशन पटेल ने कहा कि मॉं नर्मदा को स्वच्छ रखने के लिए हमें दो महत्वपूर्ण काम करनें होंगे एक है नर्मदा के दोनों तट पर अधिक से अधिक पेड़ लगाना है। दूसरा काम सबसे महत्वपूर्ण है नर्मदा मंे गंदगी नहीं डालना। दूषित जल एवं ऐसी पूजन सामग्री जो मॉं नर्मदा के जल को अशुद्ध करे उसे नहीं डालने का संकल्प लेना होगा और नर्मदा के तट पर कुण्ड बनाकर उसमें डालना होगा। उन्होंने कहा कि हम सब मिलकर इस अनुष्ठान को सफल बनाएंगे।


व्यवसाय विज्ञापन

फेसबुक लाइक बॉक्स

  • Address: Harihar Bhavan Nowgong Dist. Chatarpur Madhya Pradesh  , Mo : 98931-96874 , Email :  This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it. Web : www.ganeshshankarsamacharsewa.in